आंध्र प्रदेश ने पास किया ‘दिशा बिल’, 21 दिनों के अंदर दी जाएगी बलात्कारियों को सज़ा

हाल ही में पड़ोसी राज्य तेलंगाना में एक पशु चिकित्सक प्रीति रेड्डी (बदला हुआ नाम) के साथ गैंगरेप और फिर उनकी नृशंस हत्या की वारदात को अंजाम दिया गया था। यह प्रस्तावित विधेयक पीड़िता को श्रद्धांजलि स्वरूप समर्पित है।

आंध्र प्रदेश विधानसभा ने शुक्रवार (13 दिसंबर) को आंध्र प्रदेश दिशा विधेयक 2019 (आंध्र प्रदेश आपराधिक क़ानून (संशोधन) अधिनियम 2019) पारित कर दिया है। इसमें महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध से जुड़े मामलों का निपटारा 21 दिन के भीतर करने का नियम है और इसमें दोषी को फाँसी की सज़ा भी दी जाएगी।

इस प्रस्तावित नए क़ानून का नाम ‘आंध्र प्रदेश दिशा अधिनियम आपराधिक क़ानून (आंध्र प्रदेश संशोधन) अधिनियम, 2019’ रखा गया है। हाल ही में पड़ोसी राज्य तेलंगाना में एक पशु चिकित्सक प्रीति रेड्डी (बदला हुआ नाम) के साथ गैंगरेप और फिर नृशंस हत्या की वारदात को अंजाम दिया गया था। यह प्रस्तावित विधेयक पीड़िता को श्रद्धांजलि स्वरूप समर्पित है। इस विधेयक को गृह राज्य मंत्री एम सुचरिता ने विधानसभा में पेश किया जिसे सत्तारूढ़ पार्टी YSR कॉन्ग्रेस ने ‘क्रांतिकारी’ बताया।

नए क़ानून के तहत रिकॉर्ड समय सात दिनों के भीतर यौन अपराधों के मामलों की जाँच और चार्जशीट दाखिल करने की तारीख से 14 कार्य दिवसों के भीतर मुक़दमे को पूरा करने की बात कही गई है। नए पारित क़ानून के तहत सज़ा के ख़िलाफ़ अपील को छ: महीने के अंदर निपटाना होगा।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ख़बर के अनुसार, भारतीय दंड संहिता (IPC) में तीन नए खंड 354E, 354F और 354G जोड़े जाएँगे जो महिलाओं के उत्पीड़न, बच्चों पर यौन उत्पीड़न और क्रमशः बच्चों पर बढ़ रहे यौन हमले को परिभाषित करते हैं। IPC की धारा-376 (बलात्कार), 376D (अस्पताल के किसी भी महिला के प्रबंधन या स्टाफ़ के किसी भी सदस्य द्वारा संभोग) और 376DA (16 साल से कम उम्र की महिला से सामूहिक बलात्कार) को सूचीबद्ध अपराधों के लिए मृत्युदंड में शामिल किया जाएगा।

ग़ौरतलब है कि 27 नवंबर को हैदराबाद के बाहरी इलाके शादनगर में एक युवती का अधजला शव बरामद हुआ था। उस शव की पहचान प्रीति रेड्डी के तौर पर हुई थी। प्रीति रेड्डी की गैंगरेप के बाद हत्या की गई और फिर लाश को जला दिया गया था। इस मामले में मोहम्मद पाशा, नवीन, चिंताकुंता केशावुलु और शिवा को गिरफ़्तार किया गया था।

आरोपितों की गिरफ़्तारी के बाद सोशल मीडिया पर लोग इन्हें जल्द से जल्द सज़ा दिलवाने की माँग कर रहे थे। घटना के 9 दिन के भीतर ही ख़बर आई थी कि हैदराबाद पुलिस ने इनका एनकाउंटर कर दिया। आरोपितों को पुलिस घटनास्थल पर क्राइम सीन रिक्रिएट करने ले गई थी। वहाँ पुलिस का हथियार छीन आरोपितों ने भागने की कोशिश की और पुलिस कार्रवाई में मारे गए।

यह भी पढ़ें: जली लाश प्रीति रेड्डी की ही, कपड़ों पर पाए गए सेमिनल मारे गए 4 दरिंदों के: DNA रिपोर्ट से पुष्टि

जैसे ‘डॉ प्रीति’ को मारा, मेरे हैवान बेटे को भी जिंदा जला कर मार दो… लोग मुझसे नफरत करेंगे’

…वो पेट्रोल पम्प वर्कर, जिसकी मदद से ‘प्रीति रेड्डी’ के बलात्कारी-हत्यारे तक पहुँच पाई पुलिस

प्रीति रेड्डी मर गई फिर भी रेप करते रहे दरिंदे: आरिफ के प्लानिंग की पूरी डिटेल

‘प्रीति’ रेड्डी केस: खेत में घसीट कर बारी-बारी से किया रेप, ट्रक में लाश डाल खरीदा था पेट्रोल-डीजल

‘पूरी तरह जली या नहीं’ – स्कूटर से बॉडी को वापस देखने आए थे आरोपित: ‘प्रीति’ रेड्डी केस में नया खुलासा


शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शाहीन बाग़, शरजील इमाम
वे जितने ज्यादा जोर से 'इंकलाब ज़िंदाबाद' बोलेंगे, वामपंथी मीडिया उतना ही ज्यादा द्रवित होगा। कोई रवीश कुमार टीवी स्टूडियो में बैठ कर कहेगा- "क्या तिरंगा हाथ में लेकर राष्ट्रगान गाने वाले और संविधान का पाठ करने वाले देश के टुकड़े-टुकड़े गैंग के सदस्य हो सकते हैं? नहीं न।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,546फैंसलाइक करें
36,423फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: