Monday, June 21, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे Covid-19: भारत के राष्ट्रीय चरित्र और संकल्प की प्रयोगशाला सिद्ध होगी यह परीक्षा

Covid-19: भारत के राष्ट्रीय चरित्र और संकल्प की प्रयोगशाला सिद्ध होगी यह परीक्षा

प्राचीनतम भारतीय संस्कृति और उसके जीवन-मूल्य इस हाँफती-जूझती सभ्यता के घावों पर मलहम लगा सकते हैं। स्वयं भारतवासियों को भी अपनी उन जड़ों की और लौटना होगा, जिनको कि वे कालिदास बनकर रात-दिन काटने में लगे हैं। गौतम बुद्ध, महात्मा गाँधी और पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जीवन और चिंतन में ऐसे एकाधिक सूत्र हैं, जो रोबोट बने विश्व-मानव को राह दिखा सकते हैं।

पिछले वर्ष नवम्बर में चीन से शुरू हुआ कोरोना संकट अब अंतरराष्ट्रीय आपदा बन चुका है। आज विश्व के 196 देशों के 425,987 (वर्तमान में सक्रीय केस) लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं। विश्वभर में इस आपदा में अब तक 18,957 लोग मारे जा चुके हैं। यह संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इस महामारी के कारण इटली, चीन, ईरान और स्पेन आदि देशों में जान-माल का सर्वाधिक नुकसान हुआ है। अमेरिका, इंग्लैण्ड, फ़्रांस और भारत जैसे ताकतवर देश भी इससे अछूते और अप्रभावित नहीं हैं।

जिन देशों ने चीन के अनुभव से सबक लेकर जरूरी एहतियातन कदम उठा लिए हैं, उनमें काफी कम नुकसान हुआ है। दक्षिण कोरिया, जर्मनी और स्विट्ज़रलैंड ऐसे देशों में अग्रणी हैं। इस अंतरराष्ट्रीय आपदा ने पहले से ही मंदी की शिकार विश्व अर्थ-व्यवस्था को धराशाई कर दिया है। इस अंतरराष्ट्रीय संकट से भयभीत विश्व-मानव ठिठक-सा गया है। हालाँकि, भारत में इस महामारी की शुरुआत अपेक्षाकृत देर से हुई है। अब भारत इतिहास की इस सर्वाधिक भयावह आपदाओं में से एक आपदा के मुहाने पर खड़ा है।

इस आपदा से लड़ने और जीत हासिल करने में न सिर्फ राष्ट्रीय नेतृत्व की सक्षमता और दूरदर्शिता बल्कि प्रशासनिक कुशलता और सक्रियता की भी परीक्षा होने वाली है। इसके अलावा इस निर्णायक लड़ाई में सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका भारतवासियों की होने वाली है। यह आपदा भारत के राष्ट्रीय चरित्र और संकल्प की प्रयोगशाला सिद्ध होने वाली है।

22 मार्च को रविवार के दिन प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना की कड़ी को तोड़ने के लिए ‘जनता कर्फ्यू’ और मीडिया/स्वास्थ्य/पुलिस/सफाईकर्मियों एवं परचून, दूध, फल-सब्जी आदि रोजमर्रा की वस्तुएं उपलब्ध कराने वालों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए ‘थाली बजाओ-ताली बजाओ’ का आह्वान करके राष्ट्रीय चरित्र और संकल्प का परीक्षण प्रारम्भ कर दिया है।

भारतवासियों ने उनके इस आह्वान का पूर्ण पालन करते हुए अत्यंत सकारात्मक संकेत दिए हैं। ‘जनता कर्फ्यू’ और ‘थाली बजाओ-ताली बजाओ’ में देशवासियों ने उत्साहजनक भागीदारी करते हुए कोरोना संकट के खिलाफ शंखनाद किया है। हालाँकि, यह राष्ट्रीय चरित्र और संकल्प की अभिव्यक्ति की शुरुआत मात्र है। आने वाले दिन और भी मुश्किल होने वाले हैं, और आने वाली परीक्षाएँ और भी कठिन होने वाली हैं। कल ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किए गए 21 दिनों के ‘लॉक डाउन’ से उन कठिन दिनों की भी शुरुआत हो रही है।

अगर भारतवासी इन मुश्किल दिनों और कठिन परीक्षाओं के लिए एक परिवार के रूप में, एक राष्ट्र के रूप में एकजुट होते हैं, तो कोरोना को निश्चित रूप से पराजित होना पड़ेगा। भारतीय संस्कृति के आधारभूत विचार ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ के निर्णायक आत्मसातीकरण का क्षण निकट है। इस संकट की घड़ी में हमें तीन बातों का विशेष ध्यान रखना है- रोजमर्रा की वस्तुओं का अति-संग्रह नहीं करना है; अपेक्षाकृत असमर्थ, अक्षम, ‘अभागे’ लोगों/परिवारों के साथ वस्तुओं, साधनों और सुविधाओं को साझा करना है; सरकार और शासन-प्रशासन के निर्देशों का मन से अनुपालन करना है।

कोरोना संकट ने वर्तमान सभ्यता की समीक्षा का भी अवसर उपलब्ध कराया है। उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण ने वर्तमान सभ्यता के स्वरूप और संवेदना का केंद्र बदल दिया है। यांत्रिकता और व्यक्तिवाद, ये दो घटक इस नई बनी सभ्यता के आधार-स्तम्भ हैं। यांत्रिकता और व्यक्तिवाद की गिरफ़्त में हाँफती इस सभ्यता की धमनियों में उपभोक्तावाद संचारित हो रहा है।

वास्तव में यह यांत्रिक सभ्यता उपभोक्तावाद का उपनिवेश है। इसकी सांसों में धुआँ उड़ाते असंख्य वाहनों की दुर्गन्ध और कानों में कोलाहल है। पिघलते ग्लेशियरों, कटते जंगलों और उजड़ते पशु-पक्षियों की कराह इस सभ्यता की उपलब्धि है। असीम उत्पादन, अति संचय और अंध उपभोग ने विश्व-मानव का अवमूल्यन करके उसे उपभोक्ता मात्र बना दिया है।

क्रमशः क्षरित मनुष्यता ने इस आत्मजीवा इकाई को आत्म-निर्वासित कर दिया है। अपनी भौतिक प्राप्तियों को सेलिब्रेट करती यह सभ्यता बेहद अकेली, उदास और अवसादग्रस्त है। यह विडम्बना ही है कि आवागमन के साधनों की अनवरत उन्नति, संचार माध्यमों की अकल्पनीय प्रगति और सोशल मीडिया माध्यमों की अबाध उपलब्धता के बावजूद दिलों की दूरियाँ बढ़ती ही जा रही हैं।

सामाजिकता और आत्मीय संवाद रहित सभ्यता अपने अकेलेपन में अवाक् है। भौतिक साधन-सुविधाओं की दासता और उनके अधि-ग्रहण ने मनुष्य को न सिर्फ समाज और परिवार से दूर कर दिया है, बल्कि स्वयं से भी अलगा दिया है। आत्मीय संबंधों से रहित आत्म-निर्वासित मनुष्य एक रोबोट बन गया है। निश्चय ही, वर्तमान सभ्यता अति भौतिकता, अति यांत्रिकता और अति बौद्धिकता से आक्रांत है। भरी-भरी और सुखी-संतृप्त दिखने पर भी खाली, खोखली, व्यथित और बेचैन…!

ऐसी सभ्यताएँ किसी भी आपदा या आक्रमण के लिए सर्वाधिक भेद्य होती हैं। इसलिए अगर समय रहते सभ्यता समीक्षा करते हुए इसके चाल-चलन को ठीक न किया गया तो इसका हस्र भी माया, बेबिलोनिया, मेसोपोटामिया, इन्का आदि सभ्यताओं वाला ही होगा।

इस सभ्यता को अपनी गति को थामकर तनिक आत्म-चिंतन करने की आवश्यकता है। कोरोना की आपदा ने वह अवसर उपलब्ध कराया है। जिनके पास खाने-पीने तक का समय न था, परिवार से बोलने-बतियाने और स्वयं तक को जानने-समझने की फुर्सत न थी, वे हाथ-पर-हाथ धरकर घर में बैठे हैं और सोच रहे हैं कि उनकी दुनिया कितनी प्रदूषित और संक्रमित हो गई है।

‘वर्ल्ड इज वन न्यूज़ (WION)’ नामक चैनल ने इधर प्रसारित की गई अपनी एक ताजा रिपोर्ट में लोगों की गतिविधियाँ सीमित हो जाने के बाद प्रकृति के स्वरूप में आए सकारात्मक परिवर्तन को दिखाया है। इस रिपोर्ट में दिखाया गया है कि लोगों की भागमभाग और भीड़भाड़ कम हो जाने से समुद्र तटों, पहाड़ों और सड़कों का चेहरा एकदम बदल गया है। वह फिर से सुन्दर, सुरम्य और शांत होने लगा है।

प्रकृति मनुष्य की सबसे निकटस्थ मित्र और सहचरी होती है। परन्तु अत्यधिक दोहन और शोषण करके मनुष्य ने उसे अपना शत्रु बना लिया है। असंतुलित विकास और जनसंख्या विस्फोट ने कोढ़ में खाज का काम किया है। इसके लिए जिम्मेदार कौन है? आज यह बात सर्वाधिक विचारणीय और प्रासंगिक है कि इस दुनिया को सुन्दर और जीने लायक कैसे बनाया जा सकता है!

प्राचीनतम भारतीय संस्कृति और उसके जीवन-मूल्य इस हाँफती-जूझती सभ्यता के घावों पर मलहम लगा सकते हैं। स्वयं भारतवासियों को भी अपनी उन जड़ों की और लौटना होगा, जिनको कि वे कालिदास बनकर रात-दिन काटने में लगे हैं। गौतम बुद्ध, महात्मा गाँधी और पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जीवन और चिंतन में ऐसे एकाधिक सूत्र हैं, जो रोबोट बने विश्व-मानव को राह दिखा सकते हैं।

गौतम बुद्ध का ‘अष्टांग मार्ग’, महात्मा गाँधी का ‘हिन्द स्वराज’ और पंडित दीनदयाल उपाध्याय का ‘एकात्म मानव-दर्शन’ अंध-सभ्यता के ज्योतिपुंज हैं। इनका जीवन और चिन्तन भारतीय संस्कृति का सारभूत है। ‘मध्यमार्ग’ के अनुकरण में ही वर्तमान सभ्यता की गति है। सीमित उत्पादन और संयमित उपभोग ही भविष्य का मार्ग है। व्यष्टि, समष्टि, सृष्टि और परमेष्टि की एकात्मता से ही जीवन को उन्नत और आनंदमय बनाया जा सकता है।

सत्य, अहिंसा, बंधुत्व, अस्तेय और अपरिग्रह आदि को अपनाकर ही इस हिंस्र सभ्यता को मानवीय बनाया जा सकता है। मानव–सभ्यता को तनिक ठहरने और विचारने का जो अवसर कोरोना संकट ने दिया है, उसे यूँ ही हाथ से फिसल न जाने देना चाहिए, बल्कि वैकल्पिक जीवन-शैली और मानवीय संकल्पों की उद्गम-स्थली बनाना चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

प्रो. रसाल सिंह
प्रोफेसर और अध्यक्ष के रूप में हिंदी एवं अन्य भारतीय भाषा विभाग, जम्मू केंद्रीय विश्वविद्यालय में कार्यरत हैं। साथ ही, विश्वविद्यालय के अधिष्ठाता, छात्र कल्याण का भी दायित्व निर्वहन कर रहे हैं। इससे पहले दिल्ली विश्वविद्यालय के किरोड़ीमल कॉलेज में पढ़ाते थे। दो कार्यावधि के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय की अकादमिक परिषद के निर्वाचित सदस्य रहे हैं। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में सामाजिक-राजनीतिक और साहित्यिक विषयों पर नियमित लेखन करते हैं। संपर्क-8800886847

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

24 जून, सुबह 10:30 तक गाजियाबाद के लोनी थाना पहुँचो ट्विटर इंडिया MD: फर्जी वीडियो मामले में UP पुलिस का आदेश

गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर को दूसरा नोटिस जारी किया है। इस नोटिस में कहा गया कि ट्विटर जाँच में सहयोग नहीं कर रहा है और उसके द्वारा दिया गया स्पष्टीकरण औचित्य पूर्ण नहीं है।

‘उनके हाथ पहले ही खून से सने थे, अब महिलाओं पर अत्याचार के दाग भी हैं दामन पर’: स्मृति ईरानी ने ममता पर साधा...

“मैं हमारे लोकतंत्र में पहली बार देख रही हूँ कि शायद सीएम लोगों को मरते हुए देख रही हैं क्योंकि उन्होंने उन्हें वोट नहीं दिया था।"

टीनएज में सेक्स, पोर्न, शराब, वन नाइट स्टैंड, प्रेग्नेंसी… अनुराग कश्यप ने बेटी को कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी

ब्वॉयफ्रेंड के साथ सोने के सवाल पर अनुराग ने कहा, "यह तुम्हारा अपना डिसीजन है कि तुम किसके साथ रहती हो। मैं केवल इतना चाहता हूँ कि तुम सेफ रहो।"

‘संविदा=बंधुआ मजदूरी’: राजस्थान में लागू नहीं होता प्रियंका गाँधी का UP वाला फॉर्मूला, गहलोत को ‘अपमान’ की छूट

अगर इसे प्रियंका गाँधी के ही शब्दों में समझें तो राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार युवाओं के दर्द पर मरहम लगाने की जगह उनका दर्द बढ़ाने की तैयारी कर रही है।

1000+ हिन्दुओं को मुस्लिम बनाया, यूपी ATS ने पकड़े 2 मौलाना: ISI से लिंक, विदेश से फंडिंग

काजी जहाँगीर और मोहम्मद उमर मूक-बधिर छात्रों और गरीबों को बनाते थे निशाना। पैसा, नौकरी और शादी का लालच देकर करवाते थे इस्लाम कबूल।

मदरसा, मस्जिद, बगीचा, रेलवे स्टेशन: बिहार में जून में 4 ब्लास्ट, कहीं आपस में जुड़े हुए तो नहीं तार?

बिहार से हाल में विस्फोट की कई घटना सामने आई है। कहीं मदरसे में ब्लास्ट हुआ तो कहीं मस्जिद के ठीक पीछे बम फटा। इनसे कई सवाल खड़े हो गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

वो ब्राह्मण राजा, जिनका सिर कलम कर दिया गया: जिन मुस्लिमों को शरण दी, उन्होंने ही अरब से युद्ध में दिया धोखा

राजा दाहिर ने जब कई दिनों तक शरण देने की एवज में खलीफा के उन दुश्मनों से मदद माँगी, तो उन्होंने कहा, "हम आपके आभारी हैं, लेकिन हम इस्लाम की फौज के खिलाफ तलवार नहीं उठा सकते। हम जा रहे हैं।"

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।

असम में 2 बच्चों की नीति (Two-Child Policy) लागू, ‘भय का माहौल है’ का रोना रो रहे लोग

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ उठाने के लिए 2 बच्चों की नीति को लागू करने का फैसला किया है।

2 से अधिक बच्चे हैं तो सुविधाओं में कटौती, सरकारी नौकरी भी नहीं: UP में जनसंख्या नियंत्रण कानून पर काम शुरू

बड़ा मुद्दा ये है कि किस समय सीमा के आधार पर ऐसे अभिभावकों को कानून के दायरे में लाया जाए और सरकारी नौकरी में उनके लिए क्या नियम तय किए जाएँ।

‘नाइट चार्ज पर भेजो रं$* सा*$ को’: दरगाह परिसर में ‘बेपर्दा’ डांस करना महिलाओं को पड़ा महंगा, कट्टरपंथियों ने दी गाली

यूजर ने मामले में कट्टरपंथियों पर निशाना साधते हुए पूछा है कि ये लोग दरगाह में डांस भी बर्दाश्त नहीं कर सकते और चाहते हैं कि मंदिर में किसिंग सीन हो।

टीनएज में सेक्स, पोर्न, शराब, वन नाइट स्टैंड, प्रेग्नेंसी… अनुराग कश्यप ने बेटी को कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी

ब्वॉयफ्रेंड के साथ सोने के सवाल पर अनुराग ने कहा, "यह तुम्हारा अपना डिसीजन है कि तुम किसके साथ रहती हो। मैं केवल इतना चाहता हूँ कि तुम सेफ रहो।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,242FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe