कॉन्ग्रेस नेता संसद में हुए ‘अधीर’: PM मोदी और अभिनंदन पर की आपत्तिजनक टिप्पणी

अधीर रंजन ने पीएम से सवाल भी किया कि क्या वो अभी तक 2जी और कोयला घोटाले में किसी को पकड़ पाए हैं? उन्होंने पूछा, “आप सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी को सलाखों के पीछे भेज पाए?"

लोकसभा में आज (जून 24, 2019) कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने प्रधानमंत्री मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी की। कॉन्ग्रेस नेता ने इंदिरा गाँधी और पीएम मोदी की तुलना के संदर्भ में कहा, ”कहाँ माँ गंगा और कहाँ गंदी नाली।” अधीर के इस विवादित टिप्पणी पर भाजपा सांसदों ने काफी हंगामा किया।

दरअसल, ओडिशा के सांसद प्रताप सारंगी ने लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी की तुलना स्वामी विवेकानंद से की थी। जिसके जवाब में अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि नरेंद्र मोदी की तुलना स्वामी विवेकानंद से करना ग़लत है। सिर्फ नाम नरेंद्र होने से दोनों को एक समान नहीं बताया जा सकता है। तभी वहाँ बैठे कुछ भाजपा सांसदों ने कहा कि आप भी तो पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी को भारत (इंडिया) बताते थे। इस दौरान चौधरी अपनी बात रखते हुए भाषा पर नियंत्रण नहीं रख पाए और उन्होंने असंसदीय भाषा का इस्तेमाल किया। उन्होंने इंदिरा गाँधी की तुलना माँ से किया तो वहीं पीएम मोदी के लिए गंदी नाली शब्द का इस्तेमाल किया।

अधीर रंजन चौधरी ने पीएम मोदी के खिलाफ की आपत्तिजनक टिप्पणी (साभार: HCN)

अधीर रंजन द्वारा पीएम मोदी के खिलाफ की गई आपत्तिजनक टिप्पणी को आप वीडियो में 1:10 से 1:15 सेकेंड के बीच सुन सकते हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसके साथ ही लोकसभा में कॉन्ग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने भाजपा की सरकार पर झूठ बोलकर सत्ता में आने का आरोप लगाया और पीएम से सवाल भी किया कि क्या वो अभी तक 2जी और कोयला घोटाले में किसी को पकड़ पाए हैं? उन्होंने पूछा, “आप सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी को सलाखों के पीछे भेज पाए? आप उनको चोर कहते हुए सत्ता में आए तो अब वो संसद में कैसे बैठे हैं?”

अधीर रंजन ने विंग कमांडर अभिनन्दन को सम्मानित करने का तंज कसा और साथ ही उनकी मूंछों को राष्‍ट्रीय मूँछ घोषित करने की भी पेशकश की। उन्होंने कहा, “विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को सम्‍मान मिलना चाहिए और उनकी मूंछों को राष्‍ट्रीय मूंछ घोषित किया जाना चाहिए।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: