Monday, January 25, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे The Print वालों, सीधे-सीधे बोलो हिन्दू प्रतीकों से सुलग जाती है (सीने में आग)

The Print वालों, सीधे-सीधे बोलो हिन्दू प्रतीकों से सुलग जाती है (सीने में आग)

झंडेवालाँ में हनुमान जी का निर्माण शुरू 1994 में हुआ। तब देश में ‘सेक्युलर’ कॉन्ग्रेस की सरकार थी, और 2007 में जब यह बनकर ख़त्म हुई तो देश में सोनिया 'माता' और दिल्ली में शीला दीक्षित थीं- क्यों नहीं रोक लिया? तब डर क्यों नहीं पैदा हो रहा था?

सुबह-सुबह उठते ही मोबाइल पर देखा द प्रिंट वालों ने दिल्ली के झंडेवालाँ वाले हनुमान जी की तस्वीर के साथ कुछ लिखा है। सुबह-सुबह बजरंगबली के दर्शन से मन प्रफुल्लित होने की बजाय दुश्चिंता से भर गया, क्योंकि पत्रकारिता के समुदाय विशेष की फ़ितरत पता है- हिन्दुओं की असली तारीफ़ करने की बजाय ये लोग खौलता तेल पी लेना पसंद करेंगे।

और मैं सही था- वह लेख इस बारे में था कि कैसे हिन्दू नेताओं और देवी-देवताओं की भव्य प्रतिमाएँ, उनके भव्य स्मारक समुदाय विशेष को ‘नर्वस’ कर रहे हैं।

जी हाँ। नर्वस- यानी बेचैन, परेशान। हिन्दू भव्यता समुदाय विशेष को बेचैन कर रही है- ऐसा मैं नहीं, प्रिंट कह रहा है।

बात हिन्दू मूल्यों की

लेख की शुरुआत में ही, बाकायदा लेखिका की पीएचडी का हवाला देकर, हाइपरलिंक लगा कर, बता दिया जाता है कि लेखिका समाजशास्त्र की ‘तीसमारखां’ जानकार हैं (और इसलिए इस मुद्दे पर वह जो कुछ बोलें तो उसे हमें चुपचाप सर झुकाकर मान लेना होगा)। आगे लेखिका बतातीं हैं कि प्रतिमाएँ और स्मारक किसी भी समय पर राष्ट्र के मूल्यों को प्रक्षेपित करते हैं। यानी हिन्दुओं की मूर्ति और स्मारक अगर समुदाय विशेष में बेचैनी भर रहे हैं तो ऐसा तभी हो सकता है जब दो में से एक बातें हों-

  1. या तो हिन्दू मूल्यों में ही अपने आप में ऐसी कोई खराबी है, जिससे समुदाय विशेष का डरना लाजमी है,

    और या फिर

  2. समुदाय विशेष की खुद की मूल प्रकृति और प्रवृत्ति ही यह हो कि हिन्दू मूल्यों का सांकेतिक, प्रतीकात्मक उत्थान भी उनके लिए बेचैनी का सबब हो जाए।

मुझे कोई तीसरा कारण नहीं दिखता, खुद लेखिका द्वारा वर्णित प्रतिमाओं के महत्व की संरचना के भीतर।

अब आते हैं हिन्दू मूल्यों पर। तो मुझे तो हिन्दू धर्म के मूल्यों में ऐसा कुछ नहीं दिखता, जिससे किसी को हिन्दू मूल्यों के नाम से ही बेचैनी होने लगे। न हम अपने पंथिक विचारों को इकलौता सच, इकलौता सही रास्ता मानते हैं, न ही हमारे किसी शास्त्र में ऐसा लिखा है कि जो तुमसे अलग विचार या कर्म करने की हिमाकत करे उसे परिवर्तित करो, मार डालो या सेक्स-गुलाम बनाकर बेच दो। इतिहास में शायद ही कोई वर्णन मिले जब किसी हिन्दू राजा ने अपने धर्म को मानने के लिए किसी दूसरे को मजबूर किया हो। हम तो “एकं सद् विप्राः बहुधा वदन्ति” पर चलने वाले लोग हैं। तो अगर फिर भी हिन्दू मूल्यों के भव्यीकरण से समुदाय विशेष में बेचैनी का भाव आ रहा है तो उसके लिए जिम्मेदार कौन है?

बात मुख्य चित्र की  

लेखिका जी और द प्रिंट वालों, आप प्रतिमा-निर्माण को ‘पालतू प्रोजेक्ट’ तो नरेंद्र मोदी का बता रहे हो, लेकिन तस्वीर झंडेवालाँ वाले हनुमान जी की क्यों लगा रखी है? यह बनना शुरू 1994 में हुआ था, तब भी देश में ‘सेक्युलर’ कॉन्ग्रेस की सरकार थी, और 2007 में जब यह बनकर ख़त्म हुई तो देश में सोनिया माता और दिल्ली में शीला दीक्षित थीं- क्यों नहीं रोक लिया?

और अगर उस ‘सेक्युलर’ समय की मूर्तियों से भी समुदाय विशेष ‘नर्वस’ हो रहे हैं तो फिर तो क्या हमें मान लेना ही चाहिए कि उनकी बेचैनी अपनी सुरक्षा को लेकर नहीं, हिन्दू प्रतीक चिह्नों (और लेखिका के हिसाब से उन चिह्नों द्वारा इंगित हिन्दू मूल्यों) से घृणा को लेकर है? और अगर ऐसा है तो हम क्या करें? और क्यों करें?

20% बनाम 80%

लेखिका आगे याद दिलातीं हैं कि भारत की 20% आबादी गैर-हिन्दू है। अव्यक्त रूप से इसका मतलब यह है कि 20% समुदाय विशेष को खुश रखने के लिए सार्वजनिक जीवन से हिन्दू मूल्यों की अभिव्यक्ति समाप्त कर देनी चाहिए।

20% आबादी की असहिष्णुता के लिए 80% लोग अपने जीवन मूल्यों की अभिव्यक्ति बंद कर दें? और वो भी इसलिए नहीं कि उनके भय का कोई तर्कसंगत कारण है, बल्कि केवल इसलिए कि उन्हें दूसरे के मज़हब की अभिव्यक्ति नहीं बर्दाश्त!

और वह भी तब जब 20% को पहले से ही वह सभी वीवीआइपी अधिकार हैं जो 80% लोगों को नहीं है। केवल संवैधानिक और वैधानिक बात करूँ तो समुदाय विशेष को संविधान के अनुच्छेदों 25 से लेकर 30 तक का संरक्षण प्राप्त है, जो केवल और केवल अल्पसंख्यकों के लिए ही है, बहुसंख्यकों के लिए नहीं। और इसी आधार पर सबरीमाला की परंपरा भंग की गई, मंदिर को अपवित्र किया गया। अय्यप्पा के भक्तों की हर गिड़गिड़ाहट को हर दरवाजे पर यही कह कर दुत्कार दिया गया कि परम्पराओं और धार्मिक संस्थानों का संवैधानिक संरक्षण अल्पसंख्यकों को ही देता है संविधान, बहुसंख्यकों को नहीं।

RTE (शिक्षा का अधिकार) के अंतर्गत एक-चौथाई सीटों का लाभ भी केवल हिन्दुओं द्वारा चल रहे शिक्षण संस्थानों पर ही लागू है- मदरसों से लेकर ईसाईयों के कॉन्वेंट स्कूल तक इससे छूट पाते हैं, और जमकर अपने मूल्य बच्चों के बचपन और किशोरावस्था में घोलते हैं। हिन्दू अगर कोई स्कूल चलाए तो कानूनन उसे आर्थिक बोझ का सामना करना पड़ता है जबकि अल्पसंख्यक स्कूल इससे बच जाते हैं।

इसके बाद भी अगर समुदाय विशेष वाले दो-तीन मूर्तियों से बेचैन हो रहें तो हिन्दू क्या करें? और क्यों करें?

ईशा के आदियोगी शिव को जबरदस्ती घसीटा

इस लेख में निजी संस्था ईशा फाउंडेशन द्वारा स्थापित 112 फीट की आदियोगी शिव प्रतिमा का उसी साँस में जिक्र किया गया है, जिसमें सरकारी खर्चे पर बन रही शिवाजी महाराज, सरदार पटेल आदि की प्रतिमाओं की बात हो रही है। ऐसा जानबूझकर इसलिए किया लेखिका ने ताकि बिना खुलकर झूठ बोले लोगों के मन में यह भ्रम फैलाया जा सके कि आदियोगी की प्रतिमा भी सरकारी संसाधनों से बनी है। जबकि सच्चाई यह है कि यह प्रतिमा एक निजी संस्थान ने अपने पैसे और अपनी जमीन पर तैयार की है।

और इसको घसीटने की कोशिश से लेखिका के पूरे लेख की मंशा साफ़ हो जाती है- कि समुदाय विशेष तब तक ‘बेचैन’ रहेंगे जब तक धर्म और संस्कृति, हिन्दू पंथ और सम्प्रदाय की हर अभिव्यक्ति बंद नहीं हो जाती। केवल सरकारी ही नहीं, निजी भी। यही हिन्दूफोबिया है

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

RSS को ‘निकरवाला’ बोला राहुल गाँधी ने, ‘लिकरवाला’ सुन जनता हुई ‘मस्त’: इस लेटेस्ट Video में है बहुत मजा

राहुल गाँधी जब बोलते हैं, बहुत मजा देते हैं। उनके मजे देने वाले वीडियो आप खोजेंगे 1 मिलेंगे 11... अब एक और वीडियो जुड़ गया है, एकदम लेटेस्ट।

‘लता मंगेशकर ने 1947 में नेहरू के लिए गाया था ऐ मेरे वतन के लोगों’: विशाल डडलानी ने बताया इतिहास – Fact Check

विशाल डडलानी ने दावा किया है कि लता मंगेशकर ने भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के लिए 'ऐ मेरे वतन के लोगों' गाना गाया था।

ThePrint को रूसी विदेश मंत्रालय से पड़ी लताड़, भारत-रूस का नाम ले फैला रहा था फेक न्यूज

रूसी विदेश मंत्रालय ने शेखर गुप्ता की 'द प्रिंट' को जम कर लताड़ लगाई। उसने भारत-रूस के बीच होने वाली वार्षिक बैठक को लेकर फेक न्यूज़ फैलाई थी।

रामतीर्थम पहुँची भगवान राम, सीता और लक्ष्मण की नई प्रतिमा, धड़ से अलग कर दिया गया था 400 साल पुरानी मूर्ति का सिर

आंध्र प्रदेश में दिसंबर में उपद्रवियों ने भगवान की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया था। नई मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा 28 जनवरी को होगी।

नेपाल में चीन पैंतरे नाकाम, कम्युनिस्ट पार्टी ने कार्यकारी PM ओली को पार्टी से निकाला

नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी ने कार्यकारी प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को पार्टी से निकाल कर उनकी सदस्यता रद्द कर दी है।

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

निकिता तोमर को गोली मारते कैमरे में कैद हुआ था तौसीफ, HC से कहा- मैं निर्दोष, यह ऑनर किलिंग

निकिता तोमर हत्याकांड के मुख्य आरोपित तौसीफ ने हाई कोर्ट से घटना की दोबारा जाँच की माँग की है। उसने कहा कि यह मामला ऑनर किलिंग का है।

‘जिस लिफ्ट में ऑस्ट्रेलियन, उसमें हमें घुसने भी नहीं देते थे’ – IND Vs AUS सीरीज की सबसे ‘गंदी’ कहानी, वीडियो वायरल

भारतीय क्रिकेटरों को सिडनी में लिफ्ट में प्रवेश करने की अनुमति सिर्फ तब थी, अगर उसके अंदर पहले से कोई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी न हो। एक भी...

बहन को फुफेरे भाई कासिम से था इश्क, निक़ाह के एक दिन पहले बड़े भाई फिरोज ने की हत्या: अश्लील फोटो बनी वजह

इस्लामुद्दीन की 19 वर्षीय बेटी फिरदौस के निक़ाह की तैयारियों में पूरा परिवार जुटा हुआ था। तभी शनिवार की सुबह घर में टूथपेस्ट कर रही फिरदौस को अचानक उसके बड़े भाई फिरोज ने तमंचे से गोली मार दी।
- विज्ञापन -

 

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।

जिन्ना की बहन का पार्क बेच देगी इमरान सरकार, कंगाली से बचने के लिए Pak को चाहिए 500 अरब रुपए

कर्ज के तले दबे पाकिस्तान की हालत अब दिन पर दिन खस्ता होती जा रही है। अब इमरान सरकार इस्लामाबाद के सबसे बड़े पार्क को गिरवी रख...

RSS को ‘निकरवाला’ बोला राहुल गाँधी ने, ‘लिकरवाला’ सुन जनता हुई ‘मस्त’: इस लेटेस्ट Video में है बहुत मजा

राहुल गाँधी जब बोलते हैं, बहुत मजा देते हैं। उनके मजे देने वाले वीडियो आप खोजेंगे 1 मिलेंगे 11... अब एक और वीडियो जुड़ गया है, एकदम लेटेस्ट।

‘लता मंगेशकर ने 1947 में नेहरू के लिए गाया था ऐ मेरे वतन के लोगों’: विशाल डडलानी ने बताया इतिहास – Fact Check

विशाल डडलानी ने दावा किया है कि लता मंगेशकर ने भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के लिए 'ऐ मेरे वतन के लोगों' गाना गाया था।

ThePrint को रूसी विदेश मंत्रालय से पड़ी लताड़, भारत-रूस का नाम ले फैला रहा था फेक न्यूज

रूसी विदेश मंत्रालय ने शेखर गुप्ता की 'द प्रिंट' को जम कर लताड़ लगाई। उसने भारत-रूस के बीच होने वाली वार्षिक बैठक को लेकर फेक न्यूज़ फैलाई थी।

कॉन्ग्रेसी सांसद ने कहा- खालिस्तानी कर रहे किसान आंदोलन को हाइजैक, पार्टी के सुर कुछ और ही

कॉन्ग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा है कि कृषि कानून के खिलाफ हो रहे किसान आंदोलन को खालिस्तानी तत्व हाइजैक करने का प्रयास कर रहे है।

रामतीर्थम पहुँची भगवान राम, सीता और लक्ष्मण की नई प्रतिमा, धड़ से अलग कर दिया गया था 400 साल पुरानी मूर्ति का सिर

आंध्र प्रदेश में दिसंबर में उपद्रवियों ने भगवान की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया था। नई मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा 28 जनवरी को होगी।

मुस्लिम बहुल मालवणी में मुंबई पुलिस ने फाड़ दिए थे भगवान राम के पोस्टर, कार्रवाई को लेकर बीजेपी का प्रदर्शन

मुंबई के मुस्लिम बहुल इलाके मालवणी में भगवान राम के पोस्टर फाड़ने को लेकर बीजेपी ने प्रदर्शन किया। दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मॉंग की।

नेपाल में चीन पैंतरे नाकाम, कम्युनिस्ट पार्टी ने कार्यकारी PM ओली को पार्टी से निकाला

नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी ने कार्यकारी प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को पार्टी से निकाल कर उनकी सदस्यता रद्द कर दी है।

बिशप का गोपनीय पत्रः चर्च समर्थक कैंडिडेट को टिकट दें, ईसाई कम्युनिस्ट पार्टी का समर्थन करेंगे

केरल की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी से विधानसभा चुनावों में एक चर्च समर्थित उम्मीदवार को टिकट देने की सिफारिश कर एक कैथोलिक बिशप विवादों में घिर गए हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe