Friday, May 14, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे The Print वालों, सीधे-सीधे बोलो हिन्दू प्रतीकों से सुलग जाती है (सीने में आग)

The Print वालों, सीधे-सीधे बोलो हिन्दू प्रतीकों से सुलग जाती है (सीने में आग)

झंडेवालाँ में हनुमान जी का निर्माण शुरू 1994 में हुआ। तब देश में ‘सेक्युलर’ कॉन्ग्रेस की सरकार थी, और 2007 में जब यह बनकर ख़त्म हुई तो देश में सोनिया 'माता' और दिल्ली में शीला दीक्षित थीं- क्यों नहीं रोक लिया? तब डर क्यों नहीं पैदा हो रहा था?

सुबह-सुबह उठते ही मोबाइल पर देखा द प्रिंट वालों ने दिल्ली के झंडेवालाँ वाले हनुमान जी की तस्वीर के साथ कुछ लिखा है। सुबह-सुबह बजरंगबली के दर्शन से मन प्रफुल्लित होने की बजाय दुश्चिंता से भर गया, क्योंकि पत्रकारिता के समुदाय विशेष की फ़ितरत पता है- हिन्दुओं की असली तारीफ़ करने की बजाय ये लोग खौलता तेल पी लेना पसंद करेंगे।

और मैं सही था- वह लेख इस बारे में था कि कैसे हिन्दू नेताओं और देवी-देवताओं की भव्य प्रतिमाएँ, उनके भव्य स्मारक समुदाय विशेष को ‘नर्वस’ कर रहे हैं।

जी हाँ। नर्वस- यानी बेचैन, परेशान। हिन्दू भव्यता समुदाय विशेष को बेचैन कर रही है- ऐसा मैं नहीं, प्रिंट कह रहा है।

बात हिन्दू मूल्यों की

लेख की शुरुआत में ही, बाकायदा लेखिका की पीएचडी का हवाला देकर, हाइपरलिंक लगा कर, बता दिया जाता है कि लेखिका समाजशास्त्र की ‘तीसमारखां’ जानकार हैं (और इसलिए इस मुद्दे पर वह जो कुछ बोलें तो उसे हमें चुपचाप सर झुकाकर मान लेना होगा)। आगे लेखिका बतातीं हैं कि प्रतिमाएँ और स्मारक किसी भी समय पर राष्ट्र के मूल्यों को प्रक्षेपित करते हैं। यानी हिन्दुओं की मूर्ति और स्मारक अगर समुदाय विशेष में बेचैनी भर रहे हैं तो ऐसा तभी हो सकता है जब दो में से एक बातें हों-

  1. या तो हिन्दू मूल्यों में ही अपने आप में ऐसी कोई खराबी है, जिससे समुदाय विशेष का डरना लाजमी है,

    और या फिर

  2. समुदाय विशेष की खुद की मूल प्रकृति और प्रवृत्ति ही यह हो कि हिन्दू मूल्यों का सांकेतिक, प्रतीकात्मक उत्थान भी उनके लिए बेचैनी का सबब हो जाए।

मुझे कोई तीसरा कारण नहीं दिखता, खुद लेखिका द्वारा वर्णित प्रतिमाओं के महत्व की संरचना के भीतर।

अब आते हैं हिन्दू मूल्यों पर। तो मुझे तो हिन्दू धर्म के मूल्यों में ऐसा कुछ नहीं दिखता, जिससे किसी को हिन्दू मूल्यों के नाम से ही बेचैनी होने लगे। न हम अपने पंथिक विचारों को इकलौता सच, इकलौता सही रास्ता मानते हैं, न ही हमारे किसी शास्त्र में ऐसा लिखा है कि जो तुमसे अलग विचार या कर्म करने की हिमाकत करे उसे परिवर्तित करो, मार डालो या सेक्स-गुलाम बनाकर बेच दो। इतिहास में शायद ही कोई वर्णन मिले जब किसी हिन्दू राजा ने अपने धर्म को मानने के लिए किसी दूसरे को मजबूर किया हो। हम तो “एकं सद् विप्राः बहुधा वदन्ति” पर चलने वाले लोग हैं। तो अगर फिर भी हिन्दू मूल्यों के भव्यीकरण से समुदाय विशेष में बेचैनी का भाव आ रहा है तो उसके लिए जिम्मेदार कौन है?

बात मुख्य चित्र की  

लेखिका जी और द प्रिंट वालों, आप प्रतिमा-निर्माण को ‘पालतू प्रोजेक्ट’ तो नरेंद्र मोदी का बता रहे हो, लेकिन तस्वीर झंडेवालाँ वाले हनुमान जी की क्यों लगा रखी है? यह बनना शुरू 1994 में हुआ था, तब भी देश में ‘सेक्युलर’ कॉन्ग्रेस की सरकार थी, और 2007 में जब यह बनकर ख़त्म हुई तो देश में सोनिया माता और दिल्ली में शीला दीक्षित थीं- क्यों नहीं रोक लिया?

और अगर उस ‘सेक्युलर’ समय की मूर्तियों से भी समुदाय विशेष ‘नर्वस’ हो रहे हैं तो फिर तो क्या हमें मान लेना ही चाहिए कि उनकी बेचैनी अपनी सुरक्षा को लेकर नहीं, हिन्दू प्रतीक चिह्नों (और लेखिका के हिसाब से उन चिह्नों द्वारा इंगित हिन्दू मूल्यों) से घृणा को लेकर है? और अगर ऐसा है तो हम क्या करें? और क्यों करें?

20% बनाम 80%

लेखिका आगे याद दिलातीं हैं कि भारत की 20% आबादी गैर-हिन्दू है। अव्यक्त रूप से इसका मतलब यह है कि 20% समुदाय विशेष को खुश रखने के लिए सार्वजनिक जीवन से हिन्दू मूल्यों की अभिव्यक्ति समाप्त कर देनी चाहिए।

20% आबादी की असहिष्णुता के लिए 80% लोग अपने जीवन मूल्यों की अभिव्यक्ति बंद कर दें? और वो भी इसलिए नहीं कि उनके भय का कोई तर्कसंगत कारण है, बल्कि केवल इसलिए कि उन्हें दूसरे के मज़हब की अभिव्यक्ति नहीं बर्दाश्त!

और वह भी तब जब 20% को पहले से ही वह सभी वीवीआइपी अधिकार हैं जो 80% लोगों को नहीं है। केवल संवैधानिक और वैधानिक बात करूँ तो समुदाय विशेष को संविधान के अनुच्छेदों 25 से लेकर 30 तक का संरक्षण प्राप्त है, जो केवल और केवल अल्पसंख्यकों के लिए ही है, बहुसंख्यकों के लिए नहीं। और इसी आधार पर सबरीमाला की परंपरा भंग की गई, मंदिर को अपवित्र किया गया। अय्यप्पा के भक्तों की हर गिड़गिड़ाहट को हर दरवाजे पर यही कह कर दुत्कार दिया गया कि परम्पराओं और धार्मिक संस्थानों का संवैधानिक संरक्षण अल्पसंख्यकों को ही देता है संविधान, बहुसंख्यकों को नहीं।

RTE (शिक्षा का अधिकार) के अंतर्गत एक-चौथाई सीटों का लाभ भी केवल हिन्दुओं द्वारा चल रहे शिक्षण संस्थानों पर ही लागू है- मदरसों से लेकर ईसाईयों के कॉन्वेंट स्कूल तक इससे छूट पाते हैं, और जमकर अपने मूल्य बच्चों के बचपन और किशोरावस्था में घोलते हैं। हिन्दू अगर कोई स्कूल चलाए तो कानूनन उसे आर्थिक बोझ का सामना करना पड़ता है जबकि अल्पसंख्यक स्कूल इससे बच जाते हैं।

इसके बाद भी अगर समुदाय विशेष वाले दो-तीन मूर्तियों से बेचैन हो रहें तो हिन्दू क्या करें? और क्यों करें?

ईशा के आदियोगी शिव को जबरदस्ती घसीटा

इस लेख में निजी संस्था ईशा फाउंडेशन द्वारा स्थापित 112 फीट की आदियोगी शिव प्रतिमा का उसी साँस में जिक्र किया गया है, जिसमें सरकारी खर्चे पर बन रही शिवाजी महाराज, सरदार पटेल आदि की प्रतिमाओं की बात हो रही है। ऐसा जानबूझकर इसलिए किया लेखिका ने ताकि बिना खुलकर झूठ बोले लोगों के मन में यह भ्रम फैलाया जा सके कि आदियोगी की प्रतिमा भी सरकारी संसाधनों से बनी है। जबकि सच्चाई यह है कि यह प्रतिमा एक निजी संस्थान ने अपने पैसे और अपनी जमीन पर तैयार की है।

और इसको घसीटने की कोशिश से लेखिका के पूरे लेख की मंशा साफ़ हो जाती है- कि समुदाय विशेष तब तक ‘बेचैन’ रहेंगे जब तक धर्म और संस्कृति, हिन्दू पंथ और सम्प्रदाय की हर अभिव्यक्ति बंद नहीं हो जाती। केवल सरकारी ही नहीं, निजी भी। यही हिन्दूफोबिया है

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

20 साल से जर्जर था अंग्रेजों के जमाने का अस्पताल: RSS स्वयंसेवकों ने 200 बेड वाले COVID सेंटर में बदला

कभी एशिया के सबसे बड़े अस्पतालों में था BGML। लेकिन बीते दो दशक से बदहाली में था। आरएसएस की मदद से इसे नया जीवन दिया गया है।

₹995 में Sputnik V, पहली डोज रेड्डीज लैब वाले दीपक सपरा को: जानिए, भारत में कोरोना के कौन से 8 टीके

जानिए, भारत को किन 8 कोरोना वैक्सीन से उम्मीद है। वे अभी किस स्टेज में हैं और कहाँ बन रही हैं।

3500 गाँव-40000 हिंदू पीड़ित, तालाबों में डाले जहर, अब हो रही जबरन वसूली: बंगाल हिंसा पर VHP का चौंकाने वाला दावा

वीएचपी ने कहा है कि ज्यादातार पीड़ित SC/ST हैं। कई जगहों पर हिंदुओं से आधार, वोटर और राशन कार्ड समेत कई दस्तावेज छीन लिए गए हैं।

दिल्ली: केजरीवाल सरकार ने फ्री वैक्सीनेशन के लिए दिए ₹50 करोड़, पर महज तीन महीने में विज्ञापनों पर खर्च कर डाले ₹150 करोड़

दिल्ली में कोरोना के फ्री वैक्सीनेशन के लिए केजरीवाल सरकार ने दिए 50 करोड़ रुपए, पर प्रचार पर खर्च किए 150 करोड़ रुपए

महाराष्ट्र: 1814 अस्पतालों का ऑडिट, हर जगह ऑक्सीजन सेफ्टी भगवान भरोसे, ट्रांसफॉर्मर के पास स्टोर किए जा रहे सिलेंडर

नासिक के अस्पताल में हादसे के बाद महाराष्ट्र के अस्पतालों में ऑडिट के निर्देश तो दे दिए गए, लेकिन लगता नहीं कि इससे अस्पतालों ने कुछ सीखा है।

प्रचलित ख़बरें

हिरोइन है, फलस्तीन के समर्थन में नारे लगा रही थीं… इजरायली पुलिस ने टाँग में मारी गोली

इजरायल और फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष में एक हिरोइन जख्मी हो गईं। उनका नाम है मैसा अब्द इलाहदी।

1600 रॉकेट-600 टारगेट: हमास का युद्ध विराम प्रस्ताव ठुकरा बोला इजरायल- अब तक जो न किया वो करेंगे

संघर्ष शुरू होने के बाद से इजरायल पर 1600 से ज्यादा रॉकेट दागे जा चुके हैं। जवाब में गाजा में उसने करीब 600 ठिकानों को निशाना बनाया है।

फिलिस्तीनी आतंकी ठिकाने का 14 मंजिला बिल्डिंग तबाह, ईद से पहले इजरायली रक्षा मंत्री ने कहा – ‘पूरी तरह शांत कर देंगे’

इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, “ये केवल शुरुआत है। हम उन्हें ऐसे मारेंगे, जैसा उन्होंने सपने में भी न सोचा हो।”

‘मर जाओ थंडर वुमन’… इजराइल के समर्थन पर गैल गैडोट पर टूटे कट्टरपंथी, ‘शाहीन बाग की दादी’ के लिए कभी चढ़ाया था सिर पर

इजराइल-हमास और फिलिस्तीनी इस्लामी जिहादियों में जारी लड़ाई के बीच हॉलीवुड में "थंडर वुमन" के नाम से जानी जाने वाली अभिनेत्री गैल गैडोट पर...

इजरायल पर हमास के जिहादी हमले के बीच भारतीय ‘लिबरल’ फिलिस्तीन के समर्थन में कूदे, ट्विटर पर छिड़ा ‘युद्ध’

अब जब इजरायल राष्ट्रीय संकट का सामना कर रहा है तो जहाँ भारतीयों की तरफ से इजरायल के साथ खड़े होने के मैसेज सामने आ रहे हैं, वहीं कुछ विपक्ष और वामपंथी ने फिलिस्तीन के साथ एक अलग रास्ता चुना है।

दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले पड़ोसी ने रखी सेक्स की डिमांड, केरल पुलिस से सेक्स के लिए ई-पास की डिमांड

दिल्ली में पड़ोसी ने ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले एक लड़की से साथ सोने को कहा। केरल में सेक्स के लिए ई-पास की माँग की।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,357FansLike
93,847FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe