Monday, November 30, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे क्यों वामपंथियो, तुम्हारे कुकर्म इतने भारी हो गए कि अपने लिए वोट माँगने की...

क्यों वामपंथियो, तुम्हारे कुकर्म इतने भारी हो गए कि अपने लिए वोट माँगने की हिम्मत नहीं बची?

हिंदुस्तान अब और विष नहीं पीना चाहता। ईर्ष्या और नफ़रत का वह विष जो कम्युनिस्टों की मूल विचारधारा में निहित है, और आज लाल आतंक बनकर इस देश को लहूलुहान कर रहा है।

वामपंथ आज किस तरह दुनिया से नकारा जा चुका है और नाकारा हो चुका है, इसकी तस्वीर वह खुद ही पेश भी कर रहा है। आज मजदूर दिवस के दिन अपनी गोष्ठियों में वह यह बैज बाँट रहे थे।

तो किसे “Vote in” करें? अर्बन नक्सलियों को? या भ्रष्टाचार से देश की जड़ें खोखली कर देने वालों को?

इस पर जो ‘कॉमन’ वाक्य लिखा है, उसे ध्यान से पढ़िए- यह महत्वपूर्ण है। वोट आउट द राईट विंग। अपने लिए कहीं वोट की अपील नहीं है। अपना कोई विचार, कोई प्रोग्राम, कोई एजेंडा नहीं है- बस एक हौव्वे के खिलाफ गोलबंदी है। और या फिर वह इतना घिसा-पिटा है कि उसे सामने रखकर वोट माँगने की हिम्मत ही नहीं है… लोग आपके, स्थान आपका, मौका भी आप ही का (क्योंकि आप ही के वैचारिक पूर्वज मजदूर दिवस शुरू कर गए हैं, और मजदूरों के हक़ की लड़ाई पर आप अपना पेटेंट मानते हैं), और फिर भी आपके पास सामने रखने के लिए अपना कोई मुद्दा, कोई विचार, कोई एजेंडा नहीं है।

दो-तीन महीने पहले मेरे एक मित्र गाँधी शांति संस्थान में कबीर की वैचारिक चेतना पर आधारित एक कार्यक्रम में गए थे। वहाँ भी बमुश्किल पाँच मिनट कबीर पर बात हुई, और उसके बाद “कबीर के समय की ही तरह कट्टरपंथी ताकतें आज भी कायम हैं”, “हमें फासीवादियों से लड़ना है”, “इनटॉलरेंस हावी हो रही है” शुरू हो गया।

क्या आज कम्युनिस्ट गैर-राजनीतिक कार्यक्रमों को ‘हाइजैक’ कर अपने भाषण इसीलिए दे रहे हैं क्योंकि पता है कि कम्युनिस्टों को क्या कहना है, वह सुनने में देश की दिलचस्पी ही खत्म हो गई है? समझ नहीं आ रहा इनकी इस स्थिति को दुःखद कहूँ या हास्यास्पद!

हर पैंतरा चूक चुका है

असहिष्णुता का बाजा बजा के देख लिया, 600 तुर्रम खां कलाकारों से मोदी को हारने की अपील करा ली, थर्ड फ्रंट- ये-वो गठबंधन-महागठबंधन वगैरह सब तरह की गोलबंदी करके देख ली, पर ‘राईट विंग’ को यह रोक नहीं पाए हैं। देश दिन-ब-दिन और ज्यादा राष्ट्रवादी होता जा रहा है, भाजपा का विजय-रथ रोके नहीं रुक रहा है और 2002 से लेकर हिन्दुओं को गरियाने तक इनके सारे पैंतरे उलटे पड़ रहे हैं। क्यों? क्योंकि हिंदुस्तान अब और विष नहीं पीना चाहता। ईर्ष्या और नफ़रत का वह विष जो कम्युनिस्टों की मूल विचारधारा में निहित है, और आज लाल आतंक बनकर इस देश को लहूलुहान कर रहा है।

सर्वहारा के नाम पर लड़ाई लड़ने वाले यह लोग या तो खुद ग़रीबों को मार रहे होते हैं, उनसे जबरन टैक्स-वसूली और अपनी गुरिल्ला-अदालतों में उनका क़त्ल कर रहे होते हैं, और या फिर अर्बन नक्सल बन अपने कॉमरेडों के रक्तरंजित हिंसा पर अकादमिक पर्दा चढ़ा रहे होते हैं। और आज सोशल मीडिया के दौर में जब यह सारा कच्चा चिट्ठा सामने आ रहा है, तो बाढ़ की तरह लोगों का मोह इनके यूटोपियाई सब्जबागों से भंग हो रहा है। और यही बौखलाहट हताशा बन रही है।

हताशा ही हताशा

कम्युनिस्ट खेमे को अच्छी तरह पता है कि आज देश में इनका कोई वजूद नहीं है-  हर राज्य में इनके अधिकांश प्रत्याशी जमानत भी नहीं बचा पाते। त्रिपुरा, बंगाल जैसे पारंपरिक गढ़ों से ये खदेड़े जा चुके हैं, और केरल भी सबरीमाला के बाद यह बुरी तरह हारने वाले हैं। और इन्हें हराने वाले वही भाजपा-संघ हैं जिन्हें इन्होंने कॉन्ग्रेस के साथ गठजोड़ कर अपने ‘सम्भ्रांत’ गोले से 70 साल बाहर रखा।

यही खिसियाहट कभी अवार्ड-वापसी, असहिष्णुता जैसे वाहियात झूठों से निकलती थी, आज वही चीज अपनी जीत छोड़ दूसरे को हराने के चुनावी अभियान में दिख रही है। इसे ही साइकोलॉजी वाले हताशा कहते हैं।

यह हताशा ही है जिसके चलते जातिवाद से लड़ने का दावा करने वाले कम्युनिस्टों के नव-नेता पहले तो जातिवाद के पोस्टर-बॉय लालू यादव के श्रीचरणों में स्थान ग्रहण करते हैं, फिर राजद के बेगूसराय टिकट की टकटकी बाँधकर बाट जोहते हैं, और फिर अंत में वहाँ से ठेंगा खाने के बाद दिग्विजय सिंह जैसे अपनी ही पार्टी में वजूद के लिए लड़ रहे नेता से अपने लिए समर्थन जुटाने लगते हैं।

और जब हर पैंतरा फेल हो जाता है तो अंत में बस ‘भाजपा/मोदी/राईट विंग को हरा दो, हमें भले ही वोट मत दो’ की अपील इस बैज जैसे पैंतरों से करने लगते हैं।

इस बैज में जो अपील है, और आज जो गढ़चिरौली में हुआ है, वो बताता है कि यह डरावनी विचारधारा आखिर क्या चाहती है। हर ऐसी हिंसक घटना बताती है कि लेफ़्ट विंग अब सिर्फ और सिर्फ लेफ़्ट विंग टेरर के ही नाम से जाना जाता है क्योंकि इनकी एक अच्छाई इस समाज में सर्वाइव नहीं कर पाई है।

लोगों से अपने नाम पर वोट माँगने लायक इनका मुँह ही नहीं बचा है- FoE से लेकर हिंसा और असहिष्णुता तक हर चीज पर इनका दोहरापन दुनिया के सामने उजागर हो चुका है। इसीलिए यह अब खुद जीतने की बजाय दूसरे को हराने की अपील तक सीमित हो गए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘औरंगजेब के आदेश पर बनी मस्जिद, दोबारा बने मंदिर’: देव दीपावली पर उठा काशी विश्वनाथ की मुक्ति का मसला

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि काशी विश्वनाथ मंदिर को तोड़ कर ज्ञानवापी मस्जिद बनवाई गई थी। दोबारा वहाँ मंदिर का निर्माण होना चाहिए।

वे मेरी अम्मी को पीटते हैं, घर में उनके घुसने पर लगी है रोक: ‘देश विरोधी’ कहने पर शेहला ने अब्बा को बताया- गालीबाज...

पिता की शिकायत पर शेहला रशीद ने जवाब दिया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि उनके पिता उनकी अम्मी को पीटते और प्रताड़ित करते हैं।

‘शाहीन बाग रिटर्न्स’: गाजीपुर में आंदोलनकारी ‘किसानों’ के बीच बँटी बिरयानी, नेटिजन्स बोले- आ गया सीजन 2

गाजीपुर में 'किसानों' के बीच बिरयानी बँटने का वीडियो सामने आने के बाद सोशल मीडिया में यूजर्स शाहीन बाग 'प्रदर्शन' से इसको जोड़ रहे हैं।

पहली बार प्रधानमंत्री बने काशी की ‘देव दीपावली’ का हिस्सा, जानिए इस महापर्व का इतिहास…

यूँ तो काशी की देव दीपावली दुनिया भर में प्रसिद्ध है। लेकिन, यह पहला मौका था जब प्रधानमंत्री इस महापर्व में शरीक हुए।

मेरे घर में चल रहा देश विरोधी काम, बेटी ने लिए ₹3 करोड़: अब्बा ने खोली शेहला रशीद की पोलपट्टी, कहा- मुझे भी दे...

शेहला रशीद के खिलाफ उनके पिता अब्दुल रशीद शोरा ने शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बेटी के बैंक खातों की जाँच की माँग की है।

‘झूठ फैलाना कुछ लोगों का पेशा’: PM मोदी ने कहा- विरोध का आधार फैसला नहीं, बल्कि आशंकाओं को बनाया जा रहा है

वाराणसी से किसानों को भरोसा दिलाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कृषि बिलों पर दुष्प्रचार किया जा रहा है।

प्रचलित ख़बरें

दिवंगत वाजिद खान की पत्नी ने अंतर-धार्मिक विवाह की अपनी पीड़ा पर लिखा पोस्ट, कहा- धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

कमलरुख ने खुलासा किया कि कैसे इस्लाम में परिवर्तित होने के उनके प्रतिरोध ने उनके और उनके दिवंगत पति के बीच की खाई को बढ़ा दिया।

मेरे घर में चल रहा देश विरोधी काम, बेटी ने लिए ₹3 करोड़: अब्बा ने खोली शेहला रशीद की पोलपट्टी, कहा- मुझे भी दे...

शेहला रशीद के खिलाफ उनके पिता अब्दुल रशीद शोरा ने शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बेटी के बैंक खातों की जाँच की माँग की है।

‘बीवी सेक्स से मना नहीं कर सकती’: इस्लाम में वैवाहिक रेप और यौन गुलामी जायज, मौलवी शब्बीर का Video वायरल

सोशल मीडिया में कनाडा के इमाम शब्बीर अली का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें इस्लाम का हवाला देते हुए वह वैवाहिक रेप को सही ठहराते हुए देखा जा सकता है।

‘जय हिन्द नहीं… भारत माता भी नहीं, इंदिरा जैसा सबक मोदी को भी सिखाएँगे’ – अमानतुल्लाह के साथ प्रदर्शनकारियों की धमकी

जब 'किसान आंदोलन' के नाम पर प्रदर्शनकारी द्वारा बयान दिए जा रहे थे, तब आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक अमानतुल्लाह खान वहीं पर मौजूद थे।

13 साल की बच्ची, 65 साल का इमाम: मस्जिद में मजहबी शिक्षा की क्लास, किताब के बहाने टॉयलेट में रेप

13 साल की बच्ची मजहबी क्लास में हिस्सा लेने मस्जिद गई थी, जब इमाम ने उसके साथ टॉयलेट में रेप किया।

‘हिंदू लड़की को गर्भवती करने से 10 बार मदीना जाने का सवाब मिलता है’: कुणाल बन ताहिर ने की शादी, फिर लात मार गर्भ...

“मुझे तुमसे शादी नहीं करनी थी। मेरा मजहब लव जिहाद में विश्वास रखता है, शादी में नहीं। एक हिंदू को गर्भवती करने से हमें दस बार मदीना शरीफ जाने का सवाब मिलता है।”

‘औरंगजेब के आदेश पर बनी मस्जिद, दोबारा बने मंदिर’: देव दीपावली पर उठा काशी विश्वनाथ की मुक्ति का मसला

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि काशी विश्वनाथ मंदिर को तोड़ कर ज्ञानवापी मस्जिद बनवाई गई थी। दोबारा वहाँ मंदिर का निर्माण होना चाहिए।

वे मेरी अम्मी को पीटते हैं, घर में उनके घुसने पर लगी है रोक: ‘देश विरोधी’ कहने पर शेहला ने अब्बा को बताया- गालीबाज...

पिता की शिकायत पर शेहला रशीद ने जवाब दिया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि उनके पिता उनकी अम्मी को पीटते और प्रताड़ित करते हैं।

‘शाहीन बाग रिटर्न्स’: गाजीपुर में आंदोलनकारी ‘किसानों’ के बीच बँटी बिरयानी, नेटिजन्स बोले- आ गया सीजन 2

गाजीपुर में 'किसानों' के बीच बिरयानी बँटने का वीडियो सामने आने के बाद सोशल मीडिया में यूजर्स शाहीन बाग 'प्रदर्शन' से इसको जोड़ रहे हैं।

देखें, देव दीपावली की अनूठी तस्वीरें: 11 लाख दीयों से जगमग हुए बनारस के घाट

पीएम मोदी ने देव दीपावली उत्सव का पहला दीया प्रज्जवलित किया। पीएम के दीप जलाने के बाद गंगा के दोनों किनारों पर सजे लाखों दीप जगमगा उठें।

पहली बार प्रधानमंत्री बने काशी की ‘देव दीपावली’ का हिस्सा, जानिए इस महापर्व का इतिहास…

यूँ तो काशी की देव दीपावली दुनिया भर में प्रसिद्ध है। लेकिन, यह पहला मौका था जब प्रधानमंत्री इस महापर्व में शरीक हुए।

मेरे घर में चल रहा देश विरोधी काम, बेटी ने लिए ₹3 करोड़: अब्बा ने खोली शेहला रशीद की पोलपट्टी, कहा- मुझे भी दे...

शेहला रशीद के खिलाफ उनके पिता अब्दुल रशीद शोरा ने शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बेटी के बैंक खातों की जाँच की माँग की है।

चायनीज कंपनी के मुकाबले देशी मोबाइल माइक्रोमैक्स की In Note 1 के साथ शानदार वापसी, कभी हुआ करता था भारत का नंबर 1 ब्रांड

माइक्रोमैक्स ने In Note 1 के साथ बाजार में धमाकेदार वापसी की है। कभी बेहद लोकप्रिय रहे इस ब्रांड को चाइनीज कंपनियों ने पीछे छोड़ दिया था।

PM किसान सम्मान निधि: किसानों के खाते में 7वीं किस्त 1 दिसंबर से, इस तरह चेक करें लिस्ट में नाम है या नहीं

PM किसान सम्मान निधि के तहत सातवीं किस्त का पैसा 1 दिसंबर से 1 दिसंबर से आनी शुरू हो जाएगी। जानिए लिस्ट में अपना नाम कैसे चेक करें।

‘TMC= टेररिस्ट मैन्युफैक्चरिंग कंपनी, युवाओं के बीच भी यही धारणा है’: BJP ने बंगाल के ‘भाईपो’ की बदजुबानी को बनाया निशाना

"समय के साथ, TMC का अर्थ बदलता रहा है। अब यह टेररिस्ट मैन्युफैक्चरिंग कंपनी (आतंकवादी विनिर्माण कंपनी) बन गई है। युवा भी यही सोचते हैं।"

पोर्न वीडियो दिखा कर कास्टिंग डायरेक्टर ने हिरोइन के साथ किया कई बार रेप, देता था शादी का झाँसा: FIR दर्ज

एक्ट्रेस की शिकायत पर मुंबई के वर्सोवा पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज किया गया है। कास्टिंग डायरेक्टर के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 के तहत...

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,493FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe