Friday, July 10, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे वामपंथियों का दोगलापन, लिब्रहान रिपोर्ट की इन बातों पर साध लेते हैं चुप्पी

वामपंथियों का दोगलापन, लिब्रहान रिपोर्ट की इन बातों पर साध लेते हैं चुप्पी

रिपोर्ट में कहा गया है कि बँटवारे के बाद 'सर्वश्रेष्ठ' नेतृत्व भी साम्प्रदायिकता उखाड़कर फेंकने में फेल हो गई। आज़ादी के बाद नेताओं ने हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच खाई को मिटाने की कोई बड़ी कोशिश नहीं की।

ये भी पढ़ें

K Bhattacharjee
Black Coffee Enthusiast. Post Graduate in Psychology. Bengali.

6 दिसंबर 1992 को उत्तर-प्रदेश के अयोध्या में बाबरी मस्जिद ढहा दिया गया। घटना के 10 दिन बाद पीवी नरसिम्हाराव के नेतृत्व वाली तत्कालीन कॉन्ग्रेस सरकार ने मामले की जाँच के लिए लिब्रहान आयोग का गठन किया था। इसके बाद 17 साल तक चली मामले की जाँच के बाद आयोग ने अपनी रिपोर्ट केंद्र सरकार को सौंप दी थी।

लिब्रहान की इस रिपोर्ट ने भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर ढाँचा गिराने के मामले में उंगली उठाई गई थी। यही वजह है कि लिबेरल्स के लिए यह एक पसंदीदा विषय है, मगर इस रिपोर्ट के कई अन्य पहलुओं को वे देखकर भी अनदेखा कर देते हैं। अपनी इस रिपोर्ट में जस्टिस लिब्रहान ने जो लिखा है, उसमें से बहुत कुछ ऐसा है जिस पर लोकतंत्र की दुहाई देने वाला कोई भी लिबरल सहमत नहीं होता। जबकि दूसरी तरफ उन बातों से पूरा इत्तेफाक रखता है, जिन्हें वह भुनाना चाहता है।

रिपोर्ट के मुताबिक यह एक ऐतिहासिक तर्क है कि हिन्दू और मुसलमान दोनों के ही रिश्ते हमेशा से ही तनावपूर्ण रहे हैं। अपनी रिपोर्ट में लिब्रहान ने माना है कि इस घटना के बाद हिन्दू समाज के भीतर हिन्दू राष्ट्रवाद और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद से लेकर हिन्दू राष्ट्र की संकल्पना सुदृढ़ होती चली गई।

अपनी इस रिपोर्ट में लिब्रहान ने ज़ोर दिया है कि हिंदुत्व के बढ़ने में भले हिन्दू और मुसलमान के सांप्रदायिक तनाव का योगदान रहा हो मगर इसे पूर्णतः सच नहीं कहा जा सकता। दरअसल हिंदुत्व की ताकत दुनिया भर में उभरते हुए देश हैं। जबकि यह तनाव धार्मिक समुदायों के बीच आपसी संबंधों की स्थिति से तय हुआ है।

जस्टिस लिब्रहान ने अपने आयोग की रिपोर्ट में यह स्वीकार किया था कि देश में आज़ादी के पहले भी हिन्दू और मुसलमान के बीच तनाव था। दोनों समुदायों के बीच की यह कड़वाहट हाल-फिलहाल में नहीं बनी बल्कि लम्बे समय से चली आ रही है।

दोनों समुदायों के बीच तनाव बढ़ने के उच्चतम स्तर पर जाने के बाद पाकिस्तान बनने जैसे हालात हुए। पाकिस्तान ने खुद को एक इस्लामिक देश घोषित कर दिया। अपना संवैधानिक स्वरुप भी वैसा ही बना लिया जबकि विविधताओं का सम्मान करते हुए भारत ने खुद को एक सेकुलर, बहु-धार्मिक देश बनाया जहाँ कई क्षेत्र और कई राज्य अस्तित्व में आए। रिपोर्ट में कहा गया कि पार्टीशन के ज़ख्म आज भी लोगों के अन्दर जिंदा हैं। यह कहना गलत नहीं होगा कि ऐसी घटनाएँ भयावह थीं और शायद कभी भुलाई न जा सकें।

कमीशन की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि बँटवारे के बाद सर्वश्रेष्ठ नेतृत्व भी साम्प्रदायिकता उखाड़कर फेंकने में फेल हो गई। आगे चलकर जाति, धर्म और क्षेत्र इसी साम्प्रदायिकता का कारण बने। आज़ादी के बाद नेताओं ने हिन्दुओं और मुसलामानों के बीच खाई को मिटाने की कोई बड़ी कोशिश नहीं की।

लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट में माना गया है कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में ही हुआ था। अपनी इस रिपोर्ट में हिन्दू धर्म ग्रन्थ रामायण के आधार पर लिब्रहान कमीशन ने इस राम और अयोध्या दोनों के अस्तित्व को स्वीकार किया है। वहीं उन वामपंथी इतिहासकारों से पूछा जाना चाहिए कि जिस लिब्रहान आयोग का हवाला वे देते हैं, इस रिपोर्ट के राम और अयोध्या को मानने के बावजूद वे दोहरा रवैय्या क्यों रखते हैं।

रिपोर्ट ने कहा है कि बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी में एक भी मुसलमान शामिल नहीं था जबकि इस कमिटी का गठन ही तब हुआ था जब मंदिर का ताला खोलकर हिन्दुओं को पूजा करने के लिए इजाज़त दी गई थी।

दरअसल यह बात किसी से छिपी नहीं है कि लिबरल अक्सर मुसलमान समुदाय से ज़हर उगलने वाले नेताओं को बढ़ावा देते आए हैं। इनमें जमा मस्जिद के शाही इमाम जैसे शामिल हैं जिन्होंने 1987 में खुले-आम दंगे भड़काने की बात कही थी। वहीं रिपोर्ट में शहाबुद्दीन ओवैसी (असदुद्दीन ओवैसी के पिता) का भी नाम है जिसने गणतंत्र दिवस के बहिष्कार का भी ऐलान किया था।

आयोग भले आम आदमी की भागीदारी से इनकार करे मगर रामजन्म भूमि आन्दोलन एक बहुत ही व्यापक आन्दोलन था, इस तथ्य से कतई इनकार नहीं किया जा सकता। देश की राजनीति पर किसी भी आन्दोलन का इतना प्रभाव नहीं पड़ा जितना कि देश की राजनीति पर इस मुद्दे से पड़ा।

लिहाज़ा आयोग का यह कहना पूरी तरह से गलत है कि इस आन्दोलन में आम आदमी की कोई भागीदारी थी ही नहीं। यह एक तथ्य है जो सभी को ज्ञात है कि राम मंदिर के लिए इस आन्दोलन में आम आदमी ने बढ़-चढ़कर भूमिका निभाई थी। जन्मभूमि के अन्दोलन में जनसमर्थन इस हद तक था कि लोगों को संभालने में सेकुलर सरकार की मशीनरी खुद ही फेल हो गई।

मीडिया खुद अपनी भूमिका पर उठने वाले सवालों पर चुप्पी साध लेता है। आयोग की इस रिपोर्ट में मीडिया की गैर-जिम्मेदाराना रिपोर्टिंग पर टिप्पणी की गई है। लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट में तमाम झुकावों के बावजूद यह भी साफ़ हो गया कि मीडिया ने अहम तथ्यों को अपनी रिपोर्टिंग से ही गायब कर दिया। वहीं आयोग की निष्पक्षता पर भी सवाल उठाना लाजिमी है क्योंकि व्यापक जनसमर्थन वाले इस आन्दोलन में कमीशन ने तो जनता के होने से ही इनकार कर दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

K Bhattacharjee
Black Coffee Enthusiast. Post Graduate in Psychology. Bengali.

ख़ास ख़बरें

महिलाओं को बंधक बनाकर फरीदाबाद में रुका था विकास दुबे, बोले लल्लन वाजपेयी- सदियों बाद आज़ाद हुए

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद विकास दुबे ने साथियों संग फरीदाबाद के एक घर में शरण ली थी।

Tiktok समेत 59 प्रतिबंधित चीनी एप को सरकार ने भेजे 70 सवाल, 22 जुलाई तक देना होगा जवाब

प्रतिबंध लगाने के बाद भारत सरकार टिकटॉक समेत 59 चीनी एप को 70 सवालों की सूची के साथ नोटिस भेजा है।

व्यंग्य: विकास दुबे एनकाउंटर पर बकैत कुमार की प्राइमटाइम स्क्रिप्ट हुई लीक

आज सुबह खबर आई कि एनकाउंटर हो गया। स्क्रिप्ट बदलनी पड़ी। जज्बात बदल गए, हालात बदल गए, दिन बदल गया, शाम बदल गई!

मोदी सरकार ने प्लास्टिक कचरे से सड़क बना बचाए ₹3000000000, डबल करने का है इरादा: जानिए कैसे हुआ मुमकिन

2016 में मोदी सरकार ने इस पहल की आधिकारिक तौर पर घोषणा की थी। इसके बाद से प्लास्टिक कचरे से 11 राज्यों में करीब 1 लाख किमी लंबी सड़कों का निर्माण हो चुका है।

ऑपइंडिया एक्सक्लूसिव: साहिल के पिता परवेज 3 बार में 3 तरह से, 2 अलग जगहों पर मरे… 16 हिन्दुओं के नाम FIR में

आखिर साहिल परवेज ने तीन बार में तीन अलग-अलग बातें क्यों बोलीं? उसके पिता की हत्या घर के गेट के पास हुई या फिर बाबू राम चौक पर? उसे अस्पताल ले जाने वाला नितेश कौन है? साहिल अपने पिता को स्कूटी पर ले गया था, या उसका दोस्त शाहरुख?

रतन लाल की हत्या से पहले इस्लामी भीड़ ने 2 और पुलिसकर्मियों को बनाया था बंधक: दिल्ली दंगों की चार्जशीट

जिस भीड़ ने रतन लाल की निर्दयता से हत्या कर दी थी उसी इस्लामी भीड़ ने टेंट में दो अन्य पुलिसकर्मियों को भी बंधक बना लिया था।

प्रचलित ख़बरें

शोएब अख्तर के ओवर में काँपते थे सचिन, अफरीदी ने बिना रिकॉर्ड देखे किया दावा

सचिन ने ऐसे 19 मैच खेले, जिसमें शोएब पाकिस्तानी टीम का हिस्सा थे। इसमें सचिन ने 90.18 के स्ट्राइक और 45.47 की औसत से 864 रन बनाए।

क्या है सुकन्या देवी रेप केस जिसमें राहुल गाँधी थे आरोपित, कोर्ट ने कर दिया था खारिज

राजीव गाँधी फाउंडेशन पर जाँच को लेकर कल एक टीवी डिबेट में बीजेपी के संबित पात्रा और कॉन्ग्रेस के प्रवक्ता गौरव बल्लभ के बीच बहस आगे बढ़ते-बढ़ते एक पुराने रेप के मामले पर अटक गई जिसमें राहुल गाँधी को आरोपित बनाया गया था।

‘गुप्त सूत्रों’ से विकास दुबे का एनकाउंटर: राजदीप खोजी पत्रकारों के सरदार, गैंग की 2 चेली का भी कमाल

विकास दुबे जब फरार था, तभी 'खोजी बुद्धिजीवी' अपने काम में जुट गए। ऐसे पत्रकारों में प्रमुख नाम थे राजदीप सरदेसाई, स्वाति चतुर्वेदी और...

रवीश कुमार जैसे गैर-मुस्लिम, चाहे वो कितना भी हमारे पक्ष में बोलें, नरक ही जाएँगे: जाकिर नाइक

बकौल ज़ाकिर नाइक, रवीश कुमार हों या 'मुस्लिमों का पक्ष लेने वाले' अन्य नॉन-मुस्लिम... उन सभी के लिए नरक की सज़ा की ही व्यवस्था है।

हमने कंगना को मौका नहीं दिया होता तो? पूजा भट्ट ने कहा- हमने उतनों को लॉन्च किया, जितनों को पूरी इंडस्ट्री ने नहीं की

पूजा भट्ट ने दावा किया कि वो एक ऐसे 'परिवार' से आती हैं, जिसने उतने प्रतिभाशाली अभिनेताओं, संगीतकारों और टेक्नीशियनों को लॉन्च किया है, जितनों को पूरी फिल्म इंडस्ट्री ने मिल कर भी नहीं किया होगा।

UP: पुलिस मुठभेड़ में मारा गया ₹50,000 का इनामी पन्ना यादव उर्फ डॉक्टर, 3 दर्जन से ज्यादा संगीन मामलों में था आरोपित

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर का ₹50000 का इनामी अपराधी पन्ना यादव उर्फ सुमन यादव उर्फ़ 'डॉक्टर' बहराइच जिले के हरदी इलाके में एसटीएफ व पुलिस की संयुक्त मुठभेड़ में मारा गया है।

Covid-19: भारत में 24 घंटे में सामने आए 26506 नए मामले, अब तक 21604 की मौत

भारत में कोरोना संक्रमण के अब तक 7,93,802 मामले सामने आ चुके हैं। बीते 24 घंटे में 475 लोगों की मौत हुई है।

महिलाओं को बंधक बनाकर फरीदाबाद में रुका था विकास दुबे, बोले लल्लन वाजपेयी- सदियों बाद आज़ाद हुए

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद विकास दुबे ने साथियों संग फरीदाबाद के एक घर में शरण ली थी।

Tiktok समेत 59 प्रतिबंधित चीनी एप को सरकार ने भेजे 70 सवाल, 22 जुलाई तक देना होगा जवाब

प्रतिबंध लगाने के बाद भारत सरकार टिकटॉक समेत 59 चीनी एप को 70 सवालों की सूची के साथ नोटिस भेजा है।

व्यंग्य: विकास दुबे एनकाउंटर पर बकैत कुमार की प्राइमटाइम स्क्रिप्ट हुई लीक

आज सुबह खबर आई कि एनकाउंटर हो गया। स्क्रिप्ट बदलनी पड़ी। जज्बात बदल गए, हालात बदल गए, दिन बदल गया, शाम बदल गई!

भैसों के सामने आने से पलटी गाड़ी, पिस्टल छीन कच्चे रास्ते से भाग रहा था विकास दुबे: यूपी STF

​कैसे पलटी गाड़ी? कैसे मारा गया विकास दुबे? एनकाउंटर पर STF ने घटनाक्रमों का दिया सिलसिलेवार ब्यौरा।

विकास दुबे के पिता नहीं होंगे अंतिम संस्कार में शामिल, माँ ने भी कानपुर जाने से किया इनकार

विकास दुबे का शव लेने से परिजनों ने मना कर दिया है। उसके माता-पिता ने अंतिम संस्कार में शामिल होने से भी इनकार किया है।

भारत के मजबूत तेवर देख चीनी राजदूत ने कहा- हमारी सेना पीछे हट चुकी है, धर्मशाला में धू-धू जला जिनपिंग

चीन के राजदूत सुन वेईडॉन्ग ने स्वीकार किया है कि गलवान घाटी में हुए हिंसक संघर्ष के बाद भारत में उनके देश को लेकर अविश्वास बढ़ा है।

विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर प्रियंका गाँधी और अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर साधा निशाना

कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपित विकास दुबे के एनकाउंटर पर सवाल उठा सियासत शुरू कर दी है।

मोदी सरकार ने प्लास्टिक कचरे से सड़क बना बचाए ₹3000000000, डबल करने का है इरादा: जानिए कैसे हुआ मुमकिन

2016 में मोदी सरकार ने इस पहल की आधिकारिक तौर पर घोषणा की थी। इसके बाद से प्लास्टिक कचरे से 11 राज्यों में करीब 1 लाख किमी लंबी सड़कों का निर्माण हो चुका है।

UAPA के तहत गिरफ्तार शरजील इमाम को दिल्ली HC ने दिया झटका: याचिका खारिज, बेल देने से भी किया इंकार

देशद्रोह के मामले में आरोपित शरजील इमाम ने अपनी याचिका में दावा किया था कि जाँच एजेंसी कानूनी प्रक्रिया का उल्लंघन कर रही हैं और उससे उसकी जमानत का अधिकार छीन रही है।

हमसे जुड़ें

237,463FansLike
63,336FollowersFollow
272,000SubscribersSubscribe