Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीति'पुलवामा के वीरों' का मजाक: कॉन्ग्रेस के पूर्व CM के बेटे पर उड़ाए गए...

‘पुलवामा के वीरों’ का मजाक: कॉन्ग्रेस के पूर्व CM के बेटे पर उड़ाए गए नोट, श्रद्धांजलि सभा का वीडियो Viral

कॉन्ग्रेस की मनगढ़ंत अफ़वाहों और वास्तविकता के बीच जनता फ़र्क़ करना जान चुकी है। कॉन्ग्रेस के कई ऐसे दावे बेबुनियादी सिद्ध हो चुके हैं जहाँ अलग-अलग मुद्दों पर पीएम मोदी को घेरने की कोशिश की गई।

पुलवामा आत्मघाती हमले की निंदा दुनिया भर में हो रही है। भारत इस ग़म से उबर भी नहीं पाया है कि कॉन्ग्रेस पार्टी की एक के बाद एक ओछी हरक़तें सामने आ रही हैं। कभी वो प्रधानमंत्री मोदी की फ़ोटों को ग़लत तरीक़े से प्रचारित और प्रसारित करते हैं तो कभी ग़लत संदेशों के माध्यम से केंद्र को घेरने की कोशिश करते हैं।

अगर बात करें ख़ुद कॉन्ग्रेस पार्टी की तो वो ख़ुद ऐसे कृत्यों को अंजाम देती है जिस पर कोई भी शर्मिंदा हो जाए। मामला उत्तराखंड का है जहाँ रुड़की में पुलवामा के वीरों को श्रद्धांजलि देने के कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस कार्यक्रम के दौरान एक वीडियो बनाया गया जो अब वायरल हो रहा है। इस वीडियो के वायरल होने के पीछे वजह है कि इसमें उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत के बेटे वीरेंद्र रावत पर नोटों की बरसात हो रही थी।

इस वीडियो के देखने के बाद आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि कॉन्ग्रेस देश की जनता के साथ किस तरह का खिलवाड़ कर रही है। एक तरफ तो पीएम मोदी पर बेवजह तंज कसती नज़र आती है और दूसरी ही तरफ श्रद्धांजलि के लिए इकट्ठे हुए कॉन्ग्रेसी नोटों की बारिश कर रहे हैं।

बेहयाई की हद तो तब पार हो गई जब वीरेंद्र रावत ने कहा कि यह एक श्रद्धांजलि सभा है और इस सभा के माध्यम से 56 इंच वाले देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जगाना चाहते हैं।

बता दें कि श्रद्धांजलि के नाम पर इकट्ठे हुए इस वीडियो के वायरल होते ही लोगों ने इस पर तीखी प्रतिक्रियाएँ दर्ज की। कई लोग कॉन्ग्रेस के इस रवैये से आहत हैं। भले ही देश की जनता भोली-भाली हो लेकिन दु:ख की इस घड़ी में वो इस बात को बख़ूबी समझती है कि राजनीतिक गलियारे में कौन कितना पानी में है।

कॉन्ग्रेस की मनगढ़ंत अफ़वाहों और वास्तविकता के बीच जनता फ़र्क़ करना जान चुकी है। कॉन्ग्रेस के कई ऐसे दावे बेबुनियादी सिद्ध हो चुके हैं जहाँ अलग-अलग मुद्दों पर पीएम मोदी को घेरने की कोशिश की गई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,743FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe