Thursday, April 22, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे एक ने बेटी की ख़ातिर तो दूसरे ने पति के लिए लाँघी चौखट: स्वाति...

एक ने बेटी की ख़ातिर तो दूसरे ने पति के लिए लाँघी चौखट: स्वाति सिंह, किरण तिवारी जैसों से रोशन हौसले का दीया

जरा सोचिए, किरण तिवारी किससे मुकाबिल हैं। उनके पति की जान किन लोगों ने ली। फिर समझ आएगा कि आगे आकर वह कितना जोखिम ले रहीं। यह कुछ ऐसा ही है जैसा चार साल पहले स्वाति सिंह ने किया था। फर्क केवल इतना है कि स्वाति के सामने वे धर्मांध नहीं थे जो काफिरों की हत्या को जायज मानते हैं।

जिस देश में आत्महत्या करने वाली महिलाओं में से करीब 37 फीसदी हालात से टूट कर मौत के गली लगती हों, उस समाज में स्वाति सिंह और किरण तिवारी जैसों का हौसला उम्मीद जगाता है। एक ने 12 साल की बेटी की सम्मान की ख़ातिर तो दूसरे ने पति को इंसाफ़ दिलाने के लिए घर की चौखट लॉंघी। मुसीबतों के पहाड़ से डरी नहींं, जबकि एक के सामने जाति की चादर ओढ़े प्रभावशाली राजनीतिक ​बिरादरी थी, तो दूसरे के सामने धर्म की खाल में लिपटे दरिंदे हैं।

18 अक्टूबर को कमलेश तिवारी की निर्मम हत्या से पहले आपने शायद ही उनकी पत्नी किरण तिवारी का नाम सुना हो। उनके बारे में तब भी आपने सुना नहीं होगा जब कमलेश तिवारी सींखचों के पीछे धकेल दिए गए थे। यकीनन उस मुश्किल खड़ी में भी किरण परिवार को सॅंभालने में लगी रही होंगी। लेकिन, तक भी वे पारिवारिक दायरे से बाहर निकल पति के लिए सार्वजनिक तौर पर खड़ी नजर नहीं आईं। मुश्किलों से मोर्चा लेने का उन्होंने फैसला तब किया जब उन पर सबसे बड़ा पहाड़ टूटा। एक महिला के लिए पति की मौत से बड़ा दर्द भला क्या हो सकता है। और जिसके पति की इतने निर्मम तरीके से हत्या की जाए तो उसके मन-मस्तिष्क पर क्या चल रहा होगा, कल्पना से परे है।

दिवंगत पति की ज़िम्मेदारियों को निभाने के लिए पार्टी की कमान सँभाली

लेकिन, किरण टूटी नहीं। पहले पति के हत्यारों को सजा दिलाने के लिए आगे आईं। फिर हत्या के हफ्ते भर बाद ही पति की जगह हिंदू समाज पार्टी की कमान सॅंभाल ली। किरण बखूबी जानती होंगी कि उनके पति की हत्या हिंदुत्ववादी तेवरों के कारण ही गई है। उनके खिलाफ जो लोग हैं उनमें यूपी का मंत्री रहा एक मुस्लिम नेता है, जिसके विवादित बयान की प्रतिक्रिया में कमलेश तिवारी ने विवादित टिप्पणी की थी।

विवादित टिप्पणी के कारण उन्हें जेल जाना पड़ा। वे मौलाना हैं जिन्होंने समुदाय विशेष के लोगों को कमलेश की हत्या के लिए उकसाया। उसकी हत्या को जायज ठ​हराया और फिर हत्यारों को छिपाने का भरसक प्रयास किया। उस धर्मांध पत्नी से है जो हत्यारे पति से कहती है कि अल्लाह तेरा भला करेगा। उस पिता से है जो हत्यारे बेटे से कहता है कि घर आ जा सब ठीक हो जाएगा। उन शांति दूतों से है जो कमलेश की हत्या के बाद सोशल मीडिया में हा हा कर रहे ​थे। यह ऐसा कॉकस है जिससे समुदाय विशेष के लोग धर्म के नाम पर जुड़े हैं, काफिरों के खिलाफ। ऐसे लोगों के खिलाफ खड़ा होना एक महि​ला और खासकर जिसके पति की इतने निर्मम तरीके से हत्या की गई हो, आसान नहीं होता।

12 साल की बेटी के सम्मान में चुनावी मैदान में उतरीं स्वाति सिंह

आसान तो स्वाति सिंह के लिए भी कुछ नहीं था। वह 2016 का साल था। स्वाति के पति बीजेपी नेता दयाशंकर सिंह ने बसपा सुप्रीमो मायावती को लेकर एक विवादित टिप्पणी की। अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने थे। सो, दयाशंकर के बयान का मायावती ने राजनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल कर अपने वोट बैंक को मजबूत करने की कोशिश की। उनके कार्यकर्ता सड़क पर उतरे और दयाशंकर के परिवार की महिलाओं को सरेआम गाली दी गई।

स्वाति की 12 साल की बेटी के लिए भी अपशब्दों का इस्तेमाल किया गया। ऐसे वक्त में जब दयाशंकर भूमिगत हो गए थे, घरेलू महिला रहीं स्वाति सिंह परिवार के लिए सामने आईं। पति का बचाव नहीं किया। कहा अपने पति और मायावती के लिए समान कार्रवाई चाहती हूॅं। उनके हौसले ने बसपा को बैकफुट पर धकेल दिया। मायावती को यहॉं तक कहना पड़ा कि वे अपने कार्यकर्ताओं की भाषा का समर्थन नहीं करतीं। अगले साल जब विधानसभा चुनाव हुए तो स्वाति के इस हौसले को जनता का समर्थन भी मिला। वे तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के भाई को हरा विधानसभा पहुॅंची। आज वे योगी कैबिनेट की सदस्य हैं।

असल में, स्वाति और किरण जैसी महिलाओं से ही महिला सशक्तिकरण का दीया रोशन होता है। इन गैर राजनीतिक महिलाओं का जज्बा हर उस महिला को हौसला देता है, जिन्हें मुसीबतें अकेला कर देती हैं। तोड़ने की हर कोशिश करती है। वरना विरासत के नाम पर तो यूपी में ही नहीं देश के हर हिस्से में आप अक्सर महि​लाओं को ऊपर चढ़ते देखते ही रहते हैं। यह दूसरी बात है कि उनके सफर को ही हमारे सामने महिला सशक्तिकरण का मुलम्मा चढ़ाकर पेश किया जाता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मतुआ समुदाय, चिकेन्स नेक और बांग्लादेश से लगे इलाके: छठे चरण में कौन से फैक्टर करेंगे काम, BJP से लोगों को हैं उम्मीदें

पश्चिम बंगाल की जनता उद्योग चाहती है, जो उसके हिसाब से सिर्फ भाजपा ही दे सकती है। बेरोजगारी मुद्दा है। घुसपैठ और मुस्लिम तुष्टिकरण पर TMC कोई जवाब नहीं दे पाई है।

अंबानी-अडानी के बाद अब अदार पूनावाला के पीछे पड़े राहुल गाँधी, कहा-‘आपदा में मोदी ने दिया अपने मित्रों को अवसर’

राहुल गाँधी पीएम मोदी पर देश को उद्योगपतियों को बेचने का आरोप लगाते ही रहते हैं। बस इस बार अंबानी-अडानी की लिस्ट में अदार पूनावाला का नाम जोड़ दिया है।

‘सरकार ने संकट में भी किया ऑक्सीजन निर्यात’- NDTV समेत मीडिया गिरोह ने फैलाई फेक न्यूज: पोल खुलने पर किया डिलीट

हालाँकि सरकार के सूत्रों ने इन मीडिया रिपोर्ट्स को भ्रांतिपूर्ण बताया क्योंकि इन रिपोर्ट्स में जिस ऑक्सीजन की बात की गई है वह औद्योगिक ऑक्सीजन है जो कि मेडिकल ऑक्सीजन से कहीं अलग होती है।

देश के 3 सबसे बड़े डॉक्टर की 35 बातें: कोरोना में Remdesivir रामबाण नहीं, अस्पताल एक विकल्प… एकमात्र नहीं

देश में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। 2.95 लाख नए मामले सामने आने के बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़ कर...

‘गैर मुस्लिम नहीं कर सकते अल्लाह शब्द का इस्तेमाल, किसी अन्य ईश्वर से तुलना गुनाह’: इस्लामी संस्था ने कहा- फतवे के हिसाब से चलें

मलेशिया की एक इस्लामी संस्था ने कहा है कि 'अल्लाह' एक बेहद ही पवित्र शब्द है और इसका इस्तेमाल सिर्फ इस्लाम के लिए और मुस्लिमों द्वारा ही होना चाहिए।

आज वैक्सीन का शोर, फरवरी में था बेकारः कोरोना टीके पर छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार ने ही रचा प्रोपेगेंडा

आज छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री इस बात से नाखुश हैं कि पीएम ने राज्यों को कोरोना वैक्सीन देने की बात नहीं की। लेकिन, फरवरी में वही इसके असर पर सवाल उठा रहे थे।

प्रचलित ख़बरें

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

रेमडेसिविर खेप को लेकर महाराष्ट्र के FDA मंत्री ने किया उद्धव सरकार को शर्मिंदा, कहा- ‘हमने दी थी बीजेपी को परमीशन’

महाविकास अघाड़ी को और शर्मिंदा करते हुए राजेंद्र शिंगणे ने पुष्टि की कि ये इंजेक्शन किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्हें भाजपा नेताओं ने भी इसके बारे में आश्वासन दिया था।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

रवीश और बरखा की लाश पत्रकारिताः निशाने पर धर्म और श्मशान, ‘सर तन से जुदा’ रैलियाँ और कब्रिस्तान नदारद

अचानक लग रहा है जैसे पत्रकारों को लाश से प्यार हो गया है। बरखा दत्त श्मशान में बैठकर रिपोर्टिंग कर रही हैं। रवीश कुमार लखनऊ को लाशनऊ बता रहे हैं।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

293,787FansLike
82,850FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe