Wednesday, July 8, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया प्रिय असुरनियों, तुम चाहे जितना चिंघाड़ो, सबरीमाला देवता का मुद्दा ही रहेगा, न कि...

प्रिय असुरनियों, तुम चाहे जितना चिंघाड़ो, सबरीमाला देवता का मुद्दा ही रहेगा, न कि पीरियड्स और पब्लिक प्लेस का

सागरिका घोष की बात तब भी सही हो सकती थी, अगर महिलाओं पर यह रोक उनकी 'अशुद्धता' के चलते होती। लेकिन ऐसा भी है नहीं। इस रोक का कारण है रजस्वला आयु वर्ग की महिलाओं का उस मंदिर की पूजा-साधना के लिए अयोग्य होना, 'अशौच' होना। शौच-अशौच पवित्रता-अपवित्रता नहीं होते।

ये भी पढ़ें

हमारे पुराणों को लेकर वामपंथियों में बड़ी मशहूर ‘थ्योरी’ है कि जिन्हें शास्त्रों में असुर बताया गया है, वे असल में इंसान थे। यही कारण है कि उन्हें महिषासुर “जनप्रिय, मूलनिवासी राजा” लगता है। आज की पत्रकारिता के समुदाय विशेष के सदस्य भले ही अभिव्यक्ति की आजादी का ढोंग रचते हों, लेकिन उनके लक्षण आसुरिक ही नजर आते हैं।

गुरुवार (14 नवंबर 2019) को सबरीमाला के मुद्दे को सुप्रीम कोर्ट की बड़ी बेंच में भेजे जाने पर सागरिका घोष का कहना है कि अगर मंदिर एक सार्वजनिक स्थल है तो वह ‘अशुद्धता’ (‘इम्प्यूरिटी’) के नाम पर किसी लिंग, जाति, आस्था या शारीरिक क्रिया आधारित भेदभाव नहीं कर सकता है। उन्हें रजस्वला महिलाओं को ‘इम्प्योर’ घोषित किया जाना और उनके साथ ‘भेदभाव’ का समर्थन अनैतिक और हास्यास्पद लगता है।

उनकी बात बिलकुल सही होती, अगर मंदिर सार्वजनिक स्थल होता। यह मेरी या करोड़ों अय्यप्पा भक्तों की गलती नहीं है कि सागरिका घोष को ऐसा लगता है उनके घर के बाहर पूरी दुनिया ‘पब्लिक प्लेस’ है जिसके बारे में वे अपनी वैचारिक थूक-खकार उगल सकतीं हैं। लेकिन ऐसा है नहीं। मंदिर एक सार्वजनिक नहीं बल्कि विशिष्ट स्थल है- उनके लिए जो मंदिर में प्रवेश की सामान्य और विशिष्ट अर्हताएँ पूरी करते हैं।

सामान्य अर्हता हुई हिन्दू होना। यानी मंदिर के प्रति श्रद्धा-भाव होना, उसके यम-नियम (इसका अर्थ सागरिका खुद ढूँढ़ें) का पालन करने का वचन देना। इसके लिए कोई अलग से घोषणा-पत्र या शपथ-पत्र कोर्ट में नहीं दिया जाता। मंदिर में घुसने का अर्थ ही यह होता है कि घुसने वाला खुद को हिन्दू धर्म के अंतर्गत आने वाली किसी न किसी आस्था, उपासना पद्धति, पंथ आदि का अनुगामी घोषित कर रहा है।

यह तो हुई सामान्य अर्हता। इसके अलावा कुछ मंदिरों में प्रवेश के लिए विशिष्ट नियम होते हैं, जो उस मंदिर के देवता की इच्छा पर आधारित होते हैं- और देवता की इच्छा का पता उसी धर्मग्रंथ से चलता है, जो यह बताता है कि इस मंदिर में इस वाले देवता का वास है। सबरीमाला ऐसा ही मंदिर है, और इससे जुड़े धर्मशास्त्रों ‘भूतनाथ उपाख्यानं’ और ‘तंत्र समुच्चयं’ में साफ लिखा है कि इस मंदिर में भगवान अय्यप्पा का नैष्ठिक ब्रह्मचारी रूप स्थापित है।

सागरिका घोष की बात तब भी सही हो सकती थी, अगर महिलाओं पर यह रोक उनकी ‘अशुद्धता’ के चलते होती। लेकिन ऐसा भी है नहीं। इस रोक का कारण है रजस्वला आयु वर्ग की महिलाओं का उस मंदिर की पूजा-साधना के लिए अयोग्य होना, ‘अशौच’ होना। शौच-अशौच पवित्रता-अपवित्रता नहीं होते।

चूँकि सागरिका को मंदिर और सार्वजनिक फुटपाथ में अंतर नहीं पता, इसलिए उन्हें तो मूर्ख माना जा सकता है। लेकिन बरखा दत्त मंदिर का नाम स्पष्ट तौर पर लेतीं हैं और इसके बाद भी कहती हैं कि उन्हें सबरीमाला में जबरन प्रवेश चाहिए। यह मूर्खता नहीं, दुर्भावना वाली आसुरिक वृत्ति है।

इसे ‘पीरियड्स’, नारी अधिकार, नारीवाद (जो अपने आप में कम्यूनिज़्म का ही बदला हुआ रूप है; जिसे यकीन न हो, कम्यूनिस्ट मैनिफेस्टो और फेमिनिस्टों के उद्देश्यों में मिलान करके देख ले) की आड़ में हिन्दूफ़ोबिया, मंदिरों, हिन्दू धर्म और हिन्दू धर्मावलम्बियों पर हमला ही माना जाएगा।

ऐसा आज पहली बार नहीं हो रहा है। पौराणिक समय में भी यही होता था। असुर जिन पूजा-पद्धतियों, साधनाओं के खुद मुरीद नहीं होते थे, उन पर हमले करते थे, उनमें विघ्न डालते थे, शास्त्रार्थ के बहाने कुतर्क करते थे, राज्य सत्ता का बल प्रयोग, हिंसा, शोरगुल से भक्तों का ध्यान भंग करना वगैरह। इसलिए, बरखा दत्त और सागरिका घोष कुछ नया नहीं कर रही हैं, केवल उनका माध्यम (इंटरनेट) नया है।

लेकिन जैसे हमने रामलला के लिए 500 साल तक बाबर-औरंगज़ेब जैसी क्रूर, अंग्रेज़ों जैसी चंट और सेक्युलरासुर सरकारी मशीनरी जैसी अधर्मी ताकतों से युद्ध किया, वैसे ही सबरीमाला पर भी आपका प्रोपेगंडा पोस्ट-दर-पोस्ट, महीने-दर-महीने, अदालत-दर-अदालत, पीढ़ी-दर-पीढ़ी काटा जाता रहेगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

भारत यात्रा का नायक, सियासत का चिर युवा चंद्रशेखर; जिसके लिए PM मोदी को कहना पड़ा- हम चूक गए

हवा के विरोध में खड़े होने की सियासत का नाम है चंद्रशेखर। जिन्हें खुद के होने का गुमान हो, उनके सामने तनकर खड़े होने का नाम है चंद्रशेखर।

मारा गया विकास दुबे का दाहिना हाथ अमर दुबे: CO देवेंद्र मिश्र को घसीट कर मारा था, ₹25000 का था इनाम

यूपी STF और हमीरपुर पुलिस को एक संयुक्त ऑपरेशन में ये सफलता मिली। विकास का गुर्गा अमर दुबे MP की सीमा में घुस फरार होने की कोशिश में...

‘द वायर’ ने फिर फैलाया फेक न्यूज़, लिखा- ‘कोरोना प्रकोप के बाद NCPCR के पास दर्ज शिकायतों में हुई 8 गुना वृद्धि’

पीआईबी फैक्ट चेक की ट्वीट में कहा गया कि राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने शिकायत में 8 गुना वृद्धि को स्पष्ट रूप से नकार दिया है।

कोरोना के दौरान भारत से अनाथ बच्चों को इटली, माल्टा, जॉर्डन भेजा गया: संस्था के CEO दीपक और मिशनरियों का गिरोह इसके पीछे

दीपक कुमार ने CEO रहते CARA में ईसाई महिलाओं की सत्ता स्थापित कर दी थी, जिनके इशारों पर बच्चों को गोद लेने-देने का खेल चलता था। अब हटाए गए।

माँ और जाति की गाली देकर मुस्लिमों ने धारदार हथियारों से किया घायल: बेगूसराय में महादलितों का आरोप

पुलिस की ही गाड़ी में घायल महादलितों को अस्पताल पहुँचाया गया। शंकर पासवान का कहना है कि मुस्लिम बहुल इलाक़े में उनके बाल-बच्चे कैसे जिएँगे?

राहुल गाँधी डॉक्टर नहीं, जो उन्हें वेंटिलेटर जाँचना आता हो: AgVa के प्रोफ़ेसर ने कहा- मैं उन्हें डेमो दिखाना चाहूँगा

राहुल गाँधी ने वेंटिलेटर की जाँच किए बिना ही उससे जुड़ी खबर को रीट्वीट कर दिया। प्रोफेसर दिवाकर वैश ने कहा कि राहुल गाँधी डॉक्टर तो हैं नहीं, जो उन्हें वेंटिलेटर की जाँच करना आता हो। उन्होंने बिना वेरीफाई किए रीट्वीट कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

चीन से अब ‘काली मौत’ का खतरा, अलर्ट जारी: आनंद महिंद्रा बोले- अब बर्दाश्त नहीं कर सकता

पूरी दुनिया को कोरोना संक्रमण देने वाले चीन में अब ब्‍यूबोनिक प्‍लेग के मामले सामने आए हैं। इसे ब्लैक डेथ यानी काली मौत भी कहते हैं।

सब-कलेक्टर आसिफ के युसूफ को नहीं मिलेगा IAS अधिकारी का दर्जा, आरक्षण के लिए दिया था फर्जी दस्तावेज

थालास्सेरी के सब-कलेक्टर आसिफ़ के युसूफ़ को आईएएस अधिकारी का दर्जा नहीं दिया जा सकता है। मंत्रालय ने केरल के मुख्य सचिव को...

‘अगर मंदिर बना तो याद रखना… हिंदुओं को चुन-चुन कर मारूँगा’ – बच्चे ने दी धमकी, Video Viral

"खान साहब! अगर इस्लामाबाद में मंदिर बना तो ये याद रखना मैं उन हिंदुओं को चुन-चुनकर मारूँगा। समझ गए? अल्लाह हाफिज।"

कश्मीर की डल झील में रफीक अहमद डुंडू ने बंधक बनाकर दो माह तक किया था बलात्कार: ऑस्ट्रेलियाई महिला ने किया खुलासा

"इस बोट पर मुझे झाँसे में लेकर एक रात रोका गया। इसके बाद मुझे बोट पर बंधक बना लिया गया और रफीक अहमद डुंडू द्वारा मेरे साथ हाउसबोट पर बार-बार दो महीने तक बलात्कार किया गया।"

सैलरी माँगने पर कुत्ते से कटवाया, शारीरिक संबंध बनाने से इनकार करने पर मालकिन ने की हैवानियत

सपना पार्लर में काम करती थी। जहाँ उसकी सैलरी नहीं दी गई थी। जब सैलरी माँगी तो मालकिन ने शारीरिक संबंध बनाने को कहा। इनकार करने पर...

‘अगर तुम मंदिर बनाओगे तो पाकिस्तानी कौम तुम्हारी गर्दनों को काटकर बाहर फिरने वाले कुत्तों के सामने डाल देगी’

ये पहली बार नहीं है जब मंदिर बनाने के फैसले पर किसी मौलवी या उलेमा ने इस तरह जहर उगला हो। इससे पहले भी फेसबुक पर कई वीडियो वायरल हुई है।

भारत यात्रा का नायक, सियासत का चिर युवा चंद्रशेखर; जिसके लिए PM मोदी को कहना पड़ा- हम चूक गए

हवा के विरोध में खड़े होने की सियासत का नाम है चंद्रशेखर। जिन्हें खुद के होने का गुमान हो, उनके सामने तनकर खड़े होने का नाम है चंद्रशेखर।

साबिर अली ने गाय के साथ किया अप्राकृतिक सेक्स, CCTV में हो गया रिकॉर्ड: भोपाल से गिरफ्तार

भोपाल से इंसानियत को शर्मसार करने वाला एक मामला सामने आया है। वहाँ 55 वर्षीय एक व्यक्ति को गाय के साथ अप्राकृतिक सेक्स करते पाया गया।

मारा गया विकास दुबे का दाहिना हाथ अमर दुबे: CO देवेंद्र मिश्र को घसीट कर मारा था, ₹25000 का था इनाम

यूपी STF और हमीरपुर पुलिस को एक संयुक्त ऑपरेशन में ये सफलता मिली। विकास का गुर्गा अमर दुबे MP की सीमा में घुस फरार होने की कोशिश में...

सबसे बड़ी संख्या ‘ग्राहम नंबर’ की खोज करने वाले महान गणितज्ञ रॉन ग्राहम का निधन, मौत के कारणों का पता नहीं

सोमवार को 84 वर्ष की उम्र में महान गणितज्ञ रॉन ग्राहम का निधन हो गया। इनका पूरा नाम रोनाल्ड लेविस ग्राहम था। उन्होंने ग्राहम नंबर की खोज की, जो एक प्रमाण में इस्तेमाल किया गया सबसे बड़ा नंबर है।

कश्मीर की डल झील में रफीक अहमद डुंडू ने बंधक बनाकर दो माह तक किया था बलात्कार: ऑस्ट्रेलियाई महिला ने किया खुलासा

"इस बोट पर मुझे झाँसे में लेकर एक रात रोका गया। इसके बाद मुझे बोट पर बंधक बना लिया गया और रफीक अहमद डुंडू द्वारा मेरे साथ हाउसबोट पर बार-बार दो महीने तक बलात्कार किया गया।"

‘द वायर’ ने फिर फैलाया फेक न्यूज़, लिखा- ‘कोरोना प्रकोप के बाद NCPCR के पास दर्ज शिकायतों में हुई 8 गुना वृद्धि’

पीआईबी फैक्ट चेक की ट्वीट में कहा गया कि राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने शिकायत में 8 गुना वृद्धि को स्पष्ट रूप से नकार दिया है।

मेघालय में 6 हिन्दू लड़कों पर 20 की भीड़ ने छड़, लाठी और बाँस से किया हमला: 11 आरोपित हिरासत में, जाँच जारी

मेघालय की राजधानी शिलॉन्ग में शुक्रवार को 20 से 24 वर्ष के उम्र के 6 लड़कों पर लगभग 20 लोगों के एक समूह ने हमला किया, जो लोहे की छड़ और लाठी, बाँस आदि से लैस थे।

नेपाल के विवादित नक्शे के विरोध का सांसद सरिता गिरी पर गाज, पार्टी ने की उनकी सदस्यता समाप्त करने की सिफारिश

मंगलवार के दिन समाजवादी पार्टी के महासचिव राम सहाय प्रसाद यादव की अगुवाई में दल के एक टास्क फ़ोर्स ने सरिता गिरी की पार्टी सदस्यता और संसदीय सीट समाप्त करने की सिफारिश की।

कोरोना के दौरान भारत से अनाथ बच्चों को इटली, माल्टा, जॉर्डन भेजा गया: संस्था के CEO दीपक और मिशनरियों का गिरोह इसके पीछे

दीपक कुमार ने CEO रहते CARA में ईसाई महिलाओं की सत्ता स्थापित कर दी थी, जिनके इशारों पर बच्चों को गोद लेने-देने का खेल चलता था। अब हटाए गए।

तूतीकोरिन में पुलिस हिरासत में हुई पिता पुत्र की दर्दनाक मौत की जाँच अब सीबीआई के हवाले, केंद्र ने दी मंजूरी

तूतीकोरिन में पुलिस की हिरासत में हुई जयराज और बेनिक्स के मामले की जाँच अब सीबीआई करेगी। तमिलनाडु सरकार के आग्रह पर केंद्र सरकार ने अधिसूचना जारी करते हुए इस मामले की जाँच सीबीआई को सौंपी है।

हमसे जुड़ें

235,526FansLike
63,231FollowersFollow
271,000SubscribersSubscribe