56 इंच: तीन तलाक बिल पर राज्यसभा की बाधा मोदी सरकार ने यूँ की पार

प्रधानमंत्री मोदी ने दिखाया है जो चीज़ें सरकार की प्राथमिकता है, उसका कोर एजेंडा है, उसके लिए न तो राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी है और न ही राज्यसभा में बहुमत न होना इनके आड़े आएगा।

56 इंच का सीना से तात्पर्य उस सा​हस और इच्छाशक्ति से है जो नामुमकिन दिख रहे बदलावों को भी मुमकिन कर देता है। यह दूसरी बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संदर्भ में जब भी इसका जिक्र आता है तो ‘लिबरल’ इंची-टेप लेकर बैठ जाते हैं। लेकिन, इससे बेपरवाह मोदी सरकार ने तीन तलाक पर रोक से संबंधित बिल को राज्यसभा से पास कराकर अपनी उसी इच्छाशक्ति का फिर से परिचय दिया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने दिखाया है जो चीज़ें सरकार की प्राथमिकता है, उसका कोर एजेंडा है, उसके लिए न तो राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी है और न ही राज्यसभा में बहुमत न होना इनके आड़े आएगा। तीन तलाक बिल को लेकर बहुत से मोदी-विरोधी इस मुगालते में थे कि मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक सरकार के पास बहुमत न होने के कारण राज्यसभा में फँस जाएगा और वे इसे सिलेक्ट समिति के पास भिजवाने में कामयाब हो जाएँगे। लेकिन मोदी की राजनीतिक प्रबंधन क्षमता ने बाज़ी पलट दी।

गणित

भाजपा की सहयोगी लेकिन अल्पसंख्यकवाद और तुष्टिकरण में अभी भी ‘इनवेस्टेड’ जदयू बिल के विरोध में थी। इसके कारण 242 सांसदों की वर्तमान संख्या वाली राज्यसभा में सत्ता पक्ष का संख्या बल गिरकर 113 से 107 पर आ गया था। लेकिन मतदान के वक़्त जदयू और तेलंगाना राष्ट्र समिति ने विरोध में वोट डालने के बजाए वॉक-आउट किया, जिससे राज्यसभा में कुल सदस्यों की संख्या 236 हो गई। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली, एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और कांग्रेस के ऑस्कर फर्नांडीज समेत 14 सांसदों की अनुपस्थिति से सदन की संख्या 216 हो गई और बहुमत के लिए जरूरी संख्या 109 रह गई।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

भाजपा के काम यहाँ आई पुरानी सहयोगी और फ़िलहाल ‘न्यूट्रल’ बीजद (बीजू जनता दल)। 4 सांसद बीजद के मिल जाने से बिल के पक्ष में गणित 113 का हो गया। 11 सांसदों वाली अन्नाद्रमुक, 6 सांसदों वाली जदयू, टीआरएस के 6, बसपा के 4 और पीडीपी के दो सांसदों का वॉक-आउट भाजपा के काम आया। इसके अलावा कॉन्ग्रेस, तृणमूल और सपा के भी कुछ सांसदों के ‘बंक’ मारने से सदन की प्रभावी संख्या (जितने लोगों ने अंततः वोट किया) 183 बची। यानि बहुमत के लिए 94 मत चाहिए थे।

वोटिंग

वोटिंग हुई। भाजपा के 78 सदस्यों ने पक्ष और कॉन्ग्रेस के 48 सदस्यों ने बिल के विरोध में मतदान किया। कुल 99-84 के आँकड़े से यह बिल राज्यसभा से पास हो गया। इसके पहले इसे सिलेक्ट समिति को भेज लटकाने का प्रस्ताव 100 के मुकाबले 84 से गिर चुका था

संदेश

यह बिल भाजपा और मोदी का संदेश था- समर्थकों और विरोधियों दोनों के लिए। दोनों को ही समान संदेश- सरकार राज्यसभा में बहुमत में भले न हो, लेकिन जो उसे करना है, जिसे वह उचित समझती है, उसे वह करके रहेगी। उसके पास संख्या बल की कमी हो सकती है, इच्छाशक्ति की नहीं। अपनी प्राथमिकताओं के अनुसार सरकार अपने कार्य बदस्तूर जारी रखेगी और संख्याबल प्रबंधन की नज़ीर तो इस बिल ने दिखा ही दी है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

जाधवपुर यूनिवर्सिटी अक्सर वामपंथी छात्र संगठनों की करतूतों से चर्चा में रहता है। 2016 में जेएनयू की तरह यहॉं के भी छात्रों ने अफजल के समर्थन में नारे लगाए थे। 2014 में सरेआम एक-दूसरे को चुंबन लेकर अपनी अभिव्यक्ति का इजहार किया था। अब विरोध के नाम पर न केवल केंद्रीय मंत्री के साथ बदतमीजी की गई है, बल्कि राज्यपाल को भी परिसर में प्रवेश करने से रोकने की कोशिश की गई ।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

हिन्दू बाबा बनकर तमिल नाडु में क्या कर रहा था अब्दुल वहाब?

महाराष्ट्र निवासी अब्दुल वहाब तमिलनाडु में भगवा लिबास में पकड़ा गया, दरगाह पर सोने से हुआ शक

उस पर किसी को शक न होता अगर उसने एक गलती न की होती- उसने सोने की जगह गलत चुनी। वहाब सोने के लिए हिन्दू साधु के भेष में ही दरगाह पर जाता था।
नितिन गडकरी

भारी चालान से परेशान लोगों के लिए गडकरी ने दी राहत भरी खबर, अब जुर्माने की राशि 500-5000 के बीच

1 सितंबर 2019 से लागू हुए नए ट्रैफिक रूल के बाद से चालान के रोजाना नए रिकॉर्ड बन और टूट रहे हैं। दिल्ली से लेकर अन्य राज्यों में कई भारी-भरकम चालान काटे गए जो मीडिया में छाए रहे जिसे देखकर कुछ राज्य सरकारों ने पहले ही जुर्माने की राशि में बदलाव कर दिया था।
फवाद हुसैन

आपके पैदा होने पर कंडोम बनाने वालों ने आपके अम्मी-अब्बू से माँगी होगी माफी, Pak मंत्री को ऐसे पड़ी लताड़

इस ट्वीट पर भारतीयों द्वारा भी उन्हें जमकर खरी खोटी सुनाई गई। उन्हें कहा गया कि उनके पास दिमाग बच्चों वाला है और पाकिस्तान ने उन्हें विज्ञान और तकनीक मंत्री बनाया हुआ है।
जशोदाबेन, ममता बनर्जी

PM मोदी से पहले जशोदाबेन से मिलने को दौड़ीं ममता बनर्जी, भेंट की साड़ी

जशोदाबेन को देखते ही ममता बनर्जी उनकी ओर दौड़ पड़ीं और बातचीत के बाद साड़ी भेंट की। लोकसभा चुनावों के दौरान अक्षय कुमार को दिए इंटरव्यू में नरेंद्र मोदी ने जिक्र किया था ममता बनर्जी उन्हें हर साल कुर्ते और मिठाइयॉं भेजा करती हैं।
तजिंदर बग्गा, एंड्रिया डिसूजा

‘₹500 में बिक गईं कॉन्ग्रेस नेता’: तजिंदर बग्गा ने खोली रिया (असली नाम एंड्रिया डिसूजा) की पोल

बग्गा ने रिया को व्हाट्सएप मैसेज किया और कहा कि वो उनसे एक प्रमोशनल ट्वीट करवाना चाहते हैं। रिया ने इसके लिए हामी भर दी और इसकी कीमत पूछी। बग्गा ने रिया को प्रत्येक ट्वीट के लिए 500 रुपए देने की बात कही। रिया इसके लिए भी तैयार हो गई और एक फेक ट्वीट को...
बलवंत मेहता (बाएँ) और कैस हुसैन (दाहिने)

गुजरात का वो मुख्यमंत्री जिसे Pak एयर फोर्स ने हवा में ही मार डाला था, आज ही के दिन, ठीक 54 साल पहले

पाकिस्तानी एयरफोर्स ने हिंदुस्तानी वायुसीमा के भीतर घुसकर मुख्यमंत्री बलवंत राय मेहता के विमान पर हमला कर दिया। CM के पायलट ने डैने ज़ोर-ज़ोर से हिलाकर नागरिक विमान होने का संकेत भी दिया लेकिन Pak के फाइटर पायलट ने पहले बायाँ और फिर दायाँ डैना पर...
राम-जानकी विवाह मंडप

तुलसी बाबा ने यूॅं ही नहीं लिखा- झूठइ लेना झूठइ देना, झूठइ भोजन झूठ चबेना

सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन को केवल इस बात का सबूत चाहिए कि अयोध्या के किस खास जगह पर राम का जन्म हुआ था। वरना इकबाल के इमाम-ए-हिंद को वे भी याद करते हैं। कृपानिधान तो वाजिद अली शाह के भी राम ही थे। लेकिन, किसी ने न लिखा, न गाया। राम किस प्लॉट में पैदा हुए थे?
दिग्विजय के भाई लक्ष्मण सिंह

क़र्ज़माफ़ी संभव नहीं, राहुल गाँधी को नहीं करना चाहिए था वादा: दिग्विजय के भाई लक्ष्मण सिंह

राहुल गाँधी ने चुनाव के दौरान सरकार गठन के 10 दिनों के भीतर किसानों की क़र्ज़माफ़ी करने का ऐलान किया था। लेकिन लक्ष्मण सिंह के कहना है कि क़र्ज़माफ़ी किसी भी क़ीमत पर संभव नहीं है। राहुल गाँधी को ऐसा वादा नहीं करना चाहिए था।
अयोध्या विवाद

मंदिर के मलबे पर ही बनी थी बाबरी मस्जिद, 53 मुसलमानों ने पाताल से निकाले मंदिर के सबूत

पुरातात्विक अध्ययन के लिए 1976-77 प्रो. बीबी लाल की अगुवाई में अयोध्या में हुई खुदाई के दौरान ही इस बात के सबूत मिल गए थे कि मस्जिद कभी मंदिर था। हाई कोर्ट के आदेश पर 2003 में हुई खुदाई से सबूतों की झड़ी लगी। वे सबूत जिनसे बाबरी मस्जिद का दावा कमजोर हुआ और जो हाई कोर्ट के फैसले का आधार बने।
नितिन गडकरी

जानिए क्या हुआ जब बिना जाँचे ही नितिन गडकरी की कार का बना दिया पॉल्यूशन सर्टिफिकेट

डेक्कन पुलिस स्टेशन में PUC सेंटर के खिलाफ मामला दर्ज करवा दिया गया है। बताया जा रहा है कि यह काम किसी एक व्यक्ति ने किया है। हालाँकि उसके नाम का अभी खुलासा नहीं किया गया है।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,456फैंसलाइक करें
15,324फॉलोवर्सफॉलो करें
97,800सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: