Thursday, October 1, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे जगमगाती दिल्ली: फ्री पॉलिटिक्स के लिए टिहरी जैसी सभ्यताओं का डूबना जरूरी क्यों?

जगमगाती दिल्ली: फ्री पॉलिटिक्स के लिए टिहरी जैसी सभ्यताओं का डूबना जरूरी क्यों?

दिल्ली की फ्री (सस्ती नहीं) बिजली ने कई सवाल खड़े किए हैं। इसके लिए मैं दिल्ली की जनता को दोष नहीं दूँगा क्योंकि सभी राजनीतिक दलों ने फ्री की ऐसी कई योजनाओं का लालच दिया था। लेकिन सवाल यह है कि दूसरों की जरूरतों को पूरा करने वाला उत्तराखंड खुद के अधिकारों के लिए कब सचेत होगा?

दिल्ली के विधानसभा चुनाव आखिरकार निपट ही गए। इसके नतीजे जो भी रहे हों, लेकिन राजनीतिक दलों के चुनावी मैनिफेस्टो और वायदों ने फ्री वाली लुभावनी स्कीम पर सोचने को एक बार फिर मजबूर कर दिया है। यह अच्छी बात है। जनता को अगर फ्री का मिल रहा है तो आखिर किसे समस्या हो सकती है?

जब सभी कुछ मुफ्त मिल रहा है तो बिजली भी फ्री मिलनी चाहिए। यह आज के आम आदमी की सबसे बड़ी जरूरतों में से है। लेकिन मुफ्त की रेहड़ी लगाने वाले राजनीतिक दलों को यह भी साफ करना चाहिए कि उनकी इस फ्री पॉलिटिक्स का भुगतान दूसरे राज्य की जनता क्यों करें।

कुछ वर्षों से देश की राजधानी दिल्ली में मुफ्त में बाँटी जा रही बिजली की भारी कीमत उत्तराखंड वर्षों से अदा कर रहा है। दुख की बात यह है कि खुद उत्तराखंड इस बात से बेखबर, मस्ती में सोया हुआ नजर आता है।

उत्तराखंड में कुछ कहावतें काफी लोकप्रिय हैं। जैसे- पहाड़ की जवानी और पहाड़ का पानी, कभी पहाड़ के काम नहीं आती। यह विशेषतः पहाड़ों से होते आ रहे पलायन के सम्बन्ध में है। स्थानीय गढ़वाली बोली में एक और कहावत है- ‘उत्तराखंड यूँ डामुन डाम्याली।’ इसका मतलब है कि उत्तराखंड को इन बाँधों ने दाग दिया है।

हर दूसरे दिन स्वीकृत होने वाली छोटी-बड़ी नदी घाटी परियोजनाएँ उत्तराखंड की एक कड़वी दास्तान बनते जा रहे हैं। इनके लिए टिहरी जैसी प्राचीन और ऐतिहासिक सभ्यता को डूबना पड़ता है, ताकि दिल्ली को मुफ्त की बिजली मुहैया कराई जा सके।

टिहरी बाँध जैसे अनेकों छोटे-बड़े हाइड्रो-इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट; जैसे कि आसन बैराज, मनेरी, कोटेश्वर, किशाऊ, रामगंगा, विष्णुगाड, लोहारीनाग, धौलीगंगा परियोजना, भीमगोड़ा, पशुलोक और डाकपत्थर बैराज के लिए उत्तराखंड के लोगों ने न जाने कितनी कुर्बानियाँ दी हैं। लेकिन बदले में उत्तराखंड को क्या मिलता है? ले-देकर टूरिज्म के नाम का झुनझुना।

उदाहरण के लिए सबसे बड़ी परियोजना ‘टिहरी बाँध’ की बात करते हैं। इसी टिहरी बाँध को श्रीदेव सुमन सागर नाम से भी जाना जाता है। गौरतलब है कि भागीरथी नदी पर 260.5 मीटर की ऊँचाई पर बना यह टिहरी बाँध भारत का सबसे ऊँचा और विशालकाय और दुनिया का आठवाँ सबसे बड़ा बाँध है।

THDC की वेबसाइट ही बताती है कि टिहरी बाँध से उत्पादित होने वाली बिजली से आठ अन्य राज्यों- उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, दिल्ली, पंजाब, जम्मू-कश्मीर, चंडीगढ़ और राजस्थान को फायदा मिलता है। इस बाँध से पड़ोसी उत्तर प्रदेश राज्य में सिंचाई और यूपी-दिल्ली में पीने के पानी की सप्लाई की जाती है।

अब बात करते हैं कि इस टिहरी बाँध से उत्तराखंड को क्या मिलता है। THDC की वेबसाइट के अनुसार, इस बाँध से कुल बिजली उत्पादन का 12% ही उत्तराखंड को फ्री मिलता है। हो सकता है कि सरकार को मिलता हो, लेकिन टिहरी या उत्तराखंड की जनता को इसमें से कितनी बिजली फ्री या सस्ती मिलती है, इस बात का कोई साक्ष्य अभी तक उपलब्ध नहीं हैं। हाँ, उत्तराखंड से दिल्ली को मिलने वाली फ्री बिजली अब जरूर इस प्रश्न पर नए सिरे से सोचने पर मजबूर करती है।

कारण? क्या आप जानते हैं कि पुराने टिहरी शहर के डूबने से टिहरी और उत्तराखंड की जनता ने एक विरासत, एक सभ्यता को खो दिया? क्या दिल्ली में मुफ्त की बिजली पाने वाले उस दर्द को महसूस कर सकते हैं, जो अपने खेत-खलिहान को आँखों के सामने डूबते देखने में होता है? वह दर्द जो अपने बाप-दादाओं के पुश्तैनी घर और अपने आम के बगीचों को डूबते देखने में होता है? ये वह दर्द है जो पुरखों की विरासत और आँगन में गाई जाने वाली माँगलों (मंगल गीत) के खो जाने के एहसास से ही चुभने लगता है। दर्द जो टिहरी की नथ और सिंगोरी की मिठास के खो जाने से होता है। आँसू जो बहते हैं, दूर किसी पहाड़ से आप जब अपने घर और खेतों को तबाह होते देखते हैं। डूबे हुए शहर में अंदाजा लगाते हैं कि ‘शायद यहीं कहीं आपका घर रहा होगा।

अगर किसी भी तरह से आप टिहरी से विस्थापित लोगों का दर्द समझ पाने में सक्षम नहीं हैं तो कश्मीर घाटी से आज से तीस साल पहले नरसंहार के बाद अपने ही घरों को छोड़कर जाने को मजबूर कश्मीरी पंडितों के दर्द को महसूस कीजिए। अंतर बस इतना ही है कि कश्मीरी पंडितों पर अत्याचार करने वाले इस्लामिक बर्बर कट्टरपंथी थे और टिहरी के लोगों को खुद उनकी सरकार ने अपने घर खाली कर शहरों को चले जाने की राय दी।

पुराना टिहरी शहर तीन नदियों- भागीरथी, भिलंगना और घृत गंगा, जो विलुप्त हो गई थी से घिरा हुआ था, इसलिए इसको त्रिहरी नाम से जाना जाता था। बाद में इस शहर का नाम टिहरी रख दिया गया। इस शहर को राजा सुर्दशन शाह ने दिसम्बर, 1815 में बसाया था।

टिहरी बाँध तो सिर्फ उदाहरण है, क्योंकि मेरा बचपन इस शहर की गलियों में बीता था और इस शहर को मैं जानता था। ऐसे न जाने कितने गाँव और कस्बे हैं उत्तराखंड में, जो जनमानस की तरक्की के लिए चुपचाप जल समाधि ले चुके हैं। इतने वर्ष बीत गए, सवाल वहीं का वहीं है- इतनी कुर्बानियों के बाद उत्तराखंड को क्या मिला?

उत्तराखंड को मिला विकास के नाम पर सिर्फ टूरिज्म का झुनझुना, खाली होते गाँव, पलायन की मार, कोर्ट-कचहरियों के चक्कर काटते सरकारी नौकरियों के नोटिस, सरकारी दफ्तर के बाबुओं की दादागिरी, कुशासन की मार, छुटभैये ठेकेदारों की बड़े नेताओं में तब्दीली, कच्ची दारू की जगह ब्रैंडेड बोतल, वीकेंड पर शहरों से आकर पहाड़ों में कचरा करने और टूटी बोतलें फेंक जाने वाले सीजनल सैलानी… बस यही!

दिल्ली की फ्री (सस्ती नहीं) बिजली ने कई सवाल खड़े किए हैं। इसके लिए मैं दिल्ली की जनता को दोष नहीं दूँगा क्योंकि सभी राजनीतिक दलों ने फ्री की ऐसी कई योजनाओं का लालच दिया था। लेकिन सवाल यह है कि दूसरों की जरूरतों को पूरा करने वाला उत्तराखंड खुद के अधिकारों के लिए कब सचेत होगा?

जो राज्य उत्पादन करके दूसरों को फ्री बिजली दे सकता है, क्या उसके स्थानीय निवासियों को इतना भी अधिकार नहीं कि वे भी फ्री नहीं तो सस्ती बिजली के लिए ही अपनी आवाज बुलंद कर सकें? या उत्तराखंड इसी में खुश है कि सैलानी आएँगे तो कुछ सीजनल आमदनी का जुगाड़ हो ही जाएगा? खैर, बिजली आपकी, मुफ्तखोरी दिल्ली की। उत्तराखंड बस देना जानता है; जिन पहाड़ों से माँ गंगा पूरे देश का पेट सींचती है, वही गंगा राजनीतिक फायदे के लिए दिल्ली के साथ-साथ खुद को मुफ्त बिजली नहीं दे सकती?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

नवीन नौटियाल
घुमक्कड़ी जिज्ञासा...

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बलरामपुर: दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार, लड़की की मौत, शाहिद और साहिल गिरफ्तार

अनुसूचित जाति की एक युवती के साथ शाहिद और साहिल द्वारा सामूहिक बलात्कार की घटना सामने आई है। युवती की अस्पताल में मौत हो गई।

हाथरस केस में पुलिस पर सवाल उठना लाजमी: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Hathras Case

भयावहता को दर्शाने के लिए जीभ काटने, रीढ़ की हड्डी तोड़ने, आँख फोड़ने की बात कही गई। ये भी कहा गया कि आरोपित सवर्ण है, इसलिए पुलिस छेड़छाड़ का मामला बताकर रफा-दफा करने की कोशिश कर रही है।

इलाज के लिए अमित शाह के न्यूयॉर्क जाने, उनके बीमार होने के वायरल दावों की क्या है सच्चाई, पढ़ें पूरी डिटेल

सोशल मीडिया पर गृह मंत्री अमित शाह को इलाज के लिए न्यूयॉर्क शिफ्ट करने की बात पूरी तरह से गलत है। इसके इतर, उनका स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है। उन्होंने आज मंत्रालय और पार्टी दोनों ही कामों में हिस्सा लिया है।

CM योगी ने की हाथरस पीड़िता के परिजनों से बात, परिवार को 25 लाख की आर्थिक मदद, मकान और सरकारी नौकरी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिजनों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की। बुधवार शाम को हुई बातचीत में सीएम योगी ने न्याय का भरोसा दिलाया। मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवार को ढाँढस बँधाया।

लड़कियों को भी चाहिए सेक्स, फिर ‘काटजू’ की जगह हर बार ‘कमला’ का ही क्यों होता है रेप?

बलात्कार आरोपित कटघरे में खड़ा और लोग तरस खा रहे... सबके मन में बस यही चल रहा है कि काश इसके पास नौकरी होती तो यह आराम से सेक्स कर पाता!

मस्जिद शहीद हुई कॉन्ग्रेस की मौजूदगी में, इसकी जड़ कॉन्ग्रेस पार्टी: बाबरी मस्जिद पर कोर्ट के फैसले से ओवैसी नाखुश

''सीबीआई कोर्ट का आज का फैसला भारत की अदालत की तारीख का काला दिन है, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने जो 9 नवंबर को जो फैसला दिया था, वो..."

प्रचलित ख़बरें

ईशनिंदा में अखिलेश पांडे को 15 साल की सजा, कुरान की ‘झूठी कसम’ खाकर 2 भारतीय मजदूरों ने फँसाया

UAE के कानून के हिसाब से अगर 3 या 3 से अधिक लोग कुरान की कसम खाकर गवाही देते हैं तो आरोप सिद्ध माना जा सकता है। इसी आधार पर...

‘हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है, बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गया था’: कोर्ट के फैसले के बाद लिबरलों का जलना जारी

अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद यहाँ हम आपके समक्ष लिबरल गैंग के क्रंदन भरे शब्द पेश कर रहे हैं, आनंद लीजिए।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

पिता-दादाजी ने किया हाथरस मामले की पीड़िता का अंतिम संस्कार, पुलिस भी रही मौजूद

दावा किया जा रहा था कि गाँव में हाथरस के अधिकारियों ने बलपूर्वक परिजनों को पीड़िता का अंतिम संस्कार करने के लिए दबाव बनाया।

बुलंदशहर: 14 वर्षीय बच्ची को घर से उठाकर रिजवान उर्फ़ पकौड़ी ने किया रेप, मुँह में कपड़ा ठूँसा..चेहरे पर तेजाब डालने की धमकी, गिरफ्तार

14 वर्षीय लड़की को रुमाल सुँघाकर रेप करने वाले पड़ोसी रिजवान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पीड़िता का इलाज चल रहा है।

अजमेर में टीपू सुल्तान ने अपने 2 दोस्तों के साथ दलित युवती के मुँह में कपड़ा ठूँसकर किया सामूहिक दुष्कर्म, 8 घंटे तक दी...

राजस्थान के अजमेर में एक युवती के साथ सामूहिक बलात्कार की घटना सामने आई है। आरोपित टीपू सुल्तान पर अपने दो साथियों के साथ इस घटना को अंजाम देने का आरोप है।

बलरामपुर: दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार, लड़की की मौत, शाहिद और साहिल गिरफ्तार

अनुसूचित जाति की एक युवती के साथ शाहिद और साहिल द्वारा सामूहिक बलात्कार की घटना सामने आई है। युवती की अस्पताल में मौत हो गई।

#RebuildBabri: सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए मुस्लिमों को बरगलाने की कोशिश, पोस्टर के जरिए बाबरी ढाँचे के पुनर्निर्माण का आह्वान

अदालत ने बुधवार को बाबरी विध्वंस मामले में सभी 32 आरोपितों को बरी कर दिया। वहीं इस फैसले से बौखलाए मुस्लिमों ने सोशल मीडिया पर लोगों से बाबरी ढाँचे के पुनर्निर्माण का आह्वान किया है।
00:48:35

हाथरस केस में पुलिस पर सवाल उठना लाजमी: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Hathras Case

भयावहता को दर्शाने के लिए जीभ काटने, रीढ़ की हड्डी तोड़ने, आँख फोड़ने की बात कही गई। ये भी कहा गया कि आरोपित सवर्ण है, इसलिए पुलिस छेड़छाड़ का मामला बताकर रफा-दफा करने की कोशिश कर रही है।

इलाज के लिए अमित शाह के न्यूयॉर्क जाने, उनके बीमार होने के वायरल दावों की क्या है सच्चाई, पढ़ें पूरी डिटेल

सोशल मीडिया पर गृह मंत्री अमित शाह को इलाज के लिए न्यूयॉर्क शिफ्ट करने की बात पूरी तरह से गलत है। इसके इतर, उनका स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है। उन्होंने आज मंत्रालय और पार्टी दोनों ही कामों में हिस्सा लिया है।

कॉन्ग्रेस के दबाव में झुकी उद्धव सरकार: महाराष्ट्र में नया कृषि कानून लागू करने का आदेश लिया वापस

कॉन्ग्रेस की तरफ से कैबिनेट बैठक के बहिष्कार की धमकी के बाद महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने बुधवार को नए कृषि कानून लागू करने का अगस्त महीने में दिया अपना आदेश वापस ले लिया है।

अतीक अहमद के करीबी राशिद, कम्मो और जाबिर के आलीशान बंगलों पर चला योगी सरकार का बुलडोजर, करोड़ो की संपत्ति खाक

प्रशासन ने अब अतीक गैंग के खास रहे तीन गुर्गों राशिद, कम्मो और जाबिर के अवैध आलीशान मकानों को जमींदोज कर दिया। यह सभी मकान प्रयागराज के बेली इलाके में स्थित थे।

अनलॉक-5.0 में खोल दिए गए सिनेमाघर, मल्टीप्लेक्स: स्कूल और कोचिंग सेंटर को लेकर भी दी गई विशेष जानकारी

स्कूल और कोचिंग संस्थानों को खोलने के लिए राज्य सरकारों को 15 अक्टूबर के बाद फैसला लेने की इजाजत होगी। लेकिन, इसके लिए परिवार की मंजूरी अनिवार्य होगी।

आंध्र प्रदेश: पठान सलार खान ने 15 सालों में 80 से भी ज्यादा मंदिरों की दानपेटियों से चुराए रुपए, गिरफ्तार

जाँच के दौरान 50 वर्षीय पठान सलार नाम के एक युवक को गिरफ्तार किया। जिसके बाद पुलिस की जाँच पड़ताल में उसने चोरी की सारी वारदातों को कबूल किया।

हमसे जुड़ें

267,758FansLike
78,083FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe