Friday, July 19, 2024
Homeराजनीतिदूसरी शादी की बात पर बंधक बना कर पीटते थे पिता-भाई: कॉन्ग्रेस के पूर्व...

दूसरी शादी की बात पर बंधक बना कर पीटते थे पिता-भाई: कॉन्ग्रेस के पूर्व मंत्री पर बेटी का आरोप, महिला आयोग ने छुड़ाया

राजकुमार चौहान की बेटी ने एक पत्र के जरिए अपनी शिकायत दिल्ली सरकार को दी। जिसमें उसने आरोप लगाया गया कि उसे उसके पिता मायके में बंधक बनाकर रखे हुए है और उससे मारपीट की जाती है।

दिल्ली महिला आयोग ने कॉन्ग्रेस शासन के दौरान दिल्ली सरकार में मंत्री रहे राजकुमार चौहान की बेटी को पश्चिम विहार स्थित उसके मायके से सकुशल मुक्त कराकर शेल्टर होम भेज दिया है। पीड़िता ने महिला आयोग में शिकायत कर अपने पिता और भाई पर बंधक बनाकर मारपीट करने का आरोप लगाया है। महिला आयोग ने इस बाबत कोई मामला नहीं दर्ज करने पर दिल्ली पुलिस को एक नोटिस जारी किया और एक जनवरी तक सारी जानकारी मुहैया करने का निर्देश दिया है।

महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने बताया कि शीला दीक्षित सरकार में मंत्री रहे और चार बार के विधायक राजकुमार चौहान की बेटी ने एक पत्र के जरिए अपनी शिकायत दिल्ली सरकार को दी। जिसमें उसने आरोप लगाया गया कि उसे उसके पिता मायके में बंधक बनाकर रखे हुए है और उससे मारपीट की जाती है। पत्र में पीड़िता ने उसे मुक्त कराने की गुहार लगाई थी। शिकायत पर संज्ञान लेकर आयोग की टीम गठित की गई। टीम सोमवार (दिसंबर 28, 2020) रात दिल्ली पुलिस को लेकर पश्चिम विहार के उक्त पते पर दबिश दी। 

टीम से मुलाकात के दौरान पीड़िता ने टीम को बताया कि उसकी शादी साल 1999 में हुई थी। उसकी दो बेटियाँ हैं। पति के साथ मतभेद के चलते पिछले दस साल से वह मायके में रह रही हैं। उसका पति के साथ चंडीगढ़ में तलाक का मामला चल रहा है। पीड़िता का आरोप है कि उसके पति ने दूसरी महिला से शादी कर ली। जब उसने शादी करने की कोशिश की तो पिता और भाई ने राजनीतिक छवि खराब होने के डर से ऐसा नहीं करने दिया। 

उसके पिता उसे घर में बंधक बनाकर रखे हैं। पिता और भाई उसके साथ मारपीट करते हैं। पीड़िता की छोटी बेटी ने भी मारपीट की बात की पुष्टि की। बच्ची ने बताया कि आज से 2 साल पहले माँ के साथ बुरी तरह मारपीट हुई थी, जिसकी वजह से उनके सिर से खून भी निकला था।

आयोग की टीम पीड़िता व उसकी बेटियों को पुलिस स्टेशन ले गई। जहाँ उनकी काउंसलिंग की गई। पीड़िता ने लिखित में दिया कि वह पिता के साथ नहीं रहना चाहती और उनके खिलाफ कार्रवाई चाहती है। कानूनी प्रक्रिया के बाद पीड़िता को शेल्टर होम भेज दिया गया। पुलिस ने इस मामले में कोई शिकायत दर्ज नहीं की है और सिर्फ डेली डायरी में एंट्री की है। जिस पर महिला आयोग ने नाराजगी जाहिर करते हुए पुलिस को नोटिस भेजा है। आयोग ने पीड़िता और उसके बच्चों के सुरक्षा इंतजाम की भी माँगी है।   

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -