माफी नहीं मॉंगी तो आजम खान पर होगी कार्रवाई, बचाव में बीवी बोली- उर्दू की मिठास से गलतफहमी

सभी सांसदों ने एक सुर में लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला से एक्शन लेने की माँग की थी। इसे लेकर स्पीकर ने विपक्षी नेताओं के साथ सर्वदलीय बैठक की। इस बैठक में फैसला लिया गया कि आजम खान लोकसभा में माफी माँगे, नहीं तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी

लोकसभा में गुरुवार (जुलाई 25, 2019) को सपा सांसद आज़म खान द्वारा भाजपा सांसद रमा देवी के ऊपर दिए गए आपत्तिजनक बयान को लेकर सभी महिला सांसदों के तल्‍ख तेवर देखने को मिले हैं, इन सभी सांसदों ने एक सुर में लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला से एक्शन लेने की माँग की थी। इसे लेकर स्पीकर ने विपक्षी नेताओं के साथ सर्वदलीय बैठक की। इस बैठक में फैसला लिया गया कि आजम खान लोकसभा में माफी माँगे, नहीं तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी तो वहीं आज़म खान की पत्नी तजीन फातिमा उनके बचाव में उतर आई हैं।

तजीन का कहना है कि आज़म खान को साजिश के तहत फँसाया जा रहा है। वो एक अच्छे वक्ता हैं। इसलिए उनके खिलाफ साजिश रची जा रही है, ताकि वो संसद में ना बोल पाएँ। फातिमा ने कहा कि उन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं बोला है, जिसको लेकर उनके ऊपर ऐसे आरोप लगाए जा रहे हैं। उर्दू भाषा में ऐसी मिठास है, जिसकी वजह से ऐसा लग रहा है। तजीन का कहना है कि उन्हें जया प्रदा के मामले में भी फँसाया गया था, जिससे कि वो लोकसभा न पहुँच सकें और अभी भी विधानसभा उपचुनाव आ रहा है, जिसको लेकर उन्हें फँसाया जा रहा है।

महिला सांसद के ऊपर की गई टिप्पणी को केंद्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी, वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण, टीएमसी सांसद मिमी चक्रवर्ती समेत अन्‍य सांसदों ने निंदनीय और शर्मनाक बताया है। स्‍मृति ईरानी ने तो आजम खान को पुरुष सांसदों पर धब्‍बा तक बता दिया है तो वहीं खुद शिवहर से भाजपा सांसद रमा देवी ने आजम खान के निलंबन की माँग की है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

रमा देवी ने सरकार और स्‍पीकर से कहा कि आजम खान सोमवार को बिना शर्त लोकसभा में माफी माँगे। अगर वे माफी नहीं मागते हैं तो उन्‍हें 5 साल के लिए निलंबित किया जाए। उन्‍होंने स्‍पीकर और सरकार के सामने ये माँग रखी है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शरजील इमाम
“अब वक्त आ गया है कि हम गैर मुस्लिमों से बोलें कि अगर हमारे हमदर्द हो तो हमारी शर्तों पर आकर खड़े हो। अगर वो हमारी शर्तों पर खड़े नहीं होते तो वो हमारे हमदर्द नहीं हैं। असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है। असम और इंडिया कटकर अलग हो जाए, तभी ये हमारी बात सुनेंगे।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,993फैंसलाइक करें
36,108फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: