इलेक्शन है तो मंदिर भी जाना पड़ता है – 582 दिनों का सच अब आया सामने

'चुनाव के समय मंदिर जाना और आशीष लेना' - यह एक स्टेशन का नाम है। वैसे तो यह स्टेशन पहले भी आ चुका है, लेकिन इस बार वाले में ग्लैमर है, बॉलीवुड है, और तो और 'मुसलमान' भी है!

जामा मस्जिद के शाही इमाम द्वारा किसी खास पार्टी के समर्थन की घोषणा करने से लेकर जनेऊ और शिव-भक्त बनते हुए भारतीय राजनीति ने लंबा सफर तय कर लिया है। इस सफर में मजार पर चढ़ते चादर से लेकर गंगा आरती तक के स्टेशन आए। अब जो स्टेशन आया है, वो है – मंदिर जाना और आशीष लेना। वैसे तो यह स्टेशन पहले भी आ चुका है, लेकिन इस बार वाले में ग्लैमर है, बॉलीवुड है, ‘मुसलमान’ भी है!

‘कौन’ हैं वो

उस ‘मासूम’ का नाम उर्मिला मातोंडकर है। इन्होंने हाल में कॉन्ग्रेस पार्टी जॉइन की है। 2019 का लोकसभा चुनाव यह उत्तर मुंबई सीट से लड़ेंगी। कभी यह बॉलिवुड की लीडिंग एक्ट्रेस हुआ करती थीं। फिर धीरे-धीरे पर्दे की दुनिया से गायब हुईं और 2016 में कश्मीरी बिजनेसमैन मोहसिन अख्तर मीर से शादी कर लीं।

‘थैंक राहुल जी’ कहतीं उर्मिला

लगाई मंदिर की ‘दौड़’

‘सेकुलर’ पार्टी कॉन्ग्रेस का टिकट पाकर उर्मिला भी मंदिर की दौड़ पर निकल पड़ीं। भगवान से आशीर्वाद लिया। फोटो खिंचवाया। सोशल मीडिया पर अपलोड किया। लेकिन यह क्या? लोग बिफर गए! क्यों भला? मुसलमान से शादी करने के बाद कहीं लिखा है क्या कि आप मंदिर नहीं जा सकतीं! सोशल मीडिया को लेकिन आप कंट्रोल करें भी तो कैसे करें?

कॉन्ग्रेसी दुपट्टा के साथ भगवन-भक्ति का यह सुयोग 30 मार्च को हुआ
- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

लोगों ने चुनाव के लिए उर्मिला को अपना मुस्लिम नाम छिपाने को लेकर ट्रोल करना शुरू कर दिया। इसमें कितनी सच्चाई है, नहीं पता। वो हिंदू हैं या उन्होंने इस्लाम को अपना धर्म मान लिया है, ये सिर्फ वो ही बता सकती हैं। खास बात यह कि मुझे दिलचस्पी भी नहीं है – अपने समय में वो मेरी फेवरिट (क्रश कह लीजिए) रही हैं। तो जैसे ही मंदिर वाली फोटो इंस्टाग्राम पे देखा, बाकी के और फोटो को स्क्रॉल करके देखने से खुद को रोक न पाया। तभी दिखा मुझे ‘सत्य’।

‘Satya’ क्या है

सत्य यह है कि उर्मिला ने 30 मार्च 2019 को मंदिर वाली फोटो इंस्टाग्राम पर डाली। कुत्ते, पहाड़, नदी-नाले जैसे फोटो से भरे पड़े इनके इंस्टाग्राम पर मेरी नजर तब रूकी जब एक और मंदिर दिखा मुझे – बहुत देर के बाद। यह फोटो अपलोड किया गया था 25 अगस्त 2017 को। मतलब 582 दिनों पहले। मतलब 582 दिन तक आप भगवान से दूर रहीं! फूल-पत्ती, बेडरूम, चाँद-सूरज में आप खोई रहीं और अचानक से ‘सेकुलर’ कॉन्ग्रेस के टिकट ने आपको मंदिर की राह दिखा दी!

साल: 2017, माह: अगस्त, तारीख: 25

कुछ ज्यादा नहीं हो गया? खैर फैन हूँ, आप ‘भक्त’ भी कह सकती हैं – इसलिए ज्यादा लिखकर आपको परेशान नहीं करूँगा। लेकिन संख्या के हिसाब से देखें तो 582 दिन बहुत लंबी ‘जुदाई’ हो गई। आपके लिए मैं तो खैर कुछ और ही चाहता हूँ। वोटिंग और मतगणना के दिन देखना दिलचस्प होगा कि भगवान और वोटर आपके लिए क्या चाहते हैं।

PS: जिनको ऊपर लिखी बातों पर भरोसा नहीं, वे कृपया उर्मिला के अकाउंट पर जाकर खुद सारे फोटो देख सकते हैं।

वैधानिक चेतावनी: यह काम कोई फैन ही कर सकता है। कुत्ते-नदी-नाले से प्यार एक बात है और उनके फोटो देखते जाना और बात!

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

ये पढ़ना का भूलें

लिबरल गिरोह दोबारा सक्रिय, EVM पर लगातार फैला रहा है अफवाह, EC दे रही करारा जवाब

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ओपी राजभर

इतना सीधा नहीं है ओपी राजभर को हटाने के पीछे का गणित, समझें शाह के व्यूह की तिलिस्मी संरचना

ये कहानी है एक ऐसे नेता को अप्रासंगिक बना देने की, जिसके पीछे अमित शाह की रणनीति और योगी के कड़े तेवर थे। इस कहानी के तीन किरदार हैं, तीनों एक से बढ़ कर एक। जानिए कैसे भाजपा ने योजना बना कर, धीमे-धीमे अमल कर ओपी राजभर को निकाल बाहर किया।
उत्तर प्रदेश, ईवीएम

‘चौकीदार’ बने सपा-बसपा के कार्यकर्ता, टेंट लगा कर और दूरबीन लेकर कर रहे हैं रतजगा

इन्होंने सीसीटीवी भी लगा रखे हैं। एक अतिरिक्त टेंट में मॉनिटर स्क्रीन लगाया गया है, जिसमें सीसीटीवी फुटेज पर लगातार नज़र रखी जा रही है और हर आने-जाने वालों पर गौर किया जा रहा है। नाइट विजन टेक्नोलॉजी और दूरबीन का भी प्रयोग किया जा रहा है।
राहुल गाँधी

सरकार तो मोदी की ही बनेगी… कॉन्ग्रेस ने ऑफिशली मान ली अपनी हार

कॉन्ग्रेस ने 23 तारीख को चुनाव नतीजे आने तक का भी इंतजार करना जरूरी नहीं समझा। समझे भी कैसे! देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कॉन्ग्रेस भी उमर अबदुल्ला के ट्वीट से सहमत होकर...
उपेंद्र कुशवाहा

‘सड़कों पर बहेगा खून अगर मनमुताबिक चुनाव परिणाम न आए, समर्थक हथियार उठाने को तैयार’

एग्जिट पोल को ‘गप’ करार देने से शुरू हुआ विपक्ष का स्तर अब खुलेआम हिंसा करने और खून बहाने तक आ गया है। उपेंद्र कुशवाहा ने मतदान परिणाम मनमुताबिक न होने पर सड़कों पर खून बहा देने की धमकी दी है। इस संभावित हिंसा का ठीकरा वे नीतीश और केंद्र की मोदी सरकार के सर भी फोड़ा है।
पुण्य प्रसून वाजपेयी

20 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली पार्टी को 35+ सीटें: ‘क्रन्तिकारी’ पत्रकार का क्रन्तिकारी Exit Poll

ऐसी पार्टी, जो सिर्फ़ 20 सीटों पर ही चुनाव लड़ रही है, उसे वाजपेयी ने 35 सीटें दे दी है। ऐसा कैसे संभव है? क्या डीएमके द्वारा जीती गई एक सीट को दो या डेढ़ गिना जाएगा? 20 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली पार्टी 35 सीटें कैसे जीत सकती है?
राशिद अल्वी

EVM को सही साबित करने के लिए 3 राज्यों में कॉन्ग्रेस के जीत की रची गई थी साजिश: राशिद अल्वी

"अगर चुनाव परिणाम एग्जिट पोल की तरह ही आते हैं, तो इसका मतलब पिछले साल तीन राज्यों के विधानसभा के चुनाव में कॉन्ग्रेस जहाँ-जहाँ जीती थी, वह एक साजिश थी। तीन राज्यों में कॉन्ग्रेस की जीत के साथ ये भरोसा दिलाने की कोशिश की गई कि ईवीएम सही है।"

यूट्यूब पर लोग KRK, दीपक कलाल और रवीश को ही देखते हैं और कारण बस एक ही है

रवीश अब अपने दर्शकों से लगभग ब्रेकअप को उतारू प्रेमिका की तरह ब्लॉक करने लगे हैं, वो कहने लगे हैं कि तुम्हारी ही सब गलती थी, तुमने मुझे TRP नहीं दी, तुमने मेरे एजेंडा को प्राथमिकता नहीं माना। जब मुझे तुम्हारी जरूरत थी, तब तुम देशभक्त हो गए।
स्वरा भास्कर

प्रचार के लिए ब्लाउज़ सिलवाई, 20 साड़ियाँ खरीदी, ताकि बड़े मुद्दों पर बात कर सकूँ: स्वरा भास्कर

स्वरा भास्कर ने स्वीकार करते हुए बताया कि उन्हें प्रचार के लिए बुलाया गया क्योंकि वो हीरोइन हैं और इस वजह से ही उन्हें एक इमेज बनाना आवश्यक था। इसी छवि को बनाने के लिए उन्होंने 20 साड़ियाँ खरीदीं और और कुछ जूलरी खरीदी ताकि ‘बड़े मुद्दों पर’ बात की जा सके।
राजदीप सरदेसाई

राजदीप भी पलट गए? विपक्ष के EVM दावे को फ़रेब कहा… एट टू राजदीप?

राजदीप ने यहाँ तक कहा कि मोदी के यहाँ से चुनाव लड़ने की वजह से वाराणसी की सीट VVIP संसदीय सीट में बदल चुकी है। जिसका असर वहाँ पर हो रहे परिवर्तन के रूप में देखा जा सकता है।
राहुल गाँधी, बीबीसी

2019 नहीं, अब 2024 में ‘पकेंगे’ राहुल गाँधी: BBC ने अपने ‘लाडले’ की प्रोफाइल में किया बदलाव

इससे भी ज्यादा बीबीसी ने प्रियंका की तारीफ़ों के पुल बांधे हैं। प्रियंका ने आज तक अपनी लोकप्रियता साबित नहीं की है, एक भी चुनाव नहीं जीता है, अपनी देखरेख में पार्टी को भी एक भी चुनाव नहीं जितवाया है, फिर भी बीबीसी उन्हें चमत्कारिक और लोकप्रिय बताता है।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

41,476फैंसलाइक करें
7,944फॉलोवर्सफॉलो करें
64,172सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: