Friday, February 3, 2023
HomeराजनीतिJNU में भिड़े लेफ्ट-ABVP, केन्द्रीय मंत्री के भाषण को लेकर कटा बवाल

JNU में भिड़े लेफ्ट-ABVP, केन्द्रीय मंत्री के भाषण को लेकर कटा बवाल

JNU वामपंथी विचारधारा और राजनीति का गढ़ माना जाता है। विरोध-प्रदर्शन स्थल पर सरकार के विरोध के अलावा “आरएसएस मुर्दाबाद” और “ABVP हो बर्बाद” के भी नारे लगे। जवाब में कुछ छात्रों को “भारत माता की जय” का घोष करते हुए भी सुना जा सकता है।

प्रधानमंत्री कार्यालय के राज्यमंत्री (MoS-PMO) डॉ. जितेन्द्र सिंह के भाषण के बाद दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के दक्षिणपंथी और वामपंथी गुटों के छात्र आपस में भिड़ गए। दोनों तरफ़ से जमकर हुई नारेबाजी से शुरू हुआ बवाल हाथापाई तक जा पहुँचा। आलम यह था कि देखने वालों को हाल ही में केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के साथ जाधवपुर विश्वविद्यालय में हुई बदसलूकी के दोहराए जाने की आशंका लगने लगी।

मीडिया की खबरों में बताया जा रहा है कि डॉ. जितेन्द्र सिंह JNU में जम्मू-कश्मीर से हटाए गए अनुच्छेद 370 पर आयोजित एक सेमिनार में वक्तव्य देने पहुँचे थे। वहाँ उनके भाषण के पहले वामपंथी छात्र संगठनों ने जम कर नारेबाजी की और बवाल काटा। उल्लेखनीय है कि JNU वामपंथी विचारधारा और राजनीति का गढ़ माना जाता है। विरोध-प्रदर्शन स्थल पर सरकार के विरोध के अलावा “आरएसएस मुर्दाबाद” और “ABVP हो बर्बाद” के भी नारे लगे। जवाब में कुछ छात्रों को “भारत माता की जय” का घोष करते हुए भी सुना जा सकता है।

यह बवाल बाबुल सुप्रियो के साथ हुई हिंसा की याद दिलाने वाला था। पिछले दिनों केन्द्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के साथ भी वामपंथी छात्रों ने जाधवपुर विश्वविद्यालय में बदसलूकी हुई थी, जो आगे बढ़कर हाथापाई तक पहुँच गई थी। इसके बाद ABVP वालों ने भी जाधवपुर में जमकर तोड़फोड़ की थी

आज तक की खबर के अनुसार जब वामपंथी संगठन AISA के छात्रों ने जितेन्द्र सिंह के भाषण के बीच में टोकाटाकी और नारेबाजी की, तो जवाब में ABVP वालों ने भी “कश्मीर से कन्याकुमारी, भारत माँ एक हमारी” का नारा लगाना शुरू कर दिया। गौरतलब है कि गत 5 अगस्त को भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर से संविधान के अनुच्छेद 370 को निरस्त कर दिया था। इसके अलावा राज्य का पूर्ण राज्य का दर्जा खत्म कर उसे दो केंद्र-शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी फिर बने दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता: अमेरिका, इंग्लैंड, फ्रांस… सबके लीडर टॉप-5 से भी बाहर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता सातवें आसमान पर है। वह एक बार फिर दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता चुने गए हैं।

उपराष्ट्रपति को पद से हटवा देंगे जज-वकील: जानिए क्या है प्रक्रिया, सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम को लेकर पागलपन किस हद तक?

कॉलेजियम और केंद्र के बीच खींचतान जारी है। ऐसे में उपराष्ट्रपति और कानून मंत्री को कोर्ट हटा सकता है? क्या कहता है संविधान?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
243,756FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe