Friday, March 5, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे क्यों वामपंथियो, तुम्हारे कुकर्म इतने भारी हो गए कि अपने लिए वोट माँगने की...

क्यों वामपंथियो, तुम्हारे कुकर्म इतने भारी हो गए कि अपने लिए वोट माँगने की हिम्मत नहीं बची?

हिंदुस्तान अब और विष नहीं पीना चाहता। ईर्ष्या और नफ़रत का वह विष जो कम्युनिस्टों की मूल विचारधारा में निहित है, और आज लाल आतंक बनकर इस देश को लहूलुहान कर रहा है।

वामपंथ आज किस तरह दुनिया से नकारा जा चुका है और नाकारा हो चुका है, इसकी तस्वीर वह खुद ही पेश भी कर रहा है। आज मजदूर दिवस के दिन अपनी गोष्ठियों में वह यह बैज बाँट रहे थे।

तो किसे “Vote in” करें? अर्बन नक्सलियों को? या भ्रष्टाचार से देश की जड़ें खोखली कर देने वालों को?

इस पर जो ‘कॉमन’ वाक्य लिखा है, उसे ध्यान से पढ़िए- यह महत्वपूर्ण है। वोट आउट द राईट विंग। अपने लिए कहीं वोट की अपील नहीं है। अपना कोई विचार, कोई प्रोग्राम, कोई एजेंडा नहीं है- बस एक हौव्वे के खिलाफ गोलबंदी है। और या फिर वह इतना घिसा-पिटा है कि उसे सामने रखकर वोट माँगने की हिम्मत ही नहीं है… लोग आपके, स्थान आपका, मौका भी आप ही का (क्योंकि आप ही के वैचारिक पूर्वज मजदूर दिवस शुरू कर गए हैं, और मजदूरों के हक़ की लड़ाई पर आप अपना पेटेंट मानते हैं), और फिर भी आपके पास सामने रखने के लिए अपना कोई मुद्दा, कोई विचार, कोई एजेंडा नहीं है।

दो-तीन महीने पहले मेरे एक मित्र गाँधी शांति संस्थान में कबीर की वैचारिक चेतना पर आधारित एक कार्यक्रम में गए थे। वहाँ भी बमुश्किल पाँच मिनट कबीर पर बात हुई, और उसके बाद “कबीर के समय की ही तरह कट्टरपंथी ताकतें आज भी कायम हैं”, “हमें फासीवादियों से लड़ना है”, “इनटॉलरेंस हावी हो रही है” शुरू हो गया।

क्या आज कम्युनिस्ट गैर-राजनीतिक कार्यक्रमों को ‘हाइजैक’ कर अपने भाषण इसीलिए दे रहे हैं क्योंकि पता है कि कम्युनिस्टों को क्या कहना है, वह सुनने में देश की दिलचस्पी ही खत्म हो गई है? समझ नहीं आ रहा इनकी इस स्थिति को दुःखद कहूँ या हास्यास्पद!

हर पैंतरा चूक चुका है

असहिष्णुता का बाजा बजा के देख लिया, 600 तुर्रम खां कलाकारों से मोदी को हारने की अपील करा ली, थर्ड फ्रंट- ये-वो गठबंधन-महागठबंधन वगैरह सब तरह की गोलबंदी करके देख ली, पर ‘राईट विंग’ को यह रोक नहीं पाए हैं। देश दिन-ब-दिन और ज्यादा राष्ट्रवादी होता जा रहा है, भाजपा का विजय-रथ रोके नहीं रुक रहा है और 2002 से लेकर हिन्दुओं को गरियाने तक इनके सारे पैंतरे उलटे पड़ रहे हैं। क्यों? क्योंकि हिंदुस्तान अब और विष नहीं पीना चाहता। ईर्ष्या और नफ़रत का वह विष जो कम्युनिस्टों की मूल विचारधारा में निहित है, और आज लाल आतंक बनकर इस देश को लहूलुहान कर रहा है।

सर्वहारा के नाम पर लड़ाई लड़ने वाले यह लोग या तो खुद ग़रीबों को मार रहे होते हैं, उनसे जबरन टैक्स-वसूली और अपनी गुरिल्ला-अदालतों में उनका क़त्ल कर रहे होते हैं, और या फिर अर्बन नक्सल बन अपने कॉमरेडों के रक्तरंजित हिंसा पर अकादमिक पर्दा चढ़ा रहे होते हैं। और आज सोशल मीडिया के दौर में जब यह सारा कच्चा चिट्ठा सामने आ रहा है, तो बाढ़ की तरह लोगों का मोह इनके यूटोपियाई सब्जबागों से भंग हो रहा है। और यही बौखलाहट हताशा बन रही है।

हताशा ही हताशा

कम्युनिस्ट खेमे को अच्छी तरह पता है कि आज देश में इनका कोई वजूद नहीं है-  हर राज्य में इनके अधिकांश प्रत्याशी जमानत भी नहीं बचा पाते। त्रिपुरा, बंगाल जैसे पारंपरिक गढ़ों से ये खदेड़े जा चुके हैं, और केरल भी सबरीमाला के बाद यह बुरी तरह हारने वाले हैं। और इन्हें हराने वाले वही भाजपा-संघ हैं जिन्हें इन्होंने कॉन्ग्रेस के साथ गठजोड़ कर अपने ‘सम्भ्रांत’ गोले से 70 साल बाहर रखा।

यही खिसियाहट कभी अवार्ड-वापसी, असहिष्णुता जैसे वाहियात झूठों से निकलती थी, आज वही चीज अपनी जीत छोड़ दूसरे को हराने के चुनावी अभियान में दिख रही है। इसे ही साइकोलॉजी वाले हताशा कहते हैं।

यह हताशा ही है जिसके चलते जातिवाद से लड़ने का दावा करने वाले कम्युनिस्टों के नव-नेता पहले तो जातिवाद के पोस्टर-बॉय लालू यादव के श्रीचरणों में स्थान ग्रहण करते हैं, फिर राजद के बेगूसराय टिकट की टकटकी बाँधकर बाट जोहते हैं, और फिर अंत में वहाँ से ठेंगा खाने के बाद दिग्विजय सिंह जैसे अपनी ही पार्टी में वजूद के लिए लड़ रहे नेता से अपने लिए समर्थन जुटाने लगते हैं।

और जब हर पैंतरा फेल हो जाता है तो अंत में बस ‘भाजपा/मोदी/राईट विंग को हरा दो, हमें भले ही वोट मत दो’ की अपील इस बैज जैसे पैंतरों से करने लगते हैं।

इस बैज में जो अपील है, और आज जो गढ़चिरौली में हुआ है, वो बताता है कि यह डरावनी विचारधारा आखिर क्या चाहती है। हर ऐसी हिंसक घटना बताती है कि लेफ़्ट विंग अब सिर्फ और सिर्फ लेफ़्ट विंग टेरर के ही नाम से जाना जाता है क्योंकि इनकी एक अच्छाई इस समाज में सर्वाइव नहीं कर पाई है।

लोगों से अपने नाम पर वोट माँगने लायक इनका मुँह ही नहीं बचा है- FoE से लेकर हिंसा और असहिष्णुता तक हर चीज पर इनका दोहरापन दुनिया के सामने उजागर हो चुका है। इसीलिए यह अब खुद जीतने की बजाय दूसरे को हराने की अपील तक सीमित हो गए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वह शिक्षित है… 21 साल की उम्र में भटक गया था’: आरिब मजीद को बॉम्बे हाई कोर्ट ने दी बेल, ISIS के लिए सीरिया...

2014 में ISIS में शामिल होने के लिए सीरिया गया आरिब मजीद जेल से बाहर आ गया है। बॉम्बे हाई कोर्ट ने उसकी जमानत बरकरार रखी है।

अमेज़न पर आउट ऑफ स्टॉक हुई राहुल रौशन की किताब- ‘संघी हू नेवर वेंट टू अ शाखा’

राहुल रौशन ने हिंदुत्व को एक विचारधारा के रूप में क्यों विश्लेषित किया है? यह विश्लेषण करते हुए 'संघी' बनने की अपनी पेचीदा यात्रा को उन्होंने साझा किया है- अपनी किताब 'संघी हू नेवर वेंट टू अ शाखा' में…"

मुंबई पुलिस अफसर के संपर्क में था ‘एंटीलिया’ के बाहर मिले विस्फोटक लदे कार का मालिक: फडणवीस का दावा

मनसुख हिरेन ने लापता कार के बारे में पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी। आज उसी हिरेन को मुंबई में एक नाले में मृत पाया गया। जिससे यह पूरा मामला और भी संदिग्ध नजर आ रहा है।

कल्याणकारी योजनाओं में आबादी के हिसाब से मुस्लिमों की हिस्सेदारी ज्यादा: CM योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश में आबादी के अनुपात में मुसलमानों की कल्याणकारी योजनाओं में अधिक हिस्सेदारी है। यह बात सीएम योगी आदित्यनाथ ने कही है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘हिंदू भगाओ, रोहिंग्या-बांग्लादेशी बसाओ पैटर्न का हिस्सा है मालवणी’: 5 साल पहले थे 108 हिंदू परिवार, आज बचे हैं 7

मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढ़ा ने महाराष्ट्र विधानसभा में मालवणी में हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार का मसला उठाया है।

प्रचलित ख़बरें

16 महीने तक मौलवी ‘रोशन’ ने चेलों के साथ किया गैंगरेप: बेटे की कुर्बानी और 3 करोड़ के सोने से महिला का टूटा भ्रम

मौलवी पर आरोप है कि 16 माह तक इसने और इसके चेले ने एक महिला के साथ दुष्कर्म किया। उससे 45 लाख रुपए लूटे और उसके 10 साल के बेटे को...

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

‘मैं 25 की हूँ पर कभी सेक्स नहीं किया’: योग शिक्षिका से रेप की आरोपित LGBT एक्टिविस्ट ने खुद को बताया था असमर्थ

LGBT एक्टिविस्ट दिव्या दुरेजा पर हाल ही में एक योग शिक्षिका ने बलात्कार का आरोप लगाया है। दिव्या ने एक टेड टॉक के पेनिट्रेटिव सेक्स में असमर्थ बताया था।

‘जाकर मर, मौत की वीडियो भेज दियो’ – 70 मिनट की रिकॉर्डिंग, आत्महत्या से ठीक पहले आरिफ ने आयशा को ऐसे किया था मजबूर

अहमदाबाद पुलिस ने आयशा और आरिफ के बीच हुई बातचीत की कॉल रिकॉर्ड्स को एक्सेस किया। नदी में कूदने से पहले आरिफ से...

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,958FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe