Sunday, August 1, 2021
Homeराजनीतिमोदी बीफ बिरयानी खा कर सो गए थे क्या : ओवैसी

मोदी बीफ बिरयानी खा कर सो गए थे क्या : ओवैसी

ओवैसी ने अपने भड़काऊ भाषण में आगे कहा, ‘अगर कोई कहे कि देश में दो राष्ट्रीय दल हैं तो मैं उन्हें ना कहू दूँगा क्योंकि एक राष्ट्रीय पार्टी भाजपा है दूसरी ड्योढ़ी भाजपा है। भाजपा और कॉन्ग्रेस में कोई अंतर नहीं है।’

एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र सरकार पर तीखा हमला बोला। हैदराबाद लोकसभा क्षेत्र के प्रत्याशी और वर्तमान सांसद ओवैसी ने पूछा, “जब पुलवामा का हमला हुआ तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क्या बीफ बिरयानी खा कर सो रहे थे।”

ओवैसी ने यहीं नहीं रुके आगे बोलते रहे, “हिन्दुस्तानी एयर फ़ोर्स बालाकोट में बम गिरा आई। अमित शाह कहते हैं कि 250 लोग मारे गए। राजनाथ सिंह कहते हैं कि एनटीआरओ ने 300 मोबाइल टैप किए थे। आपने बालाकोट में 300 मोबाइल तो देख लिए पर अपनी नाक के नीचे पुलवामा में 50 किलो आरडीएक्स की स्मगलिंग नहीं देख पाए?’ शनिवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा। ‘मैं प्रधानमंत्री मोदी और राजनाथ सिंह जी से यह पूछना चाहता हूँ कि जब यह सब हो रहा था तो वे क्या बीफ बिरयानी खा कर सो रहे थे?”

अपनी लड़ाई देश से सेक्युलरिज्म मिटाने की चाह रखने वालों के खिलाफ बताते हुए ओवैसी ने कहा कि भाजपा और कॉन्ग्रेस में कोई अंतर नहीं है।

ओवैसी ने अपने भड़काऊ भाषण में आगे कहा, ‘अगर कोई कहे कि देश में दो राष्ट्रीय दल हैं तो मैं उन्हें ना कहू दूँगा क्योंकि एक राष्ट्रीय पार्टी भाजपा है दूसरी ड्योढ़ी (1.5) भाजपा है। भाजपा और कॉन्ग्रेस में कोई अंतर नहीं है।’ ओवैसी ने आगे कहा। ‘मेरी लड़ाई उन सभी ताकतों से है जो देश से भाईचारा और सेक्युलरिज्म खत्म करना चाहतीं हैं।’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ममता बनर्जी महान महिला’ – CPI(M) के दिवंगत नेता की बेटी ने लिखा लेख, ‘शर्मिंदा’ पार्टी करेगी कार्रवाई

माकपा नेताओं ने कहा ​कि ममता बनर्जी पर अजंता बिस्वास का लेख छपने के बाद से वे लोग बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं।

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe