Friday, January 15, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे ...जब कॉन्ग्रेस के बड़े नेता ने सेल्युलर जेल से वीर सावरकर का नाम हटाने...

…जब कॉन्ग्रेस के बड़े नेता ने सेल्युलर जेल से वीर सावरकर का नाम हटाने का दिया आदेश और पड़े ‘जूते’

कम्युनिस्ट और कॉन्ग्रेस के विचारकों का इसके पीछे का षड्यंत्र यह था कि विनायक दामोदर सावरकर को एक स्वतंत्रता सेनानी के रूप में भारतीय मन से विस्मृत किया जाए, क्योंकि सावरकर ने सेकुलरिज्म पर ना लिखते हुए मोपला के वीभत्स दंगों का इतिहास लिखा था, क्योंकि सावरकर ने हिंदुत्व के दर्शन पर पुस्तकें लिखी थीं।

कुछ स्मृतियाँ ऐसी होती हैं जो आपके अंतर्मन को बार-बार जागृत करती रहती हैं। ऐसा ही एक अनुभव मेरा अंडमान निकोबार से जुड़ा है। यह एक सामान्य सी बात है कि जब कोई अंडमान के बारे में सोचता है, उसके मन में सेल्युलर जेल का विचार कौंध जाता है। मैंने बहुत बचपन में सेल्युलर जेल की कहानी पढ़ी थी, उस कहानी को पढ़कर सेल्युलर जेल मेरे अवचेतन में बैठ गया था।

ईश्वर की कृपा से मुझे अंडमान और निकोबार में एक वर्ष रहने का मौका मिला। इस दौरान मैं कई बार सेल्युलर जेल घूमा। जिन कमरों में क्रांन्तिकारी रहते थे, उन दीवारों को बार-बार छूता और कभी-कभी उसमें घंटों बैठकर दीवारों को कान लगा कर कुछ सुनने का प्रयास करता। मैं सोचता था कि काश कहीं से भारत माता की जय, इन्कलाब जिंदाबाद सुनने को मिल जाए।

मैं सेल्युलर जेल के छोटे-छोटे कैदखाने के दरवाजे (लोहे का छड़ वाला दरवाजा, जिसमें बाहर से लॉक लगाने की व्यवस्था थी) को बंद कर खिड़की की तरफ उछलता और अनुभव करता था कि जब दूसरे बैरक से चीखने की आवाज आती होगी तो आजादी के दीवाने ऐसे ही खिड़कियों और दरवाजों से किस कैदी को यातना मिल रही होगी, इसका अंदाज़ा लगाते होंगे।

मैं इन्कलाब जिंदाबाद, भारत माता की जय का जयगान करता था और सोचता था कि एक क्रन्तिकारी जब इन नारों को लगाता होगा तो उसकी आवाज कैसे गूँजती होगी। सेल्युलर जेल के एक कोने में सावरकर की कोठरी है। पहले सेल्युलर जेल में 7 विंग्स थे। 4 विंग्स को तोड़कर वहाँ जीबी पन्त मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल बनाया गया है और बाकी 3 विंग्स अभी पूरी तरह से सुरक्षित हैं।

सेल्युलर जेल का इस्तेमाल आजादी के बाद भी किया गया, जिन कमरों में पहले क्रांतिकारियों को कैद किया जाता था, वहाँ आजादी के बाद अपराधियों को रखा जाने लगा। हालाँकि जब अंडमान में नया जेल बना तो कैदियों को सेल्युलर जेल में रखना बंद कर दिया गया। सेल्युलर जेल में जितने भी लोग आते हैं, उनमें सावरकर की कोठरी देखने की होड़ मची रहती है।

लोग सावरकर की कोठरी के साथ सेल्फी लेते हैं, चप्पल खोल कर उस कोठरी में प्रवेश करते हैं। जेल में जैसे ही आप प्रवेश करेंगे, दाईं तरफ तीसरी मंजिल पर सबसे अंतिम वाला कमरा सावरकर का है। सावरकर के कमरे के ठीक बाहरी दीवार को छूता हुआ एक इमली का पेड़ है, जिसके बारे में स्थानीय बताते हैं कि यह बहुत पुराना है।

अंडमान निकोबार की सेल्युलर जेल में फाँसी पूर्व क्रिया स्थल

उसी ईमली के पेड़ की बगल से एक सड़क गई है और सड़क के उस पार समंदर है। समंदर में थोड़ी दूर के बाद रोस आइलैंड है। अंग्रेज यहीं रहते थे और यहीं से उनका पूरे अंडमान निकोबार पर नियंत्रण भी था। 1942-1945 में जब जापानी सैनिकों ने अंडमान पर कब्ज़ा किया था तो रोस आईलैंड और माउंट हेरियट के एक अंग्रेज अधिकारी के घर पर इतना बम गिराया था कि अंग्रेजों के लिए उसको रिपेयर कर पाना मुश्किल हो गया था।

आज भी जापानी बमों के दाग और जापानी बंकर अंडमान में आसानी से देखे जा सकते हैं। सेल्युलर जेल बनने से पहले क्रांतिकारियों को वाइपर आइलैंड पर रखा जाता था। वाइपर आइलैंड पोर्ट ब्लेयर के पास ही है। इसी जेल में पुरी के एक राजा का कैदखाने में ही देहांत हो गया था। अंग्रेजों ने बहुत जुल्म ढाए थे राष्ट्रवादियों पर। बंदियों के पैरों से लेकर गले तक को लोहे के जंजीरों में जकड़ कर रखा जाता था।

सेल्युलर जेल का वो आइकोनिक प्रताड़ना स्थल जहाँ राष्ट्रवादियों को लिटा कर कोड़ों से पीटा जाता था।

नारियल के छिलके को कूटने से लेकर, कोल्हू में जुतना होता था। प्रताड़ना के लिए तो अंग्रेजों ने पूरी व्यवस्था कर रखी थी। जेल के बीचोबीच एक लोहे का स्लैब बनाया गया था। इसमें तपती धुप में देशभक्तों को पेट के बल लिटा कर बेड़ियों से जकड़ा जाता था और फिर पीठ पर कोड़े बरसाए जाते थे। ना तो पीने का पानी और ना ही भर पेट भोजन… ऊपर से ऐसी प्रताड़ना, जिसकी कल्पना भी मुश्किल है।

अंडमान निकोबार की सेल्युलर जेल में कोल्हू

सावरकर की कोठरी ठीक फाँसी घर के सामने थी। जब किसी को फाँसी दी जाती थी, तो उस समय क्रांन्तिकारियों के इन्कलाब के नारों से पूरा जेल थर्रा जाता था। इतने बड़े परिसर में जब फाँसी पर झूलने वाले क्रांन्तिकारी भारत माता की जय बोलते थे, उनके शपथ को दम देने के लिए, जज्बा देने के लिए कैदखाने में बंद सैकड़ों बंदी ‘भारत माता की जय’, ‘इन्कलाब जिंदाबाद’ के नारों से जेल की मोटी-मोटी दीवारों को हिला देते थे।

अंडमान निकोबार की सेल्युलर जेल में फाँसी घर

यह अनुगूँज इंतनी भयंकर होती थी कि जेल के बाहर के लोगों को अंदेशा हो जाता था कि आज किसी क्रांन्तिकारी को फाँसी हुई है। जेल के फाँसी घर में एक साथ तीन व्यक्तियों को फाँसी देने की व्यवस्था थी।

इस देश का दुर्भाग्य ही कहिए कि वर्ष 2004 में कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता मणिशंकर अय्यर अंडमान निकोबार गए थे। सेल्युलर जेल में एक ज्योति पुंज पर स्वातंत्र्य वीर सावरकर का नाम देख कर वो इतना चिढ़ गए कि उन्होंने तत्काल उस नेम प्लेट को हटाने का निर्देश दे दिया था। इस घटना से पूरे अंडमान निकोबार में क्षोभ पसर गया था। इसका वहाँ के अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने भारी विरोध किया था, लेकिन फिर भी सावरकर का नाम वहाँ अंकित नहीं हो सका।

उस वक्त बालासाहेब ठाकरे जिन्दा थे और उन्होंने पूरे महाराष्ट्र में शिव सैनिकों से सावरकर के अपमान का बदला लेने को कहा था। जगह-जगह मणिशंकर अय्यर के पुतले पर जूते मारे गए थे और उनके पुतले का दहन किया गया था।

वामपंथियों और कॉन्ग्रेसियों को सारा जीवन सावरकर से चिढ़ होती रही। सावरकर के संघर्षों को अपमानित करना इनका सर्वकालिक अजेंडा रहा है। यह कितना दुर्भाग्यपूर्ण है कि जिस व्यक्ति ने दशकों तक भारत की आजादी के लिए अमानवीय कष्ट सहे, जिन्होंने 1857 की क्रांति का इतिहास लिख कर भारतीय ज्ञान परम्परा को समृद्ध किया, उसे कॉन्ग्रेस ने अपने पूरे जीवन काल में अपमानित करने का कार्य किया।

कम्युनिस्ट और कॉन्ग्रेस के विचारकों का इसके पीछे का षडयंत्र यह था कि विनायक दामोदर सावरकर को एक स्वतंत्रता सेनानी के रूप में भारतीय मन से विस्मृत किया जाए, क्योंकि सावरकर ने सेकुलरिज्म पर ना लिखते हुए मोपला के वीभत्स दंगों का इतिहास लिखा था, क्योंकि सावरकर ने हिंदुत्व के दर्शन पर पुस्तकें लिखी थीं।

आप सोचिए अगर इनके छवि को धूमिल ना किया जाता, अगर सुभास चन्द्र बोस के इतिहास को चंद शब्दों में ना समेटा जाता, अगर भगत सिंह और चंद्रशेखर आजाद को आतंकी न कहा जाता तो इनके चेहते नेता कैसे स्थापित होते?

खैर 11 वर्षों तक सेल्युलर जेल का वह ज्योति पुंज, जिसे वाजपेयी की सरकार ने स्थापित किया था, उस पर एक बार पुनः सावरकर की वाणियाँ उदृत की गईं। आज वह अमर ज्योति सावरकर सहित ऐसे सैकड़ों राष्ट्रभक्तों की आत्मा की अहर्निश आवाज को बुलंद कर रहा है। सेल्युलर जेल हर शाम प्रकाश और ध्वनि कार्यक्रमों का आयोजन करता है और… हर शाम सेल्युलर जेल की दीवारें जीवंत हो उठती हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

अजीत भारती छोड़ रहे हैं ऑपइंडिया, ऑक्सफोर्ड से आया बुलावा | Ajeet Bharti roasts Nidhi Razdan

आज जब श्री भारती जी के पास यह खबर आई कि उन्हें ऑक्सफोर्ड से प्रोफेसरी का बुलावा आया है तो उन्होंने भारी हृदय से सीईओ को त्यागपत्र सौंप दिया।

श्री अजीत भारती जी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने असोसिएट प्रोफेसर नियुक्त किया, ऑपइंडिया से विदाई तय

श्री अजीत भारती को उनके मित्र अलख सुंदरम् ने बताया कि गोरों की जमीन पर जाते ही मुँह पर मुल्तानी मिट्टी लगा कर घूमें ताकि ऑक्सफोर्ड में उन्हें ब्राउन समझ कर कोई दुष्टता न कर दे।

NDTV की निधि ने खरीद लिया था हार्वर्ड का टीशर्ट, लोगों को भेज रही थी बरनॉल… लेकिन ‘शिट हैपेन्स’ हो गया!

पोटेंशियल हार्वर्ड एसोसिएट प्रोफेसर निधि राजदान ने कहा कि प्रोफेसर के तौर पर ज्वाइन करने की बातें हार्वर्ड नहीं बल्कि 'व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी' से जारी की गईं थीं।

बिलाल ने ‘आश्रम’ वेब सीरीज देखकर जंगल में की युवती की हत्या, धड़ से सिर अलग कर 2 KM दूर गाड़ा

पुलिस का कहना है कि 'आश्रम' वेब सीरीज के पहले भाग की थीम की तरह ही ओरमाँझी में बिलाल ने इस हत्या को भी अंजाम दिया और लाश को ठिकाने लगाया।

जिसने सुशांत के लिए लिखा- नखरे दिखाने वाला, उसने करण जौहर की मेहरबानी के बाद छोड़ी ‘पत्रकारिता’

करण जौहर ने राजीव मसंद को अपने नए वेंचर का सीओओ बनाया है। मसंद ने लेखों के जरिए सुशांत की छवि धूमिल करने की कोशिश की थी।

प्रचलित ख़बरें

MBBS छात्रा पूजा भारती की हत्या, हाथ-पाँव बाँध फेंका डैम में: झारखंड सरकार के खिलाफ गुस्सा

हजारीबाग मेडिकल कालेज की छात्रा पूजा भारती पूर्वे के हाथ-पैर बाँध कर उसे जिंदा ही डैम में फेंक दिया गया। पूजा की लाश पतरातू डैम से बरामद हुई।

दुकान में घुस कर मोहम्मद आदिल, दाउद, मेहरबान अली ने हिंदू महिला को लाठी, बेल्ट, हंटर से पीटा: देखें Video

वीडियो में देख सकते हैं कि आरोपित युवक महिला को घेर कर पहले उसके कपड़े खींचते हैं, उसके साथ लाठी-डंडों, बेल्ट और हंटरों से मारपीट करते है।

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

चोटी गुहल कनिया रहिए गेल: NDTV में रहीं निधि राजदान को हार्वर्ड ने कभी नहीं बुलाया, बताई ठगे जाने की व्यथा

वह महामारी के कारण सब चीजों को नजर अंदाज करती रहीं लेकिन हाल ही में उन्हें इन चीजों को लेकर शक गहराया और उन्होंने यूनिवर्सिटी के शीर्ष प्रशासन से संपर्क किया तो...

UP: मूत्र विसर्जन के बहाने पिस्टल छिनकर भाग रहे ₹1 लाख के इनामी बदमाश को लगी STF की गोली

STF की टीम यमुना एक्सप्रेस-वे के रास्ते अनूप को मथुरा ले जा रही थी, लेकिन इस बीच भागने की कोशिश करने पर वो पुलिस की गोली का शिकार हो गया।

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

‘BJP वैक्सीन नहीं, नपुंसक बनाने की दवा के बाद अब जानलेवा टीका’: कोविड-19 को लेकर सपा की घटिया राजनीति जारी

अपने मास्टर अखिलेश यादव की तरह सपा नेता आईपी सिंह ने बर्ड फ्लू के बाद अब कोविड-19 वैक्सीन को लेकर एक विवादित बयान दिया है।

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

राम मंदिर के लिए इकबाल अंसारी भी करेंगे निधि समर्पण, कहा- यह श्रद्धा का सवाल है, इससे पुण्य मिलता है

बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी भी भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए समर्पण निधि देंगे। श्रीराम जन्मभूमि समर्पण निधि अभियान पर इकबाल अंसारी ने कहा कि बात राम मंदिर की है।

केंद्र सरकार ने पंजाब से सबसे ज्यादा कपास और धान खरीदने का बनाया रिकॉर्ड: आंदोलन में शामिल ‘किसानों’ ने भी जताई खुशी

किसानों के विरोध प्रदर्शन में शामिल हो चुके गोल्टा ने सरकार के फैसले पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि समय पर एमएसपी रेट के अनुसार हुई बिक्री से उन्हें काफी मदद मिली है।

13 साल के नाबालिग का जबरन लिंग परिवर्तन करवाकर होता रहा बलात्कार, स्टेशन पर मँगवाई गई भीख: केस दर्ज

शुभम का लिंग परिवर्तन करवाने के बाद आरोपितों ने मिलकर उसका सामूहिक बलात्कार किया और पैसे के बदले दूसरे लोगों से भी उसका बलात्कार करवाया।
00:06:17

अजीत भारती छोड़ रहे हैं ऑपइंडिया, ऑक्सफोर्ड से आया बुलावा | Ajeet Bharti roasts Nidhi Razdan

आज जब श्री भारती जी के पास यह खबर आई कि उन्हें ऑक्सफोर्ड से प्रोफेसरी का बुलावा आया है तो उन्होंने भारी हृदय से सीईओ को त्यागपत्र सौंप दिया।

कॉन्ग्रेस नेता ने दिया ममता बनर्जी को विलय का सुझाव, कहा- BJP को हराने का नहीं है कोई दूसरा विकल्प

कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने टीएमसी पर निशाना साधते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आगामी चुनावों में अकेली बीजेपी के खिलाफ नहीं लड़ सकती हैं।

श्री अजीत भारती जी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने असोसिएट प्रोफेसर नियुक्त किया, ऑपइंडिया से विदाई तय

श्री अजीत भारती को उनके मित्र अलख सुंदरम् ने बताया कि गोरों की जमीन पर जाते ही मुँह पर मुल्तानी मिट्टी लगा कर घूमें ताकि ऑक्सफोर्ड में उन्हें ब्राउन समझ कर कोई दुष्टता न कर दे।

मलेशिया ने कर्ज न चुका पाने पर जब्त किया पाकिस्तान का विमान: यात्री और चालक दल दोनों को बेइज्‍जत करके उतारा

मलेशिया ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखाते हुए PIA (पाकिस्‍तान इंटरनेशनल एयरलाइन्‍स) के एक बोईंग 777 यात्री विमान को जब्त कर लिया है।

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
380,000SubscribersSubscribe