Wednesday, November 25, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे राम का गुणगान, अब परशुराम की मूर्ति और ब्राह्मण सम्मलेन: जानिए 11% ब्राह्मणों को...

राम का गुणगान, अब परशुराम की मूर्ति और ब्राह्मण सम्मलेन: जानिए 11% ब्राह्मणों को लुभाने के लिए क्यों पगलाई सपा-बसपा

प्रियंका गाँधी, मायावती और अखिलेध यादव को राम और राम मंदिर के पक्ष में बोला पड़ा। इससे पता चलता है कि वो जनभावनाओं को समझ तो रहे हैं, लेकिन ये नहीं समझ रहे कि जनता अब दिखावे और श्रद्धा के बीच का अंतर समझने लगी है।

किन्तु, कौन नर तपोनिष्ठ है यहाँ धनुष धरनेवाला?
एक साथ यज्ञाग्नि और असि की पूजा करनेवाला?
कहता है इतिहास, जगत् में हुआ एक ही नर ऐसा,
रण में कुटिल काल-सम क्रोधी तप में महासूर्य-जैसा!

मुख में वेद, पीठ पर तरकस, कर में कठिन कुठार विमल,
शाप और शर, दोनों ही थे, जिस महान् ऋषि के सम्बल।
यह कुटीर है उसी महामुनि परशुराम बलशाली का,
भृगु के परम पुनीत वंशधर, व्रती, वीर, प्रणपाली का।

रामधारी सिंह दिनकर के ‘रश्मिरथी’ की ये पंक्तियाँ आज इसीलिए और ज्यादा प्रासंगिक हो गई हैं, क्योंकि भगवान विष्णु के अंशावतार माने जाने वाले भगवान परशुराम की उत्तर प्रदेश की राजनीति में अचानक से वापसी हो गई है। यदा-कदा ब्राह्मणवाद और ब्राह्मणों को गाली देकर राजनीति करने वाले सपा-बसपा अब उनकी आराधना में लगी है। यहाँ हम इसी बदलाव का पोस्टमॉर्टम करने की कोशिश करेंगे।

उत्तर प्रदेश में अब राजनीति की धुरी फिर से ब्राह्मणों पर ही आकर टिक गई है। राज्य की दोनों स्थानीय पार्टियाँ सपा और बसपा ब्राह्मणों को रिझाने के लिए एक से बढ़ कर एक वादे कर रही हैं। राज्य की 60 विधानसभा सीटें ऐसी हैं, जहाँ ब्राह्मण जनसंख्या 20% के पार है। ऐसे में आश्चर्य की बात नहीं होनी चाहिए कि सपा-बसपा ब्राह्मणों को रिझाने और भगवान परशुराम की मूर्ति बनवाने की बात कर रही है। लेकिन, आखिर उन्हें इसका एहसास कैसे हुआ कि ब्राह्मण उनके लिए ज़रूरी हैं?

सबसे पहले बात समाजवादी पार्टी की। सपा ने वादा किया है कि वो भगवान परशुराम की 108 फीट ऊँची प्रतिमा का निर्माण करवाएगी। इसके लिए जगह ढूँढने की बात भी कही जा रही है। बताया गया है कि प्रतिमा बनवाने के लिए समाजवादी पार्टी देश के लोकप्रिय मूर्तिकार अर्जुन प्रजापति और लखनऊ स्थित मुख्यमंत्री कार्यालय में लगी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की भव्य मूर्ति बनाने वाले राजकुमार के संपर्क में है।

इतना ही नहीं, सपा हर जिले में भगवान परशुराम की मूर्ति लगवाने और ब्राह्मण सम्मेलन आयोजित कराने की योजना बना रही है। मंगल पांडेय से भी पार्टी का प्रेम उमड़ा हुआ है। पहले स्वतंत्रता संग्राम के बलिदानी मंगल पांडेय की मूर्ति लगाने पर विचार किया जा रहा है। अखिलेश यादव ने कई ब्राह्मण नेताओं के साथ बैठक की है। पार्टी गरीब ब्राह्मण घर की बेटियों की शादी भी कराएगी। सपा अब प्रदेश के 11% जनसंख्या वाले ब्राह्मणों को साधने में जुटी है।

अब बात बहुजन समाज पार्टी की, जिसकी पूरी विचारधारा ही दलितों के इर्द-गिर्द घूमती है। पार्टी की मुखिया मायावती ने तो यहाँ तक कहा कि वो सपा से भी ऊँची परशुराम की प्रतिमा लगवाएँगी। उन्होंने भगवान परशुराम के नाम पर अस्पताल बनवाने से लेकर साधु-संतों के ठहरने के लिए स्थल बनाने तक की बात कही। उन्होंने दावा किया कि ब्राह्मण समाज को बसपा ने पूरा प्रतिनिधित्व दिया है और ब्राह्मणों का बसपा पर पूरा विश्वास है।

मायावती का पूरा जोर इस बात पर है कि वो ब्राह्मण हितों की रक्षा के मामले में सपा से ऊपर हैं। उन्होंने सपा से पूछा कि जब वो सत्ता में थी तब उसने परशुराम की मूर्ति क्यों नहीं लगवाई? उन्होंने कहा कि किसी भी महापुरुष को लेकर राजनीति नहीं होनी चाहिए। साथ ही ये इशारा किया कि सपा ब्राह्मणों को इसीलिए लुभा रही है, क्योंकि राज्य में उसकी स्थिति अच्छी नहीं है। उन्होंने कहा कि सपा के शासन में ही ब्राह्मणों का सबसे ज्यादा शोषण और उत्पीड़न हुआ।

दोनों ही दलों की बेचैनी को देख कर ये सवाल उठना लाजिमी है कि आखिर एक ब्रेक के बाद ब्राह्मण फिर से उत्तर प्रदेश की राजनीति में इतने महत्वपूर्ण कैसे हो गए कि मुसलमान और दलित तुष्टिकरण करने वाली पार्टियाँ उनके पास भाग रही हैं? इसके पीछे 2 सबसे स्पष्ट कारण नज़र आते हैं। पहला, राम मंदिर और दूसरा, विकास दुबे का एनकाउंटर। इन दोनों ही मुद्दों का सपा-बसपा ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाना चाहती है।

बिकरू गाँव में विकास दुबे ने 8 पुलिसकर्मियों को मार गिराया था। ये एक बड़ा मुद्दा बना। विकास दुबे नाटकीय तरीके से पकड़ा गया और उससे भी बड़े नाटकीय अंदाज़ में एनकाउंटर में मारा गया। इसके बाद सोशल मीडिया पर उसके समर्थन में कई पोस्ट हुए। इसमें जातिवाद घुसा और योगी आदित्यनाथ को ठाकुर बताते हुए ब्राह्मणों का विरोधी करार दिया गया। इसमें कॉन्ग्रेस समर्थक ट्रोल सबसे ज्यादा सक्रिय रहे।

बस यहीं पर सपा-बसपा के कान खड़े हो गए। यूपी में प्रियंका गाँधी के कारण कॉन्ग्रेस का वोट प्रतिशत जरा भी बढ़ता है तो मुस्लिमों के वोटों का बँटवरा होना तय है। हो सकता है कि इसके 3 हिस्से हो जाएँ। ऐसे में उन पर दाँव न लगा कर प्रदेश की 11% जनसंख्या को साधने की कोशिश हो रही है। नॉन-यादव ओबीसी भाजपा के पक्ष में दिख रहा है। हालाँकि दलितों का एक वर्ग अभी भी बसपा के साथ है, लेकिन चंद्रशेखर उर्फ रावण ने मायावती की नींद उड़ा रखी है।

प्रियंका गाँधी ने जिस तरह से अस्पताल जाकर रावण से मुलाकात की थी, उसके बाद मायावती बिफर पड़ी थीं। न तो सपा सिर्फ यादवों के सहारे सरकार बना सकती है और न ही बसपा दलितों के खंडित वोटों से जनादेश ला सकती हैं। ऐसे में ब्राह्मणों को लुभाना उन्हें कारगर लग रहा है। सामान्य वर्ग और नॉन-यादव ओबीसी की भाजपा की गोलबंदी तोड़ने के लिए ये जुगत अपनाई जा रही है।

मायावती के हालिया बयानों को देखिए। उन्होंने कहा कि विकास दुबे की आड़ में सम्पूर्ण ब्राह्मण समाज का शोषण किया जा रहा है। विकास दुबे के एनकाउंटर के तुरंत बाद भी उन्होंने कहा था कि एक गलत व्यक्ति के करतूतों को सज़ा पूरे समुदाय को दिए जाने के कारण ब्राह्मण समाज भयभीत और प्रताड़ित नज़र आ रहा है। 2007 में ब्राह्मण-दलित वाला फॉर्मूला अपना चुकीं मायावती ने कहा कि ये समुदाय आतंकित महसूस कर रहा है।

सपा को लगा था कि कहीं इस मुद्दे का फायदा बसपा और कॉन्ग्रेस न उठा ले, इसीलिए उसने परशुराम की प्रतिमा का दाँव खेल दिया। सपा नेताओं के साथ विकास दुबे की तस्वीरें वायरल होने पर भी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने कोई सफाई नहीं दी। इसके पीछे ब्राह्मणों के समर्थन का दिखावा भी हो सकता है। बेचैन सपा-बसपा के नेता योगी आदित्यनाथ को अजय सिंह बिष्ट भी कहते रहे हैं।

अब बात राम मंदिर की। जब भी बात मंदिर और पूजा-पाठ की आती है, कुछ दल इसे ब्राह्मणों से जोड़ते हैं। शायद सपा-बसपा को धीरे-धीरे ये पता चल रहा है कि भाजपा को आँधी में कर्मकांड अब हर जाति तक पहुँच चुका है और इससे भावनाएँ जुड़ती जा रही हैं लोगों की। साधु-संतों के लिए स्थल बनाने के पीछे यही सोच हो सकती है। सैकड़ों सालों से अटके राम मंदिर निर्माण की काट शायद किसी दल के पास नहीं है।

प्रियंका गाँधी, मायावती और अखिलेध यादव को राम और राम मंदिर के पक्ष में बोला पड़ा। इससे पता चलता है कि वो जनभावनाओं को समझ तो रहे हैं, लेकिन ये नहीं समझ रहे कि जनता अब दिखावे और श्रद्धा के बीच का अंतर समझने लगी है। मायावती भले अखिलेश से सवाल पूछें लेकिन उन्होंने अपनी सत्ता रहते कांशीराम की मूर्तियों की झड़ी लगा दी थी। अब ये पार्टियाँ और असुरक्षित महसूस कर रही हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दीप्रिंट वालो! ‘लव जिहाद’ हिन्दू राष्ट्र का आधार नहीं, हिन्दू बच्चियों को धोखेबाज मुस्लिमों से बचाने का प्रयास है

लव जिहाद कोई काल्पनिक राक्षस नहीं है। ये वीभत्स हकीकत है। मेरठ में हुआ प्रिया का केस शायद जैनब ने पढ़ा ही नहीं या निकिता के साथ जो तौसीफ ने किया उससे वो आजतक अंजान हैं।

UP कैबिनेट में पास हुआ ‘लव जिहाद अध्यादेश’: अब नाम छिपाकर शादी करने पर मिलेगी 10 साल की सजा

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने 'लव जिहाद' को लेकर एक बड़े फैसले में अध्यादेश को मंजूरी दे दी है। 'लव जिहाद' के लगातार सामने आ रहे मामलों को देखते हुए यूपी कैबिनेट की बैठक में यह फैसला लिया गया।

नड्डा 100 दिन के दौरे पर, गाँधी परिवार छुट्टी पर: बाद में मत रोना कि EVM हैक हो गया…

कोरोना काल में भाजपा के अधिकतर कार्यकर्ताओं को सेवा कार्य में लगाया गया था। अब संगठन मजबूत किया जा रहा। गाँधी परिवार आराम फरमा रहा, रिसॉर्ट्स में।

43 चायनीज Apps को किया गया बैन: चीन पर चोट, कुल 267 पर चला डिप्लोमैटिक डंडा

भारत सरकार ने 43 मोबाइल ऐप्स पर पाबंदी लगा दी है। सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69ए के तहत सरकार ने 43 मोबाइल ऐप पर...

अर्णब की गिरफ्तारी से पहले अन्वय नाइक मामला: क्यों उठते हैं माँ-बेटी की मंशा पर सवाल? कब-कब क्या हुआ, जानिए सब कुछ

ऑपइंडिया ने इस मामले में दोनों पक्षों के बीच साझा किए गए पत्रों को एक्सेस किया और यह जाना कि यह मामला उतना सुलझा नहीं है जितना लग रहा है। पढ़िए क्या है पूरा मामला?

वैक्सीन को लेकर जल्द शुरू होगा बड़ा टीकाकरण अभियान, प्रखंड स्तर तक पर भी टास्क फोर्स का हो गठन: PM मोदी

पीएम मोदी ने बताया कि देश में इतना बड़ा टीकाकरण अभियान ठीक से हो, सिस्टेमेटिक और सही प्रकार से चलने वाला हो, ये केंद्र और राज्य सरकार सभी की जिम्मेदारी है।

प्रचलित ख़बरें

‘मेरे पास वकील रखने के लिए रुपए नहीं हैं’: सुप्रीम कोर्ट में पूर्व सैन्य अधिकारी की पत्नी से हरीश साल्वे ने कहा- ‘मैं हूँ...

साल्वे ने अर्णब गोस्वामी का केस लड़ने के लिए रिपब्लिक न्यूज नेटवर्क से 1 रुपया भी नहीं लिया। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उन्होंने कुलभूषण जाधव का केस भी मात्र 1 रुपए में लड़ा था।

बहन से छेड़खानी करता था ड्राइवर मुश्ताक, भाई गोलू और गुड्डू ने कुल्हाड़ी से काट डाला: खुद को किया पुलिस के हवाले

गोलू और गुड्डू शाम के वक्त मुश्ताक के घर पहुँच गए। दोनों ने मुश्ताक को उसके घर से घसीट कर बाहर निकाला और जम कर पीटा, फिर उन्होंने...

रहीम ने अर्जुन बनकर हिंदू विधवा से बनाए 5 दिन शारीरिक संबंध, बाद में कहा- ‘इस्लाम कबूलो तब करूँगा शादी’

जब शादी की कोई बात किए बिना अर्जुन (रहीम) महिला के घर से जाने लगा तो पीड़िता ने दबाव बनाया। इसके बाद रहीम ने अपनी सच्चाई बता...

इतिहास में गुम हैं मुगलों को 17 बार हराने वाले अहोम योद्धा: देश भूल गया ब्रह्मपुत्र के इन बेटों को

राजपूतों और मराठों की तरह कोई और भी था, जिसने मुगलों को न सिर्फ़ नाकों चने चबवाए बल्कि उन्हें खदेड़ कर भगाया। असम के उन योद्धाओं को राष्ट्रीय पहचान नहीं मिल पाई, जिन्होंने जलयुद्ध का ऐसा नमूना पेश किया कि औरंगज़ेब तक हिल उठा। आइए, चलते हैं पूर्व में।

कंगना को मुँह तोड़ने की धमकी देने वाले शिवसेना MLA के 10 ठिकानों पर ED की छापेमारी: वित्तीय अनियमितता का आरोप

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मंगलवार को शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक के आवास और दफ्तर पर छापेमारी की। यह छापेमारी सरनाईक के मुंबई और ठाणे के 10 ठिकानों पर की गई।

‘मुस्लिमों ने छठ में व्रती महिलाओं का कपड़े बदलते वीडियो बनाया, घाट पर मल-मूत्र त्यागा, सब तोड़ डाला’ – कटिहार की घटना

बिहार का कटिहार मुस्लिम बहुत सीमांचल का हिस्सा है, जिसकी सीमाएँ पश्चिम बंगाल से लगती हैं। वहाँ के छठ घाट को तहस-नहस कर दिया गया।
- विज्ञापन -

‘दिल्ली दंगे में उमर खालिद, शरजील इमाम और फैजान के खिलाफ पर्याप्त सबूत’: कोर्ट में सप्लीमेंट्री चार्जशीट दाखिल

दिल्ली की अदालत ने दिल्ली पुलिस के उत्तर पूर्वी दिल्ली हिंसा मामले में नए सप्लीमेंट्री चार्जशीट को स्वीकार करते हुए कहा कि आरोपित उमर खालिद, शरजील इमाम और फैजान खान के खिलाफ यूएपीए के प्रावधानों के तहत अपराध करने के पर्याप्त सबूत हैं।

दीप्रिंट वालो! ‘लव जिहाद’ हिन्दू राष्ट्र का आधार नहीं, हिन्दू बच्चियों को धोखेबाज मुस्लिमों से बचाने का प्रयास है

लव जिहाद कोई काल्पनिक राक्षस नहीं है। ये वीभत्स हकीकत है। मेरठ में हुआ प्रिया का केस शायद जैनब ने पढ़ा ही नहीं या निकिता के साथ जो तौसीफ ने किया उससे वो आजतक अंजान हैं।

UP कैबिनेट में पास हुआ ‘लव जिहाद अध्यादेश’: अब नाम छिपाकर शादी करने पर मिलेगी 10 साल की सजा

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने 'लव जिहाद' को लेकर एक बड़े फैसले में अध्यादेश को मंजूरी दे दी है। 'लव जिहाद' के लगातार सामने आ रहे मामलों को देखते हुए यूपी कैबिनेट की बैठक में यह फैसला लिया गया।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कंगना और रंगोली की गिरफ्तारी पर लगाई रोक, जस्टिस शिंदे ने मुंबई पुलिस को फटकारा

बॉम्बे उच्च न्यायालय ने अभिनेत्री कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल को गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दे दी है, लेकिन राजद्रोह के मामले में दोनों को 8 जनवरी को मुंबई पुलिस के सामने पेश होना होगा।

नड्डा 100 दिन के दौरे पर, गाँधी परिवार छुट्टी पर: बाद में मत रोना कि EVM हैक हो गया…

कोरोना काल में भाजपा के अधिकतर कार्यकर्ताओं को सेवा कार्य में लगाया गया था। अब संगठन मजबूत किया जा रहा। गाँधी परिवार आराम फरमा रहा, रिसॉर्ट्स में।

43 चायनीज Apps को किया गया बैन: चीन पर चोट, कुल 267 पर चला डिप्लोमैटिक डंडा

भारत सरकार ने 43 मोबाइल ऐप्स पर पाबंदी लगा दी है। सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69ए के तहत सरकार ने 43 मोबाइल ऐप पर...

अर्णब की गिरफ्तारी से पहले अन्वय नाइक मामला: क्यों उठते हैं माँ-बेटी की मंशा पर सवाल? कब-कब क्या हुआ, जानिए सब कुछ

ऑपइंडिया ने इस मामले में दोनों पक्षों के बीच साझा किए गए पत्रों को एक्सेस किया और यह जाना कि यह मामला उतना सुलझा नहीं है जितना लग रहा है। पढ़िए क्या है पूरा मामला?

शाहिद जेल से बाहर आते ही ’15 साल’ की लड़की को फिर से ले भागा, अलग-अलग धर्म के कारण मामला संवेदनशील

उम्र पर तकनीकी झोल के कारण न तो फिर से पाक्सो एक्ट की धाराएँ लगाई गईं और न ही अभी तक शाहिद या भगाई गई लड़की का ही कुछ पता चला...

वैक्सीन को लेकर जल्द शुरू होगा बड़ा टीकाकरण अभियान, प्रखंड स्तर तक पर भी टास्क फोर्स का हो गठन: PM मोदी

पीएम मोदी ने बताया कि देश में इतना बड़ा टीकाकरण अभियान ठीक से हो, सिस्टेमेटिक और सही प्रकार से चलने वाला हो, ये केंद्र और राज्य सरकार सभी की जिम्मेदारी है।

कंगना को मुँह तोड़ने की धमकी देने वाले शिवसेना MLA के 10 ठिकानों पर ED की छापेमारी: वित्तीय अनियमितता का आरोप

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मंगलवार को शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक के आवास और दफ्तर पर छापेमारी की। यह छापेमारी सरनाईक के मुंबई और ठाणे के 10 ठिकानों पर की गई।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,359FollowersFollow
357,000SubscribersSubscribe