Thursday, August 13, 2020
Home बड़ी ख़बर प्रियंका गाँधी वाड्रा, जो लगभग भगवान हैं...

प्रियंका गाँधी वाड्रा, जो लगभग भगवान हैं…

उनके ऊपर के बयानों को देखिये और जब उन्होंने यह बयान दिए, उनके तब के चेहरे को भी देखिये। उनको लगता ही नहीं है कि वे राजनीति जैसे एक गंभीर कार्यक्षेत्र में हैं.. उन्हें क्या मतलब है कि उनकी बातों में क्या कटेंट है। उनको तो यह पता है और यही बताया गया है कि आप का बस भौतिक रूप में मौजूद होना ही काफी है।

“मैं चुनाव नहीं लडूँगी।”
“पार्टी जहाँ से कहेगी, वहाँ से चुनाव लड़ने के लिए तैयार हूँ।”
“तो मैं बनारस चुनाव लड़ जाऊँ?”
– मिसेज वाड्रा

आपने बड़े घरों के बच्चे देखे हैं, असल जिन्दगी में या फिल्मों में भी? जो बहुत सारे नौकर-चाकर और सुख सुविधाओं के बीच पलते हैं, जिनसे उम्र में कई गुना बड़े रामू काका सरीखे बुजुर्गवार दीदी, भैया, बाबा, छोटे साहब, छोटी मालकिन जैसे संबोधन का प्रयोग करते हैं?

जिनकी दुनिया अपने बंगलों, फ़ार्म हाउस, एसी कारों और हवाई जहाजों के बीच ही होती है, जो चीजों को जरूरत के लिए नहीं बल्कि पैसा खर्चने और बोरियत मिटाने के लिए खरीदते हैं, जो सिक्यूरिटी रीजन्स की वजह से घर के बाहर खेलने नहीं जाते, जो घर में ही अपने नौकरों के बच्चों के साथ खेलते हैं तो कभी आउट नहीं होते।

इनके स्कूल के दोस्त यार भी इनके घर ही आ जाते हैं, जो इनके ठाठ और रसूख की तारीफों के पुल बाँधते हैं। और ऐसे माहौल में इन बच्चों को यह आदत हो जाती है कि सारी दुनिया इन्हें पैम्पर करे। यह जो कहें वही सही हो, जो माँगें वही मिल जाए।

- विज्ञापन -

गाँव, गरीब, खेत, किसान, मजदूर जैसी चीजें या तो फिल्मों में देखते हैं या फिर कभी पिकनिक मनाने जाएँ तब! कुल मिलाकर कह लीजिये कि यह लोग इस दुनिया में रहकर भी किसी दूसरे ही दुनिया के प्राणी हो जाते हैं।

और ऐसी ही दूसरी दुनिया के प्राणी हैं- राहुल गाँधी और प्रियंका वाड्रा गाँधी। राहुल, चूँकि चर्चाओं से परे हो चुके हैं, जिन राक्षसों पर कायम चूर्ण का असर हो जाता था, राहुल गाँधी पर ऐसे कई क्विंटल कायम चूर्ण बेअसर है। इसलिए उन चर्चा का खर्चा उचित नहीं हैं।

इसलिए थोड़ी चर्चा मिसेज वाड्रा की कर लेते हैं। उनके ऊपर के बयानों को देखिये और जब उन्होंने यह बयान दिए, उनके तब के चेहरे को भी देखिये। वे हँस देती हैं, मुस्कुरा जाती हैं, शरमा जाती हैं। उनको लगता ही नहीं है कि वे भारत की सबसे पुरानी पार्टी की वारिस हैं, उनके घर में तीन-तीन पीएम रहे हैं, उनके खानदान ने देश पर सत्तर साल राज किया है, उनको लगता ही नहीं है कि वे राजनीति जैसे एक गंभीर कार्यक्षेत्र में हैं… क्योंकि उनको लगता है कि उनके आस-पास सब नौकर-चाकर जैसे ही लोग खड़े हुए हैं, वे सब उनकी रियाया है। जो उनको पैम्पर करेगी, उनकी बातों से खुश होगी।

उन्हें क्या मतलब है कि उनकी बातों में क्या कटेंट है। उनको तो यह पता है और यही बताया गया है कि आप का बस भौतिक रूप में मौजूद होना ही काफी है। उनको बताया गया है कि आप इंसान नहीं बल्कि लगभग अवतार हैं कि लोग आपको सुनने नहीं बल्कि आपको देखने आते हैं, वे आपके कपड़े देखने आते हैं, वे आपके आँख, नाक, और कान देखने आते हैं, वे यह भी देखने आते हैं कि भारत जैसे उष्णकटिबंधीय देश में आपकी त्वचा में प्रचूर मॉइस्चराइजेशन आखिर कैसे बना रहता है।

लेकिन जो लोग ऐसे माहौल में नहीं पले होते हैं, जिन्होंने धूल-धक्के खाए होते हैं, जो संघर्ष, मुसीबतों, यश-अपयश को झेलकर आगे बढ़े होते हैं, जिन्होंने जिम्मेदारियों को निभाया होता है, जिन्होंने विपरीत परिस्तिथियों में परिणाम दिया होता है, जिन्होंने अपने विरोधियों के हाथों जेल और तड़ीपार तक झेला होता है, वे लोग किसी को पैम्पर नहीं करते, वे लोग असमान स्थितियों में भी समान होते हैं, वे लोग निर्मम लग सकते हैं, पर वे लोग बुरे नहीं होते।

और ऐसा ही एक शख्स, जो आज गांधीनगर से अपना चुनावी परचा दाखिल करने के लिए 42 डिग्री के टेम्प्रेचर में रोड शो कर रहा था, जब उससे प्रियंका वाड्रा के बयान – ‘क्या बनारस से चुनाव लड़ जाऊँ’ – पर प्रतिक्रिया पूछी गई तो उसका जवाब था, “अगर-मगर से राजनीति नहीं चलती है, जब लड़ेगी तब देखेंगे।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कुछ फेक मीडिया वाले आकर यहाँ हिंदू-मुस्लिम करवाना चाहते थे’: कारवाँ और द वायर की पोल खोलता सुभाष मोहल्ले का फखरुद्दीन

"जब उनसे आईडी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने दिखाने से मना कर दिया। वह यहाँ का माहौल बिगाड़कर हिंदू मुसलमान करवाना चाह रहे थे। हम यहाँ बरसों से रह रहे हैं। यहाँ सभी प्यार से रहते हैं यहाँ ऐसा कुछ नहीं है।"

आदित्य ठाकरे का कनेक्शन अभिनेत्रियों के साथ हो सकता है, मगर सुशांत की मौत से उसका कोई लेना-देना नहीं: सुब्रमण्यम स्वामी

स्वामी ने आरोप लगाया कि जो व्यक्ति इस मामले में शामिल है वह संभवत: किसी और का बेटा है, जिसका नाम लेने की स्थिति में वे नहीं है क्योंकि उनके पास पर्याप्त सबूत नहीं हैं।

बेंगलुरु दंगों में सामने आया कॉन्ग्रेस पार्षद के पति कलीम पाशा का नाम: रह चुका है पूर्व कॉन्ग्रेसी मंत्री का करीबी

बेंगलुरु में हुए दंगों के मामले में पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की है। इसमें जिन लोगों को आरोपित बनाया गया है उसमें 7वां नाम कॉन्ग्रेस पार्षद इरशाद बेगम के पति कलीम पाशा का है।

नेहरू समेत सभी पूर्ववर्ती PM से आगे निकले मोदी, गैर-कॉन्ग्रेसी PM मामले में नंबर-1: अगस्त में बनाए 4 रिकॉर्ड

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गैर-कॉन्ग्रेसी मूल के सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले पहले भारतीय पीएम बन गए हैं। इसके पहले अटल बिहारी वाजपेयी...

आनंद रंगनाथन को वापस लाओ: कुरान की आयतें लिखने पर ‘घृणा वाला’ कह कर ट्विटर ने किया अकाउंट ब्लॉक

“जो भी अल्लाह और उसके बंदे को दुत्कारेगा, अल्लाह उन्हें इस जहां में लानत देता है और उनके लिए अपमानजनक दंड भी तैयार रखता है।”

इराक में मारा गया सद्दाम… और इस्लामी कट्टरपंथियों ने बेंगलुरु में मचाई थी तबाही: कॉन्ग्रेस नेता सीके शरीफ़ ने की थी हिंसा की अगुवाई

आज से ठीक 10 साल बाद सोशल मीडिया पर उठा यह गुस्सा लगभग सभी भूल जाएँगे। लोगों को 11 अगस्त 2020 को क्या हुआ था इस बारे में सही जानकारी इकट्ठा करने के लिए अच्छी भली मेहनत करनी पड़ेगी। उसके बावजूद सही नतीजे मिले या न मिलें इसका कुछ भरोसा नहीं।

प्रचलित ख़बरें

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट, दलित कॉन्ग्रेस MLA के घर पर हमला: 1000+ मुस्लिम भीड़, बेंगलुरु में दंगे व आगजनी

बेंगलुरु में 1000 से भी अधिक की मुस्लिम भीड़ ने स्थानीय विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर को घेर लिया और तोड़फोड़ शुरू कर दी।

गोधरा पर मुस्लिम भीड़ को क्लिन चिट, घुटनों को सेक्स में समेट वाजपेयी का मजाक: एक राहत इंदौरी यह भी

"रंग चेहरे का ज़र्द कैसा है, आईना गर्द-गर्द कैसा है, काम घुटनों से जब लिया ही नहीं...फिर ये घुटनों में दर्द कैसा है" - राहत इंदौरी ने यह...

पैगंबर मुहम्मद पर खबर, भड़के दंगे और 17 लोगों की मौत: घटना भारत की, जब दो मीडिया हाउस पर किया गया अटैक

वो 5 मौके, जब पैगंबर मुहम्मद के नाम पर इस्लामी कट्टरता का भयावह चेहरा देखने को मिला। मीडिया हाउस पर हमला भारत में हुआ था, लोग भूल गए होंगे!

दंगाइयों के संपत्ति से की जाएगी नुकसान की भरपाई: कर्नाटक के गृहमंत्री का ऐलान, तेजस्वी सूर्या ने योगी सरकार की तर्ज पर की थी...

बसवराज बोम्मई ने एक महत्वपूर्ण घोषणा करते हुए कहा कि सार्वजनिक संपत्ति और वाहनों को नुकसान की भरपाई क्षति पहुँचाने वाले दंगाइयों को करना होगा।

‘गोबर मूत्र पीने वाला… जिन्दा जलाओ हराम के औलाद को… रसूलल्लाह की शान में गुस्ताखी’ – बेंगलुरु दंगे के बाद खतरे में नवीन

'ज्वाइन AIMIM' नाम के फेसबुक ग्रुप में नवीन की तस्वीर शेयर की गई है, जिसके कमेंट्स में नवीन को लेकर बेहद भयावह टिप्पणियों के साथ...

…जब पुलिस वालों ने रोते हुए सीनियर ऑफिसर से माँगी गोली चलाने की इजाजत: बेंगलुरु दंगे का सच

वीडियो में साफ सुना जा सकता है कि इस्लामी कट्टरपंथी भीड़ पुलिस वालों पर टूट पड़ती है। हालात भयावह हो जाने के बाद पुलिसकर्मियों ने...

सुशांत सिंह केस: रिया चक्रवर्ती और बिहार सरकार ने कोर्ट में दाखिल की लिखित दलीलें, CBI ने जाँच जारी रखने की माँगी अनुमति

एक तरह जहाँ रिया ने पटना में दायर एफआईआर को मुंबई ट्रांसफर करने की बात कही है। दूसरी ओर सीबीआई ने कोर्ट से जाँच जारी रखने की अनुमति माँगी है।

‘कुछ फेक मीडिया वाले आकर यहाँ हिंदू-मुस्लिम करवाना चाहते थे’: कारवाँ और द वायर की पोल खोलता सुभाष मोहल्ले का फखरुद्दीन

"जब उनसे आईडी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने दिखाने से मना कर दिया। वह यहाँ का माहौल बिगाड़कर हिंदू मुसलमान करवाना चाह रहे थे। हम यहाँ बरसों से रह रहे हैं। यहाँ सभी प्यार से रहते हैं यहाँ ऐसा कुछ नहीं है।"

चीन के ग्लोबल टाइम्स ने जम्मू-कश्मीर मुद्दे पर छापा पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा: गायब किया भारत का पक्ष, पढ़ें पूरा मामला

भारत ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि भारत की कोशिश हमेशा से यही रही है कि घाटी में शांति व्यवस्था बनी रहे। लेकिन सीमा पार से होने वाली आतंकवाद की घटनाएँ वहाँ के हालात बिगाड़ने की हर संभव कोशिश करती हैं।

रिलायंस खरीद सकता है चाइनीज ऐप TikTok: भारत में 3 बिलियन डॉलर से ज़्यादा लगाई गई है ऐप की वैल्यू

जुलाई के अंत से रिलायंस और टिकटॉक की पेरेंट कंपनी बाइटडांस डील को लेकर दोनों कंपनियाँ आपस में बातचीत कर रही हैं, हालाँकि, दोनों कंपनियाँ अभी किसी भी सौदे पर नहीं पहुँची हैं।

चीन से अपनी गन्दी होती नदियों को बचाने के लिए POK में लोगों ने निकाली मशाल रैली: हुआ भारी विरोध प्रदर्शन

बाँध निर्माण पर पीओके कार्यकर्ता ने बताया, "नीलम-झेलम नदी अब नाले जैसी बनती जा रही है। यह गंदगी से भरी हुई है। स्थानीय लोगों के पास पीने का पानी नहीं है।"

केरल नन रेप केस: बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर अदालत ने आरोप तय, सुनवाई के दौरान पादरी ने खुद को बताया निर्दोष

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ने मामले की सुनवाई करते हुए मुलक्कल के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता के तहत तय किए गए आरोपों को पढ़ कर सुनाया।

करिश्मा भोंसले को मिला इंसाफ: BMC पोल से हटाया गया मस्जिद का अवैध लाउडस्पीकर

कुछ समय पहले करिश्मा भोंसले चर्चा में आई थीं। उन्होंने मानखुर्द में एक मस्जिद के लाउडस्पीकर की आवाज कम करने को कहा था। लेकिन समुदाय के लोगों ने बहस...

आदित्य ठाकरे का कनेक्शन अभिनेत्रियों के साथ हो सकता है, मगर सुशांत की मौत से उसका कोई लेना-देना नहीं: सुब्रमण्यम स्वामी

स्वामी ने आरोप लगाया कि जो व्यक्ति इस मामले में शामिल है वह संभवत: किसी और का बेटा है, जिसका नाम लेने की स्थिति में वे नहीं है क्योंकि उनके पास पर्याप्त सबूत नहीं हैं।

5 कारण जो ‘#TirupatiVirus’ को झूठा साबित करते हैं: खोलते हैं मुस्लिमों और वामपंथियों के प्रोपेगेंडा की पोल

वामपंथियों के पाखंड और दोहरे रवैये का अंदाजा इस बात से भी लग सकता है कि उन्हें यह तिरुपति वायरस का ट्रेंड चलाने में इतनी उत्सुकता है कि वह वास्तविक जानकारी भी नहीं जानना चाहते।

बेंगलुरु दंगों में सामने आया कॉन्ग्रेस पार्षद के पति कलीम पाशा का नाम: रह चुका है पूर्व कॉन्ग्रेसी मंत्री का करीबी

बेंगलुरु में हुए दंगों के मामले में पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की है। इसमें जिन लोगों को आरोपित बनाया गया है उसमें 7वां नाम कॉन्ग्रेस पार्षद इरशाद बेगम के पति कलीम पाशा का है।

हमसे जुड़ें

246,500FansLike
64,801FollowersFollow
299,000SubscribersSubscribe
Advertisements