Saturday, May 18, 2024
Homeराजनीतिराम, शिव और अब कृष्ण… हिंदू देवताओं से इतनी घृणा क्यों करती है कॉन्ग्रेस

राम, शिव और अब कृष्ण… हिंदू देवताओं से इतनी घृणा क्यों करती है कॉन्ग्रेस

कर्नाटक सरकार में मंत्री रामप्पा तिम्मापुर ने कहा,"हमने आज तक देश में ऐसा घृणित विचार नहीं देखा है, शायद प्रज्वल कोई गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाना चाहते हों। महिलाएँ कृष्ण के साथ निष्ठा के कारण रहतीं थी, लेकिन ऐसे नहीं, लगता है प्रज्वल रेवन्ना उनका ही रिकॉर्ड तोड़ना चाहते थे।"

कर्नाटक की कॉन्ग्रेस सरकार के एक मंत्री रामप्पा तिम्मापुर ने यौन शोषण और सेक्स वीडियो के आरोपित निलम्बित जेडीएस सांसद प्रज्वल रेवन्ना की तुलना हिन्दू देवता श्रीकृष्ण से कर दी है। कॉन्ग्रेस नेता का कहना है कि प्रज्वल रेवन्ना भगवान कृष्ण का रिकॉर्ड तोड़ना चाहते थे। इससे पहले कॉन्ग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे श्रीराम का मुकाबला शिव से करवा रहे थे।

टाइम्स नाउ की एक रिपोर्ट के अनुसार, कर्नाटक सरकार में मंत्री रामप्पा तिम्मापुर ने कहा,”हमने आज तक देश में ऐसा घृणित विचार नहीं देखा है, शायद प्रज्वल कोई गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाना चाहते हों। महिलाएँ श्रीकृष्ण के साथ निष्ठा के कारण रहतीं थी, लेकिन ऐसे नहीं, लगता है प्रज्वल रेवन्ना उनका ही रिकॉर्ड तोड़ना चाहते थे।”

रामप्पा तिम्मापुर ने यहाँ महिलाओं को धमकाने, उन्हें प्रताड़ित करने और उनका यौन शोषण करने वाले आरोपित सांसद प्रज्वल रेवन्ना की तुलना भगवान श्रीकृष्ण से की। कॉन्ग्रेस नेता का इशारा संभवतः भगवान कृष्ण से सम्बन्धित उस कहानी से था, जिसमें कहा जाता है कि उनके 16000 रानियाँ थीं।

यहाँ मंत्री ने यह कहने की कोशिश भी की कि हिन्दुओं के लिए आराध्य श्रीकृष्ण यौन शोषण जैसे घृणित कृत्य में लिप्त थे और उसका उन्होंने रिकॉर्ड बनाया था। इसी रिकॉर्ड को यौन शोषण आरोपित सांसद प्रज्वल रेवन्ना तोड़ना चाहता था।

उनके इस बयान पर ना ही कॉन्ग्रेस पार्टी ने कोई एक्शन लिया है और ना ही सिद्दारमैया सरकार ने उन पर कोई कार्रवाई की है, ऐसे में यह माना जा सकता है कि उनकी इस घृणित टिप्पणी के पीछे पार्टी और सरकार का मूक समर्थन है। रामप्पा ने स्वयं भी ना ही अपने बयान पर कोई सफाई दी है और ना ही माफ़ी माँगी है।

हालाँकि, यह पहली बार नहीं है कि कॉन्ग्रेस नेता ने हिन्दू देवी देवताओं का अपमान किया हो। कॉन्ग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने लोकसभा प्रचार के लिए आयोजित एक जनसभा में कहा, “खड़गे ने कहा, “इनका भी नाम शिव है, ये बराबर में राम का मुकाबला कर सकते हैं। क्योंकि ये शिव हैं, मेरा नाम भी मल्लिकार्जुन है यानी मैं भी शिव हूँ।” इस दौरान उन्होंने भी ध्यान दिलाया कि आंध्र प्रदेश के श्रीशैलम में मल्लिकार्जुन नाम से एक ज्योतिर्लिंग भी है।”

इस दौरान मल्लिकार्जुन खड़गे भूल गए कि राम और शिव का मुकाबला कराने की बात कह कर उन्होंने हिन्दू समाज की भावनाओं को ठेस पहुँचाया है। वो हिन्दू समाज, जिसने कभी राम और शिव को अलग-अलग कर के नहीं देखा। तमिलनाडु में स्थित ‘रामेश्वरम’ ज्योतिर्लिंग के भी 2 अर्थ हैं – पहले, राम जिसके ईश्वर हैं और दूसरा, राम के जो ईश्वर हैं।”

कॉन्ग्रेस नेता रामप्पा और खरगे की हिन्दू देवी देवताओं के प्रति यह संवेदनहीनता दिखाती है कि उनकी पार्टी को देश की बहुसंख्यक आबादी की भावनाओं की कोई कद्र नहीं है। वह हिन्दू देवी देवताओं को यौन शोषण आरोपित के समकक्ष खड़ा कर सकते हैं, देवताओं को आपस में लड़ाने की बात कर सकते हैं।

गौरलतब है कि हासन से जेडीएस सांसद और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के पोते प्रज्वल रेवन्ना के कई वीडियो कथित तौर पर सामने आए हैं। उन पर आरोप है कि उन्होंने बड़ी सँख्या में महिलाओं का यौन शोषण किया और उसका वीडियो बनाया। उन पर महिलाओं को प्रताड़ित करने का भी आरोप है। वह अपने ऊपर यह आरोप लगने के बाद यूरोप चले गए थे।

कर्नाटक सरकार ने उनके खिलाफ SIT जाँच के आदेश दिए हैं। उनको जेडीएस ने पार्टी से भी निलंबित कर दिया है। उन्होंने विदेश से ही एक बयान जारी करके कहा है कि वह अपने वकील के जरिए जाँच में सहयोग करेंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अर्पित त्रिपाठी
अर्पित त्रिपाठीhttps://hindi.opindia.com/
अवध से बाहर निकला यात्री...

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -