Wednesday, December 2, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे Thappad से सीख: हर बार थप्पड़ हिन्दुओं के ही गाल पर क्यों? सेक्युलरिज़्म सिर्फ...

Thappad से सीख: हर बार थप्पड़ हिन्दुओं के ही गाल पर क्यों? सेक्युलरिज़्म सिर्फ हिंदुओं की जिम्मेदारी नहीं

दिल्ली की जमीन पर तब भी हिंदुओं का खून गिरता था, आज भी हिन्दुओं का खून गिरा है। उसी 'बलबन' और 'ऐबकों' की दिल्ली में, जिस की धर्म निरपेक्षता पर इतिहास से ज्यादा 'लिबरल साहित्य' लिखा गया है।

करीब तीन महीने से दिल्ली फैज़ और मिर्ज़ा ग़ालिब को समर्पित रही। अब तीन महीने बाद मुझे भी कुछ लेखक याद आ रहे हैं। दिल्ली का वर्णन करते हुए रामशंकर विद्रोही ने लिखा था –

“दिल्ली ऐबको की है
ये दिल्ली इल्तुतमिश की है
ये दिल्ली लगती है जैसे
ये रज़िया सुल्ताना दिल्ली है
ये दिल्ली बलबनो की है
वफादारों की दिल्ली है “

दंगा साहित्यकारों की ‘ऐबकों’ की इस दिल्ली में आज फिर हिंदुओं को घर की महिलाओं को छुपाना पड़ा, तलवारें लिए ‘बलबनों’ के आगे लोगों को जिंदा रहने के लिए अपने नाम बदलने पड़े, घरों को चिन्हित होने से बचाने के लिए आक्रान्ताओं की हाँ में हाँ मिलानी पड़ी, माथे से तिलक और हाथों से कलावा उतारने पड़े… मंदिरों को ‘खिलजियों’ ने जलाकर राख कर दिया। इस तरह एक बार फिर भारत की धर्म निरपेक्षता हिंदुओं के साथ होने वाला सबसे भद्दा मजाक बनकर रह गया है।

देश का एक बड़ा वर्ग ऐसा है, जो दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों को अभी तक सेक्युलर चश्मे से देख रहा है और इसकी सच्चाई देखकर चाहता है कि और लोग भी इस हिन्दू-विरोधी दंगों को उसी चश्मे से देखें। उनके पास ऐसा करने की कुछ व्यक्तिगत वजह हैं, जैसे अपने विचारक वर्ग की स्वीकृति का पात्र बने रहना, अपने पियर ग्रुप्स के बीच हिंदुओं को मुस्लिमों के प्रति असहिष्णु बताकर अपनी सभ्यता का परिचय देना… सोशल मीडिया पर सेक्युलर टेस्ट में अच्छे नम्बर लाकर सोशल मीडिया के लेफ्ट-लिबरल गिरोह के परीक्षण में पास होना इत्यादि।

ऑपइंडिया ने फैसला किया कि वह दंगों में पीड़ितों के परिवारों से जाकर सम्पर्क स्थापित करेंगे और जानने की कोशिश की कि क्या समाज के ढाँचे में वास्तव में वह गैप मौजूद है, जो लोगों को इतनी निर्ममता से मारने पर मजबूर कर देता है? हमारी ग्राउंड रिपोर्ट्स में पता चला कि यह खाई तो वाकई में बहुत बड़ी थी, और इस खाई को और बड़ा करने की कोशिशें दूसरी तरफ से बहुत पहले से की जा रहीं थीं।

हम उस देश मे रहते हैं जहाँ सेक्युलरिज़्म की परिभाषा एक मजहब के लोगों के सुबह चार बजे स्पीकर्स पर ‘अलार्म’ बजाने से दूसरे धर्म के लोगों को उठाया जाना है और दिन में मिलकर इसे गंगा-जमुनी तहजीब नाम दे दिया जाता है ताकि उस धर्म के लोगों को आपत्ति करने अधिकार उनकी असहिष्णुता साबित कर दी जा सके। लेकिन अगर हमारे मुल्क में कोई इस तरह की तहजीब वास्तव में मौजूद है तो फिर हिंदुओं के घरों को चिन्हित करने वाले लोग कौन थे?

क्या उत्तर पूर्वी दिल्ली में सिर्फ और सिर्फ हिंदुओं के मन्दिर, घरों, दुकानों और स्कूलों निशाना लगाकर उन पर हमला करने वाले कोई विदेशी नागरिक थे? अगर वो भारत के ही थे तो क्या उनकी शिक्षा में गाँधी का अहिंसावादी मॉडल शामिल नहीं है? या गाँधी भी सिर्फ हिन्दुओं के पाठ्यक्रम का हिस्सा हैं? ‘कुदरती गुलेलों‘ के लिए कई महीनों से ट्रैक्टर में पत्थर भरकर लाने वाले, पेट्रोल बम की आपूर्ति कराने वाली ताहिर हुसैन जैसे नेताओं की ‘सेक्युलर छतें’ इस दूसरे ‘प्रत्यक्ष कार्यवाही दिवस’ की तैयारियाँ किस कारण से कर रहीं थीं? गंगा-जमुनी तहजीब की कहानी आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की निर्मम हत्या से लेकर उत्तराखंड के दिलबर सिंह नेगी की जली हुई लाश खूब बता रही है।

दिल्ली में हुए हिन्दू विरोधी दंगों की हकीकत रवीश कुमार जैसे सभ्य प्रपंचकारियों से लेकर सोशल मीडिया पर दिन-रात हिंदुओं को कोसने वाले जानते हैं। जिस गैस चेम्बर से लेकर भारत मे फासीवाद के उदय पर देश का एक विशेष गिरोह दंगा-साहित्य लिखता रहा, दिल्ली के दंगे उन्हीं अफवाहों की परिणति हैं। आज सुबह ही दंगों में मृतक दिलबर सिंह नेगी के जलकर राख हुए शरीर का वीडियो सामने आया है। क्रूरता की हद देखिए कि उनके दोनों हाथ-पैर काटकर, जिंदा शरीर के बाकी हिस्से को जलती दुकान में फेंक दिया गया। इस बर्बरता को याद रखें, यह सब हिन्दू विरोध के नाम पर शुरू हुआ था।

दूसरी ओर इसी देश में मुस्लिमों के विशेषाधिकारों को भी देखिए, वो आज भी शरीयत के आगे संविधान को हीन मानते हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण पहले तीन तलाक बिल पर बना कानून था और अब हिंदुओं को नागरिकता देने की बात पर करीब तीन महीने से चल रहा शाहीन बाग का बिरियानी महोत्सव है। सेक्युलरिज़्म का नाम मैंने कुछ गिने-चुने मुस्लिम लोगों के मुँह से भी सिर्फ गत 2-3 सालों में ही सुना होगा, वो भी सिर्फ तब-तब इस्तेमाल किया जाता है, जब धर्म निरपेक्षों के अपने दाँव उल्टे पड़ जाते हैं।

उदाहरण के तौर पर कुछ दिन पहले ही ‘हम जिंदा कौमें हैं ..‘ और ‘सब बुत उठवाए जाएँगे, सब तख्त गिराए जाएँगे‘ जैसी सेक्युलर शायरी पढ़ने वाले गालिब-वादी भी पुलिस की प्रतिक्रिया पर ‘सेक्युलरिज़्म’ और अल्पसंख्यक शब्द का विक्टिम कार्ड खेलते देखे गए हैं।

शाहीनबाग से शुरू हुए ‘फ़क हिंदुत्व’ और इस्लामिक नारे इन विभत्स घटनाओं के जिम्मेदार हैं। याद रखें, और भूलें नहीं कि यह हिन्दू विरोधी दंगे थे। आईबी अधिकारी अंकित शर्मा का 400 बार शरीर चाकू से गोदा गया, एक अन्य हिन्दू का शरीर काटकर आग के हवाले कर दिया गया। 19 साल के विवेक के सिर में ड्रिल मशीन घोंपी गई। हिंदुओं को दंगाइयों से अपनी जान बचाने के लिए अपने नाम इमरान बताने पड़े, हाथों से कलावा खोलना पड़ा।

ध्यान दें, ये सब इसी सेक्युलर राष्ट्र में उन हिंदुओं के साथ हुआ है, जिन्हें प्राइम टाइम में बेहद सभ्य भाषा में फासिस्ट बताते हुए उनके खिलाफ निरंतर घृणा भरी जाती है। देश का लेफ्ट लिबरल ‘वॉक प्रोग्रेसिव’ युवा बॉलीवुड की फिल्मों से बहुत प्रभावित होता है, तो फ़िल्म का ही उदाहरण देता हूँ। जिस तरह थप्पड़ फ़िल्म से उदारवादियों ने सीखा होगा कि रिश्ता बचाना सिर्फ महिलाओं की जिम्मेदारी नहीं होती, ठीक उसी तरह सेक्युलरिज़्म की पहरेदारी भी अकेली हिंदुओं की जिम्मेदारी नहीं है। और हर बार यह थप्पड़ हिन्दुओं के ही गाल पर ही मारा जाता रहा है। इसमें यह संभव नहीं है कि एक समुदाय विशेष हिन्दुओं के घरों को जलाने के लिए उन्हें चिन्हित कर जला दे और बदले में हिन्दू जाकर उसे गले लगा आए। यह दंगा-साहित्य कुछ पुरस्कार जीतने के लिए लिखी गई किताबों तक सीमित रहे, मानवता के लिए उनका योगदान उतना ही काफी माना जाएगा।

2014 से ही देश का यही विचारक वर्ग आज एकदम नग्न नजर आ रहा है। रवीश कुमार जैसे धूर्त जिस तरह लोकसभा चुनाव की शाम की आखिरी पेटी खुलने तक नरेंद्र मोदी सरकार के हारने के ख्वाब देखता रहा, उसी तरह वो आठ राउंड फायरिंग करने काले शाहरुख को अनुराग मिश्रा साबित करने की कोशिश करते हुए देखा गया है।

देश का छोड़िए, धर्म निरपेक्षता की हक़ीक़त उस दिल्ली से पूछिए जिसकी मिट्टी में जिहाद और तख़्त-ए-ताऊस की खातिर बाबर से लेकर अकबर और औरंगजेब जैसों के रक्तपात से सींचा गया। दुर्भाग्यपूर्ण बात यह है कि पाँच सौ सालों में भी कुछ खास नहीं बदला है, दिल्ली की जमीन पर तब भी हिंदुओं का खून गिरता था, आज भी हिन्दुओं का खून गिरा है। उसी ‘बलबन’ और ‘ऐबकों’ की दिल्ली में, जिस की धर्म निरपेक्षता पर इतिहास से ज्यादा ‘लिबरल साहित्य’ लिखा गया है।

गायब धर्मेन्द्र की खोज में 7 दिन से भटकता पिता और रोती माँ: दिल्ली हिंदू विरोधी दंगा, बृजपुरी से ग्राउंड रिपोर्ट

हाथ काटा, पैर काटा, माँस के टुकड़े की तरह आग में फेंक दिया: मृतक दिलबर नेगी का विडियो वायरल

‘हिंदू इलाके में शांति मार्च… फिर मस्जिद में मीटिंग और 400 लीटर पेट्रोल से हमला’ – बुरे फँसे AAP विधायक हाजी युनूस

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsदिल्ली हिंदू विरोधी दंगा, नालों से मिले शव, दिल्ली नाला शव, दिल्ली मदरसा गुलेल, मदरसा गुलेल विडियो, शिव विहार, मुस्तफाबाद, अमर विहार, दिल्ली दंगे चश्मदीद, दिल्ली हिंसा चश्मदीद, दिल्ली हिंसा महिला, दिल्ली दंगों में कितने मरे, दिल्ली में कितने हिंदू मरे, मोहम्मद शाहरुख, जाफराबाद शाहरुख, शाहरुख फरार, ताहिर हुसैन आप, ताहिर हुसैन एफआईआर, ताहिर हुसैन अमानतुल्लाह, चांदबाग शिव मंदिर पर हमला, दिल्ली दंगा मंदिरों पर हमला, दिल्ली मंदिरों पर हमले, मंदिरों पर हमले, चांदबाग पुलिया, अरोड़ा फर्नीचर, ताहिर हुसैन के घर का तहखाना, अंकित शर्मा केजरीवाल, अंकित शर्मा ताहिर हुसैन, अंकित शर्मा का परिवार, दिल्ली शाहदरा, शाहदरा दिलबर सिंह, उत्तराखंड दिलवर सिंह, दिल्ली हिंसा में दिलवर सिंह की हत्या, रवीश कुमार मोहम्मद शाहरुख, रवीश कुमार अनुराग मिश्रा, रतनलाल, साइलेंट मार्च, यूथ अगेंस्ट जिहादी हिंसा, दिल्ली हिंसा एनडीटीवी, एनडीटीवी श्रीनिवासन जैन, एनडीटीवी रवीश कुमार, रवीश कुमार दिल्ली हिंसा, दिल्ली हिंसा में कितने मरे, दिल्ली दंगों में मरे, दिल्ली कितने हिंदू मरे, दिल्ली दंगों में आप की भूमिका, आप पार्षद ताहिर हुसैन, आप नेता ताहिर हुसैन, ताहिर हुसैन वीडियो, कपिल मिश्रा ताहिर हुसैन, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा
आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जो ट्विटर पर आलोचना करेंगे, उन सब पर कार्रवाई करोगे?’ बॉम्बे हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर दागा सवाल

बॉम्बे हाई कोर्ट ने ट्विटर यूजर सुनैना होली की गिरफ़्तारी के मामले में सुनवाई करते हुए महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार से कड़े सवाल पूछे हैं।

‘मोदी चला रहे 2002 का चैनल और योगी हैं प्यार के दुश्मन’: हिंदुत्व विरोधियों के हाथ में है Swiggy का प्रबंधन व रणनीति

'Dentsu Webchutney' नामक कंपनी ही Swiggy की मार्केटिंग रणनीति तैयार करती है। कई स्क्रीनशॉट्स के माध्यम से देखिए उनका मोदी विरोध।

इस्लाम और उर्दू की शिक्षा के लिए अब्बा भेजते थे मदरसा, अच्छा नहीं लगता था… इसलिए मुंबई भागा: 14 साल के बच्चे की कहानी

किशोर ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि उसके अब्बा उसे जबरदस्ती इस्लाम और उर्दू की शिक्षा के लिए मदरसे भेजते थे, जबकि उसे अच्छा नहीं लगता था।

दुर्घटना में घायल पिता के लिए ‘नजदीकी’ अखिलेश यादव से मदद की गुहार… लेकिन आगे आई योगी सरकार

उत्तर प्रदेश में दुर्घटनाग्रस्त एक व्यक्ति की बेटी ने मदद के लिए गुहार तो लगाई अखिलेश यादव से, लेकिन मदद के लिए योगी सरकार आगे आई।

हैदराबाद निगम चुनाव में हिंदू वोट कट रहे, वोटर कार्ड हैं, लेकिन मतदाता सूची से नाम गायब: मीडिया रिपोर्ट

वीडियो में एक और शख्स ने दावा किया कि हिंदू वोट कट रहे हैं। पिछले साल 60,000 हिंदू वोट कटे थे। रिपोर्टर प्रदीप भंडारी ने एक लिस्ट दिखाते हुए दावा किया कि इन पर जितने भी नाम हैं, सभी हिंदू हैं।
00:27:53

किसान आंदोलन में ‘रावण’ और ‘बिलकिस बानो’, पर क्यों? अजीत भारती का वीडियो । Ajeet Bharti on Farmers Protest

फिलहाल जो नयापन है, उसमें 4-5 कैरेक्टर की एंट्री है। जिसमें से एक भीम आर्मी का चंद्रशेखर ‘रावण’ है, दूसरी बिलकिस बानो है, जो तथाकथित शाहीन बाग की ‘दादी’ के रूप में चर्चा में आई थी।

प्रचलित ख़बरें

‘दिल्ली और जालंधर किसके साथ गई थी?’ – सवाल सुनते ही लाइव शो से भागी शेहला रशीद, कहा – ‘मेरा अब्बा लालची है’

'ABP न्यूज़' पर शेहला रशीद अपने पिता अब्दुल शोरा के आरोपों पर सफाई देने आईं, लेकिन कठिन सवालों का जवाब देने के बजाए फोन रख कर भाग खड़ी हुईं।

मेरे घर में चल रहा देश विरोधी काम, बेटी ने लिए ₹3 करोड़: अब्बा ने खोली शेहला रशीद की पोलपट्टी, कहा- मुझे भी दे...

शेहला रशीद के खिलाफ उनके पिता अब्दुल रशीद शोरा ने शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बेटी के बैंक खातों की जाँच की माँग की है।

13 साल की बच्ची, 65 साल का इमाम: मस्जिद में मजहबी शिक्षा की क्लास, किताब के बहाने टॉयलेट में रेप

13 साल की बच्ची मजहबी क्लास में हिस्सा लेने मस्जिद गई थी, जब इमाम ने उसके साथ टॉयलेट में रेप किया।

‘हिंदू लड़की को गर्भवती करने से 10 बार मदीना जाने का सवाब मिलता है’: कुणाल बन ताहिर ने की शादी, फिर लात मार गर्भ...

“मुझे तुमसे शादी नहीं करनी थी। मेरा मजहब लव जिहाद में विश्वास रखता है, शादी में नहीं। एक हिंदू को गर्भवती करने से हमें दस बार मदीना शरीफ जाने का सवाब मिलता है।”

कहीं दीप जले, कहीं… PM मोदी के ‘हर हर महादेव’ लिखने पर लिबरलों-वामियों ने दिखाया असली रंग

“जिस समय किसान अपने जीवन के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं, हमारे पीएम को ऐसी मनोरंजन वाली वीडियो शेयर करने में शर्म तक नहीं आ रही।”

शेहला मेरठ से चुनाव लड़ती, अमेरिका में बैठे अलगाववादी देते हैं पैसे, वहीं जाकर बनाई थी पार्टी: पिता ने लगाए नए आरोप

शेहला रशीद के पिता ने कहा, "अगर मैं हिंसक होता तो मेरे खिलाफ जरूर एफआईआर होती, लेकिन मेरे खिलाफ कोई एफआईआर नहीं है।"

‘जो ट्विटर पर आलोचना करेंगे, उन सब पर कार्रवाई करोगे?’ बॉम्बे हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर दागा सवाल

बॉम्बे हाई कोर्ट ने ट्विटर यूजर सुनैना होली की गिरफ़्तारी के मामले में सुनवाई करते हुए महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार से कड़े सवाल पूछे हैं।

गैंग्स ऑफ वासेपुर में डेफिनिट बनने वाले जीशान कादरी के खिलाफ FIR, ₹1.25 करोड़ की धोखाधड़ी का मामला

जीशान के ख़िलाफ़ 420, 406 के तहत धोखाधड़ी और विश्वास उल्लंघन का मामला दर्ज हुआ है। इस शिकायत को जतिन सेठी ने दर्ज करवाया है।

‘मोदी चला रहे 2002 का चैनल और योगी हैं प्यार के दुश्मन’: हिंदुत्व विरोधियों के हाथ में है Swiggy का प्रबंधन व रणनीति

'Dentsu Webchutney' नामक कंपनी ही Swiggy की मार्केटिंग रणनीति तैयार करती है। कई स्क्रीनशॉट्स के माध्यम से देखिए उनका मोदी विरोध।

इस्लाम और उर्दू की शिक्षा के लिए अब्बा भेजते थे मदरसा, अच्छा नहीं लगता था… इसलिए मुंबई भागा: 14 साल के बच्चे की कहानी

किशोर ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि उसके अब्बा उसे जबरदस्ती इस्लाम और उर्दू की शिक्षा के लिए मदरसे भेजते थे, जबकि उसे अच्छा नहीं लगता था।

दुर्घटना में घायल पिता के लिए ‘नजदीकी’ अखिलेश यादव से मदद की गुहार… लेकिन आगे आई योगी सरकार

उत्तर प्रदेश में दुर्घटनाग्रस्त एक व्यक्ति की बेटी ने मदद के लिए गुहार तो लगाई अखिलेश यादव से, लेकिन मदद के लिए योगी सरकार आगे आई।

Nivar के बाद अब Burevi: इस साल का चौथा चक्रवाती तूफान, तमिलनाडु-केरल में अलर्ट

चक्रवाती तूफान बुरेवी के कारण मौसम विभाग ने केरल के 4 जिलों - तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, पथनमथिट्टा और अलप्पुझा में रेड अलर्ट...

हैदराबाद निगम चुनाव में हिंदू वोट कट रहे, वोटर कार्ड हैं, लेकिन मतदाता सूची से नाम गायब: मीडिया रिपोर्ट

वीडियो में एक और शख्स ने दावा किया कि हिंदू वोट कट रहे हैं। पिछले साल 60,000 हिंदू वोट कटे थे। रिपोर्टर प्रदीप भंडारी ने एक लिस्ट दिखाते हुए दावा किया कि इन पर जितने भी नाम हैं, सभी हिंदू हैं।
00:27:53

किसान आंदोलन में ‘रावण’ और ‘बिलकिस बानो’, पर क्यों? अजीत भारती का वीडियो । Ajeet Bharti on Farmers Protest

फिलहाल जो नयापन है, उसमें 4-5 कैरेक्टर की एंट्री है। जिसमें से एक भीम आर्मी का चंद्रशेखर ‘रावण’ है, दूसरी बिलकिस बानो है, जो तथाकथित शाहीन बाग की ‘दादी’ के रूप में चर्चा में आई थी।

कामरा के बाद वैसी ही ‘टुच्ची’ हरकत के लिए रचिता तनेजा के खिलाफ अवमानना मामले में कार्यवाही की अटॉर्नी जनरल ने दी सहमति

sanitarypanels ने एक कार्टून बनाया। जिसमें लिखा था, “तू जानता नहीं मेरा बाप कौन है।” इसमें बीच में अर्णब गोस्वामी को, एक तरफ सुप्रीम कोर्ट और दूसरी तरफ बीजेपी को दिखाया गया है।

वर्तमान नागालैंड की सुंदरता के पीछे छिपा है रक्त-रंजित इतिहास: नागालैंड डे पर जानिए वह गुमनाम गाथा

1826 से 1865 तक के 40 वर्षों में अंग्रेज़ी सेनाओं ने नागाओं पर कई तरीकों से हमले किए, लेकिन हर बार उन्हें उन मुट्ठी भर योद्धाओं के हाथों करारी हार का सामना करना पड़ा।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,501FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe