Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिगाँधी परिवार में फूट: 'प्रियंका को आगे नहीं बढ़ने दे रहे राहुल, खुद कर...

गाँधी परिवार में फूट: ‘प्रियंका को आगे नहीं बढ़ने दे रहे राहुल, खुद कर रहे 15 साल से राजनीति में इंटर्नशिप’

"राहुल गाँधी को राजनीति में आए हुए भले ही 15 साल हो गए हैं मगर वे अभी भी जैसे इंटर्नशिप पीरियड में हैं, जो पता नहीं कब ख़त्म होगा।"

कॉन्ग्रेस पार्टी के बड़े नेता और गाँधी परिवार के करीबी पंकज शंकर ने अपनी ही पार्टी और उसके मुखिया परिवार पर खुल कर हमला बोला है। ABP न्यूज चैनल को दिए साक्षात्कार में उन्होंने कॉन्ग्रेस पार्टी और गाँधी परिवार को लेकर कई अहम खुलासे किए हैं। अपने इंटरव्यू में पंकज शंकर ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गाँधी अपने पुत्रमोह से उबर नहीं पाई हैं और इसी चलते पूरी कॉन्ग्रेस पार्टी डूब रही है। उन्होंने पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी को लेकर कहा कि उन्हें राजनीति में आए हुए भले ही 15 साल हो गए हैं मगर वे अभी भी जैसे इंटर्नशिप पीरियड में हैं, जो पता नहीं कब ख़त्म होगा।

पंकज शंकर ने आरोप लगाया कि बतौर एक नेता और पार्टी अध्यक्ष के पद पर रहने के बावजूद अपने कार्यकर्ताओं के प्रति राहुल का व्यवहार और उनसे उनका संवाद बेहद खराब रहा। पंकज के मुताबिक यह भी एक वजह है कि कॉन्ग्रेस पार्टी छोड़कर लोग दूसरे दलों की ओर जा रहे हैं।

बातचीत के दौरान उन्होंने संकेतों के ज़रिए यह भी साफ़ कर दिया कि राहुल अपनी ही बहन प्रियंका के पार्टी अध्यक्ष बनने में सबसे बड़ा रोड़ा हैं। इसकी वजह पर बात करते हुए उन्होंने बताया कि दरअसल राहुल चाहते ही नहीं हैं कि प्रियंका गाँधी अध्यक्ष बनकर पार्टी की कमान संभालें। पंकज यहीं नहीं रुके बल्कि उन्होंने पार्टी की वर्किंग कमिटी के कामकाज पर भी सवाल उठाए। पंकज बोले कि इन पदों पर बैठे लोग कई साल से जमे हुए हैं मगर इन्होंने कभी-भी पार्टी और उसके भविष्य की चिंता नहीं की।

गाँधी परिवार के लाडले राहुल की राजनीतिक उपलब्धि पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा, “वह किसी से भी मिलना या बातें करना नहीं चाहते हैं। वे कुछ लोगों से ऐसा घिरे हैं कि उन्हीं की सुनते हैं मगर उन लोगों को और राहुल के मैनेजर्स को दरअसल ज़मीनी हकीक़त का कोई अंदाज़ा नहीं है।” उनके मुताबिक राहुल ने अपनी ही एक टीम बना रखी है, जबकि उसमें होने वाले तथाकथित एक्सपर्ट्स को मुद्दों की कोई समझ नहीं है।

अयोध्या जन्मभूमि को लेकर बोलते हुए पंकज शंकर ने कहा कि इस मामले में देश की सर्वोच्च अदालत फैसला सुनाने को है मगर इस पर पार्टी का अभी तक कोई निश्चित पक्ष या स्टैंड सामने नहीं आया है। वे बोले कि भले कॉन्ग्रेस पार्टी दस साल आगे की सोच रखने का दावा करती हो मगर सच्चाई यह है कि इस पार्टी के लोग अगले दस मिनट में क्या कर डालेंगे, इसका किसी को कोई अंदाज़ा नहीं। अपनी पार्टी के पतन पर खुलकर बोलते हुए पंकज शंकर ने कहा, “आने वाले समय में एक वेब सीरीज बना सकते हैं कि कैसे कॉन्ग्रेस पार्टी जनता से दूर होती चली गई।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -