Tuesday, July 23, 2024
HomeराजनीतिPM और CM नीतीश लैला-मजनू से कम नहीं: 'नरेंद्र मोदी बीफ खाकर सोने' वाले...

PM और CM नीतीश लैला-मजनू से कम नहीं: ‘नरेंद्र मोदी बीफ खाकर सोने’ वाले नेता की बदजुबानी

"नीतीश कुमार और मोदी की मोहब्बत की दास्तान जब लिखी जाएगी, मुझसे मत पूछिए इसमें लैला कौन है और मजनू कौन है, ये आप तय कीजिए।"

बिहार के किशनगंज में एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के सीएम नीतीश कुमार के गठबंधन पर तंज कसा है। ओवैसी ने पीएम मोदी और सीएम नीतीश कुमार के बीच के संबंध को ‘लैला-मजनू का प्‍यार’ करार दिया है। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी की आशिकी लैला-मजनू जैसी है। जब इनकी दास्तां लिखी जाएगी तो मोहब्बत की जगह नफरत का नाम लिखा जाएगा। उसमें लिखा जाएगा कि जब से ये दोनों साथ आए हैं, हिंदुस्तान में हिंदू-मुस्लिम तनाव में हैं।

असदुद्दीन यहीं नहीं रूके, उन्होंने आगे कहा, “नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी की आशिकी बड़ी मजबूत आशिकी है, लैला-मजनू से भी ज्यादा मोहब्बत इन दोनों में है। नीतीश कुमार और मोदी की मोहब्बत की दास्तान जब लिखी जाएगी, मुझसे मत पूछिए इसमें लैला कौन है और मजनू कौन है, ये आप तय कीजिए।”

बिहार के किशनगंज, पूर्णिया और कटिहार में 18 अप्रैल को मतदान है और किशनगंज में अल्पसंख्यक मतदाताओं की अच्छी-खासी तादाद को देखते हुए ओवैसी इस इलाके में अपनी पैठ बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इसके साथ ही ओवैसी ने सीएम नीतीश कुमार पर जहाँ कुर्सी के लिए पाला बदलने का आरोप लगाया, तो वहीं प्रधानमंत्री मोदी पर जनता से झूठे वादे कर गुमराह करने की बात कही। किशनगंज से एआईएमआईएम ने स्थानीय नेता अख्तरुल इमान को टिकट दिया है।

वैसे ये पहली बार नहीं है जब असदुद्दीन ओवैसी ने इस तरह का बयान दिया है। इससे पहले भी वह अपने बयानों के कारण सुर्खियों में बने रहे हैं। पिछले दिनों ओवैसी ने केंद्र सरकार पर तीखा हमला करते हुए पूछा था कि जब पुलवामा हमला हुआ थो तो प्रधानमंत्री मोदी बीफ खाकर सो रहे थे क्या?

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -