Thursday, May 23, 2024
Homeराजनीति'गुवाहाटी से आएँगी 40 लाशें, पोस्टमॉर्टम के लिए भेजेंगे': संजय राउत ने कामाख्या मंदिर...

‘गुवाहाटी से आएँगी 40 लाशें, पोस्टमॉर्टम के लिए भेजेंगे’: संजय राउत ने कामाख्या मंदिर और छठ पूजा को भी नहीं छोड़ा, कहा – मोदी-शाह डरते हैं हमसे

"सभी का एक बाप होता है लेकिन संजय राउत के 3 बाप गुजरात में, 4 दिल्ली में और 2 असम में हैं। कुछ मुंबई भाजपा में भी हैं। आपके 20-25 बाप हैं, ऐसों को हम नाजायज औलाद कहते हैं।"

शिवसेना के प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने पार्टी के बागी विधायकों को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा कि गुवाहाटी से 40 लाशें आएँगी और महाराष्ट्र विधानसभा में उनका पोस्टमॉर्टेम होगा। उन्होंने कहा, “ये जो 40 लोग हैं, ये ज़िंदा लाश हैं। मुर्दा हैं। उनके शव यहाँ आएँगे। उनकी आत्मा मरी हुई है। ये 40 लोग जब उतरेंगे तो मन से ये ज़िंदा नहीं रहेंगे। उन्हें पता है कि ये तो आग लगी है, इससे क्या हो सकता है।”

संजय राउत ने साथ ही उन विधायकों को ढकी दी कि वो महाराष्ट्र आकर दिखाएँ। ज्ञात हो कि एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के विधायकों ने असम के गुवाहाटी में डेरा डाला हुआ है। शिवसेना मुखपत्र ‘सामना’ के एग्जीक्यूटिव एडिटर संजय राउत ने कहा कि कामाख्या मंदिर में पशु बलि दी जाती है, हमने 40 लोगों को बलि दिए जाने के लिए वहाँ भेजा है। साथ ही उन्होंने धमकाया कि शिवसेना का हजारों समर्थक शांत हैं, वरना सबको पता है एक इशारे पर वो क्या कर सकते हैं।

वीडियो में देखा जा सकता है कि जब संजय राउत कहते हैं कि वो 40 लाशों को पोस्टमॉर्टम के लिए विधानसभा भेजेंगे, तब सभा में एक शिवसेना कार्यकर्ता चिल्ला कर कहता है कि हम सीधे उनका अस्थि विसर्जन कर देंगे। इस पर संजय राउत कहते हैं कि हम इन्हें छठ पूजा में भेज देंगे। उन्होंने कामाख्या देवी मंदिर को ‘जादू-टोना मंदिर’ कह कर अपमानित किया। शिवसेना कार्यकर्ताओं ने बॉडी शेमिंग की हदें भी पार कर दी और कहा कि सिर्फ 40 साँड़ की ही बलि नहीं देनी है, उनमें 3 भैंस भी हैं।

संजय राउत ने आगे कहा, “सभी का एक बाप होता है लेकिन संजय राउत के 3 बाप गुजरात में, 4 दिल्ली में और 2 असम में हैं। कुछ मुंबई भाजपा में भी हैं। आपके 20-25 बाप हैं, ऐसों को हम नाजायज औलाद कहते हैं। जब आनंद दीघे (ठाणे के दिवंगत नेता) जेल गए थे, तब एकनाथ शिंदे कहाँ थे? तब हम वहाँ थे, वो ऑटो रिक्शा चला रहे थे। हम शिवसेना हैं, हमारा डर ऐसा है कि हमें देख कर मोदी-शाह भी रास्ता बदल लेते हैं।”

उधर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को भी मुंबई के अस्पताल ने कोरोना के इलाज के बाद छुट्टी दे दी है। उन्होंने राज्य के पुलिस अधिकारियों से शिवसेना के बागी विधायकों के परिवारों को सुरक्षा देने का निर्देश दिया है। कई विधायकों के घरों और दफ्तरों पर शिवसैनिकों के हमले देखने को मिले हैं। 15 विधायकों को केंद्र सरकार ने CRPF की Y सिक्योरिटी भी दी है। उधर भंडारा के बागी शिवसेना विधायक नरेंद्र भोंडेकर का जन्मदिन भी एकनाथ शिंदे की मौजूदगी में गुवाहाटी के रैडिसन ब्लू होटल में बनाया गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोहिणी आचार्य के पहुँचने के बाद शुरू हुई हिंसा, पूर्व CM का बॉडीगार्ड लेकर घूम रही थीं: बिहार पुलिस ने दर्ज की 7 FIR,...

राबड़ी आवास पर उपस्थित बॉडीगार्ड और पुलिसकर्मियों से पूरे मामले में पूछताछ की इस दौरान विशेष अधिकारी मौजूद रहे।

मी लॉर्ड! भीड़ का चेहरा भी होता है, मजहब भी होता है… यदि यह सच नहीं तो ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारों के साथ ‘काफिरों’ पर...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज फरजंद अली 18 मुस्लिमों को जमानत दे देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि चारभुजा नाथ की यात्रा पर इस्लामी मजहबी स्थल के सामने हमला करने वालों का कोई मजहब नहीं था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -