Wednesday, July 28, 2021
Homeराजनीति'किसी के मुँह से निकला खून तो किसी को कॉलर से घसीटा गया': ममता...

‘किसी के मुँह से निकला खून तो किसी को कॉलर से घसीटा गया’: ममता की पुलिस ने BJP कार्यकर्ताओं को दौड़ा-दौड़ा कर मारा

सामने आई वीडियो में हम बुरी तरह घायल बीजेपी कार्यकर्ताओं की स्थिति देख सकते हैं। किसी के मुँह से खून निकल रहा है तो किसी को पुलिस घसीट के अंदर ले जा रही है। कई कार्यकर्ताओं को लाठी दिखा कर मौके से भगाने का काम भी बंगाल पुलिस तेजी से करते दिख रही है।

पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट का सिलसिला खत्म नहीं हुआ है। कभी तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) पार्टी के गुंडे तो कभी सत्ताधारी पार्टी के अधीन राज्य पुलिस आए दिन बीजेपी कार्यकर्ताओं के ऊपर क्रूरता की हर हद पार कर रही है।

हाल ही का मामला देखें तो ऐसा हमला कल खरदाह पुलिस स्टेशन के बाहर हुआ। यहाँ बीजेपी के कार्यकर्ता अपना विरोध दर्ज करवाने गए थे। लेकिन पुलिस ने सुनवाई करने की बजाय उन पर लाठीचार्ज कर दिया। 

सामने आई वीडियो में हम बुरी तरह घायल बीजेपी कार्यकर्ताओं की स्थिति देख सकते हैं। किसी के मुँह से खून निकल रहा है तो किसी को पुलिस घसीट के अंदर ले जा रही है। कई कार्यकर्ताओं को लाठी दिखा कर मौके से भगाने का काम भी बंगाल पुलिस तेजी से करते दिख रही है।

बंगाल में भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इस घटना की वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “खरदाह पुलिस स्टेशन विरोध दर्ज कराने गए बीजेपी कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। महिलाओं के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई देखें। एक महिला मुख्यमंत्री होते हुए राज्य में महिलाओं के साथ पश्चिम बंगाल पुलिस असंवेदनशील और अमानवीय व्यवहार कर रही है! शर्म करो ममताजी। जनता माफ नहीं करेगी।”

समाचार एजेंसी एएनआई ने भी इस घटना की कुछ तस्वीरों को शेयर किया है। इसके मुताबिक, महिलाओं समेत कई भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता इस लाठी चार्ज में घायल हुए हैं। भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने इस घटना के ऊपर कहा कि राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति ध्वस्त हो गई है। ममता बनर्जी की पुलिस तालिबानी शासन चला रही हैं।

उल्लेखनीय है कि बंगाल में ये हंगामा उस समय शुरू हुआ जब बीजेपी कार्यकर्ता घर-घर जाकर कार्यक्रम चला रहा थे। इसी बीच पुलिस ने बीजेपी के सभासद को हथियार रखने के आरोप में गिरफ्तार किया था। इसके बाद बीजेपी कार्यकर्ता भड़क गए और हंगामा शुरू कर दिया।

इससे पहले पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में भी भाजपा और तृणमूल कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई थी। आरोप लगाया गया था कि तृणमूल कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने अचानक से भाजपा के जुलूस पर हमला कर दिया। जिसके बाद कई लोगों के गंभीर रूप से घायल होने की रिपोर्ट सामने आई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

बकरीद की ढील का दिखने लगा असर? केरल में 1 दिन में कोरोना संक्रमण के 22129 केस, 156 मौतें भी

पूरे देश भर में रिपोर्ट हुए कोविड केसों में 53 % मामले अकेले केरल से आए हैं। भारत में कुल मामले जहाँ 42, 917 रिपोर्ट हुए। वहीं राज्य में 1 दिन में 22129 केस आए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,634FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe