Friday, June 18, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे Thappad से सीख: हर बार थप्पड़ हिन्दुओं के ही गाल पर क्यों? सेक्युलरिज़्म सिर्फ...

Thappad से सीख: हर बार थप्पड़ हिन्दुओं के ही गाल पर क्यों? सेक्युलरिज़्म सिर्फ हिंदुओं की जिम्मेदारी नहीं

दिल्ली की जमीन पर तब भी हिंदुओं का खून गिरता था, आज भी हिन्दुओं का खून गिरा है। उसी 'बलबन' और 'ऐबकों' की दिल्ली में, जिस की धर्म निरपेक्षता पर इतिहास से ज्यादा 'लिबरल साहित्य' लिखा गया है।

करीब तीन महीने से दिल्ली फैज़ और मिर्ज़ा ग़ालिब को समर्पित रही। अब तीन महीने बाद मुझे भी कुछ लेखक याद आ रहे हैं। दिल्ली का वर्णन करते हुए रामशंकर विद्रोही ने लिखा था –

“दिल्ली ऐबको की है
ये दिल्ली इल्तुतमिश की है
ये दिल्ली लगती है जैसे
ये रज़िया सुल्ताना दिल्ली है
ये दिल्ली बलबनो की है
वफादारों की दिल्ली है “

दंगा साहित्यकारों की ‘ऐबकों’ की इस दिल्ली में आज फिर हिंदुओं को घर की महिलाओं को छुपाना पड़ा, तलवारें लिए ‘बलबनों’ के आगे लोगों को जिंदा रहने के लिए अपने नाम बदलने पड़े, घरों को चिन्हित होने से बचाने के लिए आक्रान्ताओं की हाँ में हाँ मिलानी पड़ी, माथे से तिलक और हाथों से कलावा उतारने पड़े… मंदिरों को ‘खिलजियों’ ने जलाकर राख कर दिया। इस तरह एक बार फिर भारत की धर्म निरपेक्षता हिंदुओं के साथ होने वाला सबसे भद्दा मजाक बनकर रह गया है।

देश का एक बड़ा वर्ग ऐसा है, जो दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों को अभी तक सेक्युलर चश्मे से देख रहा है और इसकी सच्चाई देखकर चाहता है कि और लोग भी इस हिन्दू-विरोधी दंगों को उसी चश्मे से देखें। उनके पास ऐसा करने की कुछ व्यक्तिगत वजह हैं, जैसे अपने विचारक वर्ग की स्वीकृति का पात्र बने रहना, अपने पियर ग्रुप्स के बीच हिंदुओं को मुस्लिमों के प्रति असहिष्णु बताकर अपनी सभ्यता का परिचय देना… सोशल मीडिया पर सेक्युलर टेस्ट में अच्छे नम्बर लाकर सोशल मीडिया के लेफ्ट-लिबरल गिरोह के परीक्षण में पास होना इत्यादि।

ऑपइंडिया ने फैसला किया कि वह दंगों में पीड़ितों के परिवारों से जाकर सम्पर्क स्थापित करेंगे और जानने की कोशिश की कि क्या समाज के ढाँचे में वास्तव में वह गैप मौजूद है, जो लोगों को इतनी निर्ममता से मारने पर मजबूर कर देता है? हमारी ग्राउंड रिपोर्ट्स में पता चला कि यह खाई तो वाकई में बहुत बड़ी थी, और इस खाई को और बड़ा करने की कोशिशें दूसरी तरफ से बहुत पहले से की जा रहीं थीं।

हम उस देश मे रहते हैं जहाँ सेक्युलरिज़्म की परिभाषा एक मजहब के लोगों के सुबह चार बजे स्पीकर्स पर ‘अलार्म’ बजाने से दूसरे धर्म के लोगों को उठाया जाना है और दिन में मिलकर इसे गंगा-जमुनी तहजीब नाम दे दिया जाता है ताकि उस धर्म के लोगों को आपत्ति करने अधिकार उनकी असहिष्णुता साबित कर दी जा सके। लेकिन अगर हमारे मुल्क में कोई इस तरह की तहजीब वास्तव में मौजूद है तो फिर हिंदुओं के घरों को चिन्हित करने वाले लोग कौन थे?

क्या उत्तर पूर्वी दिल्ली में सिर्फ और सिर्फ हिंदुओं के मन्दिर, घरों, दुकानों और स्कूलों निशाना लगाकर उन पर हमला करने वाले कोई विदेशी नागरिक थे? अगर वो भारत के ही थे तो क्या उनकी शिक्षा में गाँधी का अहिंसावादी मॉडल शामिल नहीं है? या गाँधी भी सिर्फ हिन्दुओं के पाठ्यक्रम का हिस्सा हैं? ‘कुदरती गुलेलों‘ के लिए कई महीनों से ट्रैक्टर में पत्थर भरकर लाने वाले, पेट्रोल बम की आपूर्ति कराने वाली ताहिर हुसैन जैसे नेताओं की ‘सेक्युलर छतें’ इस दूसरे ‘प्रत्यक्ष कार्यवाही दिवस’ की तैयारियाँ किस कारण से कर रहीं थीं? गंगा-जमुनी तहजीब की कहानी आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की निर्मम हत्या से लेकर उत्तराखंड के दिलबर सिंह नेगी की जली हुई लाश खूब बता रही है।

दिल्ली में हुए हिन्दू विरोधी दंगों की हकीकत रवीश कुमार जैसे सभ्य प्रपंचकारियों से लेकर सोशल मीडिया पर दिन-रात हिंदुओं को कोसने वाले जानते हैं। जिस गैस चेम्बर से लेकर भारत मे फासीवाद के उदय पर देश का एक विशेष गिरोह दंगा-साहित्य लिखता रहा, दिल्ली के दंगे उन्हीं अफवाहों की परिणति हैं। आज सुबह ही दंगों में मृतक दिलबर सिंह नेगी के जलकर राख हुए शरीर का वीडियो सामने आया है। क्रूरता की हद देखिए कि उनके दोनों हाथ-पैर काटकर, जिंदा शरीर के बाकी हिस्से को जलती दुकान में फेंक दिया गया। इस बर्बरता को याद रखें, यह सब हिन्दू विरोध के नाम पर शुरू हुआ था।

दूसरी ओर इसी देश में मुस्लिमों के विशेषाधिकारों को भी देखिए, वो आज भी शरीयत के आगे संविधान को हीन मानते हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण पहले तीन तलाक बिल पर बना कानून था और अब हिंदुओं को नागरिकता देने की बात पर करीब तीन महीने से चल रहा शाहीन बाग का बिरियानी महोत्सव है। सेक्युलरिज़्म का नाम मैंने कुछ गिने-चुने मुस्लिम लोगों के मुँह से भी सिर्फ गत 2-3 सालों में ही सुना होगा, वो भी सिर्फ तब-तब इस्तेमाल किया जाता है, जब धर्म निरपेक्षों के अपने दाँव उल्टे पड़ जाते हैं।

उदाहरण के तौर पर कुछ दिन पहले ही ‘हम जिंदा कौमें हैं ..‘ और ‘सब बुत उठवाए जाएँगे, सब तख्त गिराए जाएँगे‘ जैसी सेक्युलर शायरी पढ़ने वाले गालिब-वादी भी पुलिस की प्रतिक्रिया पर ‘सेक्युलरिज़्म’ और अल्पसंख्यक शब्द का विक्टिम कार्ड खेलते देखे गए हैं।

शाहीनबाग से शुरू हुए ‘फ़क हिंदुत्व’ और इस्लामिक नारे इन विभत्स घटनाओं के जिम्मेदार हैं। याद रखें, और भूलें नहीं कि यह हिन्दू विरोधी दंगे थे। आईबी अधिकारी अंकित शर्मा का 400 बार शरीर चाकू से गोदा गया, एक अन्य हिन्दू का शरीर काटकर आग के हवाले कर दिया गया। 19 साल के विवेक के सिर में ड्रिल मशीन घोंपी गई। हिंदुओं को दंगाइयों से अपनी जान बचाने के लिए अपने नाम इमरान बताने पड़े, हाथों से कलावा खोलना पड़ा।

ध्यान दें, ये सब इसी सेक्युलर राष्ट्र में उन हिंदुओं के साथ हुआ है, जिन्हें प्राइम टाइम में बेहद सभ्य भाषा में फासिस्ट बताते हुए उनके खिलाफ निरंतर घृणा भरी जाती है। देश का लेफ्ट लिबरल ‘वॉक प्रोग्रेसिव’ युवा बॉलीवुड की फिल्मों से बहुत प्रभावित होता है, तो फ़िल्म का ही उदाहरण देता हूँ। जिस तरह थप्पड़ फ़िल्म से उदारवादियों ने सीखा होगा कि रिश्ता बचाना सिर्फ महिलाओं की जिम्मेदारी नहीं होती, ठीक उसी तरह सेक्युलरिज़्म की पहरेदारी भी अकेली हिंदुओं की जिम्मेदारी नहीं है। और हर बार यह थप्पड़ हिन्दुओं के ही गाल पर ही मारा जाता रहा है। इसमें यह संभव नहीं है कि एक समुदाय विशेष हिन्दुओं के घरों को जलाने के लिए उन्हें चिन्हित कर जला दे और बदले में हिन्दू जाकर उसे गले लगा आए। यह दंगा-साहित्य कुछ पुरस्कार जीतने के लिए लिखी गई किताबों तक सीमित रहे, मानवता के लिए उनका योगदान उतना ही काफी माना जाएगा।

2014 से ही देश का यही विचारक वर्ग आज एकदम नग्न नजर आ रहा है। रवीश कुमार जैसे धूर्त जिस तरह लोकसभा चुनाव की शाम की आखिरी पेटी खुलने तक नरेंद्र मोदी सरकार के हारने के ख्वाब देखता रहा, उसी तरह वो आठ राउंड फायरिंग करने काले शाहरुख को अनुराग मिश्रा साबित करने की कोशिश करते हुए देखा गया है।

देश का छोड़िए, धर्म निरपेक्षता की हक़ीक़त उस दिल्ली से पूछिए जिसकी मिट्टी में जिहाद और तख़्त-ए-ताऊस की खातिर बाबर से लेकर अकबर और औरंगजेब जैसों के रक्तपात से सींचा गया। दुर्भाग्यपूर्ण बात यह है कि पाँच सौ सालों में भी कुछ खास नहीं बदला है, दिल्ली की जमीन पर तब भी हिंदुओं का खून गिरता था, आज भी हिन्दुओं का खून गिरा है। उसी ‘बलबन’ और ‘ऐबकों’ की दिल्ली में, जिस की धर्म निरपेक्षता पर इतिहास से ज्यादा ‘लिबरल साहित्य’ लिखा गया है।

गायब धर्मेन्द्र की खोज में 7 दिन से भटकता पिता और रोती माँ: दिल्ली हिंदू विरोधी दंगा, बृजपुरी से ग्राउंड रिपोर्ट

हाथ काटा, पैर काटा, माँस के टुकड़े की तरह आग में फेंक दिया: मृतक दिलबर नेगी का विडियो वायरल

‘हिंदू इलाके में शांति मार्च… फिर मस्जिद में मीटिंग और 400 लीटर पेट्रोल से हमला’ – बुरे फँसे AAP विधायक हाजी युनूस

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsदिल्ली हिंदू विरोधी दंगा, नालों से मिले शव, दिल्ली नाला शव, दिल्ली मदरसा गुलेल, मदरसा गुलेल विडियो, शिव विहार, मुस्तफाबाद, अमर विहार, दिल्ली दंगे चश्मदीद, दिल्ली हिंसा चश्मदीद, दिल्ली हिंसा महिला, दिल्ली दंगों में कितने मरे, दिल्ली में कितने हिंदू मरे, मोहम्मद शाहरुख, जाफराबाद शाहरुख, शाहरुख फरार, ताहिर हुसैन आप, ताहिर हुसैन एफआईआर, ताहिर हुसैन अमानतुल्लाह, चांदबाग शिव मंदिर पर हमला, दिल्ली दंगा मंदिरों पर हमला, दिल्ली मंदिरों पर हमले, मंदिरों पर हमले, चांदबाग पुलिया, अरोड़ा फर्नीचर, ताहिर हुसैन के घर का तहखाना, अंकित शर्मा केजरीवाल, अंकित शर्मा ताहिर हुसैन, अंकित शर्मा का परिवार, दिल्ली शाहदरा, शाहदरा दिलबर सिंह, उत्तराखंड दिलवर सिंह, दिल्ली हिंसा में दिलवर सिंह की हत्या, रवीश कुमार मोहम्मद शाहरुख, रवीश कुमार अनुराग मिश्रा, रतनलाल, साइलेंट मार्च, यूथ अगेंस्ट जिहादी हिंसा, दिल्ली हिंसा एनडीटीवी, एनडीटीवी श्रीनिवासन जैन, एनडीटीवी रवीश कुमार, रवीश कुमार दिल्ली हिंसा, दिल्ली हिंसा में कितने मरे, दिल्ली दंगों में मरे, दिल्ली कितने हिंदू मरे, दिल्ली दंगों में आप की भूमिका, आप पार्षद ताहिर हुसैन, आप नेता ताहिर हुसैन, ताहिर हुसैन वीडियो, कपिल मिश्रा ताहिर हुसैन, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा
आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बहन$% हेकड़ी निकाल देंगे गां$ से: किशनगंज के SDM शाहनवाज की गंदी-गंदी गाली वाला ऑडियो वायरल, युवक ने लगाया आरोप

किशनगंज SDM शाहनवाज को सुना जा सकता है, "ज्यादा होशियार बना तो उठाकर पटक देंगे बहन%$... हेकड़ी निकाल देंगे गां$% से"

गंगा में बहती 21 दिन की नवजात को बचाया था, योगी सरकार से नाविक को मिला खास तोहफा, घर तक पक्की सड़क भी

नाविक गुल्लू चौधरी ने अपने घर के बाहर पक्की सड़क बनाने की माँग की है। अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि इस मामले में जल्द ही प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

गंगा किनारे शवों को दफनाने के खिलाफ दर्ज PIL रद्द, HC ने कहा – ‘लोगों के रीति-रिवाजों पर रिसर्च कीजिए, फिर आइए’

"आप हमें बताइए कि जनहित में आपका योगदान क्या है? आपने जिस मुद्दे को उठाया है, उसके हिसाब से आपने जमीन खोद कर कितने शवों को निकाला और उनका अंतिम संस्कार किया?"

‘रेप और हत्या करती है भारतीय सेना, भारत ने जबरन कब्जाया कश्मीर’: TISS की थीसिस में आतंकियों को बताया ‘स्वतंत्रता सेनानी’

राजा हरि सिंह को निरंकुश बताते हुए अनन्या कुंडू ने पाकिस्तान की मदद से जम्मू कश्मीर को भारत से अलग करने की कोशिश करने वालों को 'स्वतंत्रता सेनानी' बताया है। इस थीसिस की नजर में भारत की सेना 'Patriarchal' है।

चुनाव के बाद हिंसा, पलायन की जाँच राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग करे: कोलकाता हाई कोर्ट का आदेश

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हुई विभिन्न प्रकार की हिंसा की घटनाओं की जाँच के लिए केंद्र सरकार की ओर से कमिटी बनाई गई थी।

1 लाख कोरोना वॉरियर्स की तैयारी: ट्रेनिंग शुरू, 26 राज्यों के 111 केंद्रों में एक साथ PM मोदी ने किया लॉन्च

फ्रंटलाइन वर्करों के प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत निःशुल्क ट्रेनिंग, स्किल इंडिया का सर्टिफिकेट, खाने-रहने की सुविधा के साथ स्टाइपेंड भी।

प्रचलित ख़बरें

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।

‘भारत से ज्यादा सुखी पाकिस्तान’: विदेशी लड़की ने किया ध्रुव राठी का फैक्ट-चेक, मिल रही गाली और धमकी, परिवार भी प्रताड़ित

साथ ही कैरोलिना गोस्वामी ने उन्होंने कहा कि ध्रुव राठी अपने वीडियो को अपने चैनल से डालें, ताकि जिन लोगों को उन्होंने गुमराह किया है उन्हें सच्चाई का पता चले।

‘चुपचाप मेरे बेटे की रखैल बन कर रह, इस्लाम कबूल कर’ – मृत्युंजय बन मुर्तजा ने फँसाया, उसके अम्मी-अब्बा ने धमकाया

मुर्तजा को धर्मान्तरण कानून-2020 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित को कोर्ट में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।

पल्लवी घोष ने गलती से तो नहीं खोल दी राहुल गाँधी की पोल? लोगों ने कहा- ‘तो इसलिए की थी बंगाल रैली रद्द’

जहाँ यूजर्स उन्हें सोनिया गाँधी को लेकर इतनी महत्तवपूर्ण जानकारी देने के लिए तंज भरे अंदाज में आभार दे रहे हैं। वहीं राहुल गाँधी को लेकर बताया जा रहा है कि कैसे उन्होंने बेवजह वाह-वाही लूट ली।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,667FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe