Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीति'जिताऊ' प्रत्याशी की तलाश में कॉन्ग्रेस ने की बड़ी गलती, सोशल मीडिया पर उड़ा...

‘जिताऊ’ प्रत्याशी की तलाश में कॉन्ग्रेस ने की बड़ी गलती, सोशल मीडिया पर उड़ा जमकर मजाक

जिन तनुश्री में कॉन्ग्रेस अपना जिताऊ प्रत्याशी तलाश रही थी, उन्हें शिवपाल सिंह यादव के नेतृत्व वाली प्रसपा ने महराजगंज से अपना प्रत्याशी बनाया हुआ है।

एक तरफ जहाँ चुनाव जीतने के लिए कॉन्ग्रेस हर मामले में उत्सुकता दिखा रही है। जगह-जगह जाकर अपनी जीत की पहले ही घोषणा कर रही है। वहीं कॉन्ग्रेस द्वारा टिकट बँटवारे में बहुत बड़ी गलती सामने आई है। जिसके कारण कॉन्ग्रेस की उत्सुकता का लोगों के बीच मजाक बन रहा है। इसे पार्टी के नेताओं की अपरिपक्वता भी कहा जा सकता है।

दरअसल, जिताऊ प्रत्याशी की तलाश में कॉन्ग्रेस ने यह गलतियाँ की है। गुरुवार (मार्च 28, 2019) को पार्टी ने यूपी की महराजगंज सीट से पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी की बेटी तनुश्री त्रिपाठी को बिना यह जाने प्रत्याशी घोषित कर दिया कि उन्हें पहले से ही दूसरी पार्टी अपना उम्मीदवार बनाकर उतार चुकी है।

जी हाँ। जिन तनुश्री में कॉन्ग्रेस अपना जिताऊ प्रत्याशी तलाश रही थी, उन्हें शिवपाल सिंह यादव के नेतृत्व वाली प्रसपा ने महराजगंज से अपना प्रत्याशी बनाया हुआ है।

विधानसभा चुनाव में अमरमणि के बेटे अमनमणि ने भी कॉन्ग्रेस से चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी, लेकिन कॉन्ग्रेस ने उन्हें मना कर दिया। इसके बाद अमन ने निर्दलीय चुनाव लड़के जीत हासिल की। जिसके चलते कॉन्ग्रेस को उनकी बहन तनुश्री में जिताऊ प्रत्याशी का चेहरा दिखने लगा।

कॉन्ग्रेस का चुनावों को लेकर ऐसा गैर-जिम्मेदाराना बर्ताव देखकर, सोशल मीडिया ने कॉन्ग्रेस की जमकर चुटकी ली। जिसके कारण शुक्रवार (मार्च 29, 2019) की सुबह अपनी गलती मानते हुए वहाँ से पूर्व सांसद हर्षवर्धन सिंह की बेटी सुप्रिया श्रीनेट को टिकट दे दिया

यहाँ बता दें कि जिन तनुश्री को टिकट देने के लिए कॉन्ग्रेस ने इतनी आतुरता दिखाई है, उनके माता-पिता (अमरमणि त्रिपाठी और उनकी पत्नी मधुमणि) कवियत्री मधुमिता हत्याकांड में जेल में हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe