Tuesday, September 28, 2021
Homeराजनीतिरितेश देशमुख, सोनू सूद और 'संघी' मिलिंद सोमन: मुंबई मेयर के लिए कॉन्ग्रेस की...

रितेश देशमुख, सोनू सूद और ‘संघी’ मिलिंद सोमन: मुंबई मेयर के लिए कॉन्ग्रेस की पसंद, BMC में ‘एकला’ चलेगी पार्टी

मार्च 2020 में सुपरमॉडल मिलिंद सोमन के बारे में जैसे ही खुलासा हुआ था कि उनका राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) से पुराना सम्बन्ध रहा है, लिबरलों और सेकुलरों का एक बड़ा वर्ग उनके ख़िलाफ़ उतर आया था।

2022 में बृहन्मुम्बई महानगरपालिका (BMC) के चुनाव होने वाले हैं। राज्य में फ़िलहाल ‘महा अघाड़ी (MVA)’ गठबंधन सत्ता में है। इसमें शिवसेना, कॉन्ग्रेस और NCP शामिल हैं। लेकिन, कॉन्ग्रेस अब अगले चुनावों में ‘एकला चलो’ की रणनीति अपना रही है। अगले BMC चुनाव में कॉन्ग्रेस मेयर उम्मीदवार के रूप में कुछ लोकप्रिय नामों को आकर्षित करना चाहती है, जिसमें रितेश देशमुख, सोनू सूद और मिलिंद सोमन शामिल हैं

कॉन्ग्रेस के मुंबई प्रकोष्ठ की ‘स्ट्रेटेजी समिति’ ने BMC चुनावों को लेकर एक रिपोर्ट तैयार की है और इसे शीर्ष नेताओं के पास विचार-विमर्श के लिए भेजा है। सोमवार (23 अगस्त, 2021) को इन नामों को विचार-विमर्श के लिए भेजा गया। फ़िलहाल मुंबई की मेयर किशोरी पडनेकर हैं, जो शिवसेना की हैं।

मार्च 2020 में सुपरमॉडल मिलिंद सोमन के बारे में जैसे ही खुलासा हुआ था कि उनका राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) से पुराना सम्बन्ध रहा है, लिबरलों और सेकुलरों का एक बड़ा वर्ग उनके ख़िलाफ़ उतर आया था। उनकी किताब ‘मेड इन इंडिया- ए मोमॉयर’, जिसे उन्होंने लेखिका रूपा पाई के साथ मिल कर लिखा है, उस पर चर्चा के दौरान उन्होंने बताया था कि जब वो 10 वर्ष के थे, तब वो आरएसएस की शाखा में नियमित रूप से जाया करते थे।

मिलिंद मुंबई के जिस शिवाजी पार्क में पले-बढ़े, वहाँ कई बच्चे संघ की शाखा में जाया करते थे। मिलिंद सोमन ने ये भी बताया था कि आरएसएस के नजदीक जाने पर उन्हें कहीं भी ऐसा नहीं लगा कि ये संगठन राजनीतिक है। उन्हें कहीं भी राजनीति नहीं दिखी। उन्होंने बताया था कि वो संघ के जिन लोगों से मिलते थे, वो भी राजनीतिक नहीं लगे। हालाँकि, उन्होंने कहा था कि हो सकता है बाद में राजनीति संघ से जुड़ गई हो।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe