सोनिया गाँधी ने हरियाणा की रैली से खींच लिए हाथ, कॉन्ग्रेस ने नहीं बताई कोई वजह

कॉन्ग्रेस पार्टी ने इस बात की कोई जानकारी नहीं दी कि सोनिया ने आखिरी वक़्त पर हरियाणा की जनसभा को संबोधित करने से क्यों इनकार कर दिया, यदि वे इस जनसभा को संबोधित करतीं तो.....

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने हरियाणा चुनाव से हाथ खींच लिए हैं, इस चुनावी माहौल में हरियाणा के महेंद्रगढ़ में अपनी पहली चुनावी रैली से ठीक पहले ही आखिरी वक़्त पर जनसभा को संबोधित करने नहीं पहुँचीं। इसकी जानकारी भी पार्टी की ही ओर से ट्वीट के जरिए दी गई।

वहीं सोनिया की जगह राहुल इस रैली को संबोधित करेंगे इस बात की जानकारी देते हुए प्रदेश की कॉन्ग्रेस पार्टी ने लीपापोती करते हुए लिखा कि –

“आज दोपहर 2 बजे महेंद्रगढ़ में राहुल गाँधी जनता से संवाद करने पहुँच रहे हैं। किसी कारणवश कॉन्ग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गाँधी जी आने में असमर्थ हैं। आपसे निवेदन है कि इस जनसभा में पहुँच कर कॉन्ग्रेस परिवार को अपना समर्थन दें।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

कॉन्ग्रेस पार्टी ने इस बात की कोई जानकारी नहीं दी कि सोनिया ने आखिरी वक़्त पर हरियाणा की जनसभा को संबोधित करने से क्यों इनकार कर दिया, यदि वे इस जनसभा को संबोधित करतीं तो पार्टी अध्यक्ष का पद संभालने के बाद इस चुनावी संग्राम में यह उनकी पहली जनसभा होती। हालाँकि, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सोनिया चुनाव से ज्यादा अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दे रही हैं।

बता दें कि राहुल गाँधी को पार्टी अध्यक्ष बनाने के लिए उनकी माँ सोनिया गाँधी ने अध्यक्ष पद से खुदको दूर कर लिया था मगर इसी साल अगस्त में लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार का मुँह देखने के बाद एक बार फिर सोनिया गाँधी ने अध्यक्ष के रूप में पार्टी की कमान संभाली थी।

बता दें कि महेंद्रगढ़ में कॉन्ग्रेस पार्टी की ओर से राव दान सिंह मैदान में हैं जिनका मुकाबला भाजपा के राम बिलास शर्मा से है। 2014 में 90 सीट वाली हरियाणा की विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा को 47 सीटें मिली थीं वहीं कॉन्ग्रेस पार्टी के खाते में 15 सीटें और इंडियन नेशनल लोक दल (आईएनएलडी) के पक्ष में 19 सीटें आईं थीं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"हिन्दू धर्मशास्त्र कौन पढ़ाएगा? उस धर्म का व्यक्ति जो बुतपरस्ती कहकर मूर्ति और मन्दिर के प्रति उपहासात्मक दृष्टि रखता हो और वो ये सिखाएगा कि पूजन का विधान क्या होगा? क्या जिस धर्म के हर गणना का आधार चन्द्रमा हो वो सूर्य सिद्धान्त पढ़ाएगा?"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

115,259फैंसलाइक करें
23,607फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: