बेटे का छोड़ा ‘जहर’ पीने को मॉं मजबूर, मोदी-शाह ने बहन को पीने से रोका

राहुल जब जयपुर में बोल रहे थे तो उन्होंने सोचा नहीं होगा कि उनकी कुंडली में नरेंद्र मोदी और अमित शाह नाम के दो ग्रह आकर बैठने वाले हैं। और यह तो किसी मोड़ पर ख्याल नहीं आया होगा कि इन दोनों की वजह से सात साल बाद ही सही उनके एक-एक शब्द सच केवल सच साबित होंगे।

कॉन्ग्रेस एक मजेदार संगठन है। एक भी नियम और कानून इस पार्टी में नहीं चलते। हम हर मिनट एक नया नियम बनाते हैं और पुराने वाले को दबा देते हैं। कोई हमसे पूछे कि कॉन्ग्रेस पार्टी क्या करती है तो हमारा जवाब होना चाहिए कॉन्ग्रेस पार्टी देश के लिए नेता तैयार करती है।

माफ कीजिएगा देश की सबसे पुरानी पार्टी को लेकर ये मेरे विचार नहीं हैं। ये खुद राहुल गॉंधी के विचार हैं। भरोसा न हो तो 20 जनवरी 2013 को जयपुर के कॉन्ग्रेस चिंतन शिविर में दिए गए करीब 38 मिनट के उनके भाषण को एक बार फिर सुन ले। चिंतन शिविर से दिमाग की बत्ती न जल रही हो तो थोड़ा और स्पष्ट कर दूॅं कि ऊपर लिखे गए एक-एक शब्द ‘सत्ता जहर है’ वाले मशहूर भाषण के अंश हैं।

भावुकता का पुट लिए यह हिन्दी-अंग्रेजी मिश्रित संबोधन राहुल ने पार्टी का उपाध्यक्ष बनने पर दिया था और उस समय की मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया था कि इसे सुन सोनिया गॉंधी सहित वहॉं मौजूद हर कॉन्ग्रेसी की आँखें गीली हो गई थी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

10 अगस्त 2019 को सोनिया गाँधी को पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष चुन कॉन्ग्रेस ने आखिरकार साबित कर दिया कि राहुल गलत नहीं थे। इस फैसले ने फिर साबित किया है कि जिस पार्टी के लिए कभी मशहूर था ‘खाता न बही, जो कहे केसरी वही सहे’ (वही सीताराम केसरी जिन्हें कथित तौर पर सोनिया के इशारों पर कॉन्ग्रेस मुख्यालय से बेदखल कर दिया गया था), वह कानून से नहीं गॉंधी परिवार के इशारों पर नाचती है।

यह जरूर है कि राहुल जब जयपुर में बोल रहे थे तो उन्होंने सोचा नहीं होगा कि उनकी कुंडली में नरेंद्र मोदी और अमित शाह नाम के दो ग्रह आकर बैठने वाले हैं। और यह तो किसी मोड़ पर ख्याल नहीं आया होगा कि इन दोनों की वजह से सात साल बाद ही सही उनके एक-एक शब्द सच केवल सच साबित होंगे।

उस कथित ऐतिहासिक भाषण में राहुल ने कॉन्ग्रेस को एक परिवार बताते हुए कहा था कि तेजी से बदलाव की जरूरत है। साथ ही जोड़ा था सोच-समझकर, प्यार से और सबकी सुनकर बदलाव करना है। इसलिए राहुल का उत्तराधिकारी चुनने के लिए कॉन्ग्रेसियों ने तेजी से बदलाव करते हुए उनकी मॉं को चुन लिया है। यह बदलाव इतनी तेजी से हुआ कि इसमें करीब दो महीने लगे। आरजू-मिन्नतों से लेकर ‘गॉंधी परिवार से नहीं होगा अगला अध्यक्ष’ वाला शिगूफा और बैठकों का मैराथन रेस भी चला। बदलाव सोच-समझकर, प्यार से और सबकी सुनकर ही किया गया है।

इस बदलाव ने राहुल के उस भाषण के केवल एक अंश को ही गलत साबित किया है। यह बतौर कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गॉंधी के करीब 20 महीने के कार्यकाल की भी नाकामी है। चुनावी पराजयों को हम राहुल की नाकामी नहीं मानते, क्योंकि चमत्कार की उम्मीद केवल लिबरलों को ही थी। राहुल ने उस भाषण में हर स्तर पर पॉंच-सात नेता तैयार करने की बात कही थी, जो किसी भी वक्त एक-दूसरे की जगह ले ले। पर कॉन्ग्रेसियों ने इस तर्क का हवाला देकर इस पर अमल नहीं किया कि ‘बिन गॉंधी परिवार हम टुकड़े-टुकड़े हो जाएँगे’।

अब इस पर आते हैं कि बेटे ने जिस विष को छोड़ा था वह मॉं पीने को क्यों मजबूर हुईं? क्यों इस बार अध्यक्ष के पहले अंतरिम शब्द जोड़ा गया? सूत्र बताते हैं कि ऐसा प्रियंका गॉंधी की ताजपोशी के लिए माकूल वक्त के इंतजार में किया गया है।

​प्रियंका की ताजपोशी में देरी के लिए भी मोदी-शाह की जोड़ी ही जिम्मेदार बताई जा रही है। कहा जा रहा है कि भाई के बाद विष का हाला पीने को बहन ने पूरा मंच सजा रखा था। बस लोकतंत्र के नाम पर 10 अगस्त को वर्किंग कमेटी की बैठ के बाद इसका बकायदा ऐलान किया जाना बाकी था।

लेकिन, मोदी-शाह के आर्टिकल 370 के दॉंव ने गॉंधी परिवार को तुरुप के उस पत्ते को चलने से रोक दिया है जो आम चुनावों में उत्तर प्रदेश में औंधे मुँह गिरी थी। बताया जाता है कि इस मुद्दे पर पार्टी के भीतर से विरोध के स्वर उठने और जनभावना केन्द्र सरकार के फैसले के साथ होने के कारण प्रियंका को आखिरी वक़्त में पैर खींचने पड़े। श्रीमंत जैसे युवाओं की पीठ पर इसलिए हाथ नहीं रखा गया क्यूँकि अब जमाना केसरी वाला नहीं रहा।

आखिर में, राहुल गॉंधी के जयपुर वाले भाषण की एक लाइन शिद्दत से याद आ रही है। राहुल ने कहा था, “कभी-कभी खुद से पूछता हूँ कि कॉन्ग्रेस पार्टी चलती कैसे है।” इसका जवाब पूरा देश जानना चाहता है। विदेशों में चिंतन के बाद किसी दिन जवाब मिल जाए तो राहुल जी प्लीज देश को भी बताइएगा।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

सांप्रदायिकता की लकीर खींचने के लिए अंग्रेज मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड एप्लिकेशन एक्ट लेकर आए। आजादी के बाद कॉन्ग्रेस की तुष्टिकरण नीति की वजह से बाल विवाह के कानून बदले, लेकिन मुस्लिम पर्सनल लॉ को छुआ भी नहीं गया।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

कॉन्ग्रेस नेता भ्रष्टाचार

हमाम में अकेले नंगे नहीं हैं चिदंबरम, सोनिया और राहुल गॉंधी सहित कई नेताओं पर लटक रही तलवार

कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गाँधी और उनके बेटे राहुल गाँधी नेशनल हेराल्ड केस में आरोपित हैं और फिलहाल जमानत पर बाहर हैं। दिसंबर 2015 में दिल्ली की एक अदालत ने दोनों को 50-50 हज़ार रुपए के पर्सनल बॉन्ड पर ज़मानत दी थी।
1984 सिख विरोधी दंगा जाँच

फिर से खुलेंगी 1984 सिख नरसंहार से जुड़ी फाइल्स, कई नेताओं की परेशानी बढ़ी: गृह मंत्रालय का अहम फैसला

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमिटी के प्रतिनिधियों की बातें सुनने के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जाँच का दायरा बढ़ा दिया। गृह मंत्रालय ने कहा कि 1984 सिख विरोधी दंगे के वीभत्स रूप को देखते हुए इससे जुड़े सभी ऐसे गंभीर मामलों में जाँच फिर से शुरू की जाएगी, जिसे बंद कर दिया गया था या फिर जाँच पूरी कर ली गई थी।
रेप

जहाँगीर ने 45 लड़कियों से किया रेप, पत्नी किरण वीडियो बनाकर बेचती थी एडल्ट वेबसाइट्स को

जब कासिम जहाँगीर बन्दूक दिखाकर बलात्कार करता था, उसी वक़्त जहाँगीर की पत्नी किरण वीडियो बनाती रहती थी। इसके बाद पीड़िता को वीडियो और तस्वीरों के नाम पर ब्लैकमेल किया जाता था।
पी चिदंबरम, अमित शाह

चिदंबरम और अमित शाह का फर्क: एक 9 साल पहले डटा था, दूसरा आज भागा-भागा फिर रहा

सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में जुलाई 22, 2010 को अमित शाह को सीबीआई ने 1 बजे पेश होने को कहा। समन सिर्फ़ 2 घंटे पहले यानी 11 बजे दिया गया था। फिर 23 जुलाई को पेश होने को कहा गया और उसी दिन शाम 4 बजे चार्जशीट दाखिल कर दी गई।
शेहला रशीद शोरा

डियर शेहला सबूत तो जरूरी है, वरना चर्चे तो आपके बैग में कंडोम मिलने के भी थे

हम आपकी आजादी का सम्मान करते हैं। लेकिन, नहीं चाहते कि य​ह आजादी उन टुच्चों को भी मिले जो आपके कंडोम प्रेम की अफवाहें फैलाते रहते हैं। बस यही हमारे और आपके बीच का फर्क है। और यही भक्त और लिबरल होने का भी फर्क है।
वीर सावरकर

वीर सावरकर की प्रतिमा पर पोती कालिख, पहनाया जूतों का हार: DU में कॉन्ग्रेसी छात्र संगठन की करतूत

सावरकर की प्रतिमा को एनएसयूआई दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष अक्षय ने जूते की माला पहनाई। उसने समर्थकों संग मिल कर प्रतिमा के चेहरे पर कालिख पोत दिया। इस दौरान एनएसयूआई के छात्रों की सुरक्षाकर्मियों से झड़प भी हुई।
2018 से अभी तक 20 लोगों को गौ तस्करों ने मार डाला है

गौतस्करों ने 19 हिन्दुओं की हत्या की, लेकिन गोपाल की हत्या उसे तबरेज़ या अखलाक नहीं बना पाती

सौ करोड़ की आबादी, NDA के 45% वोट शेयर में आखिर किसके वोटर कार्ड हैं? फिर सवाल कौन पूछेगा इन हुक्मरानों से? आलम यह है कि तीन चौथाई बहुमत वाले योगी जी के राज्य में, हिन्दुओं को अपने घरों पर लिखना पड़ रहा है कि यह मकान बिकाऊ है!
चापेकर बंधु

जिसके पिता ने लिखी सत्यनारायण कथा, उसके 3 बेटों ने ‘इज्जत लूटने वाले’ अंग्रेज को मारा और चढ़ गए फाँसी पर

अंग्रेज सिपाही प्लेग नियंत्रण के नाम पर औरतों-मर्दों को नंगा करके जाँचते थे। चापेकर बंधुओं ने इसका आदेश देने वाले अफसर वॉल्टर चार्ल्स रैंड का वध करने की ठानी। प्लान के मुताबिक जैसे ही वो आया, दामोदर ने चिल्लाकर अपने भाइयों से कहा "गुंडया आला रे" और...

मिस्टर चिदंबरम को, पूर्व गृह मंत्री, वित्त मंत्री को ऐसे उठाया CBI ने… तो? चावल के लोटे में पैर लगवाते?

अगर एनडीटीवी को सीबीआई के दीवार फाँदने पर मर्यादा और 'तेलगी को भी सम्मान से लाया गया था' याद आ रहा है तो उसे यह बात भी तो याद रखनी चाहिए पूर्व गृह मंत्री को कानून का सम्मान करते हुए, संविधान पर, कोर्ट पर, सरकारी संस्थाओं पर विश्वास दिखाते हुए, एक उदाहरण पेश करना चाहिए था।
शेहला रशीद

‘शेहला बिन बुलाए चली आई, अब उसे खदेड़ तो नहीं सकते… लेकिन हमने उसे बोलने नहीं दिया’

दिल्ली के जंतर-मंतर पर विपक्षी नेताओं का जमावड़ा लगा। मौक़ा था डीएमके द्वारा आयोजित विरोध प्रदर्शन का। शेहला रशीद के बारे में बात करते हुए डीएमके नेता ने कहा कि कुछ लोग बिना बुलाए आ गए हैं तो अब भगाया तो नहीं जा सकता न।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

84,333फैंसलाइक करें
11,888फॉलोवर्सफॉलो करें
90,819सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: