Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीति'द्रौपदी राष्ट्रपति तो पांडव और कौरव कौन हैं?': राम गोपाल वर्मा के ओछे कमेंट...

‘द्रौपदी राष्ट्रपति तो पांडव और कौरव कौन हैं?’: राम गोपाल वर्मा के ओछे कमेंट पर हैदराबाद पुलिस ने दर्ज की शिकायत, बीजेपी नेता की SC/ST एक्ट लगाने की माँग

तेलंगाना के वरिष्ठ भाजपा नेता जी नारायण रेड्डी ने फिल्म निर्माता और निर्देशक राम गोपाल वर्मा के खिलाफ एनडीए के राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू पर अपमानजनक ट्वीट के लिए पुलिस शिकायत दर्ज कराई है।

देश के राष्ट्रपति पद के लिए NDA ने झारखंड की राज्यपाल द्रोपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) को अपना कैंडिडेट घोषित किया है। इसके लिए शुक्रवार को मुर्मू ने अपना नामांकन भी फाइल कर दिया। इस बीच बॉलीवुड के फिल्म निर्माता राम गोपाल वर्मा (Ram Gopal Verma) ने 22 जून, 2022 को बहुत ही ओछा कमेंट किया है। उन्होंने ट्वीट किया, “अगर द्रौपदी राष्ट्रपति है तो पांडव कौन हैं? इससे भी अधिक महत्वपूर्ण कौरव कौन हैं?”

वहीं तेलंगाना के वरिष्ठ भाजपा नेता जी नारायण रेड्डी ने फिल्म निर्माता और निर्देशक राम गोपाल वर्मा के खिलाफ एनडीए के राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू पर अपमानजनक ट्वीट के लिए पुलिस शिकायत दर्ज कराई है। हालाँकि, शिकायत और नेटिज़न्स द्वारा नाराजगी जाहिर करने के बाद, वर्मा ने अपने ट्विटर हैंडल से माफी भी माँगी।

बता दें कि जी नारायण रेड्डी ने आबिद रोड पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई कि निर्देशक ने द्रौपदी मुर्मू के बारे में अपमानजनक टिप्पणी की थी। रेड्डी ने अपनी शिकायत में कहा कि ट्विटर पर वर्मा की टिप्पणी एक अनुभवी महिला राजनेता और झारखंड की पूर्व राज्यपाल के लिए बेहद अपमानजनक है। पुलिस शिकायत के साथ, भाजपा नेता ने ट्वीट को सबूत के रूप में सबमिट किया। उन्होंने जोर देकर कहा कि पुलिस द्वारा एससी / एसटी अधिनियम लागू किया जाना चाहिए और निर्देशक को कड़ी सजा मिलनी चाहिए। वहीं पुलिस ने कहा कि कानूनी राय के बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

वहीं राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार के लिए इस तरह के कमेंट के बाद फिल्म निर्माता की ट्विटर पर लोगों ने खिंचाई शुरू कर दी। इसी क्रम में दलित एक्स सी नाम के एक यूजर ने उनके सामाजिक कार्यों पर प्रकाश डाला और कहा, उन्होंने समाज की भलाई के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया। 2000 के दशक के अंत तक उनके पास अपना घर नहीं था। व्यक्तिगत त्रासदियों के बावजूद उन्होंने लोगों के लिए काम करना जारी रखा।”

इसी तरह से एमजे रश्मी नाम के एक अन्य यूजर ने राम गोपाल वर्मा को फटकार लगाते हुए कहा, “उनके बारे में क्या जानते हैं आप वो एक आदिवासी महिला है? जिन्होंने अपने पति के साथ ही दो बच्चों को भी एक्सीडेंट में खो दिया।”

एमवी राव नाम के यूजर ने फिल्म निर्माता को आइना दिखाते हुए कहा, “पांडव पंच भूत वायु, अग्नि, वरुण, भूमि आकाश हैं। वह आप जैसे लोगों की भलाई के लिए उन्हें नियंत्रित करती हैं। अगर आप अपनी सीमाओं को लाँघते हैं तो वो आपको नीचे पटक देंगी। …संभलकर रहो भाई।”

निर्माता ने माँगी माफी

ट्विटर पर ओछी हरकत पर विवाद गहराया तो राम गोपाल वर्मा ने माफी माँगने में देर बिल्कुल भी नहीं लगाई। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, “यह सिर्फ एक मजाक में कहा गया था और कोई दूसरा इरादा नहीं था। ..महाभारत में द्रौपदी मेरी पसंदीदा चरित्र हैं, लेकिन चूँकि नाम इतना दुर्लभ है, इसलिए मुझे संबंधित पात्रों की याद आ गई और मैंने ले लिया। किसी की भावनाओं को ठेस पहुँचाने का मकसद बिल्कुल नहीं है।”

गौरतलब है कि द्रौपदी मुर्मू झारखंड में भाजपा की राज्यपाल हैं और बीजेपी ने उन्हें राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के तौर पर मैदान में उतारा है। अगर वो ये चुनाव जीतती हैं तो वे देश की पहली महिला आदिवासी राष्ट्रपति होंगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -