Thursday, June 30, 2022
Homeदेश-समाज'सूअरों की बलि माँगने वाली देवी, औरतों का रेप करने वाले कृष्ण' : तमिलनाडु...

‘सूअरों की बलि माँगने वाली देवी, औरतों का रेप करने वाले कृष्ण’ : तमिलनाडु की मदुरै रैली में हिंदू देवी-देवताओं को खुलेआम दी गई गाली, केस दर्ज

मदुरै में हुई रैली में लोग चिल्ला रहे थे, “बकरियों और सूअरों की बलि माँगने वाली मारी (अम्मन देवी) एक भगवान है? महिलाओं का बलात्कार करने वाला कन्नन (भगवान कृष्ण) एक भगवान है? अगर एक आदमी एक आदमी से सेक्स करेगा तो क्या एक बच्चा पैदा? क्या अय्यप्पन को भगवान कहना सही है?”

तमिलनाडु (Tamil Nadu) के मदुरै में 29 मई 2022 को एक रैली के दौरान राजनीतिक पार्टी द्रविण कड़गम (Dravid Kadgam) ने हिन्दू देवी-देवताओं के खिलाफ अपमानजनक टिपप्णी की थी। इस मामले में शनिवार (4 मई 2022) को अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIDMK) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने कड़ी आलोचना की है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, रविवार को तमिलनाडु में पेरियार-वादी संगठनों जैसे द्रविड़ विदुथलाई कजगम (DVK), थोल थिरुमावलवन के विदुथलाई चिरुथिगल काची (VCK), पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) समेत कई अन्य संगठनों ने मदुरै में एक रैली आयोजित की। इस रैली को ‘सेन्सट्टई रैली’ बताया गया। रैली के दौरान हिन्दू देवताओं को गाली दी गई और भगवान कृष्ण, देवी अम्मन और भगवान अय्यप्पन की पूजा के खिलाफ नारेबाजी की गई।

सियासी रैली के दौरान लोग चिल्ला रहे थे, “बकरियों और सूअरों की बलि माँगने वाली मारी (अम्मन देवी) एक भगवान है? महिलाओं का बलात्कार करने वाला कन्नन (भगवान कृष्ण) एक भगवान है? अगर एक आदमी एक आदमी से सेक्स करेगा तो क्या एक बच्चा पैदा? क्या अय्यप्पन को भगवान कहना सही है?”

इसमें शामिल लोगों ने हिन्दू देवी देवताओं के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करते हुए सवाल किया, “भक्तों जो शरीर में छेद करके नाचता हुआ आता है, वो अपनी छाती में छेद क्यों नहीं कर लेता? अरे भक्तों तुम जबड़े में छेद कर नाचते हो, इससे तुम लोग अपने गले को क्यों नहीं छेद लेते। अरे भक्तों, सुई से अपनी जीभ में छेद करके आते हो, अपनी आँखों में छेद क्यों नहीं कर लेते।”

हिन्दू देवी देवताओं के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने के मामले में अन्ना द्रमुक के प्रवक्ता कोवई सत्यन ने द्रविड़ कड़गम (डीके) की आलोचना की। सत्यन ने कहा कि हिन्दुओं को गाली देना द्रविड़ कड़गम की संस्कृति रही है। उन्होंने कहा, “डीएमके का कहना है कि वे किसी भी धर्म या हिन्दुओं के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन फिर वो कार्रवाई क्यों नहीं करती। वे हिन्दुओं के अपमान पर मूकदर्शक बने रहते हैं।”

इसी तरह से भाजपा प्रवक्ता नारायणन तिरुपति (Narayan Tirupati) ने आरोप लगाया कि पहले भी इस तरह की घटनाएँ हो चुकी हैं और सरकार हमेशा से मूकदर्शक बनी रही है। उन्होंने कहा, “हम सांसद वेंकटेशन के खिलाफ कार्रवाई की माँग करते हैं। अगर ये ऐसा ही करते हैं तो DK को तमिलनाडु में बैन कर देना चाहिए।” वहीं इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं करने पर केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन ने भी DMK सरकार पर निशाना साधा।

इस बीच हिन्दू मक्कल काची के एक मेंबर अर्जुन संपत ने आरोप लगाया कि इस तरह के नारेबाजी करके हिन्दुओं की भावनाओं को ठेस पहुँचाया है। इस मामले में 2 जून को हिंदू मक्कल काची ने मदुरै स्थित SS कॉलोनी पुलिस थाने में DK के खिलाफ शिकायत की। मामले में पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

कथित तौर पर तमिलनाडु पुलिस ने DK के कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिन्दुओं की भावनाओं को आहत करने के मामले में आधिकारिक मामला दर्ज किया है। इस मामले में तीन धाराओं के तहत केस दर्ज किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,188FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe