Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिहर दूसरे दिन पिट रहे हैं कन्हैया कुमार, जूता-चप्पल, अंडा, मोबिल, पत्थर... सब बरसा...

हर दूसरे दिन पिट रहे हैं कन्हैया कुमार, जूता-चप्पल, अंडा, मोबिल, पत्थर… सब बरसा रहे बिहारी

कन्‍हैया पर मोतिहारी, सुपौल, कटिहार, सीवान, मधेपुरा, गोपालगंज, जमुई, गया और सारण सहित कई स्थानों पर सात बार हमला हो चुका है। वे जहॉं भी गए हैं उन्हें लोगों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा है। जमुई में तो उन्हें कौआ कुमार की संज्ञा देते हुए गो बैक के पोस्टर दिखाए गए थे।

बिहार में जन-गण-मन यात्रा पर निकले जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष और CPI नेता कन्हैया कुमार को लगातार भारी विरोध का सामना करना पड़ा रहा है। विरोध भी कुछ इस तरह कि लोग कन्हैया पर अंडे, मोबिल और पत्थर तक फेंक रहे हैं। बीते दो सप्ताह में 7 बार उनके काफिले पर हमला हो चुका है।

जानकारी के मुताबिक मंगलवार को गया ज़िले के इमामगंज क्षेत्र के गाँधी मैदान में CPI की ओर से सीएए के ख़िलाफ़ जनसभा का आयोजन किया गया था। सभा को संबोधित करने जा रहे कन्हैया कुमार के काफ़िले पर विश्रामपुर के पास पथराव किया गया। काफिले पर लोगों ने अंडा, स्याही, जला हुआ मोबिल और पत्थर फेंके। विरोध कर रहे लोगों ने काले झंडे दिखाते हुए कन्हैया मुर्दाबाद के नारे लगाए। पथराव में कन्हैया के काफिले के साथ चल रहे वजीरगंज से कॉन्ग्रेस के विधायक अवधेश प्रसाद सिंह की गाड़ी का शीशा टूट गया।

https://platform.twitter.com/widgets.js
दैनिक जागरण के गया संस्करण में 12 फरवरी 2020 को प्रकाशित खबर

इसके पहले सोमवार को जमुई से नवादा आते वक्‍त कन्हैया के काफिले पर हमला किया गया था। इस दौरान लोगों ने नवादा में उनके लिए कौआ कुमार की संज्ञा देते हुए गो बैक के पोस्‍टर दिखाए थे। आपको बता दें कि, पिछले करीब 14 दिनों में कन्‍हैया पर मोतिहारी, सुपौल, कटिहार, सीवान, मधेपुरा, गोपालगंज, जमुई, गया और सारण सहित कई स्थानों पर सात बार हमला हो चुका है। इतना ही नहीं कन्हैया इस यात्रा के दौरान जहाँ कहीं भी गए वहीं उनकों लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा है। कन्हैया का विरोध करने वाले लोगों का कहना है कि वह देशद्रोही हैं, उनसे देश के लिए बेहतरी की उम्मीद नहीं की जा सकती।

कन्हैया कुमार ये बि​​हारी हैं सब पबित्तर कर देंगे, मैदान से लेकर वामपं​थी प्रोपेगेंडा की दुकान तक

बिग BC का नया चुटकुला: ‘कन्हैया कुमार की लोकप्रियता से मोदी ही नहीं, पूरी सरकार चिंतित है’

लिंगलहरी कन्हैया कुमार के गुंडे चुनावी गाड़ियों में डंडे-ईंट-पत्थर लेकर क्यों चलते हैं?

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe