Tuesday, September 29, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे कमल हासन 2013 Vs 2019: तब 'शांतिदूतों' के कारण देश छोड़ रहे थे, आज...

कमल हासन 2013 Vs 2019: तब ‘शांतिदूतों’ के कारण देश छोड़ रहे थे, आज हिंदू आतंकवाद का राग अलाप रहे

आतंकवाद क्या है और इसकी परिभाषा क्या है, अगर कमल हासन ये पढ़ लें तो उन्हें भी पता चल जाएगा कि गोडसे कहीं से भी इस परिभाषा में फिट नहीं बैठते। व्यक्तिगत दुश्मनी पाल कर एक हत्या करने वाला अगर आतंकी है तो 'अल्लाहु अकबर' बोलकर अब तक हज़ारों लाशें बिछा चुके कौन लोग हैं, ये सवाल हम हर उस व्यक्ति से पूछते हैं जिसे हिन्दू आतंकवाद के अस्तित्व पर विश्वास है।

कमल हासन के नए काण्ड की बात तो हम करेंगे, लेकिन उससे पहले एक कहानी बताना चाहता हूँ आप लोगों को। ये कहानी उस बड़े अभिनेता की है, जिसे अपनी ज़िंदगी में कई भाषाओं में अभिनय करते-करते इतने अवॉर्ड मिले कि अंत में उसे फ़िल्मफेयर को लिखना पड़ा कि अब उन्हें अवॉर्ड्स न दिए जाएँ। ये क़रीब डेढ़ दशक पुरानी बात है। इसके बाद भी फ़िल्मों में वह अभिनेता सक्रिय रहा। लेकिन, जनवरी 2013 में एक फ़िल्म आई, जिसका नाम था विश्वरूपम, और इसके बाद सब कुछ बदल गया। कमल हासन के आलोचक भी मानते हैं कि विश्वरूपम एक उम्दा फ़िल्म थी और अंतरराष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में इस्लामिक आतंक को इससे बेहतर शायद ही किसी भारतीय फ़िल्म में दिखाया गया हो। इस फ़िल्म को लिखने वाले, इसका निर्देशन करने वाले और इसके मुख्य अभिनेता, तीनो ही कमल हासन थे। अतः इसका पूरा का पूरा श्रेय उन्हें ही जाता है।

लेकिन, क्या आपको पता है कि इस फ़िल्म की रिलीज पर संकट उत्पन्न हो गया था? इस संकट का कारण वही लोग थे, जिन्हें लुभाने के लिए कमल हासन आज गली-गली में घूम कर कॉन्ग्रेस द्वारा यूपीए शासनकाल में क्राफ्ट किए गए ‘हिन्दू आतंकवाद’ वाले नैरेटिव को आगे बढ़ा रहे हैं। कमल हासन ने विशाल भारद्वाज वाली ग़लती की है। कश्मीर में सेना के कथित अत्याचारों को दिखने वाले विशाल भारद्वाज ने हाल ही में नाथूराम गोडसे को स्वतंत्र भारत का पहला आतंकी बताया था। कमल हासन ने एक तरह से उन्हीं की बातों को दुहराया है। हाँ, तो विश्वरूपम में आतंकियों को मुस्लिमों वाली टोपी पहने दिखाया गया था। इसमें कोई दो राय नहीं कि अफ़ग़ानिस्तान के बैकड्राप में बनी इस फ़िल्म में ये चीज ग़लत नहीं दिखाई गई थी।

विश्वरूपम का ट्रेलर आया। ट्रेलर में ही आतंकियों को मजहब विशेष वाली टोपी पहने गोलियाँ चलाते हुए देखा गया। ये सच्चाई थी। अफ़ग़ानिस्तान के तालिबानी आतंकियों की वेश-भूषा वही होती थी या है, जो एक कट्टरपंथी की होती है। स्कल कैप, टखने तक पजामा और कुर्ता, बिना मूछों वाली दाढ़ी और जबान पर बात-बात पर अल्लाह का नाम। कमल हासन ने ‘हे राम’ में नाथूराम गोडसे का किरदार भी अदा किया था, लेकिन उस वक़्त उनकी फ़िल्म की रिलीज रोकने की धमकी नहीं दी गई थी। ऐसा इसीलिए, क्योंकि पूरा भारत मानता है कि गोडसे एक हत्यारा था। उस पर हत्या का आरोप सिद्ध हुआ था और इसकी सजा उसे मिली थी। लेकिन, मारते समय उसने राम का नाम नहीं लिया था, गाँधीजी ने मरते वक़्त ‘हे राम’ कहा था।

गोडसे का पक्ष जानने के लिए लोग उन्हें और उनके विचारों को पढ़ते हैं, इसमें कोई बुराई नहीं। जब लाशें बिछाने वाले हिटलर की ऑटोबायोग्राफी पढ़ी जाती है तो गोडसे ने तो एक ही हत्या की थी (जिसकी निंदा की जाती है) तो उन्हें पढ़ने में क्या बुराई है। लेकिन हाँ, उन्होंने गाँधी को मारते वक़्त ‘अल्लाहु अकबर’, ‘वाहेगुरु’ या ‘जय श्री राम’ नहीं कहा था। विश्वरूपम की रिलीज रोकने में वही शांतिप्रिय समाज के लोग शामिल थे, जिन्हें इस बात पर आपत्ति थी की फ़िल्म में उन्हें आतंकी दिखाया गया है। कमल हासन ने गोडसे को दिखाया, वे जैसा चाहते थे उसी तरह से गोडसे को प्रदर्शित किया, लेकिन उन्होंने देश छोड़ने की बात विश्वरूपम के समय कही। विश्वरूपम को मद्रास हाई कोर्ट के ऑर्डर के बावजूद समय पर रिलीज नहीं किया जा सका था।

कमल हासन ने उस समय कहा था कि वो तमिलनाडु छोड़ देना चाहते हैं। इतना ही नहीं, उन्होंने भारत छोड़ने की बात भी कही, वही देश जहाँ वो 1960 से ही अभिनय कर रहे हैं। एक बाल कलाकार के रूप में साठ के दशक से लेकर सुपरस्टार और फिर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति पाने के बाद भी, कमल हासन को देश छोड़ने की ज़रूरत पड़ गई। क्यों? क्योंकि कमल हासन की राय थी कि वह एक धर्मनिरपेक्ष जगह, राज्य या देश में जाकर बसना चाहते हैं। उन्हें भारत धर्म निरपेक्ष नज़र नहीं आ रहा था क्योंकि 2013 में ऐसे विषय पर 100 करोड़ रुपए से भी अधिक बजट वाली फ़िल्म बनाना एक साहस का कार्य था और उन्होंने लगभग अपनी ज़िंदगी भर की कमाई, मेहनत और अनुभव का इस्तेमाल इसमें कर दिया था। उन्हें कंगाल होने का ख़तरा नज़र आ रहा था। ख़ुद को संभावित आर्थिक संकट को देखते हुए उनके मन में भारत छोड़ने का विचार आया।

कौन लोग थे कमल हासन की इस पीड़ा के पीछे? जब पूरा का पूरा समुदाय विशेष उनके विरोध में खड़ा हो गया था और उन्हें भारत एक सांप्रदायिक राष्ट्र लगने लगा था, उस समय के वो साम्प्रदायिकता फैलाने वाले लोग आज उनके लिए सहानुभूति के पात्र कैसे हो गए? जो देश के सबसे बड़े और पुराने अभिनेताओं में से एक को देश छोड़ने को मज़बूर कर दे, वो समाज होता है सांप्रदायिक। जो सबसे ज्यादा फ़िल्मफेयर अवॉर्ड्स जीतने वाले अभिनेताओं में से एक को देश में डरा कर रख दे, उस समाज को कहते हैं सांप्रदायिक। वह कौन सा समाज था, वो कौन से लोग थे, इसका उत्तर कमल हासन से बेहतर कोई नहीं जानता। कमल हासन ने बाद में अपने बयान पर कायम रहने की बात करते हुए कहा था कि अगर आगे ऐसा कुछ होता है तो वह फिर से देश छोड़ने की सोचेंगे। बस कुछ दिनों के विरोध के कारण कमल हासन को उस समय 60 करोड़ का घाटा हुआ था।

राजनेता कमल हासन को समुदाय विशेष का वोट चाहिए। अभिनेता कमल हासन कहीं गुम हो गया है। उस अभिनेता की फ़िल्म को जब समुदाय विशेष ने रोक दिया था, तब रजनीकांत और जयललिता जैसी शख़्सियतों ने आगे आकर कमल का समर्थन किया था। राजनेता कमल हासन के लिए हिन्दू आतंकवाद एक सच्चाई है, कॉन्ग्रेस का वो नैरेटिव, विशालक भारद्वाज की वह सोच, कमल हासन इन सबके प्रमुख वाहक हो चुके हैं। आतंकवाद क्या है और इसकी परिभाषा क्या है, अगर कमल हासन ये पढ़ लें तो उन्हें भी पता चल जाएगा कि गोडसे कहीं से भी इस परिभाषा में फिट नहीं बैठते। व्यक्तिगत दुश्मनी पाल कर एक हत्या करने वाला अगर आतंकी है तो ‘अल्लाहु अकबर’ बोलकर अब तक हज़ारों लाशें बिछा चुके कौन लोग हैं, ये सवाल हम हर उस व्यक्ति से पूछते हैं जिसे हिन्दू आतंकवाद के अस्तित्व पर विश्वास है।

कमल हासन ने अरवाकुरीचि में ये बात कही। उनके मन में कहीं न कहीं खोट था, क्योंकि अपने इस बयान के बाद उन्होंने जो सफ़ाई दी, उससे साफ़ पता चलता है कि उनकी सोच क्या थी? कमल हासन ने कहा कि वो सिर्फ़ इसीलिए गोडसे को आतंकी नहीं बोल रहे क्योंकि यह एक मजहब विशेष के प्रभाव वाला इलाक़ा है, ऐसा वो गाँधीजी की प्रतिमा को सामने देख कर कह रहे हैं। कमल हासन की इन बातों से ही पता चल जाता है कि उन्होंने गोडसे को आतंकी क्यों कहा। एक हत्या करने वाला व्यक्ति आतंकी है तो गाँधीजी की हत्या भी आज़ादी के 5 महीनों बाद हुई थी। उस दौरान न जाने कितने ख़ून-ख़राबे हुए और कितने ही लोगों की जानें गई। कमल हासन को उन सबके नाम खोजकर लाने चाहिए क्योंकि हत्याएँ उस समय भी हुईं थी और हासन की परिभाषा के अनुसार, वो सभी आतंकी थे। उनकी थ्योरी में यहीं त्रुटि निकल आती है, अगर अपराध और हत्या ही आतंकवाद है तो फिर इस शब्द की ज़रुरत ही क्या थी?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तिलक लगा, भगवा पहन एंकरिंग करना अपराध है? सुदर्शन न्यूज ने केंद्र के शो-कॉज नोटिस का दिया जवाब

‘यूपीएससी जिहाद’ कार्यक्रम को लेकर सूचना प्रसारण मंत्रालय की ओर से जारी शो-कॉज नोटिस का सुदर्शन न्यूज ने जवाब दे दिया है।

16 दिसंबर को बस फूँका, 17 को हिंदुओं पर पथराव: दिल्ली दंगों में ताहिर हुसैन के बयान से नए खुलासे

ताहिर हुसैन के बयान से दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों को लेकर कुछ चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। कुछ ऐसे तथ्य सामने आए हैं जिससे अब तक सब अनजान थे।

दीपिका, सारा, श्रद्धा और रकुल… सबने NCB को दिए एक जैसे जवाब, बताया- हैश ड्रग नहीं है

दीपिका, सारा, श्रद्धा और रकुल से एनसीबी ने पूछताछ भले अलग-अलग की हो, पर दिलचस्प यह है कि सवालों जवाब सबके एक जैसे ही थे।

कहीं देवी-देवताओं की मूर्ति पर हथौड़े से वार, कहीं आग में जलता रथ: आंध्र प्रदेश में मंदिरों पर हुए हालिया हमले

पिछले कुछ समय से लगातार आंध्र प्रदेश में हिंदू मंदिरों पर हमले की घटनाएँ सामने आ रही हैं। ऐसे 5 मामलों में क्या हुआ, जानें।

गायत्री मंत्र जपते थे भगत सिंह, आर्य समाजी था परिवार, सावरकर के थे प्रशंसक: स्वीकार करेंगे आज के वामपंथी?

भगत सिंह का वामपंथ टुकड़े-टुकड़े वाला नहीं था। न ही उन्होंने कभी ऐसा लिखा कि वे हिन्दू धर्म को नहीं मानते या फिर वे हिन्दू देवी-देवताओं से घृणा करते हैं।

हरामखोर का मतलब नॉटी है तो फिर नॉटी का मतलब क्या है? संजय राउत से बॉम्बे HC ने पूछा

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चल रही सुनवाई में बेंच ने कंगना को हरामखोर कहे जाने पर संजय राउत के भाषाई ज्ञान पर सवाल उठाया।

प्रचलित ख़बरें

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

ड्रग्स स्कैंडल: रकुल प्रीत ने उगले 4 बड़े बॉलीवुड सितारों के नाम, करण जौह​र ने क्षितिज रवि से पल्ला झाड़ा

NCB आज दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर से पूछताछ करने वाली है। उससे पहले रकुल प्रीत ने क्षितिज का नाम लिया है, जो करण जौहर के करीबी बताए जाते हैं।

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

'आजतक' का एक पत्रकार कहता दिखता है, "हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण"। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा।

‘केस वापस ले, वरना ठोक देंगे’: करण जौहर की ‘ड्रग्स पार्टी’ की शिकायत करने वाले सिरसा को पाकिस्तान से धमकी

करण जौहर के घर पर ड्रग्स पार्टी होने का दावा करने वाले सिरसा को पाकिस्तान से जान से मारने की धमकी मिली है।

तिलक लगा, भगवा पहन एंकरिंग करना अपराध है? सुदर्शन न्यूज ने केंद्र के शो-कॉज नोटिस का दिया जवाब

‘यूपीएससी जिहाद’ कार्यक्रम को लेकर सूचना प्रसारण मंत्रालय की ओर से जारी शो-कॉज नोटिस का सुदर्शन न्यूज ने जवाब दे दिया है।

16 दिसंबर को बस फूँका, 17 को हिंदुओं पर पथराव: दिल्ली दंगों में ताहिर हुसैन के बयान से नए खुलासे

ताहिर हुसैन के बयान से दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों को लेकर कुछ चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। कुछ ऐसे तथ्य सामने आए हैं जिससे अब तक सब अनजान थे।

सुब्हानी हाजा ने इराक में IS से ली जिहादी ट्रेनिंग, केरल में जमा किए रासायनिक विस्फोटक: NIA कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद

केरल के कोच्चि स्थित एनआईए की विशेष अदालत ने सोमवार को ISIS आतंकी सुब्हानी हाजा मोइदीन को उम्रकैद की सज़ा सुनाई।

‘हाँ, मैंने माल के बारे में पूछा, हम सिगरेट को माल कहते हैं; वीड मतलब मोटी सिगरेट-हैश मतलब पतली’

मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि एनसीबी के सामने पूछताछ में दीपिका पादुकोण ने कहा कि 'माल' सिगरेट का कोड वर्ड है।

दीपिका, सारा, श्रद्धा और रकुल… सबने NCB को दिए एक जैसे जवाब, बताया- हैश ड्रग नहीं है

दीपिका, सारा, श्रद्धा और रकुल से एनसीबी ने पूछताछ भले अलग-अलग की हो, पर दिलचस्प यह है कि सवालों जवाब सबके एक जैसे ही थे।

मथुरा: श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति को लेकर दाखिल याचिका पर 30 सितंबर को सुनवाई

मथुरा श्रीकृष्ण जन्मभूमि के मालिकाना हक को लेकर दाखिल याचिका पर सीनियर सिविल जज छाया शर्मा की अदालत ने सुनवाई के लिए 30 सितंबर की तारीख निर्धारित की है।

कहीं देवी-देवताओं की मूर्ति पर हथौड़े से वार, कहीं आग में जलता रथ: आंध्र प्रदेश में मंदिरों पर हुए हालिया हमले

पिछले कुछ समय से लगातार आंध्र प्रदेश में हिंदू मंदिरों पर हमले की घटनाएँ सामने आ रही हैं। ऐसे 5 मामलों में क्या हुआ, जानें।

‘अनुराग कश्यप को जेल भेजो’: गिरफ्तारी के लिए मुंबई पुलिस को आठवले ने दिया 7 दिन का अल्टीमेटम

पायल घोष का समर्थन करते हुए रामदास आठवले ने कहा है कि यदि अनुराग कश्यप की सात दिनों में गिरफ्तारी नहीं हुई तो वे धरने पर बैठेंगे।

गायत्री मंत्र जपते थे भगत सिंह, आर्य समाजी था परिवार, सावरकर के थे प्रशंसक: स्वीकार करेंगे आज के वामपंथी?

भगत सिंह का वामपंथ टुकड़े-टुकड़े वाला नहीं था। न ही उन्होंने कभी ऐसा लिखा कि वे हिन्दू धर्म को नहीं मानते या फिर वे हिन्दू देवी-देवताओं से घृणा करते हैं।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,073FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe