Sunday, June 16, 2024
Homeराजनीतिमुख्तार अंसारी को कॉन्ग्रेस द्वारा 'राज्य अतिथि' बनाने पर बिफरीं BJP विधायक, प्रियंका गाँधी...

मुख्तार अंसारी को कॉन्ग्रेस द्वारा ‘राज्य अतिथि’ बनाने पर बिफरीं BJP विधायक, प्रियंका गाँधी को पत्र लिख पूछा सवाल

“प्रियंका जी, ये तस्वीरें देखकर मुझे और मेरे परिवार को कष्ट हुआ। इससे पूर्व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश की अदालतों में वांछित अपराधी मुख्तार अंसारी को लाने के लिए 32 बार अपने वाहन भेज चुके हैं लेकिन आप और आपकी पंजाब सरकार मुख्तार को बचाने में लगी है।”

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर से भारतीय जनता पार्टी विधायक अलका राय ने कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी वाड्रा को चिट्ठी लिखकर बाहुबली मुख्तार अंसारी को बचाने का आरोप लगाया है। अलका राय, पूर्व विधायक कृष्णानंद राय की पत्नी हैं, जिनकी हत्या का आरोप मुख्तार अंसारी पर लगा था।

बीजेपी विधायक अलका राय ने अपनी चिट्ठी में कहा कि आपने (प्रियंका गाँधी वाड्रा) और आपकी (पंजाब) सरकार ने मेरे पति के हत्यारे मुख्तार और वांछित चल रहे उसके बेटे अब्बास को राज्य अतिथि के रूप में शरण दी है। इसके साथ ही अलका राय, मुख्तार अंसारी के बेटे की राजस्थान में भव्य शादी पर दुख जताया है।

बीजेपी विधायक अलका ने प्रियंका वाड्रा से भावनात्मक सवाल पूछा कि आपकी सरकार द्वारा हत्यारे को क्यों बचाया जा रहा है? अलका ने प्रियंका को कार्रवाई करने और एक महिला होने के नाते उनके दुख को समझने के लिए कहा है। 

पत्र में अलका राय ने लिखा है, “आपसे मुझे शोक के साथ कहना पड़ रहा है कि आपके नेतृत्व में पंजाब और राजस्थान की सरकार ने मेरे पति के हत्यारे कुख्यात अपराधी मुख्तार अंसारी और उसके इनामिया बेटे अब्बास अंसारी को राज्य अतिथि का दर्जा दे रखा है। इसका प्रमाण है अखबार में छपी तस्वीरें, जिससे स्पष्ट है कि सरकारी संरक्षण में राजस्थान सरकार ने मुख्तार के इनामिया बेटे अब्बास की धूमधाम से शादी कराई।”

अलका राय ने प्रियंका गाँधी को लिखा पत्र

उन्होंने आगे लिखा, “प्रियंका जी, ये तस्वीरें देखकर मुझे और मेरे परिवार को कष्ट हुआ। इससे पूर्व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश की अदालतों में वांछित अपराधी मुख्तार अंसारी को लाने के लिए 32 बार अपने वाहन भेज चुके हैं लेकिन आप और आपकी पंजाब सरकार मुख्तार को बचाने में लगी है। एक महिला होने के नाते मुझे एक उम्मीद थी कि आप मेरे दर्द को समझेंगी।”

पत्र में लिखा है, “आप आए दिन अपराध और अपराधियों के खिलाफ दावे करती रहती हैं परन्तु इंसाफ माँग रही मुझ जैसी अनेकों पीडि़ताओं का एक भी पत्र का न तो आपने जवाब देना उचित समझा और न ही हमें इंसाफ दिलाने की कोशिश की। उल्टे यह बात स्पष्ट है कि आप और आपकी सरकार पूरी तरह मुख्तार और उसके अपराध के पीछे खड़ी है। आपके जवाब का इंतजार रहेगा।”

बता दें कि अलका राय कई बार प्रियंका गाँधी वाड्रा को चिट्ठी लिख चुकी हैं। पिछली बार बीजेपी विधायक अलका राय ने अपनी चिट्ठी में लिखा था, “मैं विधवा हूँ और विगत 14 वर्षों से मैं अपने पति व लोकप्रिय विधायक रहे स्वर्गीय कृष्णानंद राय की नृशंस हत्या के विरुद्ध इंसाफ की लड़ाई लड़ रही हूँ। उस जुल्मी के खिलाफ जिसे आज आपकी पार्टी और पंजाब राज्य में आपकी सरकार खुला संरक्षण दे रही है।”

बीजेपी विधायक अलका राय ने लिखा, “उत्तर प्रदेश की तमाम अदालतों से मुख्तार अंसारी को तलब किया जा रहा है, परंतु पंजाब सरकार उसे उत्तर प्रदेश भेजने को तैयार नहीं है। हर बार कोई ना कोई बहाना बनाकर मुझे और मुझ जैसे सैकड़ों लोगों को इंसाफ से वंचित किया जा रहा है।”

बताते चलें कि अलका राय के पति कृष्णानंद राय गाजीपुर जिले के मुहम्मदाबाद के बीजेपी विधायक थे। कृष्णानंद राय की साल 2005 में गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। अलका राय ने मुख्तार अंसारी के खिलाफ कृष्णानंद की हत्या का मामला दर्ज कराया था। कई सालों तक चले इस मामले में दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने मुख्तार अंसारी को निर्दोष करार दिया था। फिलहाल, मुख्तार अंसारी रंगदारी के एक केस में पंजाब की रोपड़ जेल में बंद है।

योगी सरकार बाहुबली मुख्तार अंसारी को पंजाब से उत्तर प्रदेश लाने की तैयारी में है। सरकार मुख्तार को लाने के लिए कानूनी विकल्पों का सहारा ले रही है। यूपी पुलिस मुख्तार को किसी भी कीमत पर वापस लाने के लिए प्रतिबद्ध है। उत्तर प्रदेश से कई बार पुलिस टीम पंजाब मुख्तार को लाने गई, लेकिन हर बार मेडिकल रिपोर्ट का हवाला देकर मुख्तार को यूपी पुलिस को नहीं सौंपा गया। जब रोपड़ जेल पर दबाव बनाया गया, तो जेल अधिकारियों ने मुख्तार की मेडिकल रिपोर्ट यूपी पुलिस को दे दी।

आरोप है कि पंजाब सरकार मुख्तार अंसारी को बचाने की कोशिश कर रही है। तमाम कोशिशों के बावजूद जब यूपी सरकार मुख्तार को प्रदेश लाने में विफल रही तो अंत में यूपी सरकार को इस मामले कानूनी विकल्पों का सहारा लेना पड़ा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K में योग दिवस मनाएँगे PM मोदी, अमरनाथ यात्रा भी होगी शुरू… उच्च-स्तरीय बैठक में अमित शाह का निर्देश – पूरी क्षमता लगाएँ, आतंकियों...

2023 में 4.28 लाख से भी अधिक श्रद्धालुओं ने बाबा अमरनाथ का दर्शन किया था। इस बार ये आँकड़ा 5 लाख होने की उम्मीद है। स्पेशल कार्ड और बीमा कवर दिया जाएगा।

परचून की दुकान से लेकर कई हजार करोड़ के कारोबार तक, 38 मुकदमों वाले हाजी इक़बाल ने सपा-बसपा सरकार में ऐसी जुटाई अकूत संपत्ति:...

सहारनपुर में मिर्जापुर का रहने वाला मोहम्मद इकबाल परचून की दुकान से काम शुरू कर आगे बढ़ता गया। कभी शहद बेचा, तो फिर राजनीति में आया और खनन माफिया भी बना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -