Friday, May 20, 2022
HomeराजनीतिPM मोदी ने मंत्रियों के विभाग बाँटे, नए मंत्रालय के भी अमित ही शाह:...

PM मोदी ने मंत्रियों के विभाग बाँटे, नए मंत्रालय के भी अमित ही शाह: सिंधिया को उड़ान, प्रधान को शिक्षा, मनसुख को हेल्थ

महाराष्ट्र से आने वाले नारायण राणे ने सबसे पहले शपथ ली है, जबकि असम के पूर्व सीएम सर्वानंद सोनेवाला ने दूसरे नंबर पर शपथ ली। तीसरे नंबर पर वीरेंद्र कुमार ने और चौथे नंबर पर मध्यप्रदेश से राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया शपथ लेते नजर आए। इसके बाद हरदीप सिंह पुरी, मनसुख मांडविया और...

नरेंद्र मोदी सरकार में बुधवार (7 जुलाई 2021) को व्यापक फेरबदल हुआ। 43 नए मंत्रियों ने शपथ ली। इनमें 15 कैबिनेट रैंक के हैं। उससे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 12 मंत्रियों के इस्तीफे स्वीकार किए।

शपथ ग्रहण के बाद मोदी कैबिनेट में मंत्रियों की संख्या 77 हो गई है। प्रधानमंत्री ने विभागों का भी बँटवारा कर दिया है। मंगलवार को जिस सहकारिता मंत्रालय का गठन किया गया था, उसकी जिम्मेदारी गृह मंत्री अमित शाह को दी गई है।

ज्योतिरादित्य ​सिंधिया को नागरिक उड्डयन तो धर्मेंद्र को शिक्षा की जिम्मेदारी दी गई है। मनसुख मनसुख मंडाविया नए स्वास्थ्य मंत्री बनाए गए हैं। असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को पोर्ट्स, शिपिंग एंड वाटरवेज तथा आयुष मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है।

प्रमोशन पाने वाले अनुराग ठाकुर को युवा ओर खेल मामलों का मंत्री बनाया गया है। उन्हें सूचना और प्रसारण मंत्रालय की भी जिम्मेदारी दी गई है। इसी तरह हरदीप पुरी को पेट्रोलियम मंत्री बनाया गया है। वे पहले की तरह शहरी विकास भी देखते रहेंगे।

मंत्रियों के विभागों की पूरी लिस्ट नीचे देख सकते हैं;

इससे पहले 43 नेताओं ने राष्ट्रपति भवन में शपथ ग्रहण की। इस दौरान वहाँ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह समेत कई दिग्गज नेता मौजूद रहे। इसके अलावा मंत्री पद से इस्तीफा देने वाले प्रकाश जावड़ेकर और रविशंकर प्रसाद भी समारोह में मौजूद दिखे।

महाराष्ट्र से आने वाले नारायण राणे ने सबसे पहले शपथ ली है, जबकि असम के पूर्व सीएम सर्वानंद सोनेवाला ने दूसरे नंबर पर शपथ ली। तीसरे नंबर पर वीरेंद्र कुमार ने और चौथे नंबर पर मध्यप्रदेश से राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया शपथ लेते नजर आए। इसके बाद हरदीप सिंह पुरी, मनसुख मांडविया, भूपेंद्र यादव, पशुपति कुमार पारस, किरण रिजिजू और राम कुमार सिंह ने भी शपथ ली।

राष्ट्रपति भवन में नए मंत्रिमंडल के लिए शपथ लेने वाले सभी 43 नाम हैं: 1. नारायण राणे 2. सर्बानंद सोनोवाल 3. वीरेंद्र कुमार 4. ज्योतिरादित्य सिंधिया 5. आरसीपी सिंह 6. अश्विनी वैष्णव 7. पशुपति कुमार पारस 8. किरण रिजिजू 9. राजकुमार सिंह 10. हरदीप सिंह पुरी 11. मनसुख मंडाविया 12. भूपेंद्र यादव 13. पुरुषोत्तम रूपाला 14. जी किशन रेड्डी 15. अनुराग ठाकुर 16. पंकज चौधरी 17. अनुप्रिया पटेल 18. सत्यपाल सिंह बघेल 19. राजीव चंद्रशेखर 20. शोभा करंदलाजे 21. भानुप्रताप सिंह वर्मा 22. दर्शना विक्रम जरदोश 23. मीनाक्षी लेखी 24. अन्नपूर्णा देवी 25. ए नारायण स्वामी 26. कौशल किशोर 27. अजय भट्ट 28. बीएल वर्मा 29. अजय कुमार 30. देवसिंह चौहान 31. भगवंत खूबा 32. कपिल पाटिल 33. प्रतिमा भौमिक 34. सुभाष सरकार 35. भगवत कृष्ण राव कराड़ 36. राजकुमार रंजन सिंह 37. भारती प्रवीण पवार 38. विश्वेश्वर टुडू 39. शांतनु ठाकुर 40. महेंद्र भाई मुंजापारा 41. जॉन बारला 42. एल मुरुगन 43. नीतीश प्रामाणिक

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी कैबिनेट का विस्तार से पहले शपथ लेने वाले सभी नेताओं की सूची को राष्ट्रपति भवन भेजा गया था। वहीं 12 मंत्री ऐसे थे जिन्होंने इस सियासी हलचल में अपना इस्तीफा सौंपा। इन 12 नामों में आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद और पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का नाम भी शामिल है।

बता दें कि नए मंत्रिमंडल में ज्योतिरादित्य सिंधिया के जुड़ने से उनके समर्थकों में खुशी का माहौल है। भोपाल में भाजपा दफ्तर के बाहर जश्न मनाया जा रहा है। मिठाई बँट रही हैं। सबका कहना है कि मिठाई इसलिए है क्योंकि पीएम मोदी ने युवा नेतृत्व पर भरोसा किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस पर प्रशांत किशोर का डायरेक्ट वार: चिंतन शिविर पर उठाए सवाल, कहा- गुजरात-हिमाचल में भी होगी हार

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कॉन्ग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि इस चिंतन शिविर से पार्टी में कुछ बदलाव नहीं आने वाला है।

औरंगजेब मंदिर विध्वंस का चैंपियन, जमीन आज भी देवता के नाम: सुप्रीम कोर्ट को बताया क्यों ज्ञानवापी हिंदुओं का, कैसे लागू नहीं होता वर्शिप...

सुप्रीम कोर्ट में जवाबी याचिका में हिंदू पक्ष ने ज्ञानवापी मामले में कहा कि औरंगजेब ने मंदिर ध्वस्त कर भूमि को किसी को सौंपा नहीं था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,460FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe