Wednesday, September 28, 2022
Homeराजनीति'आबादी कंट्रोल करें, जमीन कब्जाने की इजाजत नहीं': 30 दिन पूरे होने पर अल्पसंख्यकों...

‘आबादी कंट्रोल करें, जमीन कब्जाने की इजाजत नहीं’: 30 दिन पूरे होने पर अल्पसंख्यकों को CM सरमा का मैसेज

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार किसी भी हालत में मंदिरों, सतरा और जंगल की जमीन पर कोई अतिक्रमण स्वीकार नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय के प्रतिनिधियों ने भूमि अतिक्रमण नहीं किए जाने का भरोसा दिलाया है।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने गरीबी कम करने के लिए अल्पसंख्यक समुदाय से आबादी कंट्रोल करने को कहा है। साथ ही स्पष्ट किया है कि उनकी सरकार मंदिर, सतरा और वन भूमि पर अतिक्रमण नहीं होने देगी। बतौर मुख्यमंत्री 30 दिन पूरे होने पर गुरुवार (10 जून 2021) को उन्होंने यह बात कही।

सरमा ने अल्पसंख्यक समुदाय से अपील करते हुए कहा कि वे जनसंख्या नियंत्रण के लिए परिवार नियोजन की नीति अपनाएँ। उन्होंने कहा कि गरीबी का मुख्य कारण लगातार आबादी बढ़ना है। लिहाजा समुदाय के सभी प्रतिनिधियों को आगे आकर इस दिशा में सरकार का समर्थन करना चाहिए।

उन्होंने कहा, “सरकार गरीबों की सुरक्षा और उनके लिए काम करने के लिए प्रतिबद्ध है, लेकिन सरकार को भी जनसंख्या वृद्धि से निपटने के लिए अल्पसंख्यकों का पूरा सहयोग चाहिए क्योंकि इसी के कारण गरीबी और अशिक्षा की समस्याउत्पन्न हुई है। इसके पीछे एक ही कारण है, फैमिली प्लानिंग की कमी।”

सरमा ने यह भी कहा कि उनकी सरकार अल्पसंख्यकों महिलाओं को शिक्षित करने का भी काम करेगी जिससे समस्याओं का हल प्रभावी तरीके से निकाला जा सके। अल्पसंख्यक समुदाय के प्रतिनिधियों से कहा है कि वे जनसंख्या नियंत्रण के मामले में अपने लोगों को जागरूक करने का कार्य करें।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार किसी भी हालत में मंदिरों, सतरा और जंगल की जमीन पर कोई अतिक्रमण स्वीकार नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय के प्रतिनिधियों ने भूमि अतिक्रमण नहीं किए जाने का भरोसा दिलाया है। ‘सतरा’ ऐसे धार्मिक केंद्र होत हैं जहाँ बड़ी संख्या में ब्रह्मचारी और गैर-ब्रह्मचारी भक्त और श्रद्धालु निवास करते हैं। इन सतरों के पास विशाल भूमि होती है जिसके कारण इनकी भूमि के अतिक्रमण की आशंका भी बनी रहती है। असम के ये सतरा वैष्णव समुदाय से जुड़े हुए हैं।

गौरतलब मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी सँभालते ही सरमा ने गोरक्षा का समर्थन करते हुए साफ कर दिया था कि जहाँ हिन्दू रहते हैं और गौवंश की पूजा करते हैं, वहाँ किसी भी हालत में गौहत्या बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इसके अलावा उन्होंने भाजपा के घोषणा-पत्र के अनुसार सरकारी भूमि, मंदिर और सतरा की भूमि से अवैध अतिक्रमण को हटाने का आदेश दिया। इसके बाद से कार्रवाई करते हुए प्रशासन लगभग 400 बीघा जमीन अतिक्रमण से मुक्त करा चुका है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल का एक दुर्गा पूजा पंडाल ऐसा भी: याद उनकी जो चुनाव बाद मार डाले गए, सुनाई देगी माँ की रुदन

दुर्गा पूजा में अलग-अलग थीम के पंडाल के तैयार किए जाते हैं। पश्चिम बंगाल में इस बार एक पूजा पंडाल उन लोगों की याद में तैयार किया गया है जो विधानसभा चुनाव के बाद राजनीतिक हिंसा में मार डाले गए थे।

मूर्तिपूजकों को जहाँ देखो, वहीं लड़ो-काटो… ऐसे बनाओ IED बम: PFI पर 5 साल का बैन क्यों लगा, पढ़िए इसके कुकर्मों की पूरी लिस्ट

भारत सरकार ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया (PFI) और उससे जुड़ी 8 संस्थाओं पर बैन लगा दिया है। PFI की देश विरोधी गतिविधियों के कारण...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,749FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe