Wednesday, September 28, 2022
Homeराजनीतिअपनी ही सरकार के खिलाफ धरने पर कॉन्ग्रेस विधायक, ट्रैक्टर चालक की मौत का...

अपनी ही सरकार के खिलाफ धरने पर कॉन्ग्रेस विधायक, ट्रैक्टर चालक की मौत का मामला

पुलिस मौत को दुर्घटनावश बता रही है, वहीं प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि हत्या में पुलिस का हाथ है। हरीश मीणा पार्थिव शरीर के साथ नगरफोर्ट में धरने पर बैठे हैं।

राजस्थान कॉन्ग्रेस के विधायक और पूर्व पुलिस महानिदेशक हरीश मीणा अपनी ही पार्टी की सरकार के खिलाफ आमरण अनशन पर बैठ गए हैं। उनका आरोप है कि उनके विरोध प्रदर्शन के बावजूद राज्य सरकार उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही जिन्होंने कथित तौर पर एक ट्रैक्टर-चालक की टोंक में बुधवार को पीट-पीट कर (लिंचिंग कर) हत्या कर दी थी। उनका धरना तीन दिन से जारी है। उनकी माँग भजनलाल मीणा नामक ट्रैक्टर-चालक को न्याय दिलाने की है, जिनकी संदेहास्पद स्थितियों में टोंक के लक्ष्मीपुरा गाँव में मौत हो गई थी।

भजनलाल की लाश के साथ धरना, भाजपा भी कूदी मैदान में

हरीश मीणा को भाजपा नेताओं का भी समर्थन मिलने लगा है। भाजपा के राज्यसभा सांसद किरोड़ीमल मीणा ने चेतावनी दी है कि यदि प्रदर्शनकारियों की माँगें 5 जून तक पूरी नहीं हुई तो बड़ा आंदोलन छेड़ा जाएगा। राजस्थान विधानसभा के उप नेता विपक्ष और भाजपा विधायक राजेंद्र राठौर ने भी मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अशोक गहलोत की राज्य सरकार के दिन अब गिनती के हैं क्योंकि उनके खुद के विधायकों को अपनी ही सरकार के खिलाफ धरने पर बैठना पड़ रहा है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी ने भी आरोप लगाया कि कॉन्ग्रेस सरकार जान बूझकर मामला दबाने की कोशिश कर रही है। जहाँ पुलिस भजनलाल मीणा की मौत को दुर्घटनावश बता रही है वहीं प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि उनकी हत्या में पुलिस का हाथ है। हरीश मीणा भजनलाल के पार्थिव शरीर और उनके परिवारजनों के साथ नगरफोर्ट गाँव में धरने पर बैठे हैं

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ब्रह्मांड के केंद्र’ में भारत माता की समृद्धि के लिए RSS प्रमुख मोहन भागवत ने की प्रार्थना, मेघालय के इसी जगह पर है ‘स्वर्णिम...

सेंग खासी एक सामाजिक-सांस्कृतिक और धार्मिक संगठन है जिसका गठन 23 नवंबर, 1899 को 16 युवकों ने खासी संस्कृति व परंपरा के संरक्षण हेतु किया था।

अब पलटा लेस्टर हिंसा के लिए हिन्दुओं को जिम्मेदार ठहराने वाला BBC, फिर भी जारी रखी मुस्लिम भीड़ को बचाने की कोशिश: नहीं ला...

बीबीसी ने अपनी पिछली रिपोर्टों के लिए कोई माफी नहीं माँगी है, जिसमें उसने हिंदुओं पर झूठा आरोप लगाया था कि हिंसा के लिए वे जिम्मेदार हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,688FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe