राहुल पर कॉन्ग्रेस में रार: खुर्शीद पर पलटवार कर बोले राशिद अल्वी- घर को आग लग गई घर के चिराग से

अल्वी ने 2004 में सोनिया के नेतृत्व में मिली जीत की याद दिलाते हुए कहा कि कुछ लोग पार्टी के भीतर रहकर उसे नुकसान पहुॅंचा रहे हैं। बकौल अल्वी, कुछ लोगों का समर्थन नहीं मिलने के कारण राहुल ने इस्तीफा दिया।

कॉन्ग्रेस का भीतरी घमासान थमता नहीं दिख रहा। पूर्व अध्यक्ष राहुल गॉंधी पर पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद के बयान को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेता राशिद अल्वी ने उन पर पलटवार किया है। उन्होंने खुर्शीद पर निशाना साधते हुए कहा है कि पार्टी के भीतर ऐसे नेता हैं, जो पार्टी को ही नुकसान पहुँचा रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अल्वी ने कहा है कि ये जो हर दूसरा कॉन्ग्रेस नेता अलग-अलग राग अलाप रहे हैं, ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने आगे कॉन्ग्रेस की वर्तमान स्थिति को साफ़ करते हुए कहा, “घर को आग लग गई घर के चिराग से।”

राहुल गाँधी के इस्तीफे पर अल्वी ने कहा कि वे गलत नहीं थे। उन्हें कुछ नेताओं का समर्थन नहीं मिला, इसलिए उन्होंने इस्तीफा दिया। अपने बयान में उन्होंने साल 2004 में पार्टी को मिली जीत का भी जिक्र किया, जब कॉन्ग्रेस का नेतृत्व सोनिया गाँधी ने किया था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

उल्लेखनीय है कि सलमान खुर्शीद ने राहुल गाँधी के इस्तीफे को लेकर कहा था कि अब वक्त आ गया है, जब कॉन्ग्रेस अपनी बुरी हार की समीक्षा करे और यह समझने का प्रयास करे कि जनादेश का सन्देश क्या है? उन्होंने कहा कि पार्टी हार का विश्लेषण इसीलिए नहीं कर पाई, क्योंकि राहुल गाँधी ऐन मौके पर निकल गए, जिससे पार्टी में एक शून्य पैदा हो गया।

उत्तर प्रदेश कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष रह चुके खुर्शीद ने कहा कि कॉन्ग्रेस एकजुट होकर हार का विश्लेषण नहीं कर सकी, क्योंकि उनके नेता ही उन्हें छोड़ कर चला गया। खुर्शीद ने सोनिया गाँधी को कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने पर भी नाराज़गी जताई। उन्होंने कहा कि वह सोनिया के अंतरिम अध्यक्ष बनने से ख़ुश नहीं हैं। खुर्शीद ने कहा कि जो भी अध्यक्ष बने, वह टिका रहे। यूपीए-2 में विदेश, अल्पसंख्यक मामले और क़ानून जैसे अहम मंत्रालय संभाल चुके खुर्शीद ने बताया कि वह अपनी पीड़ा इसीलिए व्यक्ति कर रहे हैं ताकि नेतृत्व इसे सुने।

सलमान खुर्शीद के इस बयान के बाद संबित पात्रा ने इसे विधानसभा चुनावों से पहले कॉन्ग्रेस द्वारा हार स्वीकार कर लेने के रूप में पेश किया है। उन्होंने खुर्शीद के बयान को आधार बनाकर कहा कि वे मान चुके है कि राहुल गाँधी भाग गए और सोनिया गांधी सिर्फ ‘फौरी इंतजाम’ देख रही हैं। इसका मतलब है कि कॉन्ग्रेस में कोई नेता, नीति और नीयत शेष नहीं है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

वीर सावरकर, इंदिरा गाँधी
पत्र में इंदिरा गाँधी ने न केवल सावरकर को "भारत का विशिष्ट पुत्र" बताया था, बल्कि यह भी कहा था कि उनका ब्रिटिश सरकार से निर्भीक संघर्ष स्वतन्त्रता संग्राम के इतिहास में अपना खुद का महत्वपूर्ण स्थान रखता है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

97,842फैंसलाइक करें
18,519फॉलोवर्सफॉलो करें
103,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: