Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीतिकेजरीवाल को जेल में आई दिल्ली वालों की याद, पत्र लिखकर कहा- पानी की...

केजरीवाल को जेल में आई दिल्ली वालों की याद, पत्र लिखकर कहा- पानी की तकलीफ मत होने देना: लोग बोले- पूरा ड्रामा और पब्लिसिटी स्टंट

अरविन्द केजरीवाल ने इसी पत्र में आतिशी को आगे निर्देश दिया है कि वो दिल्ली के मुख्य सचिव को जरूरी कदम उठाने के लिए आदेश दें। इस पत्र में केजरीवाल ने कहा है कि वो जेल में है तो इसका मतलब ये नहीं कि दिल्ली की जनता को कोई तकलीफ।

आम आदमी पार्टी के मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल का जेल जाने के बाद रविवार (24 मार्च 2024) को एक पत्र सामने आया है। इस पत्र में फिलहाल जेल में बंद अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी मार्लेना को कुछ आदेश दिए हैं। इन निर्देशों में दिल्ली की जनता को पानी की सप्लाई सुचारु रूप से चलाने और उनकी समस्याओं का तत्काल समाधान करने को कहा गया है। हालाँकि नेटीजेंस ने इसे एक ड्रामा करार देते हुए दिल्ली की वर्तमान जलमंत्री की क्षमताओं पर सवाल खड़े किए हैं।

ANI द्वारा शेयर किए गए इस पत्र में ऊपर दिल्ली मुख्यमंत्री कार्यालय लिखा हुआ है। नीचे अरविन्द केजरीवाल छपा हुआ है। पत्र में उन्होंने आगे लिखा है, “मुझे पता चला है कि दिल्ली के कुछ इलाकों में पानी और सीवर की कुछ समस्याएँ हो रहीं हैं। इसे लेकर मैं चिंतित हूँ। चूँकि मैं जेल में हूँ इस वजह से लोगों को कोई तकलीफ नहीं होनी चाहिए। गर्मियाँ भी आ रहीं हैं। जहाँ पानी की कमी है वहाँ उचित सँख्या में टैंकरों का इंतजाम कीजिए।”

अरविन्द केजरीवाल ने इसी पत्र में आतिशी को आगे निर्देश दिया है कि वो दिल्ली के मुख्य सचिव को आदेश दें। इस आदेश में जनता को कोई तकलीफ न होने का ध्यान रखने को कहा गया है। अरविन्द केजरीवाल ने आतिशी से कहा है कि जरूरत पर वो उपराज्यपाल का भी सहयोग लें। केजरीवाल ने उम्मीद जताई है कि दिल्ली की समस्याओं के समाधान में उपराज्यपाल भी मदद करेंगे।

इस पत्र पर आतिशी मार्लेना का भी बयान आया है। उन्होंने अरविन्द केजरीवाल द्वारा खुद को चिट्ठी भेजे जाने की पुष्टि की है। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए उन्होंने केजरीवाल को दिल्ली की जनता का शुभचिंतक बताया है। वहीं यह पत्र वायरल होते ही नेटीजेंस तरह-तरह के कमेंट करने लगे हैं।

अमिताभ चौधरी ने अरविन्द केजरीवाल के इस पत्र को ड्रामा करार दिया है। उन्होंने अपने X हैंडल से लिखा है कि दिल्ली के लोगों का ध्यान रखने के लिए आतिशी मर्लेना अपनी तरफ से फैसले क्यों नहीं ले सकती हैं। अमिताभ चौधरी ने इसे अरविन्द केजरीवाल का मीडिया और पब्लिसिटी स्टंट करार दिया है।

चित्र साभार- X/@MithilaWaala

इस पत्र के सामने आने के बाद विभूति सिंह ने लिखा, “जेल जाते ही जनता की समस्या याद आने लगी। जब शीशमहल में थे तब इनको दिल्ली की समस्या का पता नहीं चलता था। लेकिन भ्रष्टाचार में अंदर जाते ही जनता की समस्या का पता चलने लगा। जब जलमंत्री को इस बात का पता नहीं है कि कहाँ पानी की समस्या है और कहाँ सीवर की समस्या है, तो उसे कामचोरी और निकम्मेपन के लिए इस्तीफ़ा दे देना चाहिए।”

चित्र साभार- X/@VibhutiSinghIND

इसी पत्र पर अपने विचार रखते हुए अभिषेक रंजन ने लिखा, “कामचोर। बाहर रहते तो किया नही कुछ, अंदर से आर्डर दे रहा है।”

चित्र साभार- X/@1abhimat

इनके अलावा कई अन्य सोशल मीडिया यूजर भी इस पत्र को पब्लिसिटी स्टंट बता कर तमाम तरह के सवाल खड़े कर रहे। वकील पुनीत सिंह ने अरविन्द केजरीवाल को गजब का आदमी बताया और लिखा कि दिल्ली की सड़कों पर पानी है ये इन्हे जेल जाने के बाद पता चला।

बताते चलें कि करोड़ों रुपए के शराब कांड घोटाले में संलिप्तता के आरोपों के चलते अरविन्द केजरीवाल फिलहाल जेल में हैं। ED द्वारा लगातार नोटिस देने के बावजूद वो पेश नहीं हुए। इसी मामले में केजरीवाल के राज्यसभा सांसद संजय सिंह, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और मंत्री सत्येंद्र जैन पहले से ही जेल काट रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NEET-UG विवाद: क्या है NTA, क्यों किया गया इसका गठन, किस तरह से कराता है परीक्षाओं का आयोजन… जानिए सब कुछ

सरकार ने परीक्षाओं के पारदर्शी, सुचारू और निष्पक्ष संचालन को सुनिश्चित करने के लिए विशेषज्ञों की एक उच्च स्तरीय समिति की घोषणा की है

हिंदुओं का गला रेता, महिलाओं को नंगा कर रेप: जो ‘मालाबर स्टेट’ माँग रहे मुस्लिम संगठन वहीं हुआ मोपला नरसंहार, हमें ‘किसान विद्रोह’ पढ़ाकर...

जैसे मोपला में हिंदुओं के नरसंहार पर गाँधी चुप थे, वैसे ही आज 'मालाबार स्टेट' पर कॉन्ग्रेसी और वामपंथी खामोश हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -