Friday, February 26, 2021
Home राजनीति ओवैसी के डर से बंगाल में दंगाइयों को खुली छूट दे रही हैं ममता!

ओवैसी के डर से बंगाल में दंगाइयों को खुली छूट दे रही हैं ममता!

विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी ने मुस्लिम वोट बैंक को रिझाने के लिए रिस्क लिया है। लेकिन उनका चुनावी गणित बिगाड़ने के लिए ओवैसी को पूरे मुस्लिम वोट बैंक की ज़रूरत नहीं है। अगर वो 5% वोट हासिल करने में भी कामयाब रहे तो भाजपा को इसका बड़ा फायदा मिलेगा।

नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध के नाम पर पश्चिम बंगाल में जिस तरह हिंसा हुई है उससे हर कोई हैरान है। मुस्लिम भीड़ ने रेलवे स्टेशनों को तहस-नहस कर दिया, यात्रियों को घंटों बंधक बनाया और सार्वजनिक संपत्ति को ख़ासा नुकसान पहुँचाया। पूरे देश ने देखा कि कैसे जुमे की नमाज के बाद मस्जिद से निकली भीड़ ने हिंसा की। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अभी तक इन दंगाइयों के ख़िलाफ़ कोई सख़्त कार्रवाई नहीं की है। दंगाई मुस्लिमों को नियंत्रित करने के लिए प्रशासन ने भी कुछ ख़ास नहीं किया है।

क्या यह सब सिर्फ़ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मुस्लिम तुष्टिकरण की नीति के कारण हो रहा है? मालूम हो कि ममता काफ़ी समय से इस नीति पर काम कर रही हैं। लेकिन ठहरिए, इसके पीछे और बड़े कारण भी हैं। मुस्लिम दंगाइयों के इस कुकृत्य से इतना तो साफ़ हो ही गया है कि पीड़ित हिन्दुओं का झुकाव अब भाजपा की तरफ़ बढ़ेगा। तृणमूल कॉन्ग्रेस पर पड़ने वाले इस्लामिक हिंसा के इस राजनीतिक दुष्प्रभाव से ममता बनर्जी भलीभाँति परिचित हैं, फिर भी वो ऐसा क्यों होने दे रही हैं?

इसका उत्तर है- असदुद्दीन ओवैसी फैक्टर। हैदराबाद के सांसद ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने 2021 बंगाल विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की है। पार्टी प्रवक्ता असीम वक़ार ने ममता को चेताते हुए कहा था:

“ये सही है कि हम संख्या में कम हैं लेकिन लेकिन कोई हमें छूने की भी हिम्मत न करे। हमलोग एटम बम हैं। दीदी (ममता बनर्जी), हमें आपकी दोस्ती भी पसंद है और हम आपकी दुश्मनी का भी स्वागत करते हैं। अब ये आपके ऊपर है कि आप हमें अपना दोस्त समझती हैं या फिर दुश्मन।”

कोलकाता के धर्मतला में एआईएमआईएम की एक बैठक हुई थी, जिसमें महाराष्ट्र के पूर्व विधायक वारिस पठान भी मौजूद थे। ममता ने नवंबर 2018 में ओवैसी भाइयों की कट्टरवादी छवि को लेकर जनता को अप्रत्यक्ष रूप से चेताया था। कूच विहार में कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए बिना किसी का नाम लिए तृणमूल सुप्रीमो ने कहा था कि ‘उनका’ आधार हैदराबाद में है और ‘उनकी’ बातें नहीं सुनी जानी चाहिए।

दिसंबर में जमीरुल हसन ने आरोप लगाया था कि ममता बनर्जी उनकी पार्टी एआईएमआईएम को निशाना बना रही हैं। उन्होंने कहा था:

“पूरे बंगाल में हमारे कार्यकर्ताओं को पुलिस द्वारा डराया-धमकाया जा रहा है। हमें गालियाँ दी जा रही हैं। पुलिस हमारे राजनीतिक कार्यक्रमों को रोक रही है। ऐसा मुख्यमंत्री के इशारों पर हो रहा है। ममता ने पुलिस को छूट दे रखी है कि वो एआईएमआईएम की एक भी बैठक या राजनीतिक कार्यक्रम न होने दे। हम कोलकाता में एक भव्य रैली आयोजित करेंगे, जिसमें हमारी पार्टी के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी मुख्य वक्ता होंगे।”

ममता बनर्जी के लिए अब चीजें उतनी आसान नहीं लग रही हैं। उन्होंने मुस्लिम वोट बैंक पर अपना सब कुछ खपा दिया है। उन्होंने हिन्दुओं के एक बड़े वर्ग को लगातार नज़रअंदाज़ किया, जो अब भाजपा का वोटर बन चुका है। 2019 में भाजपा ने 18 सीटें जीतीं, जिसमें इस वोट बैंक का बड़ा योगदान है।

अब दिक्कत ये है कि असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ममता बनर्जी के मुस्लिम वोट बैंक में सेंधमारी के लिए तैयार है। मुस्लिम तुष्टिकरण के लिए मेहनत करने वाली ममता ऐसा होने नहीं देना चाहती हैं। हिन्दुओं का एक बड़ा वर्ग पहले ही भाजपा के साथ जा चुका है। नागरिकता संशोधन क़ानून को लेकर सीएम ममता के पास दो विकल्प थे। पहला, वो इसका समर्थन कर देतीं। अगर वो ऐसा करतीं तो मुस्लिम वोट बैंक उनके हाथ से स्पष्ट रूप से फिसल जाता। उन्होंने दूसरा विकल्प चुना और मुस्लिमों को ख़ुश करने के लिए सदन में बिल का विरोध किया।

ममता बनर्जी को पता था कि पहला विकल्प चुनने पर उन्हें कोई राजनीतिक लाभ नहीं होता। भाजपा के पक्ष में जा चुके हिन्दुओं का अब उनकी पार्टी का वोटर बनना मुश्किल है। विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी ने रिस्क लिया है- अपने मुस्लिम वोट बैंक को रिझाने के लिए। ओवैसी को ममता का चुनावी गणित बिगाड़ने के लिए पूरे मुस्लिम वोट बैंक की ज़रूरत नहीं है। अगर वो 5% के आसपास वोट शेयर हासिल करने में कामयाब रहते हैं, तब भी भाजपा को इसका बड़ा फायदा मिलेगा।

हालाँकि, अभी ऐसा कहना जल्दबाजी होगा लेकिन स्पष्ट दिख रहा है कि बंगाल में मुस्लिम दंगाइयों के कारण उत्पन्न हुई अव्यवस्था के कारण हिन्दुओं में से अधिकतर भाजपा का रुख करेंगे। 2021 विधानसभा चुनाव में ममता का ये दाँव उलटा पड़ने जा रहा है, ऐसा प्रतीत हो रहा है। उन्होंने अपने हिन्दू वोट बैंक को दाँव पर लगा दिया है और मुस्लिम उनके साथ बने ही रहेंगे, इसकी भी कोई गारंटी नहीं है।

इस्लामी एक्सट्रेमिज़्म फ़ैलाने के ख़िलाफ़ ममता बनर्जी ने ओवैसी की ‘एटम बम’ पार्टी को दी चेतावनी

हमें छूने की हिमाकत मत करना दीदी, हम हैं ATOM BOMB: ओवैसी की पार्टी ने दी ममता को चेतावनी

स्टेशन पर ट्रेन जैसे ही रुकी, जुमे की नमाज़ के बाद 700 मुस्लिमों की भीड़ एक मस्जिद से निकली और…

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ज्यादा गर्मी ना दिखाएँ, जो जिस भाषा को समझेगा, उसे उस भाषा में जवाब मिलेगा’: CM योगी ने सपाइयों को लताड़ा

"आप लोग सदन की गरिमा को सीखिए, मैं जानता हूँ कि आप किस प्रकार की भाषा और किस प्रकार की बात सुनते हैं, और उसी प्रकार का डोज भी समय-समय पर देता हूँ।"

‘लियाकत और रियासत के रिश्तेदार अब भी देते हैं जान से मारने की धमकी’: दिल्ली दंगा में भारी तबाही झेलने वाले ने सुनाया अपना...

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि चाँदबाग में स्थित दंगा का प्रमुख केंद्र ताहिर हुसैन के घर को सील कर दिया गया था, लेकिन 5-6 महीने पहले ही उसका सील खोला जा चुका है।

3 महीनों के भीतर लागू होगी सोशल, डिजिटल मीडिया और OTT की नियमावली: मोदी सरकार ने जारी की गाइडलाइन्स

आपत्तिजनक विषयवस्तु की शिकायत मिलने पर न्यायालय या सरकार जानकारी माँगती है तो वह भी अनिवार्य रूप से प्रदान करनी होगी। मिलने वाली शिकायत को 24 घंटे के भीतर दर्ज करना होगा और 15 दिन के अंदर निराकरण करना होगा।

भगोड़े नीरव मोदी भारत लाया जाएगा: लंदन कोर्ट ने दी प्रत्यर्पण को मंजूरी, जताया भारतीय न्यायपालिका पर विश्वास

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने नीरव की मानसिक सेहत को लेकर लगाई गई याचिका को ठुकरा दिया। साथ ही ये मानने से इंकार किया कि नीरव मोदी की मानसिक स्थिति और स्वास्थ्य प्रत्यर्पण के लिए फिट नहीं है।

LoC पर युद्धविराम समझौते के लिए भारत-पाक तैयार, दोनों देशों ने जारी किया संयुक्त बयान

दोनों देशों ने तय किया कि आज, यानी 24-45 फरवरी की रात से ही उन सभी पुराने समझौतों को फिर से अमल में लाया जाएगा, जो समय-समय पर दोनों देशों के बीच हुए हैं।

यहाँ के CM कॉन्ग्रेस आलाकमान के चप्पल उठा कर चलते थे.. पूरे भारत में लोग उन्हें नकार रहे हैं: पुडुचेरी में PM मोदी

PM मोदी ने कहा कि पहले एक महिला जब मुख्यमंत्री के बारे में शिकायत कर रही थी, पूरी दुनिया ने महिला की आवाज में उसका दर्द सुना लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री ने सच बताने की बजाए अपने ही नेता को गलत अनुवाद बताया।

प्रचलित ख़बरें

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

केरल में RSS कार्यकर्ता की हत्या: योगी आदित्यनाथ की रैली को लेकर SDPI द्वारा लगाए गए भड़काऊ नारों का किया था विरोध

SDPI की रैली में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी, जिसके खिलाफ हिन्दू कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे। मृतक नंदू के एक साथी पर भी चाकू से वार किया गया, जिनका इलाज चल रहा है।

‘लोकतंत्र सेनानी’ आज़म खान की पेंशन पर योगी सरकार ने लगाई रोक, 16 सालों से सरकारी पैसों पर कर रहे थे मौज

2005 में उत्तर प्रदेश की मुलायम सिंह यादव की सपा सरकार ने आजम खान को 'लोकतंत्र सेनानी' घोषित करते हुए उनके लिए पेंशन की व्यवस्था की थी।

मस्जिदों में लाउडस्पीकर हटाने के लिए बजरंग दल ने शुरू किया राष्ट्रव्यापी कैंपेन: 1 लाख हस्ताक्षरों की दरकार

ये कैंपेन 22 फरवरी 2021 से शुरू किया गया है। अभियान के तहत संगठन का मकसद एक लाख लोगों का समर्थन पाना है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,848FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe