Monday, May 17, 2021
Home राजनीति पहले उठाए भारतीय वैक्सीन पर सवाल, अब वैक्सीन फॉर ऑल: राहुल गाँधी और उनके...

पहले उठाए भारतीय वैक्सीन पर सवाल, अब वैक्सीन फॉर ऑल: राहुल गाँधी और उनके नेताओं के प्रोपेगेंडा का सच

राहुल गाँधी ने अपने पत्र में यह भी कहा कि केंद्र सरकार वैक्सीन निर्माताओं को वित्तीय सहायता मुहैया कराए और वैक्सीन खरीद के लिए दुगुना भुगतान करे। गाँधी ने वैक्सीन निर्यात किए जाने पर केंद्र सरकार को घेरा और कहा कि जब हमारे देश में वैक्सीन की कमी हो रही है तब 6 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन के डोज निर्यात कर दिए गए।

महीनों तक कॉन्ग्रेस के नेताओं के द्वारा भारत बायोटेक की कोविड-19 की वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ के खिलाफ कैम्पेन चलाने के बाद वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता और पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा और वैक्सीन को जरूरतमंदों को उपलब्ध कराने एवं वैक्सीन का निर्यात रोकने की माँग की। अपने पत्र में गाँधी ने वैक्सीन खरीद और वितरण में बिना किसी भेदभाव के राज्यों की भूमिका को बढ़ाने और कोरोनावायरस संक्रमण से प्रभावित लोगों को आय सहायता उपलब्ध कराने की बात कही। 

गाँधी ने अपने पत्र में यह भी कहा कि केंद्र सरकार वैक्सीन निर्माताओं को वित्तीय सहायता मुहैया कराए और वैक्सीन खरीद के लिए दुगुना भुगतान करे। गाँधी ने वैक्सीन निर्यात किए जाने पर केंद्र सरकार को घेरा और कहा कि जब हमारे देश में वैक्सीन की कमी हो रही है तब 6 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन के डोज निर्यात कर दिए गए। गाँधी ने वैक्सीन सर्टिफिकेट पर एक व्यक्ति की फोटो लगाने के स्थान पर सार्वभौमिक वैक्सीनेशन कार्यक्रम शुरू करने पर जोर दिया।

राहुल गाँधी का मेड इन इंडिया वैक्सीन विरोधी कैम्पेन :

भले ही राहुल गाँधी पत्र लिखकर ‘वैक्सीन फॉर ऑल’ की वकालत कर रहे हों और कथित रूप से वैक्सीन की कमी को लेकर केंद्र सरकार को घेर रहे हों लेकिन ध्यान देने योग्य बात यह है कि जनवरी 2021 में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) द्वारा भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के आपात उपयोग को अनुमति दिए जाने पर यही राहुल गाँधी और उनके समर्थक वैक्सीन विरोधी प्रोपगंडा चला रहे थे। महीनों तक गाँधी और उनकी पार्टी के सदस्य वैक्सीन पर प्रश्न उठाते रहे।

कॉन्ग्रेस के बुद्धिजीवी सदस्य शशि थरूर ने भी कोवैक्सीन को लेकर लोगों में यह भ्रम फैलाया था कि वैक्सीन का तीसरे फेज का ट्रायल नहीं हुआ है। ऐसा करके उन्होंने न केवल वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं की मेहनत पर सवाल उठाए थे बल्कि लोगों में कोरोनावायरस की स्वदेशी वैक्सीन को लेकर डर भी पैदा किया।

कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ सदस्य राशिद अल्वी थोड़ा और आगे निकले और कहा कि जैसे भाजपा और नरेंद्र मोदी विपक्षी नेताओं के खिलाफ विभिन्न संस्थाओं का उपयोग करते हैं वैसे ही वैक्सीन का उपयोग भी कर सकते हैं। अल्वी ने वैक्सीनेशन कार्यक्रम का बहिष्कार करने की माँग की और समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव की इस बात का समर्थन किया कि यह भाजपा की वैक्सीन है।  

वरिष्ठ कॉन्ग्रेस सदस्य आनंद शर्मा ने भी स्वदेशी कोवैक्सीन की क्षमता पर प्रश्न उठाया था और आरोप लगाया था कि वैक्सीन के फेज तीन के ट्रायल को नजरअंदाज किया गया है और डीसीजीआई ने कोवैक्सीन को अप्रूवल देने में आवश्यक प्रोटोकॉल्स के साथ समझौता किया है। कॉन्ग्रेस के निष्ठावान सदस्य साकेत गोखले ने भी डीसीजीआई पर प्रश्न उठाए और वैक्सीन के बारे में गलत और भ्रामक खबरें फैलाई।

राहुल गाँधी की वैक्सीन फॉर ऑल की माँग :

राहुल गाँधी भले ही केंद्र सरकार पर हमला करने के लिए वैक्सीन का सहारा ले रहे हों और वैक्सीन फॉर ऑल की माँग कर रहे हों लेकिन इससे यह साबित होता है कि उन्हें वैक्सीन और उसके वितरण संबंधी प्रक्रिया की कोई जानकारी नहीं है।

वैक्सीन बनाने वाले लगभग सभी देश एक ‘प्राथमिकता रणनीति’ पर काम करते हैं जिसका उद्देश्य होता है वैक्सीनेशन कार्यक्रम में प्राथमिकता का एक क्रम तय करना। भारत भी इसी रणनीति पर काम कर रहा है। वैक्सीन फॉर ऑल तब तक संभव नहीं है जब तक कि जनसंख्या के हिसाब से वैक्सीन निर्माण क्षमता को संतुलित न कर दिया जाए। भारत जैसी विशाल जनसंख्या वाले देश में वैक्सीन फॉर ऑल जैसी रणनीति पर काम करने से ऊहापोह की स्थिति निर्मित हो सकती है और जिन्हें सबसे पहले वैक्सीन की आवश्यकता है वो छूट सकते हैं।

शायद राहुल गाँधी को यह भी पता नहीं होगा कि 2020 में स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड-19 से संबंधित एक रणनीति जारी की थी जिसमें वैक्सीनेशन की प्राथमिकता के विषय में पूरी जानकारी दी गई थी। इस रणनीति में यह कहा गया था कि वैक्सीनेशन कार्यक्रम में दो समूहों को प्राथमिकता दी जाएगी। पहला समूह वह होगा जो कोरोना वायरस के संक्रमण के सबसे ज्यादा खतरे में होगा और उस आयु समूह से होगा जिसकी मृत्युदर सर्वाधिक है और दूसरा वह समूह होगा जो वैक्सीनेशन के बाद वायरस के प्रसार को न्यूनतम करेंगे।

इस रणनीति के तहत सरकार ने सबसे पहले फ्रंटलाइन वर्कर्स और वृद्ध लोगों को वैक्सीन देने की योजना बनाई। इसके साथ उन लोगों को भी वैक्सीनेट किया गया जो गंभीर बीमारियों से पीड़ित थे। वैक्सीनेशन की अगली रणनीति में 45 वर्ष से ऊपर की आयु के सभी व्यक्तियों के लिए वैक्सीनेशन को शुरू किया गया।

वैक्सीनेशन की यह रणनीति न केवल भारत बल्कि यूके, जर्मनी, यूएस और कई अन्य देश भी अपना रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल की उबड़-खाबड़ डगर: नारदा में TMC पर कसा फंदा तो CBI से ममता ने दिखाई पुरानी रार

बंगाल की राजनीति कौन सी करवट लेगी, यह समय तय करेगा। फिलहाल ममता बनर्जी और उनकी सरकार के लिए रास्ते सीधे नहीं दिखते।

गाजा पर 1180 हमले, इजरायल पर दागे 3150 रॉकेट: युद्धविराम को नेतन्याहू की ना, बोले- जंग जारी रहेगी

युद्धविराम को खारिज करते हुए इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा है कि हर देश को अपनी रक्षा का अधिकार है।

हिन्दू राजाओं ने बसाया, इस्लामी व पुर्तगाली ताकतों ने किया अत्याचार: 3000 वर्ष पुराना है भारत में यहूदियों का इतिहास

ईसाई धर्म की पवित्र पुस्तक बाइबिल में लिखा है कि किस तरह राजा सोलोमन 'ओफिर' नामक स्थान से समुद्र के रास्ते सोने-चाँदी का व्यापार करता था। इस जगह को भारत में ही चिह्नित किया गया है।

डेढ़ महीने में बेड 10 गुणा: हालात में सुधार, कोरोना की तीसरी लहर पर काबू पाने की तैयारियों में जुटी योगी सरकार

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार (मई 16, 2021) को कहा कि राज्य कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयार है।

ओडिशा के DM ने बिगाड़ा सोनू सूद का खेल: जिसके लिए बेड अरेंज करने का लूटा श्रेय, वो होम आइसोलेशन में

मदद के लिए अभिनेता सोनू सूद को किया गया ट्वीट तब से गायब है। सोनू सूद वास्तव में किसी की मदद किए बिना भी कोविड-19 रोगियों के लिए मदद की व्यवस्था करने के लिए क्रेडिट का झूठा दावा कर रहे थे।

जैश की साजिश, टारगेट महंत नरसिंहानंद: भगवा कपड़ा और पूजा सामग्री के साथ जहाँगीर गिरफ्तार, साधु बन मंदिर में घुसता

कश्मीर के रहने वाले जान मोहम्मद डार उर्फ़ जहाँगीर को साधु के वेश में मंदिर में घुस कर महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती की हत्या करनी थी।

प्रचलित ख़बरें

पैगंबर मोहम्मद की दी दुहाई, माँगा 10 मिनट का समय: अल जजीरा न्यूज चैनल बिल्डिंग के मालिक को अनसुना कर इजरायल ने की बमबारी

इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि बिल्डिंग का मालिक इजरायल के अधिकारी से 10 मिनट का वक्त माँगता है। वो कहता है कि चार लोग बिल्डिंग के अंदर कैमरा और बाकी उपकरण लेने के लिए अंदर गए हैं, कृपया तब तक रुक जाएँ।

बड़े युद्ध की तैयारी में चीन! ताइवान से चल रहे तनाव के बीच सामने आया युद्धाभ्यास का वीडियो

वीडियो में चीन का 40,000 टन वजनी युद्धपोत ‘टाइप 075’ देखा गया जो एक साथ 30 हेलिकॉप्टर और 1,000 सैनिकों को ले जाने की क्षमता रखता है।

जैश की साजिश, टारगेट महंत नरसिंहानंद: भगवा कपड़ा और पूजा सामग्री के साथ जहाँगीर गिरफ्तार, साधु बन मंदिर में घुसता

कश्मीर के रहने वाले जान मोहम्मद डार उर्फ़ जहाँगीर को साधु के वेश में मंदिर में घुस कर महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती की हत्या करनी थी।

ईद में तिरंगा बिछाया, उसके ऊपर खाना खाया: असम में 6 गिरफ्तार, रेजिना परवीन सुल्ताना के घर हो रही थी दावत

असम पुलिस ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि अभयपुरी के टेंगनामारी गाँव की रेजिना परवीन सुल्ताना के घर में डाइनिंग टेबल पर भारतीय ध्वज...

ईद में नंगा नाच: 42 सदस्यीय डांस ग्रुप की लड़कियों को नंगा नचाया, 800 की भीड़ ने खंजर-कुल्हाड़ी से धमकाया

जब 42-सदस्यीय ग्रुप वहाँ पहुँचा तो वहाँ ईद के सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसा कोई माहौल नहीं था। जब उन्होंने कुद्दुस अली से इस बारे में बात की तो वह उन्हें एक संदेहास्पद स्थान पर ले गया जो हर तरफ से लोहे की चादरों से घिरा हुआ था। यहाँ 700-800 लोग लड़कियों को घेर कर खंजर से...

ईद पर 1 पुलिस वाले को जलाया जिंदा, 46 को किया घायल: 24 घंटे के भीतर 30 कट्टरपंथी मुस्लिमों को फाँसी

ईद के दिन मुस्लिम कट्टरपंथियों ने 1 पुलिसकर्मी के साथ मारपीट की, उन्हें जिंदा जला दिया। त्वरित कार्रवाई करते हुए 30 को मौत की सजा।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,381FansLike
95,445FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe