Tuesday, September 28, 2021
Homeराजनीति'ऑक्सीजन की कमी से मौत के आँकड़े केंद्र ने नहीं माँगे': कैबिनेट मंत्री ने...

‘ऑक्सीजन की कमी से मौत के आँकड़े केंद्र ने नहीं माँगे’: कैबिनेट मंत्री ने 2 ईमेल से सिसोदिया के दावे को किया फुस्स

इस ईमेल में 26 जुलाई, 2021 (सोमवार) को दोपहर 3 बजे भेजा गया था। इस ईमेल को भारत सरकार के 'कोरोना कंट्रोल रूम' ने भेजा था। मेल प्राप्त करने वालों में दिल्ली सरकार के दो ईमेल एड्रेस भी हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को जवाब दिया है। मनीष सिसोदिया ने दावा किया था कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन से हुई मौतों को लेकर केंद्र सरकार ने कोई आँकड़ा नहीं माँगा है। अरविंद केजरीवाल की सरकार में नंबर-2 मनीष सिसोदिया ने दावा किया था कि केंद्र सरकार कह रही है कि उन्होंने ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों को लेकर राज्यों से रिपोर्ट माँगी।

मनीष सिसोदिया ने कहा “ऑक्सीजन से हुई मौतों का आँकड़ा माँगने के मामले में केंद्र से दिल्ली सरकार को कोई चिट्ठी नहीं आई! आप राज्यों से पूछोगे नहीं, राज्यों को जाँच नहीं करने दोगे और आप कह दोगे कि राज्य बता नहीं रहे?” मैंने अख़बारों में पढ़ा कि केंद्र ने कहा है कि राज्यों से उसने पूछा है, लेकिन सिर्फ एक राज्य ने जवाब दिया। आज तक केंद्र से दिल्ली सरकार को ऐसी कोई चिट्ठी आई ही नहीं है।”

हालाँकि, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने इस दावे को नकारते हुए एक ईमेल शेयर किया। इस ईमेल में 26 जुलाई, 2021 (सोमवार) को दोपहर 3 बजे भेजा गया था। इस ईमेल में कई राज्यों के रेसिपिएंट हैं और कई अधिकारियों को इसे एक साथ भेजा गया है। इसमें दिल्ली सरकार से जुड़े दो ईमेल एड्रेस भी हैं, जिस पर मांडविया ने लाल घेरा लगा कर दिखाया। इस ईमेल को भारत सरकार के ‘कोरोना कंट्रोल रूम’ ने भेजा था।

इसमें सवाल पूछा गया है कि क्या सरकार दवाओं, मेडिकल उपकरणों और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों का आँकड़ा अपडेट करती है? इसमें लिखा है कि क्या ऑक्सीजन या ऑक्सीजन सिलिंडरों की कमी से मौतों का कोई आँकड़ा है? साथ ही कहा गया है कि अगर हाँ, तो मार्च 1, 2021 से लेकर अब तक के आँकड़े भेजिए। साथ ही पूछा गया है कि क्या सरकार इस तरह का कोई डेटाबेस मेंटेन करना चाहती है?

मनसुख मांडविया ने दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री को जवाब देते हुए लिखा, “माननीय मनीष सिसोदिया जी, 26 जुलाई को मेरे मंत्रालय (स्वास्थ्य) ने दिल्ली सरकार को जो मेल भेजा है, ये रही उसकी कॉपी। अभी भी देरी नहीं हुई है! 13 अगस्त तक आप डेटा भेज सकते हैं, ताकि हम प्रश्न का उत्तर संसद को भेज सकें। अपने अधिकारियों से समीक्षा करके जरूरी डाटा जल्द से जल्द भिजवाने की कृपा करें।”

जुलाई 2021 में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा था कि दिल्ली और देश के अन्य जगहों पर ऑक्सीजन की कमी से मौतें हुई हैं। दिलचस्प यह है कि आप सरकार ने हाईकोर्ट को बताया था कि ऑक्सीजन से कोई मौत नहीं हुई है। उन्होंने कहा था, “दिल्ली और देश के अन्य जगहों पर ऑक्सीजन की कमी के कारण कई मौतें हुई हैं। यह कहना पूरी तरह से गलत है कि ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe