‘चिदंबरम धरती पर केवल एक बोझ हैं’ – तमिलनाडु के CM का कॉन्ग्रेस नेता पर निशाना

"यदि जम्मू-कश्मीर हिंदू बहुल राज्य होता तो भाजपा की सरकार इस सरहदी सूबे से विशेष दर्जा नहीं छीनती।"

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीसामी ने आज कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को धरती पर सबसे बड़ा बोझ बताकर उन पर जुबानी हमला बोला है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो उन्होंने चिदंबरम के लिए कहा, “वह केवल धरती पर बोझ हैं।”

उन्होंने चिदंबरम द्वारा उनकी पार्टी की आलोचना किए जाने पर ये बात कही। जहाँ पूर्व वित्त मंत्री ने तमिलनाडु को केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने के AIADMK के स्टैंड की आलोचना की थी। जिसमें AIDMK ने कहा था कि अगर केंद्र जम्मू-कश्मीर की तर्ज पर तमिलनाडु को भी केंद्र शासित प्रदेश बनाता है तो पार्टी उसका विरोध नहीं करेगी।

तमिलनाडु सीएम ने कहा कि लंबे समय तक केंद्रीय मंत्री रहते हुए पी चिदंबरम ने कभी राज्य से संबंधित कावेरी नदी के विवाद को नहीं उठाया। उन्होंने खासतौर पर तमिलनाडु के संदर्भ में पी चिदंबरम से सवाल किया कि ‘वह कौन सी योजनाएँ लेकर आए?’

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसके अलावा के पलानीसामी पूछते हैं, “पी चिदंबरम कितने समय तक केंद्रीय मंत्री रहे? देश को क्या फायदा हुआ… वह सिर्फ़ धरती पर बोझ हैं।”

गौरतलब है कि आर्टिकल 370 के निरस्त होने बाद पी चिदंबरम लगातार भाजपा सरकार पर सवाल कर रहे हैं जिसके कारण भाजपा ने उनको आड़ो हाथों लिया हुआ है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर भी इससे पहले चिदंबरम के उस बयान पर उन्हें खरी-खोटी सुना चुके हैं जिसमें उन्होंने कहा था कि यदि जम्मू-कश्मीर हिंदू बहुल राज्य होता तो भाजपा की सरकार इस सरहदी सूबे से विशेष दर्जा नहीं छीनती।

प्रकाश जावड़ेकर ने चिदंबरम के इस बयान के बारे में कहा था कि अब ऐसे तर्कों का कोई मतलब नहीं है। कॉन्ग्रेस बताए कि वह अपने 70 साल के राज के दौरान जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक वर्ग को शिक्षण संस्थान चलाने के अधिकार और सफाई कर्मचारियों को न्याय क्यों नहीं दिलवा सकी थी?

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई (बार एन्ड बेच से साभार)
"पारदर्शिता से न्यायिक स्वतंत्रता कमज़ोर नहीं होती। न्यायिक स्वतंत्रता जवाबदेही के साथ ही चलती है। यह जनहित में है कि बातें बाहर आएँ।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,346फैंसलाइक करें
22,269फॉलोवर्सफॉलो करें
116,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: