Thursday, May 23, 2024
Homeराजनीतिअल्लाह से कहिए वो हमारा इम्तिहान न ले: J&K डोमिसाइल नियम पर फारूक अब्दुल्ला...

अल्लाह से कहिए वो हमारा इम्तिहान न ले: J&K डोमिसाइल नियम पर फारूक अब्दुल्ला ने कहा- ये अवैध, हमें कबूल नहीं

"अल्लाह ने ज़रूर कुछ न कुछ और अच्छा सोच रखा है, इसीलिए ये सब हो रहा है। लेकिन हम ऐसा कुछ भी स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं, जो अवैध और असंवैधानिक है। नया डोमिसाइल नियम अवैध और असंवैधानिक है, इसलिए..."

जम्मू कश्मीर में राज्य (अब UT) के बाहर से लोगों को डोमिसाइल सर्टिफिकेट मिलने से पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला भड़क गए हैं। नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष ने कहा कि नया डोमिसाइल नियम अवैध और असंवैधानिक है, इसीलिए जम्मू कश्मीर के लोगों को ये स्वीकार्य नहीं है। श्रीनगर के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने नए डोमिसाइल नियम को मानने से इनकार करने की बात कही। वो अनंतनाग में मीडिया से बात कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि जब वो बार-बार कहते आ रहे हैं कि वो लोग ऐसा कुछ भी स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं, जो अवैध और असंवैधानिक हो, ऐसे में वो ऐसे किसी भी नियम-क़ानून को कैसे स्वीकार कैसे कर सकते हैं, जिसके वो विरुद्ध हों। हाल ही में वहाँ 26 सालों से सेवा दे रहे नवीन चौधरी को डोमिसाइल सर्टिफिकेट इशू किया गया था, जिससे अब्दुल्ला पिता-पुत्र खासे नाराज चल रहे हैं।

बता दें कि सरकार ने ऐसा कोई नियम नहीं बनाया है कि कोई भी व्यक्ति नागरिकता के लिए अप्लाई कर देगा और वो जम्मू-कश्मीर का नागरिक बन जाएगा। ऐसा इसीलिए, क्योंकि जिन्हें नागरिकता मिली है, वो पहले से ही राज्य में रह रहे हैं। नियमानुसार, जिन्होंने जम्मू-कश्मीर में 15 वर्ष गुजारे हैं अथवा जो 7 साल अध्ययनरत हैं, उन्हें ही नागरिकता देने का प्रावधान है। वहाँ रजिस्टर हो चुके प्रवासी या ऐसे सरकारी अधिकारियों के बच्चों, जिन्होंने कम से कम 10 साल तक वहाँ सेवा दे चुके हैं, वो ही नागरिकता के योग्य हैं। 

साथ ही फारूक अब्दुल्ला ने भारत सरकार को पाकिस्तान और चीन से बातचीत कर मुद्दों को सुलझाने की माँग की। श्रीनगर के सांसद अब्दुल्ला कुछ ही हफ़्तों पहले 8 महीने की हिरासत काट कर लौटे हैं। अगस्त 2019 में अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त किए जाने के साथ ही अब्दुल्ला पिता-पुत्र को हिरासत में रखा गया था। उन्होंने दावा किया कि जम्मू कश्मीर में बनी हालिया स्थिति तो ट्रायल भर है और इस घड़ी में लोगों को एकता बनाए रखने की ज़रूरत है।

जम्मू कश्मीर में नए डोमिसाइल नियम पर फारूक अब्दुल्ला का बयान

उन्होंने कहा कि ये इम्तिहान की घड़ी है, अल्लाह से कहिए कि वो हमारा इतना ज्यादा इम्तिहान न ले। साथ ही उन्होंने लोगों से ये भी कहा कि वो इम्तिहान से घबराएँ नहीं। बकौल फारूक अब्दुल्ला, अल्लाह ने ज़रूर कुछ न कुछ और अच्छा सोच रखा है, इसीलिए ये सब हो रहा है। अब्दुल्ला ने कहा कि ‘वो भी’ एक हैं और सिर्फ़ चुनाव के लिए ही नहीं बल्कि एक उद्देश्य को लेकर एक हैं।

बकौल अब्दुल्ला, पाकिस्तान हो या चीन, भारत के लिए युद्ध समाधान नहीं है और भारत को बातचीत का रास्ता अपनाना चाहिए। बता दें कि उनके बेटे और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी डोमिसाइल नियमों में बदलाव पर आपत्ति जताई है। उनका आरोप है कि केंद्र शासित प्रदेश की डेमोग्राफी को बदलने के लिए ये सब एक साजिश के तहत किया जा रहा है। उन्होंने सोशल मीडिया पर इसके खिलाफ विरोध दर्ज कराया। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SRH और KKR के मैच को दहलाने की थी साजिश… आतंकियों ने 38 बार की थी भारत की यात्रा, श्रीलंका में खाई फिदायीन हमले...

चेन्नई से ये चारों आतंकी इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से आए थे। इन चारों के टिकट एक ही PNR पर थे। यात्रियों की लिस्ट चेक की गई तो...

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -