Wednesday, September 22, 2021
Homeराजनीति2022 के चुनावों में चाहिए टिकट? ₹11 हजार के साथ टैग करें CV: UP...

2022 के चुनावों में चाहिए टिकट? ₹11 हजार के साथ टैग करें CV: UP में कॉन्ग्रेस का खुला ऑफर

साल 2022 के विधानसभा चुनावों के मद्देनजर 11 हजार रुपए की दानराशि के साथ आवेदन आमंत्रित करने वाली कॉन्ग्रेस का कहना है कि वह पार्दर्शिता के साथ काम कर रहे हैं।

2022 के विधानसभा चुनावों के लिए उत्तर प्रदेश में कॉन्ग्रेस पार्टी ने एक सर्कुलर जारी किया है। ये उन लोगों के लिए है जो आगामी चुनावों में टिकट पाना चाहते हैं। सर्कुलर के मुताबिक, आवेदन करने वालों को अपने आवेदन के साथ साथ 11 हजार रुपए की डोनेशन भी देनी होगी।

14 सितंबर को ये सर्कुलर जारी हुआ था। इस पर उत्तर प्रदेश कॉन्ग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के हस्ताक्षर भी हैं। इसमें लिखा गया है कि 25 सितंबर तक डिमांड ड्राफ्ट, आरटीजीएस और मनी ऑर्डर के जरिए राशि जमा की जा सकती है। इस संबंध में जिला इकाइयों को भी बताया गया है कि ये दान कैसे जमा किया जाए।

अब इस पूरे मामले में यह स्पष्ट नहीं है कि पार्टी इस राशि को सहयोग राशि के तौर पर ले रही है या फिर अगर आवेदनकर्ता को टिकट नहीं मिली तो उसके पैसे वापस लौटाए जाएँगे।

हालाँकि, आगे यह देखना तो दिलचस्प होगा कि कितने टिकट चाहने वाले अपने सीवी के साथ नकद राशि देते हैं। लेकिन, फिलहाल इस सर्कुलर पर विवाद हो रहा है। लोग पूछ रहे हैं कि क्या इस तरह टिकट के नाम पर दान लेना उचित है।

इस सर्कुलर पर अजय कुमार लल्लू ने सफाई भी दी है। उन्होंने इस निर्णय को सही बताते हुए कहा कि यह योगदान राशि है जो किसी भी संस्था या संगठन को कार्य करने के लिए समर्थन करने के लिए आवश्यक है। उन्होंने कहा, “कॉन्ग्रेस पारदर्शी तरीके से काम कर रही है। हमने इसके लिए एक सर्कुलर जारी किया है।”

बता दें कि उत्तर प्रदेश में कॉन्ग्रेस का दोबारा से आना इस बार भी कई लोगों को मुश्किल लग रहा है। मगर, अजय कुमार लल्लू लगातार दावा कर रहे हैं कि उत्तर प्रदेश में लौटेंगें और उनका इरादा आगे समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी जैसी पार्टियों से मिलने का है। याद दिला दें 2017 में भारतीय जनता पार्टी ने 403 विधानसभा सीटों में से 312 सीटें जीती थी। बसपा को 19 सीटें मिली थी और सपा-कॉन्ग्रेस को मिल कर 54 सीटें हाथ आई थीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मौलाना कलीम सिद्दीकी को यूपी ATS ने मेरठ से किया गिरफ्तार, अवैध धर्मांतरण के लिए की हवाला के जरिए फंडिंग

यूपी पुलिस ने बताया कि मौलाना जामिया इमाम वलीउल्लाह ट्रस्ट चलाता है, जो कई मदरसों को फंड करता है। इसके लिए उसे विदेशों से भारी फंडिंग मिलती है।

60 साल में भारत में 5 गुना हुए मुस्लिम, आज भी बच्चे पैदा करने की रफ्तार सबसे तेज: अमेरिकी थिंक टैंक ने भी किया...

अध्ययन के अनुसार 1951 से 2011 के बीच भारत की आबादी तिगुनी हुई। लेकिन इसी दौरान मुस्लिमों की आबादी 5 गुना हो गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,707FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe