#ExitPoll पर AAP और ममता का रोना-धोना शुरू: कहा चुनाव कैंसिल करवाए जाएँ

AAP नेता संजय सिंह, तृणमूल की ममता बनर्जी और कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने भी चुनाव आयोग और EVM को कोसना शुरू कर दिया है।

कल (19 मई) लोकसभा चुनाव 2019 का अंतिम चरण पूरा होते ही शाम 6:30 बजे से एग्जिट पोल आने शुरू हो गए थे। लगभग सभी एग्जिट पोल में एनडीए को 300 या इससे अधिक सीटें मिलने का अनुमान लगाया जा रहा है और कॉन्ग्रेस की हालत पतली बताई जा रही है।

एग्जिट पोल के अनुसार जहाँ सभी राज्यों में भाजपा को बढ़त मिलती दिख रही है वहीं दूसरी तरफ दिल्ली में सिमटी हुई पार्टी AAP को 0-1 सीट ही मिलने की संभावना है। जैसे ही यह आँकड़ा न्यूज़ चैनलों पर दिखाई देने लगा AAP के नेता बौखला गए और ‘EVM से छेड़छाड़’ का जिन्न बोतल से निकाल लिया।

AAP नेता संजय सिंह ने ट्वीट किया, “क्या असली खेल EVM है? क्या पैसे देकर EXIT POLL कराया गया? यूपी, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, दिल्ली, बंगाल हर जगह BJP ही जीत रही है ये कौन यक़ीन करेगा? सभी दल EC से मिलकर VVPAT-EVM के मिलान में गड़बड़ी पर Election रद्द करने की माँग करें।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

संजय सिंह का यह ट्वीट बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए आया जिसमें ममता ने लिखा था, “मुझे एग्जिट पोल की बकवास पर भरोसा नहीं है। इस बकवास के पीछे छिपकर हजारों EVM से छेड़छाड़ करने का षड्यंत्र रचा जा रहा है। मैं सभी विपक्षी दलों से अपील करती हूँ कि वे एक होकर निडरता से मज़बूती से खड़े रहें, हम ये जंग एकसाथ लड़ेंगे।”

आश्चर्य तो तब हुआ जब राहुल गाँधी ने भी एक प्रकार से हार स्वीकार करते हुए ट्वीट किया और ठीकरा EVM पर फोड़ा। राहुल गाँधी ने एग्जिट पोल आने से पहले ही ट्वीट में लिखा, “इलेक्टोरल बॉन्ड से EVM और चुनाव की तारीखें बदलने तक, नमो टीवी, मोदी की सेना और अब केदारनाथ में ड्रामा; निर्वाचन आयोग ने मोदी और उनके गैंग के सामने समर्पण कर दिया है। एक समय में आयोग से लोग डरते थे और इज्जत करते थे लेकिन अब नहीं।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: