Tuesday, June 2, 2020
होम विचार सामाजिक मुद्दे भीड़ की हर कार्रवाई को 'भगवा आतंक' से जोड़ती मीडिया: जब पुलिस का ही...

भीड़ की हर कार्रवाई को ‘भगवा आतंक’ से जोड़ती मीडिया: जब पुलिस का ही न्याय से उठ गया था भरोसा!

इसे समझने के लिए सबसे पहले तो राहुल देव के कुछ ही दिन पहले के ट्वीट पर टूट पड़े जेहादियों के झुंडों को देखिए। ये वही भूखे भेड़ियों के गिरोह हैं, जिन्होंने प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया जैसे संस्थान की कार्रवाई पर चुप्पी साधी है। जब PCI ने एनडीटीवी और इंडियन एक्सप्रेस जैसों को हाल ही में ख़बरों के नाम पर अफवाह फैलाते रंगे हाथों धर लिया तो......

ये भी पढ़ें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

पचास साल पहले की बात है। 1979-80 में बिहार का भागलपुर जिला अचानक अख़बारों की सुर्ख़ियों में आ गया। ख़बरें बताती थीं कि वहाँ पुलिस ने 31 अपराधियों या अभियुक्तों को पकड़कर जबरन उनकी आँखों में तेजाब डाल दिया था। मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने छाती कूट कुहर्रम मचा दिया। वो सोशल मीडिया का ज़माना नहीं था, लेकिन परंपरागत पेड मीडिया ने इसे “अँखफोड़वा काण्ड” का नाम दे दिया था। इसपर लम्बे समय तक बहसें चली थी। हाल की एक फिल्म “गंगाजल” मोटे तौर पर इस काण्ड को दर्शाती है।

कुछ ख़ास आयातित विचारधारा के पैरोकारों को छोड़ दें तो आम लोग इस काण्ड के पुलिसकर्मियों को उतना दोषी नहीं मानेंगे। फिल्म का अंतिम दृश्य भी देखें तो मोटे तौर पर वो इस जघन्य कृत्य को जायज ठहराती दिखती है। सवाल ये है कि ये हुआ क्यों था? क्या पचास साल पहले ही न्याय व्यवस्था के लिए काम करने वालों का भरोसा न्याय व्यवस्था की लम्बी तारीखों और प्रक्रियाओं से इतना उठ चुका था कि वो क़ानून अपने हाथ में लेने को मजबूर हो गए? अगर पचास साल पहले ऐसी दशा थी, तो आज क्या स्थिति है?

इसे समझने के लिए सबसे पहले तो राहुल देव के कुछ ही दिन पहले के ट्वीट पर टूट पड़े जेहादियों के झुंडों को देखिए। ये वही भूखे भेड़ियों के गिरोह हैं, जिन्होंने प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया जैसे संस्थान की कार्रवाई पर चुप्पी साधी है। जब PCI (प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया) ने एनडीटीवी और इंडियन एक्सप्रेस जैसों को हाल ही में ख़बरों के नाम पर अफवाह फैलाते रंगे हाथों धर लिया तो इन सभी के मुँह में गोंद लग गया था। मिशनरी फण्ड से चलने वाली इनकी कलमों की स्याही सूख गयी थी। विरोध को विद्रोह तक पहुँचाने में इनका बहुत बड़ा योगदान है।

उदाहरण के तौर पर आप मोबाइल फ़ोन को देख सकते हैं। पूरी संभावना है कि आपका ख़ुद का, या किसी क़रीबी का मोबाइल फ़ोन कभी न कभी, बस-ट्रेन में सफ़र करते या किसी सार्वजनिक स्थान से चोरी हुआ हो। क्या आपने उसकी एफआईआर दर्ज करवाई? नहीं, थाने में एक आवेदन देकर उसपर ठप्पा लगवा लेना एफआईआर नहीं होता। उसका बाकायदा एक नंबर होता है जिससे उसे बाद में भी ढूँढा जा सके। नहीं करवाने का कारण क्या था? क्या ये प्रक्रिया इतनी क्लिष्ट है कि नुकसान झेल लेना, और झंझट मोल लेने से बेहतर लगा! अब सोचिए कि आप पढ़े-लिखे होने पर जिस क़ानूनी प्रक्रिया से बचते हैं, उसमें एक कम पढ़े लिखे ग़रीब का क्या होगा? क्या वो अपनी चोरी हो गई गाय की रिपोर्ट दर्ज करवा पाएगा?

मवेशियों की चोरी या तस्करी जैसे मामले अगर अख़बारों में पढ़ें, जो कि स्थानीय पन्ने पर कहीं अन्दर छुपी होती है, तो एक और तथ्य भी नजर आएगा। पशु चोर या तस्कर, चोरी के क्रम में बीच में आने वालों को बख्शते नहीं है। तस्करी के पशु ले जा रही गाड़ी नाके पर किसी पुलिसकर्मी पर चढ़ा देना या चोरी के वक़्त मालिक के जाग जाने पर उसे गोली मार देने की घटनाएँ आसानी से नजर आ जाएँगी। ऐसे में जब ग्रामीण या कस्बे के लोग, किसी चोर को धर दबोचने में कामयाब होते हैं तो उसके साथ बिलकुल वही सलूक करते हैं, जो बच निकलने की कोशिश में वो उनके साथ करता।

भीड़ के पीट देने पर परंपरागत पेड मीडिया भी दोहरा रवैया अपनाती है। अगर पिट गया व्यक्ति किसी समुदाय विशेष का हो और पीटने वाले बहुसंख्यक माने जाने वाले समुदाय से तो अचानक कोहराम मच जाता है। हर संभव उपाय से उसे अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार और ‘भगवा आतंकवाद’ से जोड़ने की कवायद होती है। तिकड़मी लोग कलम की बाजीगरी दिखाते हैं। वहीं जब हिन्दुओं में से कोई मारा जाए तो उसे अख़बार जगह तक नहीं देते। हर संभव तरीके से उसे कोई छिटपुट वारदात बताकर टाल देने की कोशिश होती है।

कई राजनैतिक दल भी इस कुकृत्य में परंपरागत पेड मीडिया के कंधे से कन्धा मिलाकर काम करते दिख जाते हैं। अगर मारे गए किसी “समुदाय विशेष” के परिवार को मिले सरकारी मुआवजे को देखें और उसकी तुलना भीड़ द्वारा मार दिए गए डॉ नारंग, रिक्शाचालक रविन्द्र जैसी दिल्ली में हुई घटनाओं से करें तो ये अंतर खुलकर सामने आ जाता है। ऐसे दोहरे मापदंडों पर विरोध न हो ऐसी कल्पना क्यों की जाती है, ये एक बड़ा सवाल है? आखिर एक पक्ष कब तक न्यायिक, कार्यपालक, विधायिका और पत्रकारिता, चारों ही तंत्रों का दबाव चुपचाप झेलता रहे?

गाँधीजी के सिद्धांतों जैसा एक गाल पर थप्पड़ लगने पर दूसरा गाल वो कितने दिन आगे करेगा? जो हम देख रहे हैं उससे तो ऐसा लगता है कि शायद उसने भगत सिंह के वाक्य को अपना लिया है। ये बहरों को सुनाने वाली धमाकों की गूँज सी लगती है। या तो व्यवस्था में सुधार कीजिए या धमाके फिर, फिर और फिर सुनने की तैयारी कर लीजिए। फैसला आपके अपने ही हाथ में है!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

ख़ास ख़बरें

‘लापता’ पोस्टर पर स्मृति ईरानी ने महिला कॉन्ग्रेस को दिखाया आईना, खुद के दौरे गिनाए, सोनिया के पूछ लिए

अमेठी से लापता होने वाले पोस्टर पर स्मृति ईरानी ने करारा जवाब दिया है। सोनिया गॉंधी के रायबरेली दौरे को लेकर सवाल पूछा है।

दलितों का कब्रिस्तान बना मेवात: 103 गाँव हिंदू विहीन, 84 में बचे हैं केवल 4-5 परिवार

मुस्लिम बहुल मेवात दिल्ली से ज्यादा दूर नहीं है। लेकिन प्रताड़ना ऐसी जैसे पाकिस्तान हो। हिंदुओं के रेप, जबरन धर्मांतरण की घटनाएँ रोंगेटे खड़ी करने वाली हैं।

क्या हिन्दू गौमांस खाते थे? वामपंथी कारवाँ मैग्जीन ने संस्कृत के अज्ञान के कारण फिर दिखाई मूर्खता

अन्य धर्मों के विपरीत, हिंदू सोचते-मानते हैं कि प्रत्येक जीव की आत्मा होती है। सिर्फ खाने के लिए किसी पशु को मारना वेदों द्वारा स्वीकार्य...

राजदीप सरदेसाई की ‘लाश’ पत्रकारिता: बीमारी से राजकुमार की मौत, कहा- भूख से मरा, सरकारी मदद कहाँ

राजकुमार बांदा का रहने वाला था। यहॉं के डीएम ने राजदीप सरदेसाई के दावों की पोल खोल कर बताया है कि उसके परिवार को कब कितनी मदद मिली।

एजेंडा के लिए हो रहा न्यायपालिका का इस्तेमाल, सरकारी कामकाज में हस्तक्षेप के लिए लोग जा रहे SC: हरीश साल्वे

हरीश साल्वे ने कहा कि कुछ लोग न्यायपालिका की आलोचना करते हुए कहते हैं कि उन्हें न्याय की उम्मीद नहीं है और अगले ही दिन कोर्ट में भागे आते हैं।

पाकिस्तानी उच्चायोग की ‘असली कार’ में घूम रहे थे ‘नकली आधार’ वाले जासूस: जानें, कैसे पकड़े गए

पाकिस्तानी उच्चायोग की जिस आधिकारिक कार में दोनों जासूस सवार थे उसका शीशा टूटा था। इसकी बिक्री के लिए उच्चायोग ने विज्ञापन दे रखा था।

प्रचलित ख़बरें

सोनू सूद पर टूट पड़े कॉन्ग्रेसी: BJP का एजेंट बताया, कहा- महाराष्ट्र सरकार को बुरा दिखाने के लिए कर रहे अच्छा काम

प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक भेजने के लिए सोनू सूद की चौतरफा प्रशंसा हो रही। लेकिन, कॉन्ग्रेस समर्थकों को यह सुहा नहीं रहा।

असलम ने किया रेप, अखबार ने उसे ‘तांत्रिक’ लिखा, भगवा कपड़ों वाला चित्र लगाया

बिलासपुर में जादू-टोना के नाम पर असलम ने एक महिला से रेप किया। लेकिन, मीडिया ने उसे इस तरह परोसा जैसे आरोपित हिंदू हो।

‘TikTok हटाने से चीन लद्दाख में कब्जाई जमीन वापस कर देगा’ – मिलिंद सोमन पर भड़के उमर अब्दुल्ला

मिलिंद सोमन ने TikTok हटा दिया। अरशद वारसी ने भी चीनी प्रोडक्ट्स का बॉयकॉट किया। उमर अब्दुल्ला, कुछ पाकिस्तानियों को ये पसंद नहीं आया और...

भतीजी के साथ वाजपेयी और लिखा सच्ची मोहब्बत: कॉन्ग्रेस की रीना मिमरोत ने फिर की ओछी हरकत

जिस महिला के साथ वाजपेयी की तस्वीर को लेकर रीना मि​मरोत ने अशोभनीय टिप्पणी की, वह माला वाजपेयी तिवारी हैं।

अमेरिका: दंगों के दौरान ‘ला इलाहा इल्लल्लाह’ के नारे, महिला प्रदर्शनकारी ने कपड़े उतारे: Video अपनी ‘श्रद्धा’ से देखें

अमेरिका में जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रदर्शन हिंसा, दंगा, आगजनी, लूटपाट में तब्दील हो चुका है।

‘भाई राजदीप! जब नहीं था… तो क्यूँ कूदा?’ सरदेसाई ने फर्जी न्यूज से चाहा सोनम वांगचुक को घेरना, ट्विटर ने खोली पोल

पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने एक बार फिर से स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को लेकर फर्जी खबर फैलाने की कोशिश की। फजीहत के बाद अपना ट्वीट डिलीट कर दिया।

Covid-19: भारत में लगातार दूसरे दिन कोरोना के 8 हजार से अधिक मामले सामने आए, अब तक 5394 की मौत

देश में अब तक कोरोना के 1,90,535 मामले सामने आ चुके हैं। 5394 लोगों की मौत हुई है। अब तक 91,819 लोग संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं।

रमजान में गांजा-शराब पीने पर युवक का गला रेता, साजिद, सैयद और अज़ार की तलाश कर रही पुलिस

हैदराबाद में 20 साल के युवक की लाश 30 मई को झाड़ियों से बरामद की गई थी। तीनों आरोपित उसके दोस्त हैं और घटना वाले दिन उसे साथ ले गए थे।

‘लापता’ पोस्टर पर स्मृति ईरानी ने महिला कॉन्ग्रेस को दिखाया आईना, खुद के दौरे गिनाए, सोनिया के पूछ लिए

अमेठी से लापता होने वाले पोस्टर पर स्मृति ईरानी ने करारा जवाब दिया है। सोनिया गॉंधी के रायबरेली दौरे को लेकर सवाल पूछा है।

14 फसलों का MSP 50-83% बढ़ा: आत्मनिर्भर भारत के लिए मोदी कैबिनेट ने लिए कई फैसले

प्रधानमंत्री मोदी ने एमएसएमई सेक्टर को मजबूती देने के लिए एक ऑनलाइन प्लेटफार्म लॉन्च किया है। इसका नाम चैम्पियन्स रखा गया है।

पाकिस्तान की आतंकी फैक्ट्री से पैदा हुआ TRF, कश्मीर में बसने पर मार डालने की धमकी दी

TRF ने उन सभी भारतीय नागरिकों को जान से मारने की धमकी दी है, जो कश्मीर से नहीं हैं और घाटी में बसने की योजना बना रहे हैं।

हिंदुस्तानी भाऊ ने एकता कपूर के खिलाफ दर्ज कराई FIR, कहा- वेब सीरिज XXX में जवान और उसकी वर्दी का मजाक बनाया

हिंदुस्तानी भाऊ ने एकता कपूर के खिलाफ मुंबई के खार पुलिस थाने में FIR दर्ज कराई है। वेब सीरीज के माध्यम से सेना का अपमान करने का आरोप लगाया है।

झारखंड: सबसे कम उम्र की MLA अंबा प्रसाद का ‘बड़ा’ कारनामा, लॉकडाउन में सैकड़ों की सभा, सोशल डिस्टेंसिंग को ठेंगा

कॉन्ग्रेस विधायक अंबा प्रसाद ने लॉकडाउन के बावजूद सभा को संबोधित किया। इस सभा के लिए प्रशासन से अनुमति नहीं ली गई थी।

दलितों का कब्रिस्तान बना मेवात: 103 गाँव हिंदू विहीन, 84 में बचे हैं केवल 4-5 परिवार

मुस्लिम बहुल मेवात दिल्ली से ज्यादा दूर नहीं है। लेकिन प्रताड़ना ऐसी जैसे पाकिस्तान हो। हिंदुओं के रेप, जबरन धर्मांतरण की घटनाएँ रोंगेटे खड़ी करने वाली हैं।

लुकआउट नोटिस के बावजूद बांग्लादेश भाग रहे जमाती, आँखें मूँदे बैठी है ममता सरकार: बंगाल के गवर्नर धनखड़

राज्यपाल धनखड़ ने कहा है कि लुकआउट नोटिस के बावजूद ममता सरकार तबलीगी जमात के बांंग्लादेशी सदस्यों की हरकतों को नजरअंदाज कर रही है।

क्या हिन्दू गौमांस खाते थे? वामपंथी कारवाँ मैग्जीन ने संस्कृत के अज्ञान के कारण फिर दिखाई मूर्खता

अन्य धर्मों के विपरीत, हिंदू सोचते-मानते हैं कि प्रत्येक जीव की आत्मा होती है। सिर्फ खाने के लिए किसी पशु को मारना वेदों द्वारा स्वीकार्य...

हमसे जुड़ें

210,647FansLike
61,056FollowersFollow
244,000SubscribersSubscribe
Advertisements