Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीति'वापस आ गया लालटेन युग': मोबाइल के टॉर्च की रोशनी में नीतीश के 3...

‘वापस आ गया लालटेन युग’: मोबाइल के टॉर्च की रोशनी में नीतीश के 3 मंत्रियों की सभा, अँधेरे में करते रहे विकास की बातें

बीजेपी बिहार ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर रविवार (11 सितंबर, 2022) को' न्यूज 18' की खबर का स्क्रीनशाॅट साझा करते हुए लिखा, "लालटेन युग का शुभारंभ!"

बिहार के रोहतास जिले में नीतीश कुमार के तीन मंत्रियों को मोबाइल की रोशनी में ही सभा करनी पड़ी। बिहार सरकार के मंत्रियों का मोबाइल की रोशनी में भीड़ को संबोधित करने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महागठबंधन सरकार के तीन मंत्रियों काॅन्ग्रेस के मुरारी गौतम, राजद की अनिता देवी और जेडीयू के जमा खान का अभिनंदन समारोह शनिवार (10 सितंबर, 2022) दोपहर डाक बंगला मैदान में रखा गया था।

लेकिन, देरी से आने और लाइट न होने के कारण बिहार सरकार के मंत्रियों को मोबाइल की रोशनी में ही भाषण देना पड़ा। कार्यक्रम में लाइट की व्यवस्था नहीं होने पर समर्थकों ने तुरंत अपने मोबाइल के टॉर्च ऑन किए और उसी में मंत्री जी ने अपना भाषण देना शुरू कर दिया। काॅन्ग्रेस के मुरारी गौतम चेनारी से विधायक भी हैं।

वीडियो में महगठबंधन सरकार के लेट-लतीफ मंत्री अँधेरे में अपनी सरकार की उपलब्धियाँ गिनाते हुए रोजगार और विकास के दावे करते हुए दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये पढ़ाई, दवाई, कमाई, सुनवाई और कार्रवाई की सरकार है। उन्होंने दावा किया कि ‘जुमलेबाज’ सरकार बहुत कुछ कह रही, लेकिन महागठबंधन की सरकार 10 लाख नौकरी देगी।

इसको लेकर बीजेपी ने नीतीश सरकार और उनके मंत्रियों पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि बिहार में लालटेन युग वापस आ गया है। बीजेपी बिहार ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर रविवार (11 सितंबर, 2022) को’ न्यूज 18′ की खबर का स्क्रीनशाॅट साझा करते हुए लिखा, “लालटेन युग का शुभारंभ!”

बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार के तीनों मंत्रियों ने जिस जगह पर सभा आयोजित की थी, उसे नक्सलियों का गढ़ माना जाता है। वहीं, वीडियो वायरल होने के बाद कार्यक्रम के आयोजक सफाई दे रहे हैं। उनका कहना है कि समारोह शनिवार दोपहर में ही होना था, लेकिन आमंत्रित मंत्री देर से आयोजन स्थल पर पहुँचे। उस वक्त शाम हो चुकी थी, ऐसे में जब मंत्रियों के सभा को संबोधित करने की बारी आई, तब तक पूरा अँधेरा हो चुका था। उस समय कार्यकर्ताओं ने अपने मोबाइल के टार्च जलाए, जिसमें मंत्री जी को अपना भाषण देना पड़ा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -