Monday, June 21, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे ...जिसका दादा हिंदू नरसंहार का सहयोगी, छोटा भाई 15 मिनट में हिंदुओं को देख...

…जिसका दादा हिंदू नरसंहार का सहयोगी, छोटा भाई 15 मिनट में हिंदुओं को देख लेने की धमकी दे – वो ओवैसी ‘झूठा’

असदुद्दीन ओवैसी के परिवार को एआईएमआईएम का नेतृत्व एक नरसंहारकारी व्यक्ति द्वारा सौंपा गया था। जो चाहता था कि हैदराबाद या तो स्वतंत्र रहे या पाकिस्तान में मिल जाए। लेकिन भारत का कभी ना हो।

असदुद्दीन ओवैसी ने हमेशा अपनी योग्यता का इस्तेमाल उन लोगों पर हमला करने के लिए किया, जो उनके इस्लामी राजनीति पर सवाल उठाते रहे और उनकी आलोचना करते रहे हैं। वह अक्सर कहते हैं कि उन्होंने जिन्ना के पाकिस्तान या दो-राष्ट्र के सिद्धांत को खारिज कर दिया। यह भी कहा कि उन्हें हमेशा भारतीय मुसलमानों पर गर्व है। यह बयान सबसे अधिक बार तब दिया जाता है कि जब ओवैसी देश में मुस्लिमों के लिए विशेषाधिकार की माँग कर रहे हों या यह साबित करने के लिए कि मुस्लिम समुदाय धर्मनिरपेक्ष है जबकि हिंदुत्व के अनुयायी सांप्रदायिक हैं।

AIMIM प्रमुख औवेसी ने उत्तर प्रदेश के मुसलमानों पर अत्याचार का आरोप लगाने के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री द्वारा एक फर्जी वीडियो साझा करने के बाद फिर से यह टिप्पणी की। ओवैसी ने कहा, “हमें भारतीय मुसलमानों पर गर्व है और इंशाल्लाह, फैसले के दिन तक, भारतीय मुसलमानों पर गर्व रहेगा।” हालाँकि, ओवैसी के शब्दों पर यकीन नहीं किया जा सकता है। उदाहरण के तौर पर उनके भाई ने एक बार माँग की थी कि देश में 15 मिनट के लिए पुलिस को हटा दिया जाए ताकि मुसलमान हिंदुओं को दिखा सकें कि कौन असली बॉस है। हालाँकि उनके इस बयान को लेकर उन्हें किसी भी तरह की कानूनी कार्रवाई नहीं झेलनी पड़ी।

दोबारा प्रधानमंत्री के तौर पर चुने गए मोदी। और उसके बाद ऐसे बयानों की मानो हवा निकल गई। चूँकि हम अकबरुद्दीन ओवैसी के उस विवादास्पद बयान को गंभीरता से नहीं लेते, इसलिए हमें बड़े ओवैसी मतलब असदुद्दीन ओवैसी को भी गंभीरता से नहीं लेना चाहिए। ऐसे में हमें खुद से सवाल करना होगा कि क्या वह वास्तव में सच बोल रहे हैं?

हम साफ तौर पर कह सकते हैं कि असदुद्दीन ओवैसी झूठ बोल रहे हैं, जब वह कहते हैं कि उनके पूर्वजों ने दो-राष्ट्र सिद्धांत और जिन्ना को खारिज कर दिया था। जबकि ऐसे बहुत से भारतीय मुसलमान हैं, जिन्होंने पाकिस्तान को अस्वीकार कर दिया था। लेकिन यह साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं कि असदुद्दीन ओवैसी के परिवार ने आज तक पाकिस्तान को अस्वीकार नहीं किया। वास्तव में, वह एक ऐसे परिवार से आते हैं जिनके नाम स्वतंत्र भारत के इतिहास में सांप्रदायिक सद्भाव और सहिष्णुता का सबसे खराब रिकॉर्ड रहा हो।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) एक रजाकारों की विरासत है। एक जिहादी आतंकी समूह, जिसने निजाम के राज्य में हिंदुओं के खिलाफ अनगिनत अत्याचार किए। जिसे भारत के लौह पुरुष सरदार पटेल द्वारा कुचल दिया गया था। वर्ष 1927 में स्थापित मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन निज़ाम समर्थक पार्टी थी। जो कि निज़ाम के हैदराबाद को पूरी तरह से भारतीय संघ में विलय नहीं करना चाहती थी।

अपने उद्देश्य की प्राप्ति के लिए एमआईएम के कासिम रिज़वी ने नेतृत्व वाले रजाकारों को बुलवाया। दरअसल रजाकार मूल रूप से जिहादी भीड़ थी, जिसे एमआईएम ने सड़कों पर होने वाली हिंसा को रोकने के लिए इस्तेमाल किया। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्र रहे रिजवी को वर्ष 1946 में एमआईएम का अध्यक्ष चुना गया था, जिसने रजाकारों का नेतृत्व किया था। तब उसने इस क्षेत्र में हिंदुओं के खिलाफ सबसे जघन्य अपराध किए थे। यहाँ तक कि रजाकारों ने महिलाओं और बच्चों के साथ छेड़छाड़ और बलात्कार किए, हिंदुओं का उत्पीड़न किया और हिंदुओं की हत्याएं कीं। लेकिन जल्द ही सरदार पटेल ने सामने आकर इस पागलपन का अंत कर दिया। उन्होंने निज़ाम को घुटने के बल लाया और उसे भारतीय संघ में प्रवेश करने के लिए मजबूर कर दिया। ऑपरेशन पोलो भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया था, जिससे रजाकार भारतीय सेना से दंग थे। यही कारण था कि उन्होंने विनम्रतापूर्वक आत्मसमर्पण कर दिया। जिसके बाद निजाम के मंत्री लईक अली और कासिम रिज़वी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। जिसके चलते रिजवी ने आखिरकार नौ साल की जेल की सजा काटी और फिर उसे इस शर्त पर रिहा किया गया कि वह पाकिस्तान के लिए रवाना हो जाएगा। जिसे उसने पूरा किया।

हालाँकि, पाकिस्तान जाने से पूर्व एमआईएम की एक बैठक में रिजवी ने एमआईएम के नेतृत्व को असदुद्दीन ओवैसी के दादा अब्दुल वाहिद ओवैसी को पार्टी का पुनरुद्धार करने के लिए सौंप दिया। जिसके बाद एमआईएम ने अखिल भारतीय एमआईएम के रूप में खुद को फिर से चुना और चुनाव लड़ने के लिए खुद को आगे बढ़ाया। इस प्रकार साफ तौर पर असदुद्दीन ओवैसी के परिवार को एआईएमआईएम के नेतृत्व में एक नरसंहारकारी व्यक्ति द्वारा सौंपा गया था। जो चाहता था कि हैदराबाद या तो स्वतंत्र रहे या पाकिस्तान में मिल जाए।

रजाकार और एमआईएम को केवल भारतीय सेना और भारत के लौह पुरुष सरदार पटेल की इच्छाशक्ति के कारण अपने पागलपन को छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा था। असदुद्दीन ओवैसी ने यह दावा करने के लिए कि उनके पूर्वजों ने पाकिस्तान को खारिज कर दिया है और दो-राष्ट्र सिद्धांत की थ्योरी को खारिज कर दिया है तो यह बिल्कुल झूठ है। इसके अलावा उनके दादा साफ तौर पर नरसंहार के एक सहयोगी थे। जिन्होंने रजाकारों का नेतृत्व किया, जबकि उन्होंने हिंदुओं के खिलाफ अत्याचारों की मेजबानी की। इसके अलावा उनके भाई अकबरुद्दीन ओवैसी के आचरण से साबित होता है कि रजाकारों के समय से उनकी विचारधारा में कोई ख़ास बदलाब नहीं आया है। यह तो केवल उनकी रणनीति है जो कुछ बदल गई है।

CAA पर भड़काऊ बयानबाजी: रवीश कुमार पर केस, सोनिया, प्रियंका और ओवैसी भी नामजद

ओवैसी के डर से बंगाल में दंगाइयों को खुली छूट दे रही हैं ममता!

CAB के बाद अहमदियों की चिंता में डूबे ‘लिबरल्स’ तब कहाँ थे जब ओवैसी ने उन्हें मुस्लिम ही नहीं माना

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

24 जून, सुबह 10:30 तक गाजियाबाद के लोनी थाना पहुँचो ट्विटर इंडिया MD: फर्जी वीडियो मामले में UP पुलिस का आदेश

गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर को दूसरा नोटिस जारी किया है। इस नोटिस में कहा गया कि ट्विटर जाँच में सहयोग नहीं कर रहा है और उसके द्वारा दिया गया स्पष्टीकरण औचित्य पूर्ण नहीं है।

‘उनके हाथ पहले ही खून से सने थे, अब महिलाओं पर अत्याचार के दाग भी हैं दामन पर’: स्मृति ईरानी ने ममता पर साधा...

“मैं हमारे लोकतंत्र में पहली बार देख रही हूँ कि शायद सीएम लोगों को मरते हुए देख रही हैं क्योंकि उन्होंने उन्हें वोट नहीं दिया था।"

टीनएज में सेक्स, पोर्न, शराब, वन नाइट स्टैंड, प्रेग्नेंसी… अनुराग कश्यप ने बेटी को कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी

ब्वॉयफ्रेंड के साथ सोने के सवाल पर अनुराग ने कहा, "यह तुम्हारा अपना डिसीजन है कि तुम किसके साथ रहती हो। मैं केवल इतना चाहता हूँ कि तुम सेफ रहो।"

‘संविदा=बंधुआ मजदूरी’: राजस्थान में लागू नहीं होता प्रियंका गाँधी का UP वाला फॉर्मूला, गहलोत को ‘अपमान’ की छूट

अगर इसे प्रियंका गाँधी के ही शब्दों में समझें तो राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार युवाओं के दर्द पर मरहम लगाने की जगह उनका दर्द बढ़ाने की तैयारी कर रही है।

1000+ हिन्दुओं को मुस्लिम बनाया, यूपी ATS ने पकड़े 2 मौलाना: ISI से लिंक, विदेश से फंडिंग

काजी जहाँगीर और मोहम्मद उमर मूक-बधिर छात्रों और गरीबों को बनाते थे निशाना। पैसा, नौकरी और शादी का लालच देकर करवाते थे इस्लाम कबूल।

मदरसा, मस्जिद, बगीचा, रेलवे स्टेशन: बिहार में जून में 4 ब्लास्ट, कहीं आपस में जुड़े हुए तो नहीं तार?

बिहार से हाल में विस्फोट की कई घटना सामने आई है। कहीं मदरसे में ब्लास्ट हुआ तो कहीं मस्जिद के ठीक पीछे बम फटा। इनसे कई सवाल खड़े हो गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

वो ब्राह्मण राजा, जिनका सिर कलम कर दिया गया: जिन मुस्लिमों को शरण दी, उन्होंने ही अरब से युद्ध में दिया धोखा

राजा दाहिर ने जब कई दिनों तक शरण देने की एवज में खलीफा के उन दुश्मनों से मदद माँगी, तो उन्होंने कहा, "हम आपके आभारी हैं, लेकिन हम इस्लाम की फौज के खिलाफ तलवार नहीं उठा सकते। हम जा रहे हैं।"

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।

असम में 2 बच्चों की नीति (Two-Child Policy) लागू, ‘भय का माहौल है’ का रोना रो रहे लोग

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ उठाने के लिए 2 बच्चों की नीति को लागू करने का फैसला किया है।

2 से अधिक बच्चे हैं तो सुविधाओं में कटौती, सरकारी नौकरी भी नहीं: UP में जनसंख्या नियंत्रण कानून पर काम शुरू

बड़ा मुद्दा ये है कि किस समय सीमा के आधार पर ऐसे अभिभावकों को कानून के दायरे में लाया जाए और सरकारी नौकरी में उनके लिए क्या नियम तय किए जाएँ।

टीनएज में सेक्स, पोर्न, शराब, वन नाइट स्टैंड, प्रेग्नेंसी… अनुराग कश्यप ने बेटी को कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी

ब्वॉयफ्रेंड के साथ सोने के सवाल पर अनुराग ने कहा, "यह तुम्हारा अपना डिसीजन है कि तुम किसके साथ रहती हो। मैं केवल इतना चाहता हूँ कि तुम सेफ रहो।"

‘नाइट चार्ज पर भेजो रं$* सा*$ को’: दरगाह परिसर में ‘बेपर्दा’ डांस करना महिलाओं को पड़ा महंगा, कट्टरपंथियों ने दी गाली

यूजर ने मामले में कट्टरपंथियों पर निशाना साधते हुए पूछा है कि ये लोग दरगाह में डांस भी बर्दाश्त नहीं कर सकते और चाहते हैं कि मंदिर में किसिंग सीन हो।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,242FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe