Saturday, November 26, 2022
Homeराजनीतिवामपंथी का पेज घंटों में रि-स्टोर, दक्षिणपंथी अंशुल को फेसबुक ने हफ्ते भर लटकाया

वामपंथी का पेज घंटों में रि-स्टोर, दक्षिणपंथी अंशुल को फेसबुक ने हफ्ते भर लटकाया

भारत ही नहीं, दुनिया भर के दक्षिणपंथी फेसबुक पर दक्षिणपंथियों के खिलाफ दुराग्रह का आरोप लगाते रहे हैं। फेसबुक के इस राजनीतिक पूर्वग्रह के बारे में उसकी ही पूर्व कर्मचारी ने खुलासा किया था।

सोशल मीडिया वेबसाइट फेसबुक किस कदर दक्षिणपंथियों के प्रति दुराग्रह से ग्रस्त है, इसकी एक और झलक हाल में देखने को मिली। फेसबुक ने दक्षिणपंथी ब्लॉगर व सोशल मीडिया पर्सनैलिटी अंशुल सक्सेना के पेज को पिछले सप्ताह अकारण निलंबित कर दिया। यही नहीं, लगातार अंशुल सक्सेना की शिकायत के बावजूद एक सप्ताह तक फेसबुक ने उन्हें लटकाए रखा।

‘न्यूडिटी’-विरोधी पर न्यूडिटी फैलाने का आरोप

मामला दरअसल यह था कि अंशुल सक्सेना ने बंगलुरु के एक चित्रकार की चित्र प्रदर्शनी के खिलाफ लिखा था। इस प्रदर्शनी में चित्रकार के मंगलसूत्र पहनीं नग्न महिलाओं के चित्रों का प्रदर्शन होना था। अंशुल सक्सेना ने इस पर आपत्ति जताते हुए फेसबुक पर इसे हटवाने का सामाजिक दबाव बनाने के लिए अपील की थी।

इसके बाद खुद अंशुल सक्सेना के पेज को फेसबुक ने नग्नता फैलाने के आरोप में निलंबित कर दिया। इसके बाद अंशुल ने जब इसके खिलाफ अपील की तो फेसबुक ने अपनी गलती तो मान ली पर उनका पेज चालू नहीं किया। यही नहीं, उस पेज का संचालन करने वाले उनके निजी अकाउंट को भी फेसबुक ने निलंबित कर दिया।

12 घंटे तक फेसबुक ने जब उनके पेज और अकाउंट को वापस चालू नहीं किया तो अंशुल ने ट्विटर पर फेसबुक को टैग करते हुए इसकी शिकायत की।

और आज जाकर के, सात दिन बाद, अंशुल सक्सेना का पेज फेसबुक ने दोबारा चालू किया।

ध्रुव राठी के मामले में गतिमान फेसबुक

इसी फेसबुक पर कुछ दिन पहले आम आदमी पार्टी के समर्थक माने जाने वाले ब्लॉगर और यू-ट्यूबर ध्रुव राठी ने ऐसी ही शिकायत की थी। उन्होंने हिटलर की जीवनी के कुछ अंशों को उठाकर उनकी आलोचनात्मक तुलना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से की, जिसे फेसबुक ने हिटलर की प्रशंसा मानते हुए ध्रुव राठी को 30 दिन के लिए प्रतिबंधित कर दिया था।

तब ध्रुव राठी ने आगामी चुनावों के मद्देनजर खुद को बैन किए जाने का आरोप लगाया था। इसके बाद फेसबुक ने बड़ी ही तत्परता से उनका पेज फिर से चालू कर दिया था।

सवाल यह है कि यदि ध्रुव राठी के मामले में अपनी गलती समझ में आने के बाद फेसबुक इतनी तेज गति से भूल-सुधार कर सकता है तो अंशुल सक्सेना के मामले में क्यों नहीं?

फेसबुक के राजनीतिक पूर्वग्रह का लग रहा है मामला

प्रथमदृष्टया यह फेसबुक के राईट-विंग यानि दक्षिणपंथियों के खिलाफ पूर्वग्रह का मामला लग रहा है। भारत ही नहीं, दुनिया भर के दक्षिणपंथी फेसबुक पर दक्षिणपंथियों के खिलाफ दुराग्रह का आरोप लगाते रहे हैं। ऑपइंडिया ने पिछले दिनों एक खबर प्रकाशित भी की थी जिसमें फेसबुक के इस राजनीतिक पूर्वग्रह के बारे में उसकी ही पूर्व कर्मचारी के खुलासे पर बात की गई थी। साथ ही हमने पहले ही फेसबुक द्वारा भारत के आगामी चुनावों में वाम-समर्थक दखल का भी अंदेशा पहले ही जताया था

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किसी कैदी को स्पेशल सुविधा नहीं दे सकती सरकार’: तिहाड़ में फल-सब्जियाँ चाभ रहे AAP के मंत्री सत्येंद्र जैन पर HC सख्त, मेवा माँगने...

दिल्ली हाई कोर्ट ने तिहाड़ में बंद AAP के मंत्री सत्येंद्र जैन की उस याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें उन्होंने जेल में फल और मेवों की माँग की थी।

‘अपनी मर्जी से गई, पापा के साथ नहीं रहना’: वसीम अकरम के कमरे से बरामद हुई राजस्थान के कॉन्ग्रेस नेता की बेटी, पिता ने...

कॉन्ग्रेस नेता गोपाल केसावत ने अपनी बेटी का अपहरण का केस दर्ज करवाया था। राजस्थान पुलिस अभिलाषा और उसके दोस्त वसीम अकरम को लेकर जयपुर पहुँची।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
235,641FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe